राजधानी

एसएसपी अमरेश मिश्रा बाल बाल बचे।

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल" ::- रायपुर के दबंग वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमरेश मिश्रा आज रायपुर के कैनाल रोड पर बाल बाल बचे। उन्होंने खुद बस ड्राइवर की लापरवाही देखी और दुर्घटना से बचे, अगर थोड़ी भी चूक होती, तो बहुत बड़ी दुर्घटना घट सकती थी। आज दोपहर रायपुर के केनाल रोड पर रायपुर से सरसींवा जा रही एक तेज रफ्तार बस ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की कार के आगे अचानक ब्रेक लगा दी। बस के ठीक पीछे एक कार और थी और उसके पीछे रायपुर आईपीएस अमरेश मिश्रा की कार थी और वे दोपहर का भोजन कर अपने कार्यालय वापस लौट रहे थे। सामने बस के अचानक ब्रेक लगाते ही दोनों कारों का नियंत्रण बिगड़ गया और ड्राइवर के सूझ बूझ से बहुत बड़ी दुर्घटना होने से बच गई। अब वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ट्रैफिक कंट्रोल के साथ साथ बस, ऑटो , दोपहिया, चार पहिया चालकों जो रफ़ ड्राइविंग करते हैं उनके ऊपर क्या कठोर कदम उठाते हैं यह देखने लायक होगा।

12 मई को आनापानसति ध्यान का निःशुल्क सत्र

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल" :: छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिचुअल साइंस अकादमी द्वारा 12 मई को निःशुल्क ध्यान सत्र का आयोजन कचहरी चौक, बालाश्रम परिसर के पास स्थित कैलाश ध्यान केंद्र में शाम 6 बजे आयोजित किया गया है। मास्टर हृदयेश इस निःशुल्क ध्यान सत्र में उपस्थित प्रत्येक को ध्यानाभ्यास करवाएंगे साथ ही ध्यान हमारे जीवन मे क्यों महत्त्वपूर्ण है उसकी जानकारी देंगे साथ ही रोजाना ध्यानाभ्यास से नाड़ी तंत्र को क्या फायदा होता है और किस तरह व्यक्ति स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं इस पर प्रकाश डालेंगे। उक्त जानकारी छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिचुअल साइंस अकादमी के सचिव रमेश शर्मा ने दी।

CM डाॅ. रमन ने 104 टोल फ्री सेवा का किया शुभारंभ , दिव्यांगों को दी सौगात

रायपुर:- मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने मुख्यमंत्री निवास के सामने शुक्रवार को 104 टोल फ्री सेवा का शुभारंभ किया। इस तरह डा. सिंह ने दिव्यांगों को सौगात दी। आपको बता दें कि डॉ रमन सिंह 104 टोल फ्री हेल्प लाईन की शुरूआत अपने आवास के भीतर से ही किया।यह विशेष हेल्पलाइन दिव्यांगजनों, निराश्रितों और वृद्धजनों के लिए होगी। इस अवसर पर समाज कल्याण एवं महिला बाल विकास मंत्री रमशीला साहू भी मौजूद रहीं। आपको बता दें कि इस टोल-फ्री नम्बर पर समाज कल्याण विभाग की समस्त योजनाओं की भी जानकारी मिलेगी। इसके साथ ही काउंसलिंग, स्वास्थ्य संबंधी सलाह भी दी जाएगी। दिव्यांगजनों से किसी भी प्रकार का दुर्व्यहार होने की शिकायत भी इस हेल्पलाइन में की जा सकेगी। समाज कल्याण विभाग की योजनाओं के बारे में सुझाव भी इस नम्बर पर दिए जा सकेंगे।

नाद योग ध्यान विषय पर कार्यशाला आयोजित

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल " ::- विगत दिनों पिरामिड स्पिरिच्युअल सोसायटीज मूवमेन्ट की सहयोगी संस्था छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिच्युअल सोसायटीज मूवमेन्ट के द्वारा कचहरी चौक स्थित कैलाष ध्यान केन्द्र में मुम्बई के मषहूर नाद एवम् कर्मयोगी मास्टर चिन्तन दलाल द्वारा नाद योग ध्यान विशय कार्यषाला का संचालन किया गया। मास्टर चिन्तन दलाल अभी छत्तीसगढ़ प्रवास पर हैं और वे नादयोग के द्वारा लोगों में ध्यान का जागरूकता बढ़ाने में कार्यरत हैं। इस कार्यषाला में आपने लगभग एक सौ से अधिक ध्यानियों को आनापानसति ध्यान जो भगवान बुद्ध के द्वारा प्रचलित किया गया है, कराया और ध्यान का महत्व बताया और अपने चारों ओर व्याप्त ब्रह्यनाद की ध्वनि का बोध कांस्यपात्र पर स्पर्ष करते हुए ध्वनि निकालकर कराया। उन्होंने बताया प्रत्येक मनुश्य का उद्देष्य तनावमुक्त होकर जीवन की सम्पूर्ण सुख और खुषी पाना होता है और जीवन को तनावमुक्त बनाकर जीवन के सम्पूर्ण सुख व आनन्द पाने का सबसे उपयोगी तरीका है ध्यान का नियमित कम से कम 20 मिनट का अभ्यास करना। उन्होंने बताया कि ध्यान स्वयं से बात करने की विधि है। उन्होंने समुद्र की लहरों का उदाहरण देते हुए बताया कि जिस तरह समुद्र की लहरे धीमे-धीमे तट की ओर 1,2,3 के क्रम में आती है और तेजी से वापस होती हैं उसी तरह हमें अपने ष्वासों की गति को अन्दर और बाहर करते हुए निरीक्षण करना चाहिए - यही ध्यान की क्रिया है। ष्वासों के प्रवाह के साथ बने रहकर हमें पृश्टभूमि में बने हुए नाद अर्थात् आवाज को सुनने का प्रयास करना चाहिए उसमें एकमय होने की कोषिष करना चाहिए। केवल इतना ही ध्यान का अभ्यास व्यक्ति के स्वस्थ्य बने रहने के लिए, सकारात्मक और प्रसन्न बने रहने के लिए पर्याप्त है। उन्होंने बताया ध्वनियों में वह षक्ति होती है जो हमारे षरीर के नाड़ी तंत्र के साथ जुड़कर उसे झंकृत करती है और उसका प्रभाव हमारे षरीर के मानसिक, बौद्धिक और भावनात्मक धरातल पर होता है। यदि इस ध्यान का नियमित कम से कम 20 मिनट सुबह षाम अभ्यास किया जाए तो उसका लाभ षरीर को मिलता है। षरीर के विकास और षांति के लिए ऐसे ध्यान का नियमित किया जाना आवष्यक होता है। उन्होंने ध्यान के पष्चात् लोगों से उनकी समस्याओं और जिज्ञासाओं के सम्बन्ध में पूछा और उन प्रष्नों का समाधान भी सुझाया। श्री दलाल की अपने कार्यषाला के माध्यमों से कोषिष होती है कि वे लोगों में ध्यान के प्रति रूझान पैदा करें विषेशकर नाद योग को वे समझें जिससे उनके चक्र और नाड़ी तंत्र जागृत हो सकें और वे स्वस्थ व निरोग जीवन व्यतीत कर सकें। आप नाद योग ध्यान के माध्यम से रक्तचाप, मधुमेह, स्पान्डेलाईटिस, आर्थोराइटिस, दर्द एवं खिंचवा, डर, जुगुप्सा उन्माद आदि का उपचार नादतंत्र के माध्यम से करते हैं। जिसका माध्यम कांस्यपात्रों पर स्पर्ष करते हुए सुमधुर ध्वनियॉं निकाल कर व्यक्ति के अनाहत तंत्र को जागृत करना होता है।

भारतीय व्हीलचेयर क्रिकेट टीम का समाज कल्याण विभाग ने किया सम्मान।

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल" :- समाज कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ द्वारा आज यहाँ राष्ट्रीय व्हील चेयर क्रिकेट टीम में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करने वाले सुनील राव और  पोषण ध्रुव का सम्मान किया। समाज कल्याण विभाग के विशेष सचिव आईएएस आर. प्रसन्ना ने दोनों खिलाड़ियों को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के लिए बहुत ही गर्व का क्षण है। हमारे राज्य के खिलाड़ियों ने देश ही नहीं बल्कि अंतर्राष्टरीय स्तर पर भी प्रदेश का नाम रोशन किया है।उन्होंने कहा कि दिव्यांग जनों के सर्वांगीण विकास के लिए समाज कल्याण विभाग पूरी तरह प्रतिबद्ध है। विभाग के संचालक आईएएस डॉ संजय अलंग ने कहा कि ये पहला अवसर था जब प्रदेश में व्हील चेयर क्रिकेट टीम का गठन किया गया और पहली ही बार में इतनी बड़ी सफलता हासिल हुई ।उन्होंने इसके लिए छत्तीसगढ़ व्हील चेयर क्रिकेट टीम के दोनों खिलाड़ियों को उनके इस हौसले के लिए सराहना की। डॉ अलंग ने कहा कि अभी उन्हें सफलता के और परचम लहराने है।इस अवसर पर सम्मानित होने वाले खिलाड़ी सुनील राव ने अपनी उस उपलब्धि का श्रेय समाज कल्याण विभाग को दिया। उन्होंने विभाग के सचिव और संचालक को विशेष रूप से धन्यवाद दिया और कहा कि बिना उनके सहयोग और मार्गदर्शन के वे यह उपलब्धि हासिल नहीं कर पाते। उन्होंने इस अवसर पर अपने अनुभव भी साझा किए। इस मौके पर समाज कल्याण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी भी उपस्थित थे।

एमआईसी में दर्जनों प्रस्ताव पास, सड़क, नाली, पाइप लाइन के लिए करोड़ों रुपए स्वीकृत

रायपुर:- शुक्रवार को रायपुर नगर निगम कार्यालय में मेयर इन काउंसिल (एमआईसी) की बैठक में कई प्रस्ताव पास किए गए। मुख्य रुप से शहर में बरसात के समय सड़कों पर पानी भर जाता है। इसमें सड़क के निर्माण नालियों की साफ-सफाई, वृद्ध-विधवा पेंशन, कॉलेज और नालियों से जाने वाली पाइप लाइन बदलने का प्रस्ताव पास किया गया है। महापौर प्रमोद दुबे ने गुरुवार को हुई एमआईसी की बैठक में बताया कि रायपुर में कई काम नगर निगम में पेंडिंग थी। इसे पूरा करने के लिए एमआईसी में पास किया गया है। महापौर ने बताया कि दानवीर भामाशाह वार्ड में शशिबाला स्कूल है, यहां पर्याप्त जगह की उपलब्धता की वजह से कॉलेज बनाया जाएगा, ताकि रायपुर के गरीब बच्चों का इसका लाभ मिल सके। इस कॉलेज में वाणिज्य, कला और साइंस की पढ़ाई होगी। अमलीडीह में बीएसयूपी के मकानों का मरम्मत एवं संधारण कार्य 88.22 लाख रुपए से किया जा रहा है। शहीद चूड़ामणी वार्ड स्थित आमा तालाब का सौंदर्यीकरण किया जाना है। जिसमें सीमेंट और क्रंकटीकरण कार्य नाली निर्माण, पुल निर्माण, बच्चों के लिए खेलकूद ग्राउंड 1 करोड़ की लागत से किया जा रहा है। जोन क्रमांक 6 के अंतर्गत आने वाली चिंगरी नाला का निर्माण 137.63 लाख से किया जाएगा। इसके आलवा शहर के कई इलाकों का पाइप लाइन बदलना है। साथ ही शहर में बने डिवाइडर को मापदंड से बनाने का कार्य करने के लिए एमआईसी की बैठक में प्रस्ताव पास किया गया है।

"आमार बेला जे जाए सांझ बेला ते " तथा चंडालिका नृत्य नाटिका ने दर्शकों का मन मोह लिया।

सुदीप्तो चटर्जी रिपोर्ट ::- मौका था पंडरी, गोविंद नगर में स्थित रायपुर सिटी महाकालीबाड़ी एवं विश्वनाथ मंदिर समिति द्वारा रबिन्द्रनाथ टैगोर के 157 तम जयंती के उपलक्ष्य पर रंगारंग कार्यक्रम आयोजित करने हेतु। आज बंगाल के अलावा समूचे भारत वर्ष मे नोबेल पुरस्कार विजेता तथा कवि गुरु के 157 तम जयंती बड़े धूमधाम से मनाया गया। इसी कड़ी में रायपुर सिटी महाकालीबाड़ी में रबिन्द्र जयंती कार्यक्रम आयोजित किये गए। सर्व प्रथम समिति के वरिष्ठ सदस्या अमिया बाला राय, अध्यक्ष दीपतेश चटर्जी, सत्यजीत राय, बारिन चक्रबर्ती व अन्य सदस्यों ने दीप प्रज्ज्वलित के साथ साथ रबिन्द्रनाथ टैगोर के प्रतिमा पे माल्यार्पण कर कार्यक्रम की शुरुवात किये।  माल्यार्पण पश्चात सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुवात "हे नूतन, देखा दिक बारबार " गाने पर बंगाली समुदाय के बच्चों ने सुंदर नृत्य प्रस्तुति किये। तत्पश्चात बिम्बिता चटर्जी ने "दांडिए आछो तुमि आमार गानेर उपारे" रबिन्द्र गान से माहौल को रबिन्द्र संगीत मय बना दिया। इसके बाद सुष्मिता व शिल्पी राय ने डुएट गाने " आमार बेला जे जाए सांझ बेला ते" गाये , अजित चक्रबर्ती ने रबिन्द्रनाथ टैगोर की कालजयी कविता "देबोतार ग्रास" का पाठ किये, सत्यजीत मजूमदार द्वारा "तारे नाई चीनी गो", रुपाली मुखर्जी द्वारा "भूले जाई थेके थेके", लीला दास द्वारा " जखोन प्रोथोम फुटेछे फूल", शुक्ला सरकार द्वारा " आकाश जुड़े सुनी गो" तथा सुष्मिता रॉय, शिल्पी रॉय, अजय कर्मकार द्वारा "एक्टूकु छोंवा लागे एक्टूकु कथा सुनी" गायन प्रस्तुति से समूचा परिवेश रबिन्द्र मय बना दिया तथा उपस्थित दर्शकों ने सभी का जोरदार तालियों के साथ उनका उत्साह वर्धन किया। इसी कड़ी में सबसे देखने लायक था रबिन्द्रनाथ टैगोर द्वारा रचित कालजयी नृत्य नाटिका "चंडालिका" जिसे महावीर नगर के बॉंगियो सेवा मंच द्वारा अभूतपूर्व प्रस्तुति दिया गया। यह नृत्य नाटिका में यह संदेश दिया गया कि चंडाल जाती की बेटी चंडालिका के हाथों से कोई पानी ग्रहण नहीं करता था, उसे सब अछूत कन्या बोलते थे, समाज उसे अछूत मानता था लेकिन भगवान बुद्ध ने उस कन्या के हाथों पानी ग्रहण कर आशीर्वाद प्रदान करते हैं तथा इस नृत्य नाटिका का यह भी संदेश है कि कोई अछूत नहीं होता है। सिटी महाकालीबाड़ी प्रांगण पूरा का पूरा खचाखच भरा हुआ था। कार्यक्रम के अंत मे समिति के दीप चक्रबर्ती, जतिन राय, सौरभ, भूपेंद्र, विनीत, विशाल, बाबू ने प्रत्येक को भोग प्रसाद वितरित किये। इस कार्यक्रम के आयोजन हेतु प्रमुख रंग कर्मी रंजन बनर्जी, संभु राय, गौतम मजूमदार, पवित्र दास , तन्मय चटर्जी आदि सदस्यों ने कड़ी मेहनत कर रबिन्द्र जयंती कार्यक्रम को सफल बनाया।

स्कूल शिक्षामंत्री केदार कश्यप के बंगले का घेराव, NSUI ने लगाया 100 करोड़ रुपए घोटाले का आरोप

कैलाश जायसवाल रायपुर@ रायपुर एनएसयूआई ने आज कोमल अग्रवाल और हानि सींग बग्गा के नेतृत्व में स्कूल शिक्षामंत्री केदार कश्यप के बंगले का घेराव किया  एनएसयूआई ने स्कूल शिक्षा विभाग पर आरोप लगाया है कि प्राइमरी कक्षा के प्रश्न पत्र छपाई में 100 करोड़ रुपए का घोटाला हुआ है.
एन एस यू आई ने घोटाले का यह आंकड़ा विगत पांच सालों का बताया है. 
एनएसयूआई के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने स्कूल शिक्षामंत्री केदार कश्यप के बंगले का घेराव करते हुए पैसे की भुगतान रोकने की मांग की है. साथ ही उच्च स्तरीय जाँच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग रखी है.

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी दुर्ग से रायपुर एयरपोर्ट तक करेंगे रोड शो

रायपुर - छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का दौरा तय हो चुका है.पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने आज  कांग्रेस भवन में जानकारी देते हुए बतया की राहुल गांधी के दो दिन छत्तीसगढ़ के दौरे के दौरान  रोड शो व सभा को भी सम्बोधित करेंगे

इस  प्रकार रहेगा राहुल का दौरा 
 17 मई को राहुल गाँधी दिल्ली से नियमित विमान से रायपुर आएंगे
17 मई को पंचायतीराज सम्मेलन का रायपुर में उद्घटान करेंगे
17 मई को सीतापुर में किसान सम्मेलन में भाग लेंगे
17 मई को पेण्ड्रा में जन अधिकार सभा को सम्बोधित करेंगे
वन अधिकार कानून पर सभा होगी.इस सभा को गोंडवाना गणतंत्र पार्टी का समर्थन है. इस कार्यक्रम में गोंगपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा मरकाम भी शामिल होंगे
17 मई को बिलासपुर में रात्रि विश्राम करेंगे
18 मई को बिलासपुर सम्भाग के 24 विधानसभा के बूथ प्रभारियों से संवाद करेंगे
18 मई को दुर्ग में दुर्ग सम्भाग के 20 विधानसभा क्षेत्रों के बूथ प्रभारियों से संवाद करेंगे
शाम को दुर्ग में गांधी और पटेल की प्रतिमा में मार्ल्यापण करने के बाद रोड शो करेंगे
दुर्ग से रायपुर एयरपोर्ट तक रोड शो होगा.

मुख्यमंत्री ने दसवीं-बारहवीं बोर्ड में सफल छात्र-छात्राओं को दी बधाई

रायपुर  -मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आज यहां जारी हाईस्कूल और हायर सेकेण्डरी स्कूल सर्टिफिकेट की मुख्य परीक्षाओं में उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को बधाई दी है। डॉ. सिंह ने उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए अपनी शुभेच्छा प्रकट की है। 
मुख्यमंत्री ने आज यहां जारी बधाई संदेश में उम्मीद जतायी है कि दसवीं और बारहवीं की दोनों महत्वपूर्ण परीक्षाओं में सफलता हासिल करने वाले विद्यार्थी आगे भी इसी तरह मेहनत करते हुए नई कक्षाओं में और भी ज्यादा कामयाबी हासिल करेंगे। डॉ. रमन सिंह ने दोनों परीक्षाओं में किन्हीं कारणों से अनुत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को निराश नहीं होने की सलाह दी और उनका मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि उन्हें कड़ी मेहनत के साथ दोबारा प्रयास करना चाहिए। कामयाबी जरूर मिलेगी। 

मुख्यमंत्री ने दिए रेल्वे ओव्हर और अंडर ब्रिजो को जल्द पूर्ण कराने के निर्देश

कैलाश जायसवाल रायपुर @ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज नया रायपुर स्थित मंत्रालय (महानदी भवन) में प्रदेश में निर्माणाधीन रेल्वे ओव्हर तथा अंडर ब्रिजों की प्रगति की समीक्षा की गई। मुख्यमंत्री ने इनके निर्माण में लोक निर्माण विभाग के अलावा रेल्व से संबंधित लंबित कार्यों को विशेष गति देते हुए समय सीमा में पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने स्वीकृत कार्यों के निविदा प्रक्रिया को भी जल्द पूर्ण कराने के लिए निर्देशित किया। 
 इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत, मुख्य सचिव   अजय सिंह, मुख्य मंत्री के प्रमुख सचिव  अमन कुमार सिंह और लोक निर्माण विभाग के सचिव   सुबोध कुमार सिंह, दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे  के महाप्रबंधक   सुनील सिंह सोइन तथा मंडल रेल प्रबंधक  कौशल किशोर सहित संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।
       मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने रेल्वे ओव्हर तथा अंडर ब्रिजों के निर्माण में तेजी लाने और रेल्वे में लंबित विभिन्न कार्यों को समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। इनमें रेल्वे को लंबित एम.ओ.यू (समझौता ज्ञापन) के कार्यों को भी जल्द पूर्ण कराने कहा। उन्होंने रेल्वे से अनुमोदन के लिए भेजे गए कार्यों में जल्द औपचारिताएं पूर्ण कराने के निर्देश दिए।  मुख्यमंत्री ने बैठक में सबसे पहले रायपुर शहर स्थित फाफाडीह तेलीबांधा- नया रायपुर स्थित छोटी रेल लाइन की भूमि पर फ्लाई ओव्हर सहित फोर लेन एक्सप्रेस वे के निर्माण की समीक्षा की। उन्होंने कहा एक्सप्रेस वे को रायपुर रेल्वे स्टेशन से जोड़ने के लिए तीन सौ मीटर सड़क निर्माण की आवश्यकता है इसके लिए रेल्वे द्वारा जल्द सहमति दी जाए। इसी मार्ग में रेल्वे की भूमि में विद्युत पोल एवं पाइपलाइन आदि को जल्द हटाने भी कहा जिससे फ्लाई ओव्हर का निर्माण तेजी से हो सके।
     मुख्यमंत्री ने राजधानी रायपुर के शंकर नगर में निर्माणाधीन रेल्वे ओव्हर ब्रिज की प्रगति की जानकारी ली और इसे 15 अगस्त के पहले पूर्ण करने के निर्देंश दिए। इसके अलावा उन्होंने रायपुर शहर में निर्माणाधीन गांेंदवारा अंडर ब्रिज, डी.आर.एम. आफिस के समीप अंडर ब्रिज निर्माण, आमानाका रेल्वे ओव्हर ब्रिज का चौड़ीकरण, बिलासपुर जिले के चुचुहिया रेल्वे अंडर ब्रिज, दुर्ग जिले के नेहरू नगर स्थित रेल्वे ओव्हर ब्रिज तथा अंडर ब्रिज खोखसा रेल्वे ओव्हर ब्रिज, जांजगीर-चांपा यार्ड रेल्वे ओव्हर ब्रिज और मरोदा रेल्वे ओव्हर ब्रिज आदि के निर्माण कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में लगभग आठ सौ करोड़ रूपए के रेल्वे ओव्हर तथा अंडर ब्रिजों और फ्लाई ओव्हरों का निर्माण किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े कामिर्शियल काम्पलेक्स का किया लोकार्पण : नया रायपुर में दो सौ करोड़ की लागत से तैयार किया गया है सर्वसुविधा युक्त कामर्शियल काम्पलेक्स

 कैलाश जायसवाल रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज शाम नया रायपुर में छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े एवं उंची कॉमर्शियल काम्पेलेक्स का लोकार्पण किया। इस कामर्शियल काम्पलेक्स का निर्माण सेन्ट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट, सेक्टर 21 में किया गया है। लोकार्पण अवसर पर कषि एवं जल संसाधन मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल, मुख्य सचिव   अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, नया रायपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री मुकेश बंसल भी उपस्थित थे।
      नया रायपुर में तैयार किए गए इस काम्पलेक्स में टावर ए और टावर सी कुल दो टावर हैं इनकी लागत लगभग 200 करोड़ रूपए है।  टावर सी में भूतल सहित 11 मंजिल हैं इसी प्रकार टावर ए में भूतल सहित 9 मंजिल हैं। काम्पलेक्स की भूतल और प्रथम मंजिल में दुकानें और द्वितीय मंजिल से आगे की मंजिलों में कार्यालय संचालित होंगे।  इस काम्पलेक्स में 60 दुकाने और 130 कार्यालायों के लिए जगह उपलब्ध है। काम्पलेक्स के टावर ए और सी आई टी कम्पनियों तथा सभी तरह के कार्यालयों एवं दुकानों के लिए होगा। पूरा काम्पलेक्स वातानुकूललित है। काम्पलेक्स के सभी मंजिलों में लिफ्ट, स्केलेटर सहित विभिन्न सुविधाएं हैं। इस काम्पलेक्स में लगभग 5 लाख वर्गफीट का कॉरपेट एरिया है। फ्लोर प्लेट लगभग साढे़ सात हजार से 30 हजार वर्ग फीट के एरिया में उपलब्ध है। इसके अलावा इस काम्पलेक्स के भूतल और प्रथम मंजिल में रेस्टोरेंट, भूतल में बैंक, और भोज के लिए हाल भी है।  

सिटी महाकालीबाड़ी में कल रविन्द्र जयंती उत्सव

सुदीप्तो चटर्जी :: रायपुर के पंडरी गोविंद नगर में स्थित सिटी महाकालीबाड़ी एवं विश्वनाथ मंदिर समिति द्वारा कल 9 मई को कवि गुरु रबिन्द्रनाथ टैगोर के 157 तम जयंती के उलक्ष्य पर रबिन्द्रनाथ टैगोर द्वारा रचित विख्यात नृत्य नाटिका "चंडालिका" का मंचन किया जाएगा साथ ही बंगाली समुदाय के महिला एवं बच्चों द्वारा कवि गुरु द्वारा रचित गायन, नृत्य आदि की मनमोहक प्रस्तुति दी जाएगी। साथ ही सायंकाल माँ काली की विशेष पूजा होगी तथा पुष्पांजलि पश्चात आरती किये जायेंगे। सांस्कृतिक कार्यक्रम शाम 7 बजे शुरू होगा तथा भोग प्रसाद का वितरण रात 8:30 बजे के पश्चात मंदिर प्रांगण में किया जाएगा। उक्त जानकारी समिति के संयुक्त सचिव मानब गांगुली एवं शम्भू राय ने दी।

महापंचायत के अनुमति के लिए कलेक्टर से मिले शिक्षाकर्मी मोर्चा के संचालक

सुदीप्तो चटर्जी रिपोर्ट- शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा के बैनर तले 11 मई को राजधानी रायपुर में शिक्षाकर्मियों की महापंचायत होगी। इसमें प्रदेश के पौने दो लाख शिक्षाकर्मी शामिल होंगे। इस महापंचायत में शिक्षाकर्मी अपने आगामी रणनीति की घोषणा करेंगे। ????प्रदेश के पौने दो लाख शिक्षाकर्मी महापंचायत में होंगे शामिल ????संविलियन नही होने से आक्रोशित हैं शिक्षाकर्मी शिक्षक मोर्चा ने महापंचायत की अनुमति के लिए प्रशासन को अपना आवेदन सौंप दिया है। मोर्चा के प्रांतीय संचालक वीरेंद्र दुबे, केदार जैन, उप संचालक धर्मेश शर्मा सहित मोर्चा का प्रतिनिधिमंडल कलेक्टर ओपी चौधरी से महापंचायत की अनुमति के लिए मुलाकात किए हैं। कलेक्टर ओपी चौधरी ने शिक्षाकर्मियों को आश्वस्त किया है कि वो 11 मई के प्रस्तावित महापंचायत के स्थान के लिए उच्चाधिकारियों से बातचीत के बाद निर्णय लेंगे। शिक्षक मोर्चा के प्रांतीय उपसंचालक सुनील सिंह व चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा राज्य में कार्यरत 1.80 लाख शिक्षाकर्मियों का साझा मंच है। मोर्चा के समस्त शिक्षाकर्मियों के स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन की प्रमुख मांग को लेकर 20-11-2017 से 4-12-2017 तक राज्य में अनिश्चितकालीन शाला बहिष्कार कर आंदोलन किया था। जिससे राज्य में पूर्ण शालाबंदी की स्थिति निर्मित हो गई थी । प्रशासन ने आंदोलन को अनुमति प्रदान नहीं की तथा रायपुर में धारा 144 लगा दी गई, पूरे राज्य में पदाधिकारियों को गिरफ्तार किया गया तथा लोगों को राजधानी पहुंचने से रोका गया अर्थात सरकार ने आंदोलन के दमन का हर संभव प्रयास किया, पदाधिकारियों सहित कर्मचारियों को बर्खास्त भी किया गया, किंतु सरकार आंदोलन को तोड़ नहीं पाई किंतु हठधर्मिता पर कायम रहे। मोर्चा ने छात्र हित में शून्य पर 4/12/ 2017 को आंदोलन स्थगित किया तथा सरकार ने भी तुरंत समस्याओं के समाधान के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 8 सदस्य उच्च स्तरीय समिति का गठन किया समिति ने निर्धारित 3 माह के कार्यकाल के स्थान पर 5 माह में भी सरकार को प्रतिवेदन नहीं सौंपा, न ही सरकार ने अब तक कोई सार्थक समाधान कारक निर्णय लिया। प्रदेश प्रवक्ता गजराज सिंह राजपूत ने बताया कि संवर्ग के 1.80 लाख शिक्षाकर्मी बेहद असंतुष्ट तथा आक्रोशित हैं राज्य में केवल शिक्षाकर्मी संवर्ग ऐसा संवर्ग है, जिसे विगत 2 वर्षों में किसी भी तरह का आर्थिक लाभ नहीं दिया गया है। उन्हें जुलाई 2016 से अब तक महंगाई भत्ते की एक किस्त तक नहीं दी गई है जबकि अन्य कर्मचारियों को सातवां वेतनमान भी दिया गया है , मोर्चा ने निर्णय लिया है कि दिनांक 11 मार्च 2018 को राजधानी रायपुर में संवर्ग के कर्मचारियों की महापंचायत बुलाकर स्थिति की समीक्षा करेंगे तथा आगे की रणनीति तय करेंगे।

ग्रीष्मकालीन बीमारियों के रोकथाम एवं उपचार के लिए प्राथमिकता के साथ पहल किया जाये लू के लक्षण व उनसे बचने के उपाय

 रायपुर स्वास्थ्य संचालक ने सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे अपने अपने जिलों ग्रीष्मकालीन संक्रामक बीमारियों की रोकथाम एवं उपचार के लिए सकारात्मक पहल करे। ग्रीष्म ऋतु में गर्मी के कारण लू लगने की संभावना रहती है। यह कभी कभी जानलेवा भी साबित हो सकती है। किंतु कुछ सरल उपाय का पालन कर लू से बचा जा सकता है।  
संचालक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डाॅ.साहनी ने बताया कि इसके लक्षण बहुत तेज बुखार, पसीना न निकालना, सर मे दर्द, हाथ पैर में दर्द, त्वचा का लाल होना, चक्कर आना, बेहोशी इत्यादि है। लू से बचने के उपाय जहां तक संभव दोपहर के धूप में निकलने से बचे, दोपहर मे अगर धूप मे निकलना जरूरी हो तो खाली पेट घर से बाहर न निकले, शरीर को पूरी तरह ढकने वाले सफेद या हल्के रंग के सूती कपड़ा पहने, सिर और चेहरे को भी कपड़े से ढक कर रखे आंखो के बचाव के लिये धूप का चश्मा उपयोग कर सकते है, दोपहर की गर्मी मे अधिक शारीरिक श्रम से बचे और यदि बचा न जा सके तो हर आधे घंटे के बाद 10 मिनट के लिये छांव मे आराम करे, पानी एवं अन्य तरल पदार्थाें का अधिक से अधिक सेवन करे, मादक पदार्थों के सेवन से बचे चाय या काफी का अधिक सेवन न करे। उपरोक्त उपायो का पालन करे एवं लू से बचा जा सकता है।  
चिकित्सकों ने इस दिशा में स्वास्थ्य विभाग के मैदानी अमले के द्वारा मुख्यालय में नियमित रूप से रहकर क्षेत्र की स्थिति पर निगरानी रखी जाये। वहीं जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सहित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और उपस्वास्थ्य केन्द्रों के अलावा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और मितानिनों के पास पर्याप्त मात्रा में जीवनरक्षक दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित किया जाये। इसके साथ ही सूचना तंत्र विकसित कर मौसमी बीमारियों पर सतत् निगरानी रखी जाये।
   स्वास्थ्य केन्द्रों में लू से पीडितों का उपचार करने हेतु ओआरटी काॅर्नर/ओरल रिहाईड्रेशन थेरेपी स्थापित करते हुए बेड आरक्षित करने के निर्देश समस्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, सिविल सर्जन व अस्पताल प्रभारी अधिकारियों को दिये गये हैं । उप स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर ओआरएस सहित अन्य अति आवश्यक व आईवीफ्लूड/ग्लोकोस की उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये गये हैं ।