देश

संकट के बीच दुनिया साथ, दिल्ली पहुंची अमेरिका की मदद की पहली किस्त

दुनिया में सबसे ज्यादा केस भारत में ही रिपोर्ट किए जा रहे हैं और सबसे बुरे हालात भी यहां के ही हैं. इस बीच भारत की बिगड़ती हुई स्थिति को देखकर दुनिया की ओर से मदद का हाथ बढ़ाया गया है.  

अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम समेत अन्य कई देशों ने अपनी ओर से मदद रवाना कर दी है, जो भारत पहुंचना शुरू भी हो गई है.

अमेरिका: अमेरिका द्वारा भेजे गए 319 ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर दिल्ली पहुंच गए हैं. अब इन्हें अस्पताल की जरूरतों के हिसाब से सप्लाई किया जाएगा. अमेरिका की ओर से इनके अलावा भी वेंटिलेटर, रैपिड किट्स भी भेजी जा रही हैं. वहीं, अमेरिका वैक्सीन प्रोडक्शन के लिए रॉ मैटेरियल देने का वादा भी कर चुका है. 

झारखंड: चक्रधरपुर रेल मंडल में नक्सलियों ने उड़ाया रेलवे ट्रैक, हावड़ा-मुंबई मुख्य रेल मार्ग ठप

नक्सलियों ने झारखंड के चक्रधरपुर रेल मंडल में रविवार रात को रेलवे ट्रैक को उड़ा दिया. इससे हावड़ा-मुंबई मुख्य रेल मार्ग ठप हो गया है. चक्रधरपुर रेल मंडल के लोटापहाड़ के पास नक्सलियों ने लैंडमाइंस लगाकर रेलवे ट्रैक को उड़ा दिया  इस घटना के बाद से चक्रधरपुर रेल मंडल में ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया है.  

तमिलनाडुः मद्रास HC ने कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग को बताया जिम्मेदार : कहा प्रचार हो रहा था, तब क्या चुनाव आयोग दूसरे प्लेनट पर था.

मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एस. बनर्जी ने सुनवाई के दौरान कहा कि चुनाव आयोग ही कोरोना की दूसरी वेव का जिम्मेदार है. कोर्ट ने कहा कि  चुनाव आयोग के अधिकारियों पर अगर मर्डर चार्ज लगाया जाए तो गलत नहीं होगा.अदालत में जब चुनाव आयोग ने जवाब दिया कि उनकी ओर से कोविड गाइडलाइन्स का पालन किया गया, वोटिंग डे पर नियमों का पालन किया गया था. इसपर अदालत नाराज हुई पूछा कि जब प्रचार हो रहा था, तब क्या चुनाव आयोग दूसरे प्लेनट पर था.  

टीकाकरण के मामले में अमेरिका और चीन को पछाड़ शीर्ष पर पहुंचा भारत, 12 करोड़ 26 लाख से ज्यादा लोगों को लगी वैक्‍सीन

देश में कोरोना महामारी को हराने के लिए टीकाकरण की रफ्तार को और तीव्र किया गया है। टीकाकरण के मामले में भारत, अमेरिका और चीन को पछाड़ कर शीर्ष स्थान पर पहुंच गया है। 92 दिनों में ही देश में 12 करोड़ 26 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगा दी गई है। इस आंकड़े को छूने में अमेरिका ने 97 दिन लगाए और चीन ने 108 दिनों में इस लक्ष्य को पूरा किया। उप्र, गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान में एक-एक करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में हररोज लगाए जाने वाले टीकों के मामले में भी भारत शीर्ष पर बना हुआ है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि 12.26 करोड़ से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। शनिवार को 25.65 लाख लोगों ने टीकाकरण करवाया। मंत्रालय ने कहा कि देश में कुल 60.057 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं। भारत में प्रतिदिन औसतन 38,93,288 टीके लगाए जा रहे हैं। वहीं दूसरे नंबर पर अमेरिका है, जहां वैक्सीन की रोजाना औसतन 30 करोड़ डोज दी जा रही है। मंत्रालय ने बताया कि अमेरिका में 85 दिनों में 9.2 करोड़ लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया, जबकि इतने ही दिनों में चीन में 6.14 करोड़ और ब्रिटेन में 2.13 करोड़ वैक्सीन की डोज ही लाभार्थियों को दी गई थीं। देशभर में टीकाकरण अभियान को मजबूती देने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए हर्षवर्धन ने ट्वीट किया, छोटे राज्यों को हर सात दिन और बड़े राज्यों को हर चार दिन में वैक्सीन भेजी जा रही है। वैक्सीन की उपलब्धता के लिए तेजी से कदम उठाए जा रहे हैं। सितंबर 2021 तक कोवैक्सीन का उत्पादन 10 गुना बढ़ाने की तैयारी है। देशभर में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि महामारी से लड़ाई में राज्यों को हर संभव मदद दी जा रही है। इसके तहत रेमडेसिविर का उत्पादन और इसकी आपूर्ति दोगुनी कर दी गई है। इसके अलावा राज्यों को आक्सीजन, वैक्सीन और चिकित्सा उपकरणों की भी आपूर्ति की जा रही है। बता दें कि देश में कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ था। पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों समेत फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को वैक्सीन लगानी शुरू की। एक मार्च से 60 साल से अधिक और 45-59 साल के गंभीर रोगों से ग्रस्त लोगों को टीका लगाया जाने लगा। इस अभियान में असल तेजी एक अप्रैल के बाद आई, जब 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को इसमें शामिल किया गया। इस बीच कोरोना वायरस के प्रसार के बीच रविवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राष्ट्रीय स्वास्थ्य आपात काल घोषित करने का आग्रह किया है। उन्होंने चुनावी रैलियों पर रोक लगाने के लिए भी सरकार से अनुरोध किया है। शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नियमित तौर पर राज्यों के मुख्यमंत्रियों और अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा की। उन्होंने फिर जोर दिया कि कोरोना से निपटने के लिए टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट का कोई विकल्प नहीं है। हमने पिछले साल भी कोरोना को मात दी थी। इस बार भी उसी रणनीति पर और तेजी से बढ़ते हुए हम इस महामारी को मात दे सकते हैं। प्रधानमंत्री ने केंद्र और राज्यों के बीच करीबी समन्वय की जरूरत पर जोर दिया। चर्चा के दौरान रेमडेसिविर, ऑक्सीजन और कोरोना बेड की कमी के मुद्दे भी सामने आए। शुक्रवार को भी उन्होंने इस संबंध में अधिकारियों से बैठक में वैक्सीन उत्पादन को गति देने की बात कही थी।

वाराणसी क्षेत्र में प्रत्याशी चयन के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य मंजू सिंह को कांग्रेस पार्टी ने दी जिम्मेदारी , मंजू सिंह वाराणसी के लिए हुई रवाना.....

अकलतरा - उत्तर प्रदेश में त्रि स्तरीय पंचयात चुनाव में प्रत्याशी के चयन के लिए कांग्रेस पार्टी द्वारा पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की गई है अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी सदस्य मंजू सिंह को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी में त्रि स्तरीय पंचायत चुनाव में कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों के चयन की जिम्मेदारी देते हुए वाराणसी शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र का पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी सदस्य मंजू सिंह वाराणसी में कांग्रेस प्रत्याशियों के चयन के लिए रवाना हुई । मंजू सिंह ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष मोहन मरकाम द्वारा कांग्रेस पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर उत्तर प्रदेश के वाराणसी में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के प्रत्याशियों के चयन के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है कांग्रेस पार्टी द्वारा वाराणसी में पर्यवेक्षक नियुक्त कर बड़ी जिम्मेदारी दी गई है, वाराणसी में पंचायत चुनाव के लिए योग्य कांग्रेसी प्रत्याशियों का चयन करने के साथ-साथ कांग्रेसी प्रत्याशियों को जीत दर्ज कराने रणनीति बनाई जाएगी मंजू सिंह के साथ निखिल कौशिक ,अविनाश साहू एवं अन्य कार्यकर्ता वाराणसी के लिए रवाना हुए।

देश : बजट को लेकर राहुल का मोदी सरकार पर हमला, बोले- एमएसएमई सेक्टर के साथ हुआ धोखा

कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने वित्त वर्ष 2021-22 के बजट को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि इस बजट में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के साथ विश्वासघात किया गया है। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री मोदी का पूंजीपति केंद्रित बजट का मतलब यह है कि संघर्ष कर रहे एमएसएमई को कम ब्याज पर कर्ज नहीं मिलेगा और जीएसटी में राहत भी नहीं दी जाएगी। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि भारत में सबसे ज्यादा लोगों को रोजगार देने वाले क्षेत्र एमएसएमई के साथ विश्वासघात हुआ है । राहुल गांधी ने बुधवार को आम बजट को एक फीसदी लोगों का बजट करार दिया था और सवाल किया था कि रक्षा खर्च में भारी-भरकम बढ़ोतरी नहीं करके देश का कौन सा भला किया गया और ऐसा करना कौन सी देशभक्ति है? उन्होंने कहा था, हमारे जवानों की प्रतिबद्धता 100 फीसदी है और ऐसे में सरकार की प्रतिबद्धता भी 110 फीसदी होनी चाहिए। जो भी हमारे जवानों को चाहिए, वो उन्हें मिलना चाहिए। ये कौन सी देशभक्ति है कि सेना को पैसे नहीं दिए जा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा सोमवार को संसद में पेश किए गए आम बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए 4.78 लाख करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है जिसमें पेंशन के भुगतान का परिव्यय भी शामिल है। पिछले साल यह राशि 4.71 लाख करोड़ रुपये थी।

BBN24 : Budget Session LIVE: सदन से वाकआउट कर गए सदस्य

विपक्षी दलों के सदस्यों ने इस दौरान सदन के बीच में आकर भारी शोरगुल और नारेबाजी की। पहली बार सभापति एम वेंकैया नायडू और दूसरी बार उप-सभापति हरिवंश ने सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। हंगामे के दौरान सदस्यों से बारबार अपनी सीट पर जाने का अनुरोध किया गया और कल किसानों के मुद्दे को उठाने का आग्रह किया गया। इससे पहले नायडू के इस मामले पर अनुमति नहीं देने पर विपक्षी दल के सदस्य सदन से वाकआउट कर गए। इसके बाद प्रश्नकाल के दौरान विपक्षी दल के सदस्य सदन में आ गए और हंगामा करने लगे।

Budget Session LIVE: गुलाम नबी आजाद ने उठाया किसानाें का मुद्दा

मिडीया रिपोर्ट के अनुसार ,सुबह राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद सहित कई विपक्षी नेताओं ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का मुद्दा उठाया। सभापति नायडू ने कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए उन्हें नियम 267 के तहत कई सदस्यों के नोटिस मिले हैं। इस नियम के तहत सदन का सामान्य कामकाज स्थगित कर जरूरी मुद्दे पर चर्चा की जाती है। तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर राय, वाम सदस्य ई करीम और विनय विश्वम, द्रमुक के टी शिवा, राजद के मनोज झा, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, सपा के रामगोपाल यादव आदि सदस्यों ने किसानों के आंदोलन का जिक्र किया और इस पर चर्चा कराने की मांग की।

BBN24 : NATION : एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड योजना से देश में 69 करोड़ लोग लाभान्वित: वित्त मंत्री

नई दिल्ली: आकांक्षी भारत के लिए समावेशी विकास उन महत्‍वपूर्ण स्‍तम्‍भों में से एक है जिस पर केन्‍द्रीय बजट 2021-22 आधारित है और इसके साथ ही इसमें असंगठित कामगारों, विशेषकर प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों के लिए आवश्‍यक प्रस्‍तावों को पेश करने के लिए सरकार का मार्गदर्शन किया गया है। आज संसद में केन्‍द्रीय बजट 2021-22 पेश करते हुए केन्‍द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड और श्रम संहिताओं को लागू करने पर विशेष बल दिया और इसके साथ ही असंगठित कामगारों से संबंधित सूचनाओं को एकत्रित करने के लिए एक पोर्टल की घोषणा की।

एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड

वित्त मंत्री ने सदन को बताया, एक राष्‍ट्र एक राशन कार्ड योजना 32 राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों मे कार्यान्वित की जा रही है जिसका फायदा लगभग 69 करोड़ लाभार्थियों तक पहुंच रहा है, अर्थात 86 प्रतिशत ला‍भार्थियों को इसमें कवर किया जा चुका है। वित्त मंत्री ने इसके साथ ही आने वाले कुछ महीनों में शेष चार राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों को भी इसमें एकीकृत करने के बारे में आश्‍वस्‍त किया। इस योजना के तहत लाभार्थी, विशेषकर प्रवासी श्रमिक पूरे देश में कहीं भी अपना राशन पाने का दावा कर सकते हैं। इसके तहत प्रवासी श्रमिक आंशिक राशन पाने का दावा उस स्‍थान पर कर सकते हैं जहां वे मौजूदा समय में रह रहे हैं, जबकि शेष राशन पाने का दावा उनके परिवार अपने-अपने मूल स्‍थानों पर कर सकते हैं।

दिल्लीः 31 जनवरी तक लोगों के लिए लाल किला बंद, जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर भी एंट्री बैन

मिडिया रिपोर्ट के अनुसार ट्रैक्टर मार्च पर किसानों ने लाल किले को काफी नुकसान पहुंचाया है जिसके बाद आम लोगों के लिए लाल किले को 31 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है। इसके अलावा दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों ने लाल किले पर भारी सुरक्षा बलों की तैनाती के बीच लाल किला मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया है जबकि जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन से भी एंट्री-एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं।

दिल्ली में किसानों के प्रदर्शन पर राहुल गांधी बोले- हिंसा किसी बात का हल नहीं

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कुछ जगहों पर पुलिस एवं किसानों के बीच झड़प होने के बाद मंगलवार को कहा कि हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं है और सरकार को देशहित में तीनों कृषि कानून वापस लेने चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, हिंसा किसी समस्या का हल नहीं है। चोट किसी को भी लगे, नुक़सान हमारे देश का ही होगा। देशहित के लिए कृषि-विरोधी कानून वापस लो!गौरतलब है कि किसान समूहों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कुछ स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई। इसके बाद पुलिस ने किसान समूहों पर आंसू गैस के गोले छोड़े तथा लाठीचार्ज किया। दिल्ली की सीमा पर कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक तोड़ दिए। राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैक्टर परेड के लिए जो मार्ग पूर्व में निर्धारित किया गया था उन्होंने उसका अनुसरण नहीं किया। ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह मंगलवार को लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर झंडे लगा दिए। पुलिस द्वारा आईटीओ से खदेड़े गए प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह अपने ट्रैक्टर लेकर लालकिला परिसर पहुंच गया। ये प्रदर्शनकारी लालकिला परिसर में घुस गए और उस ध्वज-स्तंभ पर अपना झंडा लगाते दिखे जहां से प्रधानमंत्री 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं। उन्होंने लालकिले के कुछ गुंबदों पर भी अपने झंडे लगा दिए।

सावधान : 30 जनवरी से पहले कर लें यह जरूरी काम, नहीं तो रद्द हो सकते हैं राशन कार्ड

एक मीडिया रिपोर्ट से मिली जानकारी के आधार पर आपको बतादे कि केन्द्र सरकार की कार्रवाई के बाद देश के अनेक राज्यों राशन कार्ड बनाने का काम इस समय चल रहा है। ऐसे में अगर किसी का राशन राशन कार्ड बंद या रद्द कर दिया गया हो या फिर किसी कारणवश अभी तक नहीं बन पाया हो ऐसे लोग 30 जनवरी तक अपना राशन कार्ड बनवा सकते हैं। उत्तराखंड में जहां जिला आपूर्ति कार्यालय से यह काम हो जाएगा वहीं उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश जैसे राज्यों में आनलाइन भी आवेदन किया जा सकता है। अगर फिर भी कागज दुरूस्त नहीं रहे तो राशन कार्ड रद्द भी किए जा सकते हैं।

कैसे बनेंगे सस्पेंड किए हुए राशन कार्ड

मोदी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट वन नेशन वन राशन कार्ड को देश भर में लागू किया गया है। जिसके कारण कई अवैध राशन कार्ड को रद्द कर दिया गया है। लेकिन अगर जिन लोगों ने जरुरी कागज नहीं जमा करवाया और उनका राशन कार्ड रद्द हो गया, ऐसे लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। ऐसे लोग आपूर्ति विभाग से सम्पर्क करके अपने राशन कार्ड को फिर से चालू करवा सकते हैं।

किन राज्यों में बन रहा है राशन कार्ड

बिहार, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, झारखंड जैसे राज्यों में राशन कार्ड बनाने का काम चल रहा है। ऐसे में अगर किसी का कार्ड नहीं बना है या फिर नया नाम जुड़वाना है तो आवेदक आनलाइन या पंचायत के पीडीएस केन्द्रों से फाॅर्म लेकर अपना आवेदन कर सकते हैं। हालांकि आवेदकों को आधार कार्ड नम्बर, मोबाइल नम्बर जैसे जरूरी जानकारी भी फाॅर्म में साझा करनी होगी।

चीन के पीछे हटने से पहले भारत नहीं घटाएगा सेना : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में जारी गतिरोध को लेकर कहा है कि चीन जब तक सैन्य वापसी की प्रक्रिया शुरू नहीं करता, तब तक भारत भी अपने सैनिकों की संख्या नहीं घटाएगा। हालांकि, उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि बातचीत से इस समस्या का समाधान निकल जाएगा। शुक्रवार को एक निजी चैनल से बात करते हुए राजनाथ ने कहा कि सीमावर्ती इलाकों में भारत तेजी से बुनियादी ढांचों का विकास कर रहा है। कुछ परियोजनाओं पर चीन को आपत्ति है। चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश में एक गांव के निर्माण को लेकर पूछे गए सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा कि यह सीमा से लगा इलाका है। चीन कई वर्षो से इस तरह के ढांचे का निर्माण कर रहा है। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों और अपने जवानों की जरूरतों को देखते हुए भारत भी तेजी से निर्माण कार्य कर रहा है।

26 जनवरी को चार किसान नेताओं को मारने की थी साजिश, सिंघू बॉर्डर पर पकड़े नकाबपोश ने किया खुलासा....Read Full News

मिडिया रिपोर्ट के अनुसार प्रदर्शनकारी किसान नेताओं ने आरोप लगाया कि उनमें से चार की हत्या करने और 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड के दौरान अशांति पैदा करने की साजिश रची गई। सिंघू बॉर्डर पर देर रात को प्रेस वार्ता के दौरान किसान नेताओं ने एक व्यक्ति को पेश किया, जिसने दावा किया कि उसके साथियों को राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैक्टर परेड के दौरान कथित तौर पर पुलिसकर्मी बनकर भीड़ पर लाठीचार्ज करने को कहा गया था। किसान नेताओं ने दावा किया कि उन्होंने सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन स्थल से इस व्यक्ति को पकड़ा है। इसके बाद उसे हरियाणा पुलिस के हवाले कर दिया। किसान नेता कुलवंत सिंह संधू ने आरोप लगाया कि कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन को बाधित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। किसानों ने जिस व्यक्ति को पकड़ने का दावा किया उसका चेहरा नकाब से ढका था। उसने संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि मीडिया में जाना पहचाना चेहरा बन चुके चार किसान नेताओं को मारने की साजिश रची गई। उसने कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली पुलिस के कर्मियों पर गोली चलाकर अशांति पैदा करने की साजिश रची गई ताकि इसकी वजह से प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस सख्त कार्रवाई करती। नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान प्रदर्शन कर रहे जिनमें से अधिकतर पंजाब, हरियाणा तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हैं। किसान संगठनों का आरोप है कि नए कृषि कानूनों से मंडी और एमएसपी खरीद प्रणालियां समाप्त हो जाएंगी तथा किसान बड़े कॉरपोरेट घरानों की दया पर निर्भर हो जाएंगे। उच्चतम अदालत ने 11 जनवरी को तीनों नए कृषि कानूनों के अमल पर अगले आदेश तक रोक लगा दी थी और गतिरोध को दूर करने के मकसद से चार-सदस्यीय एक समिति का गठन किया था। फिलहाल, इस समिति में तीन ही सदस्य हैं क्योंकि भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह मान ने खुद को इस समिति से अलग कर लिया था।

भजन सम्राट नरेंद्र चंचल का 80 वर्ष की उम्र में निधन

भजन सम्राट नरेंद्र चंचल (bbn24news.com) का दिल्ली के अपोलो अस्पताल में निधन हो गया है। वह 80 साल के थे। नरेंद्र चंचल पिछले तीन महीने से बीमार थे और उनका इलाज चल रहा था।