देश

29 नवंबर से पहले पूरे हो जाएंगे बिहार विधानसभा चुनाव : चुनाव आयोग


भारत निर्वाचन आयोग ने कहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान सही समय पर किया जाएगा। आयोग बिहार चुनाव के समय ही 65 सीटों पर उपचुनाव भी कराने की तैयारी है। चुनाव आयोग के मुताबिक, बिहार विधानसभा चुनाव को 29 नवंबर, 2020 से पहले पूरा करना है। उसी समय के आसपास विभिन्न राज्यों की 64 विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव कराया जाएगा। बता दें कि वर्तमान बिहार विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त हो रहा है।

LAC पर तनावः चीनी रक्षा मंत्री ने राजनाथ सिंह से मुलाकात की इच्छा जाहिर की

नई दिल्ली- भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है। इस बीच चीन के रक्षा मंत्री जरनल वेइ ने राजनाथ सिंह से मिलने की इच्छा जताई है। जागरण के मुताबिक रूस की राजधानी मास्को में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक से इतर चीन के रक्षा मंत्री जरनल वेइ ने भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ मुलाकात की इच्छा जाहिर की है। सीमा पर दोनों सेनाओं के बीच जारी तनाव के मद्देनजर इस घटनाक्रम को बेहद अहम माना जा रहा है। हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

ज्ञात हो कि राजनाथ सिंह और वांग यी दोनों ही शुक्रवार को होने वाली एससीओ बैठक में हिस्सा लेने के लिए मास्को में हैं। हालांकि, भारत के रक्षा मंत्रालय की ओर से चीनी रक्षा मंत्री के राजनाथ सिंह से मुलाकात की इच्छा पर कोई बयान अभी तक सामने नहीं आया है। बता दें इससे पहले सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली थी कि शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, अपने चीनी समकक्ष से मुलाकात नहीं करेंगे।


 
पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर 29-30 में आधी रात को और 31 अगस्त की रात चीनी सेना की ओर से घुसपैठ की कोशिश के कारण बढ़े तनाव बाद से ही भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। भारत पैंगोंग झील के उत्तरी इलाकों से चीन को अपने सैनिकों को पीछे हटाने के लिए कह रहा है। चीन की चालबाजियों के कारण ही ब्रिगेडियर स्तर की पहले हुई वार्ता में कोई हल नहीं निकल पाया। ऐसे में दोनों देशों के बीच हालात और बिगड़ते जा रहे हैं।

बहरहाल, भारतीय सैनिकों ने रेकिन ला और रेजांग ला के इलाकों पर नियंत्रण किया जहां वर्ष 1962 के बाद से कभी भारतीय सेना ने अपने सैनिक नहीं भेजे थे। इन दोनों ही जगहों पर वर्ष 1962 में भीषण लड़ाई हुई थी। पैंगोंग झील के करीब स्पांगुर गैप के पास ‘मगर हिल’ और ‘गुरुंग हिल’ पर भी भारतीय सैनिकों का नियंत्रण स्थापित हो गया है। इस प्रकार इस समय पेंगोंग के दक्षिण किनारे से लेकर रेजांग ला तक सभी पहाड़ियों पर भारतीय सैनिकों का नियंत्रण है। भारत और चीन की सेनाएं इस इलाके में महज कुछ सौ मीटर की दूरी पर खड़ी हैं और तनाव चरम पर है।

बता दें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस के तीन दिवसीय दौरे पर है। इस दौरान वह आज एससीओ की बैठक में शामिल होंगे। मॉस्को दौरे के दौरान भारत और रूस ने अत्याधुनिक एके-203 राइफल भारत में बनाने के लिए एक बड़े समझौते को अंतिम रूप दे दिया है। आधिकारिक रूसी मीडिया ने यह जानकारी दी।

लोक कल्याण के लिए नरेंद्र मोदी ने दिए 103 करोड़ रुपए से अधिक दान

नई दिल्ली:-लोक कल्याण के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विभिन्न माध्यमों से दिए गए दान की कुल राशि 103 करोड़ रुपये से अधिक है। मोदी ने अपनी बचत में से बालिकाओं की शिक्षा से लेकर गंगा की सफाई जैसे कार्यों के लिए दान दिया है। साथ ही प्रधानमंत्री को प्राप्त उपहारों की नीलामी से मिले धन को भी सार्वजनिक हित के लिए दान दिया गया है।हाल ही में मोदी ने कोविड-19 के मद्देनजर स्थापित किए गए प्रधानमंत्री आपात स्थिति नागरिक सहायता एवं राहत कोष (पीएम केयर्स) में 2.25 लाख रुपये दान दिए थे। बुधवार को सार्वजनिक किए गए खाते के विवरण के अनुसार , मार्च में स्थापना के महज पांच के भीतर इस कोष में 3,076.62 करोड़ रुपये जमा हुए थे। लोक हित के लिए मोदी द्वारा दिए गए दान को रेखांकित करते हुए सूत्रों ने बताया कि 2019 में कुंभ मेले में सफाई कर्मचारियों के कल्याण के लिए बनाए गए कोष में प्रधानमंत्री ने अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपये दान दिए थे।

सूत्रों ने कहा कि दक्षिण कोरिया में 2019 में सियोल शांति पुरस्कार प्राप्त करने के बाद प्रधानमंत्री ने पुरस्कार में मिली 1.30 करोड़ रुपये की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान देने की घोषणा की थी। सूत्रों के अनुसार, मोदी द्वारा लोक कल्याण के लिए दिए गए दान की कुल राशि अब एक सौ तीन करोड़ रुपये से अधिक हो गई है। प्रधानमंत्री को मिले स्मृति चिह्नों की हाल ही में हुई नीलामी से तीन करोड़ चालीस लाख रुपये प्राप्त हुए,जिन्हें नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया। सूत्रों ने कहा कि 2014 में गुजरात के मुख्यमंत्री पद को छोड़कर प्रधानमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद मोदी ने गुजरात सरकार में कार्यरत एक कर्मचारी की बेटी की शादी के लिए अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपये दान दे दिए थे। मोदी ने मुख्यमंत्री के तौर पर मिले उपहारों की नीलामी से प्राप्त 89.96 करोड़ रुपये ‘कन्या केलवणी कोष’ में दान दे दिए थे,जो कि बालिकाओं की शिक्षा के लिए शुरू की गई एक योजना है।

सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उपहारों की नीलामी 2015 में शुरू की थी,जिससे प्राप्त 8.35 करोड़ रुपये की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया था।

पीएम मोदी का ट्विटर अकाउंट हैक, कुछ ही समय में हुआ रिकवर

नई दिल्लीः-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया है। ट्विटर ने गुरुवार को इस बात की पुष्टि है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट के एक खाते को कई ट्वीट्स के साथ हैक किया गया था, जो अपने फाॅलाअर्स को क्रिप्टोक्यूरेंसी के माध्यम से राहत कोष में दान करने के लिए कहते हैं। हालांकि, बाद में ये सब डिलीट कर दिया गया। ट्विटर मामले की जांच कर रहा है। इस घटना के बाद ट्विटर ने कहा कि उसे पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट के ट्विटर अकाउंट के हैक होने की गतिविधि की जानकारी है और उसने इसे सुरक्षित करने के लिए कदम उठाए हैं।

ट्विटर प्रवक्ता ने ईमेल वाले बयान पर कहा “हम स्थिति की सक्रिय रूप से जांच कर रहे हैं। इस समय, हमें अतिरिक्त खातों के प्रभावित होने की जानकारी नहीं है। बाद में किए गए ट्वीट ने फाॅलाअर्स को क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से पीएम राष्ट्रीय राहत कोष में दान करने के लिए कहा। ताजा घटना जुलाई में प्रमुख हस्तियों के कई खातों के हैक होने के बाद सामने आई है।

बता दें कि अमेरिकी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और अरबपति एलोन मस्क सहित कई ग्लोबल हस्तियों के अकाउंट हाईजैक करने के लिए हैकर्स ने ट्विटर की इंटरनल सिस्टम तक पहुंच बनाई थी और उनका उपयोग डिजिटल मुद्रा का उपयोग करने के लिए किया था।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट का जो वेरिफाइड ट्विटर अकाउंट है, उसके 25 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। इतना ही नहीं, नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप भी है। हालांकि, प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी के पर्सनल ट्विटर अकाउंट पर 61 मिलिनय फॉलोअर्स हैं और इसे हैकर्स द्वारा प्रभावित नहीं किया गया है।

पबजी सहित 118 चीनी मोबाइल एप्स पर केंद्र सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली:-भारत सरकार ने चीन के खिलाफ एक और डिजिटल स्ट्राइक की है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बुधवार को मोबाइल गेम पबजी समेत 118 मोबाइल एप्लीकेशन पर प्रतिबंध लगा दिया है। चीन के मोबाइल एप्स पर भारत की यह तीसरी डिजिटल स्ट्राइक है। इससे पहले जून अंत में भारत ने टिकटॉक समेत 47 एप्स पर प्रतिबंध लगाया था और उसके बाद जुलाई अंत में 59 एप्स प्रतिबंधित किए थे। सरकार ने इस फैसले के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला दिया है। प्रतिबंधित एप्स की इस लिस्ट में कई लोकप्रिय एप्लीकेशन शामिल हैं। इनमें लोकप्रिय गेम पबजी मोबाइल, पबजी मोबाइल लाइट, बायडू, सुपर क्लीन, शायोमी का शेयरसेव, वीचैट वर्क, साइबर हंटर और इसका लाइट वर्जन, गेम ऑफ सुल्तान्स, गो एसएमएस प्रो, मार्वेल सुपर वार आदि शामिल हैं।

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामला: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 3 ड्रग पेडलरों को किया गिरफ्तार

मुंबई:-सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने इस मामले में 3 ड्रग पेडलरों को गिरफ्तार किया है। इनमें एक गोवा से व दो मुंबई से गिरफ्तार किए गए हैं। एनसीबी को इन ड्रग पेडलरों से रिया के भाई शोविक के कहने पर सैमुअल मिरांडा द्वारा ड्रग खरीदने के सबूत मिले हैं। इस मामले में एनसीबी ने तीन ड्रग पेडलरों को गिरफ्तार किया है। इनमें एक फैयाज अहमद को गोवा से और अब्दुल बासित परिहार और जैद विलात्रा को मुंबई से गिरफ्तार किया गया है। एनसीबी की टीम ने मुंबई से तकरीबन साढ़े तीन किलो नशीला पदार्थ भी बरामद किया है। गिरफ्तार ड्रग पेडलरों ने एनसीबी को बताया कि शोविक के कहने पर सैमुअल उनसे ड्रग खरीदता था। ड्रग पेडलरों ने 10 हजार रुपये की ड्रग खरीदते समय हुई बातचीत का चैट भी एनसीबी को दिखाया है। इसलिए एनसीबी इस मामले में सैमुअल मिरांडा व शोविक से भी पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

सूत्रों के अनुसार सीबीआई बुधवार को लगातार 13वें दिन सुशांत मामले में आर्थिक लेन-देन, रिया के सुशांत से संबंध व ड्रग कनेक्शन की छानबीन कर रही है। इस मामले में सीबीआई रिया से लगातार चार दिन 35 घंटे तक पूछताछ कर चुकी है। इसके बाद मंगलवार को सीबीआई ने इस मामले में रिया चक्रवर्ती के माता-पिता से लगातार 9 घंटे तक पूछताछ की थी। सूत्रों के अनुसार इस मामले में मनी लॉड्रिंग एंगल से ईडी ने मंगलवार को होटल व्यवसाई गौरव आर्या से पूछताछ की थी। बुधवार को गौरव के मित्र वरुण माथुर से पूछताछ की जा रही है। ईडी गौरव आर्या, रिया, शोविक के बीच हुए आर्थिक व्यवहार का भी पता लगाने का प्रयास कर रही है।

लोकसभा के मानसून सत्र में नहीं होगा प्रश्नकाल, छुट्टी के दिन भी होगी बैठक

नई दिल्ली:-कोरोना महामारी की वजह से पहली बार संसद के मानसून सत्र के लिए व्यापक व्यवस्था की गई है। 14 सितम्बर से एक अक्टूबर तक चलने वाले इस सत्र में लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही और समय में भी कुछ बदलाव किए गए हैं। इसके तहत पहले दिन लोकसभा सुबह 9 बजे से दोपहर एक बजे तक बैठक होगी, वहीं बाकि दिनों में दोपहर तीन बजे से शाम सात बजे तक सदन की कार्यवाही चलेगी।लोकसभा से मिली जानकारी के मुताबिक, इस मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं होगा लेकिन शून्य काल की कार्यवाही होगी। प्राइवेट मेंबर बिल नहीं पेश किया जा सकेगा। इसी तरह राज्यसभा की बैठक पहले दिन यानी 14 सितम्बर को दोपहर तीन बजे से शाम सात बजे तक चलेगी लेकिन बाकी दिन सुबह नौ बजे से दोपहर एक बजे तक ही बैठक होगी। इसके साथ ही शनिवार और रविवार को अवकाश नहीं होगा और दोनों सदनों की बैठक होगी। सत्र के दौरान 14 सितम्बर से एक अक्टूबर तक कुल 18 बैठकें होंगी।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं रहे,कई दिनों से चल रहा था इलाज

नई दिल्ली:-पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन हो गया है। वो पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। सोमवार शाम को 84 साल की उम्र में प्रणब मुखर्जी ने अंतिम सांस ली। वो पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। बीते दिनों प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, उनकी सर्जरी भी हुई थी। प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट कर प्रणब मुखर्जी के निधन की जानकारी दी। ब्रेन सर्जरी बाद पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे।

राष्ट्रपति ने वर्चुअल रूप में राष्ट्रीय खेल और साहसिक पुरस्कार, 2020 प्रदान किये

नई दिल्ली -  पुरस्कारों की पहली वर्चुअल प्रस्तुति में, राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने आज (29 अगस्त, 2020) राष्ट्रपति भवन से राष्ट्रीय खेल और साहसिक पुरस्कार, 2020 प्रदान किये और कहा कि इन पुरस्कार विजेताओं की उपलब्धियाँ, खेल में देश की अपार संभावनाओं की याद दिलाती हैं।

लक्ष्य को ऊंचा रखते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि भारत खेल में एक महान शक्ति के रूप में उभरेगा और 2028 ओलंपिक में पदक जीतने वाले शीर्ष दस देशों में जगह पाने की इच्छा रखेगा। उन्होंने कहा, "मुझे यकीन है कि हम इस लक्ष्य को हासिल कर लेंगे।" राष्ट्रपति बेंगलुरु, पुणे, सोनीपत, चंडीगढ़, कोलकाता, लखनऊ, दिल्ली, मुंबई, भोपाल, हैदराबाद और ईटानगर समेत देश भर के 11 विभिन्न केंद्रों पर अधिकारियों, खेल-व्यक्तियों और प्रशिक्षकों की एक सभा को संबोधित कर रहे थे। केंद्रीय युवा मामले और खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री किरेन रिजिजू ने भी नई दिल्ली से समारोह में भाग लिया और स्वागत भाषण दिया।


 
राष्ट्रपति ने कहा कि कोविड-19 ने खेल जगत पर भी प्रतिकूल प्रभाव डाला है। ओलंपिक खेलों को स्थगित कर दिया गया है। हमारे देश में भी खेल गतिविधियां प्रभावित हुई हैं। खिलाड़ी और कोच अभ्यास और प्रतियोगिताओं की कमी के कारण कम प्रेरित महसूस कर रहे होंगे, जो उनकी मानसिक और शारीरिक तैयारी के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि इस चुनौती से पार पाने के लिए खिलाड़ी और कोच ऑनलाइन कोचिंग और वेबिनार के माध्यम से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि आज का समारोह वैश्विक महामारी के बावजूद खेल से संबंधित गतिविधियों को जारी रखने का प्रयास है।

राष्ट्रपति ने देश में खेलों की बढ़ती विविधता पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि आज के पुरस्कार विजेता 20 से अधिक खेलों का प्रतिनिधित्व करते हैं। कबड्डी, खो-खो और मल्लखंभ जैसे हमारे पारंपरिक खेलों की बढ़ती लोकप्रियता से आम लोगों को खेलों से जोड़ने में मदद मिलेगी। आज, क्रिकेट और फुटबॉल के अलावा, वॉलीबॉल और कबड्डी जैसे खेलों के लीग टूर्नामेंट लोकप्रिय हो रहे हैं जो एक सुखद बदलाव है। 

राष्ट्रपति ने कहा कि सभी हितधारकों की भागीदारी से खेल संस्कृति को बढ़ावा दिया जा सकता है। यह केवल सरकार की जिम्मेदारी नहीं है। खेलों में निवेश राष्ट्र-निर्माण की दिशा में एक सामूहिक प्रयास है जो समाज को मजबूत बनाता है। उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि कई कॉर्पोरेट, गैर सरकारी संगठन और शैक्षणिक संस्थान खेलों को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भारत सामूहिक प्रयासों से खेल में एक अग्रणी राष्ट्र बनकर उभरेगा।

खेलों में उत्कृष्टता को पहचान देने और पुरस्कृत करने के लिए हर साल खेल पुरस्कार दिए जाते हैं। राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार, खिलाड़ी द्वारा चार वर्षों की अवधि में खेल के क्षेत्र में शानदार और उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दिया जाता है; अर्जुन पुरस्कार, चार वर्षों में निरंतर उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दिया जाता है; द्रोणाचार्य पुरस्कार, प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों में पदक विजेता के कोच को दिया जाता है; ध्यानचंद पुरस्कार, खेल विकास के लिए जीवन काल (लाइफ टाइम) योगदान के लिए है और राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार कॉर्पोरेट संस्थाओं (निजी और सार्वजनिक क्षेत्र में) और व्यक्तियों को दिया जाता है जिन्होंने खेल को बढ़ावा देने और विकास के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। अंतर-विश्वविद्यालयीय टूर्नामेंट में कुल मिलाकर शीर्ष प्रदर्शन करने वाले विश्वविद्यालय को मौलाना अबुल कलाम आज़ाद ट्रॉफी दी जाती है। इन खेल पुरस्कारों के अलावा, तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड देकर देश के लोगों में रोमांच की भावना को पहचान दी जाती है
 

अयोध्या भूमि पूजन में शामिल रहे बड़े गायक पर रेप के बड़े आरोप FIR हुई दर्ज

दिल्ली:-पीड़िता दिल्ली की रहने वाली है और विधवा है. महिला की माने तो भजन गायक देवेंद्र पाठक से उसकी मुलाकात दिल्ली में ही हुई. इसके बाद दोनों एक दूसरे से प्रेम करने लगे. दोनों के बीच बात शादी तक पहुंच गई. इस बीच महिला गर्भवती हो गई.अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के समय अपने भजनों से मीडिया और सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने वाले भजन गायक देवेंद्र पाठक अब मुश्किलों में फंस गए हैं. दिल्ली की एक महिला ने भजन गायक देवेंद्र पाठक पर बलात्कार, जबरन गर्भपात कराने और धोखा देने का आरोप लगाया है. यूपी डीजीपी के निर्देश पर अयोध्या पुलिस ने देवेंद्र पाठक पर मुकदमा दर्ज किया है.

पीड़िता दिल्ली की रहने वाली है और विधवा है. महिला की माने तो भजन गायक देवेंद्र पाठक से उसकी मुलाकात दिल्ली में ही हुई. इसके बाद दोनों एक दूसरे से प्रेम करने लगे. दोनों के बीच बात शादी तक पहुंच गई. इस बीच महिला गर्भवती हो गई. महिला का आरोप है कि उसका जबरन गर्भपात करा दिया गया और भजन गायक देवेंद्र पाठक ने उससे 8 लाख रुपये भी ठग लिए. महिला ने कहा कि जब वो देवेंद्र पाठक पर शादी के लिए दबाव डालने लगीं तो दोनों के बीच दूरी बढ़ गई और आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया. महिला ने कहा कि वो देवेंद्र पाठक पर केस दर्ज कराने के लिए अयोध्या थाना से लेकर एसएसपी अयोध्या और आईजी तक गईं, लेकिन देवेंद्र पाठक के खिलाफ केस दर्ज नहीं हुआ. इसके बाद महिला एक हाई कोर्ट की एक अधिवक्ता को साथ लेकर डीजीपी ऑफिस पहुंची. इसके बाद कथावाचक देवेंद्र पाठक पर बलात्कार, जबरन गर्भपात और धोखाधड़ी का मुकदमा राम जन्मभूमि थाने में दर्ज हुआ. पीड़ित महिला ने कहा कि देवेंद्र पाठक ने उसे फोन करके अयोध्या बुलाया. इस दौरान दोनों के बीच संबंध बने. महिला ने कहा कि देवेंद्र पाठक ने उसे बरगलाया और उसका यौन शोषण किया. इसके अलावा आरोपी महिला को धमकी भी दे रहा है. पीड़िता ने कहा कि मुकदमा दर्ज होने के बाद उसे बहुत फोन कॉल आ रहे हैं और केस वापस लेने को कहा जा रहा है. इन आरोपों पर कथावाचक देवेंद्र पाठक की प्रतिक्रिया अभी तक नहीं मिल पाई है.

इस घटना में पीड़िता का साथ देने वाली हाई कोर्ट की अधिवक्ता नीरज सिंह ने कहा कि पीड़िता हाई कोर्ट के बाहर रोती हुई मिली थी और बहुत परेशान थी. उनकी समस्या सुनकर ही मैंने महिला की मदद करने की ठानी. वकील नीरज सिंह ने कहा कि मैं इनके साथ आई और थाने पर गई. थाने पर इंस्पेक्टर साहब नहीं मिले इसके बाद मैं इनको लेकर एसएसपी ऑफिस आई लेकिन एसएसपी साहब भी नहीं मिले, हमें अगले दिन बुलाया गया, अगले दिन फिर हम गए, एसएसपी साहब तब भी हमको वहां नहीं मिले.

महिला वकील ने कहा कि हमने व्हाट्सएप से उनको एप्लीकेशन की कॉपी भेजी लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला, फिर मैंने आईजी संजय गुप्ता को एप्लीकेशन दी उन्होंने कहा आप एसएसपी साहब के पास जाइए. इसके बाद हम फिर एसएसपी साहब के पास गए लेकिन वह नहीं मिले. आखिरकार मैं इनको लेकर लखनऊ गई और डीजीपी साहब से मिली. उन्होंने हमें सीओ अयोध्या से मिलने को कहा, मैंने उनसे फोन पर बात की. उन्होंने हमको अयोध्या बुलाया, हम अयोध्या आए तब जाकर FIR दर्ज हुई.

वकील नीरज सिंह ने कहा कि महिला को लगातार धमकी भरे फोन आ रहे हैं. इस वजह से एक बार उनका बीपी इतना बढ़ गया कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. महिला वकील के मुताबिक आरोपी देवेंद्र पाठक को बचाने के लिए कई लोगों के फोन आ रहे हैं. महिला को कहा जा रहा है उनकी पहुंच दूर दूर तक है और आप उनका कुछ बिगाड़ नहीं पाएंगी, आप दिल्ली वापस चली जाओ. उन्होंने कहा कि तीन-चार दिन हो गए लेकिन अभी तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हुई है जबकि वह थाने के बगल में ही रहता है।

दिल्ली:-देश में 24 घंटे में कोरोना के 69239 नए मामले आए, संक्रमितों का आंकड़ा 30 लाख पार

नई दिल्ली:-देश में कोरोना संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 69,239 नए मामले सामने आए और 912 लोगों की मौत हुई। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 69,239 नए मामलों के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 30,44,940 हो गया। इसी दौरान 57989 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जिससे कोरोना से मुक्ति पाने वालों की संख्या 22,80,566 हो गई है। इसके साथ ही मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 74.89 फीसदी पहुंच गई है। चिंता की बात यह है कि इस दौरान सक्रिय मामलों में 10 हजार से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है। सक्रिय मामलों में रिकॉर्ड 10,338 की वृद्धि होने से कुल संक्रमितों की संख्या 7,07,668 हो गई है। देशभर में पिछले 24 घंटों के दौरान 912 मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 56706 हो गई। देश में सक्रिय मामले 23.43 प्रतिशत हैं जबकि मृतकों की दर 1.87 प्रतिशत है।

पाकिस्तान ने 88 आतंकियों पर कड़े किए प्रतिबंध, लिस्ट में दाऊद इब्राहिम का नाम शामिल

नई दिल्ली:-पाकिस्तान ने आतंकवादी संगठनों से जुड़े 88 लोगों पर प्रतिबंध कड़े कर दिए हैं। जिन पर सख्ती बढ़ाई गई है उनमें हाफिज सईद, मसूद अजहर, दाउद इब्राहिम के नाम शामिल हैं। इनके संगठनों और सदस्यों पर कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाते हुए संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने के आदेश दिए गए हैं। पाकिस्तान की इस कार्रवाई को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की अक्टूबर में होने वाली मीटिंग से पहले ब्लैक लिस्ट होने से बचने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। पाकिस्तान अभी ग्रे लिस्ट में है। पेरिस स्थित एफएटीएफ ने जून, 2018 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला था और इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक कार्ययोजना लागू करने को कहा था। बाद में कोरोना महामारी के चलते ये समय सीमा बढ़ा दी थी। पाकिस्तान की मीडिया के मुताबिक,इमरान सरकार ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से जारी नई सूची के अनुपालन में आतंकवादी समूहों के 88 सदस्यों पर प्रतिबंध लगाए हैं। अधिसूचनाओं में घोषित प्रतिबंध जमात-उद-दावा, जैश-ए-मोहम्मद, तालिबान, दाएश, हक्कानी समूह, अलकायदा और अन्य पर लगाए गए हैं।

सरकार ने इन संगठनों और आकाओं की सभी चल और अचल संपत्तियों को जब्त करने और उनके बैंक खातों को सील करने के आदेश दिए है। हाफिज सईद, अजहर मसूद, मुल्ला फजलुल्ला, जकीउर रहमान लखवी, अब्दुल हकीम मुराद, नूर वली महसूद, उजबेकिस्तान लिबरेशन मूवमेंट के फजल रहीम शाह, तालिबान नेताओं जलालुद्दीन हक्कानीऔर उनके सहयोगी सूची में हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा गया है कि हम यूएन चार्टर के हिसाब से कदम उठा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि दूसरे देश भी पाकिस्तान के इस कदम का समर्थन करते हुए ऐसा ही करेंगे। पाकिस्तान ने पिछले साल मई में भी 8 आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की थी।

कोरोना वैक्सीन पर भारत के लिए राहत भरी खबर,स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कब से मिलेगी

नई दिल्‍ली:-भारत इस साल के आखिर तक कोरोना वायरस की वैक्‍सीन हासिल कर लेगा। देश में बनीं और ट्रायल से गुजर रहीं दोनों कोरोना वैक्‍सीन 2020 के अंत तक उपलब्‍ध हो सकती हैं। यह दावा है केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ.हर्षवर्धन का है। उन्‍होंने कहा कि भारत बायोटेक की बनाई वैक्‍सीन Covaxin साल के आखिर तक उपलब्‍ध हो सकती है। उन्‍होंने कहा कि हम 2021 की पहली तिमाही में वैक्‍सीन इस्‍तेमाल करने के लिए तैयार हो सकते हैं। हर्षवर्धन के अनुसार, दुनियाभर में वैक्‍सीन ट्रायल को फास्‍ट-ट्रैक किया जा रहा है। स्‍वदेशी टीकों का ट्रायल साल के आखिर तक पूरा होने की उम्‍मीद है। उन्‍होंने कहा कि तब तक हमें पता चल जाएगा कि ये टीके कितने असरदार हैं। हर्षवर्धन ने कहा कि सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया पहले से ही ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्‍सीन का उत्‍पादन कर रहा है ताकि बाजार तक उसके पहुंचने का समय कम किया जा सके। उन्‍होंने बताया कि बाकी दोनों टीकों को बनाने और बाजार में उतारने में कम से कम एक महीने का और वक्‍त लग सकता है। उन्‍होंने साल के आखिर तक ये टीके उपलब्‍ध होने की उम्‍मीद जताई है।

रोहित शर्मा,विनेश फोगाट,मनिका बत्रा,रानी रामपाल, मरियप्पन थंगवेलु को मिलेगा खेल रत्न पुरस्कार

नई दिल्ली:-खेल मंत्रालय ने शुक्रवार को पूर्व में खेल रत्न हासिल करने वाली साक्षी मलिक और मीराबाई चानू को अर्जुन पुरस्कार नहीं देने का फैसला किया, जिससे इस साल यह पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों की संख्या 27 रह गई है। खेल मंत्रालय ने सर्वोच्च खेल पुरस्कार खेल रत्न के लिए जिन पांच खिलाड़ियों के नाम की सिफारिश की गई थी, उन्हें स्वीकार कर लिया है। पिछले सप्ताह न्यायमूर्ति (सेवानिवृत) मुकुंदकम शर्मा की अगुवाई वाली चयन समिति ने अर्जुन पुरस्कार के लिए 29 खिलाड़ियों के नाम खेल मंत्रालय के पास भेजे थे। इस सूची में रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता पहलवान साक्षी मलिक और 2017 की विश्व भारोत्तोलन चैंपियन मीराबाई चानू का नाम भी शामिल था लेकिन इन दोनों को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित करने का अंतिम फैसला खेल मंत्री किरेन रीजीजू पर छोड़ दिया गया था। असल में इन दोनों खिलाड़ियों को पहले ही देश का सर्वोच्च खेल पुरस्कार खेल रत्न मिल चुका था। इन दोनों के नाम को सूची में शामिल करने की आलोचना भी हुई थी। इस साल खेल रत्न पाने वाले पांच खिलाड़ियों में स्टार क्रिकेटर रोहित शर्मा, पहलवान विनेश फोगाट, पैरालंपिक स्वर्ण पदक विजेता मरियप्पन थंगवेलु, टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा और महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल शामिल हैं। मंत्रालय ने अपनी औपचारिक प्रेस विज्ञप्ति में इसकी पुष्टि की है। कोविड-19 महामारी के कारण पहली बार पुरस्कार वितरण समारोह 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस पर वर्चुअल आयोजित किया जाएगा। पहले इसके लिये राष्ट्रपति भवन में पुरस्कार समारोह का आयोजन किया जाता था। इनको मिलेगा खेल रत्न पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार: रोहित शर्मा (क्रिकेट), विनेश फोगाट (कुश्ती), मनिका बत्रा (टेबल टेनिस), रानी रामपाल (हॉकी), मरियप्पन थंगवेलु (पैरा एथलीट)।

अर्जुन पुरस्कार

इशांत शर्मा (क्रिकेट), अतानु दास (तीरंदाजी), दीपक हुड्डा (कबड्डी), दीपक ठाकुर (हॉकी), दिविज शरण (टेनिस), आकाशदीप सिंह (हॉकी) , लोवलीना बोरगोहेन (मुक्केबाजी), मनु भाकर (निशानेबाजी), सौरभ चौधरी (निशानेबाजी), मनीष कौशिक (मुक्केबाजी), संदेश झिंगन (फुटबॉल), दत्तू भोकानल (रोइंग), राहुल अवारे (कुश्ती), दुती चंद (एथलेटिक्स), दीप्ति शर्मा (क्रिकेट), शिवा केशवन (शीतकालीन खेल), मधुरिका पाटकर (टेबल टेनिस), मनीष नरवाल (पैरा निशानेबाज), संदीप चौधरी (पैरा एथलीट), सुयश जाधव (पैरा तैराक), चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी (बैडमिंटन), विशेष भृगुवंशी (बास्केटबॉल), अजय सावंत (टेंट पेगिंग), अदिति अशोक (गोल्फ), काले सारिका (खो खो), दिव्या काकरान (कुश्ती)।

चुनाव आयोग ने जारी की गाइडलाइन,मतदाताओं को मिलेंगे दस्ताने,केंद्रों पर होंगे थर्मल स्कैनर

नई दिल्ली:-कोरोना वायरस महामारी के दौरान चुनाव कराने को लेकर शुक्रवार को निर्वाचन आयोग द्वारा जारी व्यापक दिशानिर्देशों के अनुसार ईवीएम का बटन दबाने के लिये मतदाताओं को दस्ताने दिये जाएंगे और पृथकवास केंद्रों में रह रहे कोविड-19 मरीजों को मतदान के दिन आखिरी घंटों में मतदान करने दिया जाएगा। निर्वाचन आयोग ने कहा कि “निषिद्ध क्षेत्र” के तौर पर अधिसूचित इलाकों में रह रहे मतदाताओं के लिये अलग दिशानिर्देश जारी किये जाएंगे। आयोग ने मतदान केंद्रों के अनिवार्य सेनिटाइजेशन की अनुशंसा की है। बेहतर होगा कि यह चुनाव से एक दिन पहले हो। आयोग ने कहा कि प्रत्येक मतदान केंद्र के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनर रखे जाएंगे। निर्वाचनकर्मी या पराचिकित्सा कर्मी मतदान केंद्र के प्रवेश द्वार पर मतदाताओं के तापमान की जांच करेंगे। दिशानिर्देश में कहा गया,प्रत्येक मतदान पर 1500 मतदाताओं के बजाए अब अधिकतम 1000 मतदाता ही होंगे।” घर-घर जाकर प्रचार करने के लिये उम्मीदवार समेत पांच लोगों के समूह को ही इजाजत होगी। इस समूह में सुरक्षाकर्मियों शामिल नहीं होंगे। आयोग ने कहा कि रोड शो के लिये प्रत्येक पांच वाहनों के बाद काफिले को विराम दिया जाएगा पहले यह संख्या 10 वाहनों की थी (सुरक्षाकर्मियों के वाहनों को छोड़कर)। कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए जनसभा और रैलियां की जा सकती हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी को पहले ही जनसभाओं के लिये निर्दिष्ट मैदान की पहचान करनी चाहिए जहां प्रवेश और निकास स्थल स्पष्ट हों। ऐसे सभी तयशुदा मैदानों में जिला निर्वाचन अधिकारी को सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कराने के लिये पहले ही निशान लगवाने चाहिए जिसका सभा में शामिल होग पालन करें। आयोग ने कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारी और जिले के पुलिस अधीक्षक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सभा में शामिल लोगों की संख्या राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा ऐसी जनसभाओं के लिये तय लोगों की संख्या से ज्यादा न हो। बिहार पहला राज्य होगा जहां महामारी के बीच विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव अक्टूबर-नवंबर में किसी समय होंगे।