छत्तीसगढ़

स्पेशल स्टोरी:-सामाजिक बहिष्कार के नाम पर समाज के ठेकेदारो द्वारा किस तरह अपने ही लोगो का किया जाता है दोहन

 

 

 

जांजगीर चाम्पा:- सामाजिक बहिष्कार के नाम पर समाज के ठेकेदारो द्वारा किस तरह अपने ही लोगो का दोहन किया जाता है, इसका जीता जागता नमूना छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले में देखने को मिला, जहाँ अन्तर्जातीय विवाह करने वाले युवक के पूरे परिवार को समाज से बाहर निकाल दिया गया। समाज मे दोबारा शामिल करने के लिए इनसे डेढ़ लाख रुपये मांगे गए, मगर पूरी रकम नहीं देने पर इन्हें प्रताड़ित किया जा रहा था। मामले की शिकायत पुलिस में किये जाने पर समाज के इन ठेकेदारों के बीच खलबली मच गयी है।

जांजगीर चाम्पा छत्तीसगढ़ का ऐसा जिला है, जहाँ से बड़ी संख्या में लोग हर साल रोजी-रोटी के लिए पलायन करते हैं। यहां के पिहरिद गांव का दिलहरण कर्ष भी मजदूरी करने के लिए हर साल जम्मू राज्य चला जाता है। कुछ समय पूर्व ही उसने सोनी नामक युवती से अंतरजातीय विवाह किया था। इसकी जानकारी जब बरेठ याने धोबी समाज के पदाधिकारियों को लगी तो उन्होंने दिलहरण के पूरे परिवार को समाज से बाहर करने का ऐलान कर दिया। इससे इस परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। समाज के लोगों ने इनसे मिलना जुलना छोड़ दिया। इससे परेशान दिलहरण ने समाज मे दोबारा शामिल होने की इच्छा जताई तो सामाजिक बैठक कराई गई, और इस परिवार पर डेढ़ लाख रुपये का जुर्माना ठोक दिया गया। दिलहरण ने बताया कि उसने किसी तरह 65 हजार रुपए का जुगाड़ किया और पदाधिकारियों को दिया, मगर थोड़े दिनों बाद वे बाकी रकम देने के लिए तांग करने लगे। परेशान होकर इस परिवार ने पुलिस की शरण ली।

दिलहरण के पिता ने बताया की उनकी इतनी हैसियत ही नहीं है कि वे इतनी बड़ी रकम का जुगाड़ कर सकें। उसकी मां को ये चिंता सता रही है कि अगर उन्हें समाज मे शामिल नहीं किया गया तो उसके बाल बच्चों का क्या हो। वहीं वो ये सवाल भी उठा रही है कि समाज के पदाधिकारी आखिर इन रुपयों का करते क्या हैं?

दिलहरण के काफी मनुहार के बाद पुलिस ने इस मामले में धोबी समाज के मुखिया और अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज किया है।

, इस समाज केवल दिलहरण ही नहीं बल्कि ऐसे अनेक लोगों के परिवार हैं, जो सामाजिक बहिष्कार का दंश झेल रहे हैं। ऐसे परिवारों से दोबारा समाज में शामिल करने के नाम पर लाखों रुपए की उगाही की जाती है। इसमें से कुछ रकम समाज के हिस्से में दी जाती है, और शेष रुपयों की बंदरबांट कर ली जाती। पता चला है कि दूसरे पीड़ित परिवार भी अब मामले की शिकायत पुलिस में करने जा रहे हैं। फिलहाल पुलिस की जांच जारी है और समाज के ठेकेदारों के बीच खलबली मची हुई है।

बिलासपुर में एटीएम लूटने की कोशिश

अजीत मिश्रा : प्रदेश की न्यायधानी बिलासपुर में पुलिस के लाख दावों के बाद भी चोर पुलिस को खुली चुनोती दे रहे है ऐसा ही एक मामला आया है जिसमे चोरों ने मैन रोड़ में स्थित एटीएम को तोड़कर लूटने का असफल प्रयास किया है,जिसमे पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है,मामला रतनपुर थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रतनपुर मेनरोड स्थित स्टेट बैंक के एटीएम में देर रात चार हथियारबंद नकाबपोशों नें एटीएम मशीन लूटने का प्रयास किया,एटीएम में तोड़फोड़ की आवाज से जागे,जागरूक पड़ोसी नें इस बात की सूचना तत्काल पुलिस को दी,मौके पर पुलिस के पहुँचते ही तीन नकाबपोशो ने पुलिस पर लाल मिर्च पाउडर डालकर वहां से रफूचक्कर हो गए,तो वही एक आरोपी को गिरफ्तार कर पुलिस उनके साथियों की तलाश में जुट गई है,मौके पर टूटा हुआ एटीएम,लाल मिर्च पाउडर,दस्ताने,और नकाब मिला है, सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार गिरफ्तार आरोपी को लेकर पुलिस जोगी अमराई गांव में अन्य आरोपियों की तलाश में निकली है,पुलिस उच्च अधिकारियों के मार्गदर्शन में नाकाबंदी कर फरार आरोपियों की तलाश में जुट गई है,खबर लिखे जाने तक अन्य फरार आरोपी, पुलिस की गिरफ्त से दूर थे,जानकारी के अनुसार पकड़ा गया आरोपी आगरा का रहने वाला है और उसका ससुराल रतनपुर के निकट ग्राम जोगी अमराई बताया जा रहा है,मुख्य मार्ग में स्थित एटीएम में डकैती का प्रयास से पुलिस की गश्त पर भी सवाल खड़े होते है,,, बाईट श्याम सिदार (थाना प्रभारी)

वीडियो:-नियमों को ताक में रखकर कराया जा रहा है यहां सरकार के महत्वाकांक्षी योजना का निर्माण

 

 

 

डोलकुमार निषाद

जांजगीर चाम्पा:- छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नरवा घुरवा बाड़ी के अंतर्गत गांव गांव में गोऊठान का कार्य किया जा रहा है लेकिन सरपंच सरकारी नियमो को ताक में रखकर उक्त निर्माण कार्य कर रहे है।

          डभरा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम पंचायत अकोल जमोरा इनमे से एक है जहाँ शासन के नियमो की धज्जियां उड़ाते हुए अपने ही अवैध लाल इंट का प्रयोग गोऊठान बनाने में कर रहा है। और यह कार्य अधिकारियो के आश्रय में हो रहा है।   

अधिकारियो द्वारा न ही अवैध ईंट भट्ठों पर कार्यवाही की जा रही न ही उक्त निर्माण कार्य पर।

            ज्ञात हो कि पर्यवरण को ध्यान में रखते हुए सरकारी कार्यो में लाल ईंट के स्तेमाल पर पूरी तरह पाबंदी है फिर भी सरपंचों द्वारा लाल इंट का प्रयोग किया जा रहा है।

संगीतमय सुन्दरकाण्ड पाठ का भव्य आयोजन किया गया

प्रियांश केशरवानी पावन पवित्र श्रावण मास के कृष्ण पक्ष एकादशी जिसे कामिका एकादशी भी कहते हैं कि पूर्व संध्या आज दिन शनिवार को शिवरीनारायण नगर के नारी शक्ति ब्राम्हण परिवार द्वारा श्री शिवरीनारायण मठ में संगीतमय सुन्दरकाण्ड पाठ का भव्य आयोजन किया गया सुन्दरकाण्ड पाठ पण्डित नवीन कुमार शास्त्री जी की अगवाई में उनके सहयोगियों द्वारा सम्पन्न कराया गया इस महती कार्यक्रम में राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज विशेष रूप से उपस्थित रहे इस अवसर पर नारी शक्ति ब्राम्हण परिवार की सदस्य श्रीमती अंजनी तिवारी, श्रीमती ममता दूबे, श्रीमती सोनल तिवारी, श्रीमती कविता दूबे, श्रीमती भारती शर्मा के साथ सभी सदस्यों के अतिरिक्त श्री शिवरीनारायण मठ के मुख्तियार श्री सुखराम दास जी, मठ के पुजारी श्री त्यागी जी महाराज,मनोज तिवारी, रामतीरथ दास जी सहित अनेक संत महात्मा एवं श्रद्धालु नर नारी उपस्थित थे। कार्यक्रम पश्चात भोजन प्रसाद की व्यवस्था भी मठ मंदिर द्वारा किया गया।

ठेकेदारों के हौंसले बुलंद, दबाव में कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में शारदा कंस्ट्रक्शन और श्रीकिशन कंपनी को ठहराया जिम्मेदार

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भले ही सिस्टम को सुधारने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। लेकिन पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के संरक्षण प्राप्त सड़क ठेकेदारों के हौंसले अभी भी बुलंद हैं। इनका दुस्साहस ऐसा है कि कांग्रेस सरकार के रहने के बाद भी इनके दबाव में पिथौरा के वरिष्ठ काँग्रेस नेता और कांग्रेस केेे जिला उपाध्यक्ष श्याम सुन्दर एरन ने घर मे फांसी लगाकर की आत्महत्या कर ली। पिथौरा पुलिस ने मौके से एक कागज मे सुसाईट नोट प्राप्त किया है। एरन ने अपने सुसाइड नोट में शारदा कंस्ट्रक्शन के नितेश सिघानिया/पिता मदन सिघानिया बिलाईगढ और रायपुर के श्रीकिशन एंड कंपनी के सुशील अग्रवाल पर आत्महत्या के लिए उकसाने का जिक्र किया है। मामला करीब चार करोड़ रुपए लेने देन का है। मृतक भी सड़क निर्माण मे ठेकेदारी का कार्य करते थे। मृतक की पत्नी का नाम शारदा अग्रवाल है। शारदा अग्रवाल ने बताया है कि सुसाइड नोट में जिनका नाम है, उनके खिलाफ पुलिस को कार्रवाई करने को कहा गया है। पिथौरा पुलिस सुसाईट नोट जब्त कर मामले को जांच कर रही है। हालांकि पुलिस इस मामले में कुछ भी बताने के इंकार कर रही है। रायपुर में सुगबुगाहट शुरु चूंकि मामला कांग्रेस नेता की आत्महत्या का है तो इसकी धमक रायपुर तक पहुंच गई है। कुछ स्थानीय कांग्रेस नेता रायपुर पहुंचकर मामले की पूरी जानकारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को देने जा रहे हैं। उनका कहना है कि कांग्रेस सरकार में कांग्रेस के नेता ठेकेदारों से प्रताडित होकर आत्महत्या कर रहे हैं। पूर्व भाजपा सरकार के मंत्रियों करीबीं हैं सूत्र बता रहे हैं कि जिन ठेकेदारों का नाम सुसाइड नोट में है, वे पूर्व भाजपा सरकार के कुछ दिग्गज मंत्रियों के करीबी रहे हैं। उनके सरंक्षण में उन्हें सड़क निर्माण के कई बड़े ठेके मिलते रहे हैं। कांग्रेस नेता इनके खिलाफ सारे सबूत जुटा रहे हैं, ताकि दोषियों को सजा दिलवाई जा सके।

7 पैकेट गांजा, लावारिस कार से बरामद

गुलाब दीवान : बलौदाबाजार जिला के भटगांव थाना से महज100 मीटर की दूरी पर रोड किनारे एक अज्ञात TOYOTA ETOS GD गाड़ी नम्बर CG 04,KR,6846 लावारिस स्थिति में खड़ा था,, जिसे संदेह वस पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ कि, पूछताछ में गाड़ी लवारिस खड़ा होना बताया गया, पुलिस गाड़ी के अंदर झाँक कर देखा सीट के नीचे गाँजे की एक पैकेट और सीट में कुछ कलियाँ बिखरा हुआ था और दरवाजा चारो ओर से लॉक था , जिसे जप्त कर थाना लाया गया। वही गाड़ी के अंदर और गाँजा होने का सन्देह हुआ ,गाड़ी मिस्त्री बुलवाकर डिक्की और दरवाजा खोलवाया गया, गाड़ी के डिक्की से 7 पैकेट गाँजा और बरामद किया गया। वही अज्ञात तस्करों ने गाड़ी की डिक्की को मोडिफाई कर गाँजे रखने का अलग अलग जगह बनवाया हुआ है,, जिसे देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि गाड़ी को तस्करी करने के लीए ही बनवाया गया हो। गाड़ी में कुल 8 पैकेट गाँजा और गाड़ी के ओरिजनल इंसयोरेन्स कॉपी, तथा एक कीरिंग चाबी के साथ जप्त किया गया है। वही कागजात में गाड़ी मालिक का नाम अजय कुमार पांडे पिता सियाराम पांडे, RTO रायपुर बताए जा रहे है। अब भटगांव पुलिस मामला को पंजीबद्ध कर आगे की कार्यवाही कर जाँच में जुट गए है।

राजेश अग्रवाल,सदस्य रोलिंग स्टॉक,रेलवे बोर्ड ने रायपुर रेल मंडल में वैगन रिपेयर शॉप, बी एम वाय, पीपी यार्ड का किया निरीक्षण किया

■दपूम रेलवे रायपुर रेल मंडल का पीपीयार्ड भिलाई होगा भारतीय रेलवे का स्मार्ट यार्ड - राजेश अग्रवाल ■ दपूम रेलवे रायपुर रेल मंडल में श्री राजेश अग्रवाल सदस्य रोलिंग स्टॉक,रेलवे बोर्ड का आगमन हुआ। उन्होने वैगन रिपेयर शाप (डब्ल्यू आर एस) का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान डब्ल्यू आर एस के फ्लो चार्ट से पूरे डब्ल्यू आर एस के इंफ्रास्ट्रक्चर एवं वैगनो के रख रखाव का अवलोकन किया वहा बन रहे नये बॉडी शॉप स्थल का ड्रॉइंग से मिलान किया । डब्ल्यू आर एस के सुरक्षा मानकों, मशीनो की तकनीकी बारीकियों पर अधिकारियों,सुपरवाइजरों-कर्मचारियों से जानकारी ली वैगन के विभिन्न प्रकार बॉक्स एन, बीओबीआर एन, में लगने वाले बफर, बोगी, व्हील, बेअरिंग, कलपुर्जो, टूल्स, ब्रैकिंग सिस्टम बीएमबीसी के परीक्षण के तौर-तरीके का निरीक्षण किया। इस अवसर पर व्हील को टर्निंग में उपयोग आने वाली वर्टीकल टर्निंग मशीन एवं 01 मेगा वाट रूफटॉप सोलर पॉवर प्लांट का शुभारंभ किया। ततपश्चात पीपीयार्ड भिलाई का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होनें वैगन पार्क का उद्घाटन, हर्बल पार्क में वृक्षारोपण, यार्ड (लाईन 4-5) का निरीक्षण, आरओएच डिपो के ट्रॉली अनुभाग का निरीक्षण एवं कंप्रेसर का उद्घाटन किया । डबल्यु आर सी / बी एम वाई में निरीक्षण किया इस दौरान उन्होनें वृक्षारोपण किया। सक्षम -2 के तहत आधुनिक रूप से सुसज्जित कर्मचारी प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन किया । सक्षम ट्रेनिंग बुक का विमोचन किया, एक हाइड्रा का मशीन का शुभारम्भ किया । पुनर्वास केंद्र का निरीक्षण किया । डबल्यु आर सी फेज-2 शेड का उद्घाटन किया। श्री राजेश अग्रवाल, ने पीपीयार्ड भिलाई के हर्बल पार्क, वैगन पार्क की खुले दिल से तारीफ की उसे भारतीय रेलवे में विशेष स्थान दिलाये जाने स्मार्ट यार्ड बनाये जाने पर जोर दिया ऊर्जा संरक्षण को बढ़ाने, तकनीकी कौशल को बढ़ाने,उपलब्ध साधन -संसाधनों में ज्यादा से ज्यादा आउट पुट देने पर जोर दिया। इस दौरान श्री राजेश अग्रवाल, सदस्य रोलिंग स्टॉक रेलवे बोर्ड के साथ ईडीएमई / फ़्रेट रेलवे बोर्ड, श्री अजय नंदन, मंडल रेल प्रबंधक श्री कौशल किशोर, मुख्य कारखाना प्रबंधक श्री प्रदीप काम्बले, अपर मंडल रेल प्रबंधक (ओपी) श्री अमिताव चौधरी सहित रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

पुलिस अभिरक्षा में आरोपियों की सुरक्षा के संबंध में दिशा-निर्देश जारी

पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी ने पुलिस अभिरक्षा में होने वाली मृत्यु की घटनाओं की रोकथाम हेतु राज्य के सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को निर्देश जारी किया है। पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार किसी भी आरोपी को अनावश्यक रात्रि में पुलिस अभिरक्षा में नहीं रखा जाए, दिन में ही संबंधित आरोपी की गिरफ्तारी कर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाए। गिरफ्तार व्यक्ति का नियमानुसार स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उसके शारीरिक और मानसिक स्थिति की जांच करा ली जाए, राज्य के सभी पुलिस थानों के हवालात और शौचालय पूरी तरह सुरक्षित हो और गिरफ्तार व्यक्ति के लिए नियमानुसार निर्धारित समय पर भोजन इत्यादि अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाए और इसकी प्रविष्टि थाने के डेली-डायरी में किया जाए। यदि विशेष परिस्थिति में किसी व्यक्ति को रात में लॉकअप में रखा जाता है, तो उसकी सुरक्षा के लिए नामजद अधिकारी-कर्मचारियों को कर्त्तव्यस्थ किया जाए।  महिलाओं और बच्चों के गिरफ्तारी के संबंध में मानव अधिकार आयोग द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का अक्षरशः पालन किया जाए और समय-समय पर पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी निर्देशों का भी पालन किया जाए। पुलिस थानों में गिरफ्तार व्यक्तियों के सुरक्षा का दायित्व स्पष्ट रूप से निर्धारित किया जाए, यह दायित्व संबंधित थाना प्रभारी/ ड्यूटी ऑफिसर, प्रधान आरक्षक, मोहर्रिर एवं सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मचारियों का होगा।  पुलिस महानिदेशक श्री अवस्थी ने पुलिस अधीक्षकों को प्रतिदिन अपने जिलों के थानों का नियमित रूप से आकस्मिक निरीक्षण करने एवं थाने के अधिकारियों-कर्मचारियों को गिरफ्तार व्यक्ति के सुरक्षा के संबंध में आवश्यक निर्देश और समझाइश देने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पुलिस अधीक्षकों को थानों के हवालात और शौचालयों इत्यादि की सुरक्षा जांच करने करने के भी निर्देश दिए हैं।  श्री अवस्थी ने किसी भी थाना या पुलिस चौकी में पुलिस अभिरक्षा में प्रताड़ना या मृत्यु की घटना नहीं होना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं, इसके लिए संबंधित थाना प्रभारी व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होगा और सतत् पर्यवेक्षण के लिए संबंधित राजपत्रित अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक जिम्मेदार होंगे। 

शिव जी की आराधना व तपस्या का सुहावना पल श्रावण मास-बी.के.शशिप्रभा।

सन्नी रघु यादव : मस्तुरी क्षेत्र के ग्राम पंचायत लटियापारा में स्थित प्रजापिता ब्रम्हाकुमारी ईश्वरीय विश्व विध्यालय में श्रावण मास में चल रही विशेष साधना हेतु उपस्थित साधकों को संबोधित करते हुए राजयोग शिक्षिका बी.के.शशिप्रभा ने कहा कि श्रावण मास शिव आराधना व तपस्या से स्वयं में शक्ति भरने,अपनी अंतरात्मा की ओर झांकने ,हृदयावलोकन करने और अपनी कमजोरियों व बुराईयों को समाप्त कर सदगुणों से संपन्न बनने का सुहावना समय है। श्रावण मास आते ही प्रकृति पुलकित होने लगती है,मानो सृष्टि हरी साडी़ पहनें व सोलह श्रृंगार किये हुए हो,हरीभरी प्रकृति से हरेक मानवमन हर्षानंद से भर जाता है, मृत हो रहीं वनस्पति में नवसंचेतना का संचार हो जाता है।श्रावण मास का महत्व बतलाते हुए उन्होंने कहा कि सावन महिने का नाम श्रावण क्यूँ रखा गया इस विषय में प्रचलित कथन है कि जैसे अश्वनि,भरणि,कृतिका,रोहिणी,पुनर्वसु,आश्लेषा आदि २७ नक्षत्र हैं,इसमें से एक नक्षत्र है श्रवण।इसी श्रवण नक्षत्र के ऊपर श्रावण नाम रखा हैऔर श्रवण का एक दूसरा अर्थ होता हैं सुनना।श्रवण को हमारी संस्कृति में परमात्म प्राप्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना गया है,क्योकिं जो व्यक्ति परमात्मा के गुणों को नहीं सुनता वह उसे जान नहीं पाता और जो जान नहीं पाता है,उसे परमात्मा से प्रीति कैसे हो।पूरे साल में यही एक महिना ऐसा है,जिसमें हम पूरा समय परमात्मा शिव के साथ होते हैं,उनका नाम लेते और उनका गुणगान करते हैं।शिव महिमा को उजागर करते हुए बी.के.शशिप्रभा नेकहा कि सृष्टि के उषाकाल में परमज्योति परमात्मा शिव से ही सृष्टि की शुरूवात हुई है,जो शिव महापुराण में भी वर्णित है,शिव महा ज्योति से ही ब्रम्हा,विष्णुऔर महेश की उत्पत्ति होती है जो क्रमशः स्थापना ,पालना,विनाश का कार्य करते हैं।यह तीनों दिव्य कर्तव्य कराने वाले स्वयं भोलानाथ शिव हैं,इसलिए शिवलिंग में तीन पत्ते वाला ही बेलपत्र अर्पित किये जाते है और उनके मस्तक पर तीन लकीरें दिखाई जाती हैं।परमात्मा का यह महीना जीवन में हमें अनेक प्रकार की शुद्धि अपनाने की प्रेरणा देता है, चाहे वह खानपान,जीवनशैली या व्यावसाय हो।इस महीने में लोग उपवास भी रखते है,लेकिन जानकारी न होने के कारण वे केवल अन्न ग्रहण न करना ही उपवास समझते हैं,जबकि इसके रहस्य को जानते हुए इसे जीवन में अपना चाहिए,उपवास का शाब्दिक अर्थ है, उप मतलब ऊपर और वास मतलब रहना यानी ऊपर रहना।इसलिए अपने मन और बुद्धि से परमात्मा के निकट कुछ पल रहे यही सच्चा उपवास है।यदि सत्य ज्ञान की बूँद बूँद हमारी बुद्धि में प्रतिपल टपकता रहे तो हमारा जीवन सावन मास की प्रकृति जैसी सदैव प्रफुल्लित नजर आएगी और जीवन से विकारों का अंधकार रूपी काला बादल छंट जाएगा।इस अवसर पर गहन साधना का अभ्यास काँमेंट् के द्वारा बी.के.श्यामा ने कराया।होरीलाल निर्मलकर,सरस्वती कैवर्त,चमेली साहू,शांति बहन आदि उपस्थित रहे।

शासकीय पातालेश्वर महाविद्यालय मस्तूरी में किया गया वृक्षारोपण

सन्नी रघु यादव : मस्तूरी : शासकीय पातालेश्वर महाविद्यालय मस्तूरी में राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत महाविद्यालय प्रांगण में छायादार फलदार एवं औषधि युक्त पौधों का वृक्षारोपण कार्य किया गया और साथ ही पौधों का संरक्षण के लिए संकल्प लिया गया उक्त कार्यक्रम में महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं सहित राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी कांति अंचल, डॉ बी, एल, मण्डलोई, , नवीन रेलवानी, मुकेश घोरे. सुजाता सैमुअल. लोमस महेश्वरी एवम स्वयं सेवकों में सुनीता कुर्रे, विकास मधुकर, अभिषेक मौर्य, प्रमेंद्र, विष्णु, शशि साहू, विक्रम बेन आदि उपस्थित रहे।मुख्य रूप से उपस्थित रहे जिन्होंने वृक्षारोपण से पर्यावरण को मिलने वाली लाभकारी बातों को छात्र-छात्राओं को अवगत कराएं।

बैंक की लापरवाही से कंगाल हुआ किसान, किसी और के खाते से किसान के खाते को कर दिया लिंक , खाते से 85 हजार रुपये पार

गुलाब दीवान : बलौदा बाजार: लोग अपनी कमाई को सुरक्षित रखने के लिए बैंक में जमा कराते हैं, ताकि उनका पैसा सुरक्षित रहे और जरूरत के वक्त उन्हें आसानी से मिल जाए, लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि बैंक में भी लोगों के पैसे सुरक्षित नहीं हैं. बलौदा बाजार में एक किसान के खाते से 85 हजार रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. किसान के खाते से 85 हजार रुपये पारबलौदा बाजार के बिलाईगढ़ के पवनी में एक किसान संतराम केवट के खाते से 85 हजार रुपये पार कर दिया गया है. मामले की जानकारी तब हुई, जब संतराम केवट अपना पैसा निकालने ग्रामीण बैंक पहुंचा. पैसा निकालने के दौरान बैंक के अधिकारियों ने संतराम को बताया कि उसके खाते से 85 हजार रुपये निकाले गए हैं अब उनके खाते में महज 2 हजार रुपये ही जमा हैं. किसी और के खाते से हुआ लिंक खाते से पैसा निकाले जाने की खबर सुनते ही किसान के होश उड़ गए. बैंक में शिकायत के बाद बैंक के अधिकारियों ने बताया कि किसी दूसरे का आधार किसान के खाते से लिंक हो गया है. हालांकि बैंक ने अपनी गलती मानने से इनकार करते हुए मामले में कार्रवाई का आश्वासन दे रहा है. वहीं बैंक शिकायत के डेढ़ महीने बाद भी सिर्फ आधार कार्ड का नंबर और नाम ही पता लगा पाया है. अब ब्रांच मैनेजर का कहना है कि साइबर सेल से शिकायत कर दी गई है. जल्द ही खाता धारक को उसका पैसा वापस मिल जाएगा.

सचिव पर सीईओ मेहरबान,,,सरपंच और पंच परेशान सीईओ के संरक्षण में मनमानी

( बिलाईगढ़-गुलाब दीवान ) सीईओ की संरक्षण मे सचिव की मनमानी खूब चल रही है। और अपने प्रभार वाली ग्राम पंचायत मे सचिव जब से प्रभार लिये है तब से काम करने नही जा रहा है। जिससे ग्राम पंचायत की सारी काम अवरूद्ध हो गये। यह मामला जनपद पंचायत बिलाईगढ का ग्राम पंचायत पीपरभावन का है। जहां प्रदीप यादव सचिव के रूप मे एक साल से प्रभार पर है। सरपंच पंचों व ग्रामीणो का आरोप है कि सचिव को सीईओ संरक्षण दे रखे है, जिसकी वजह से सचिव ग्राम पंचायत नही जाते है ,और जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र, सहित ग्राम की अन्य विकास कार्य अवरूद्ध है। सरपंच प्रतिनिधि ने सचिव पर यह भी आरोप लगाये है कि सचिव सरपंच का फर्जी हस्ताक्षर कर राशि निकाल लिए है। सचिव की इन सारी कारनामो से परेशान होकर सरपंच ,पंच ग्रामीणों ने कलेक्टर जनदर्शन व सीईओ बिलाईगढ से सचिव को हटाने के लिए कई बार आवेदन लगा चूके है, पर सचिव पर त्वरित कार्यवाही कर हटाने का काम सीईओ बिलाईगढ नही कर रहे। अब परेशान सरपंच, पंचों व ग्रामीणो ने जल्द सचिव को पंचायत से हटाने की मांग किये है अगर सचिव को सीईओ नही हटाते है तो जनपद के सामने धरना प्रदर्शन व सामूहिक सरपंच पंच इस्तीफा देगे।

बलौदाबाज़ार -भाटापारा सड़क के मरम्मत का काम शुरू

 

जिला मुख्यालय बलौदाबाजार से भाटापारा होते हुए लिमतरा जाने वाली एडीबी सड़क के मरम्मत का काम आज से शुरू हो गया। निर्माण के साल भर में ही यह सड़क लोगों के लिए परेशानी एवं दुर्घटना का सबब बन गया था। संभवतया घटिया गुणवत्ता एवं ओवरलोडिंग की वजह से सड़क में कई किलोमीटर लम्बाई तक नालीनुमा लम्बी सरंचना निर्मित हो गया है। कलेक्टर श्री गोयल ने अत्यधिक यातायात वाले इस सड़क मार्ग के मरम्मत को प्राथमिकता से लिया एवम एडीबी के अधिकारियों पर कड़ाई बरती। उनके कठोर निर्देश के बाद एडीबी ने मरम्मत का काम शुरू किया है। कार्तिकेया गोयल ने  अधिकारियों एवं ठेकेदार से कहा कि जल्द से जल्द यह काम पूरा करें ताकि आने जाने वाले वाहन चालकों एवम नागरिकों की मुसीबतें कम हों। 
       जिले में लोक निर्माण विभाग के एडीबी शाखा के कार्यपालन अभियंता पी के गुप्ता ने बताया कि मोटर ग्रेटर की मदद से सड़क मरम्मत का काम शुरु कर दिया गया है। दिन में 8 से10 घंटे काम चल रहा है। करीब एक साल पहले इस सड़क का लोकार्पण हुआ था। निम्न गुणवत्ता और अत्यधिक ट्रैफिक दबाव के कारण सड़क पर नाली नुमा संरचना बन गई थी। जिसके कारण दुर्घटना की संभावना बनी हुई थी। उन्होंने बताया कि कलेक्टर के निर्देश पर सड़क बनाने वाले ठेकेदार को नोटिस दिया गया। जिसके बाद ठेकेदार द्वारा सड़क मरम्मत का काम शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि बलौदाबाज़ार से नांदघाट 43.84 किलोमीटर किलोमीटर की सड़क का निर्माण बिलासपुर के अग्रवाल इंफ्राबिल्ड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया गया था। इस सड़क पर बलौदाबाज़ार से भाटापारा के रास्ते पर कई किलोमीटर की  सड़क पर इस तरह की चौड़ी नाली नुमा संरचना बन गई है। उन्होंने ठेकेदार को निर्देश दिए हैं कि आम नागरिकों की सहूलियत के लिए जल्द यह काम पूरा करें।

दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 पर संवेदीकरण कार्यशाला सम्पन्न दिव्यांगजनों से दुर्व्यवहार करने पर हो सकती है सजा

 
 
दिव्यांगजन अधिनियम के बारे में  जिला अधिकारियों को जानकरी देने संयुक्त जिला कार्यालय भवन में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया.जिसमे दिव्यांगजन अधिनियम 2016 के विभिन्न प्रावधानों पर विस्तार से चर्चा की गई. कार्यशाला में  सीईओ जिला पंचायत आशुतोष पांडे ने कहा कि सभी अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि दिव्यांगजनों को कहीं भी दुर्व्यवहार का सामना नहीं करना पड़े। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के साथ संवेदनशीलता के साथ पेश आएं। उन्होने समस्त विभागों को शासकीय/अशासकीय एवं सार्वजनिक भवनों, परिसर एवं विभिन्न सुविधाओं को बाधारहित करने एवं दिव्यांगों के साथ मिलकर संवेदनशीलता पूर्वक कार्य करने हेतु निर्देशित किया।इस दौरान दिव्यांगों के कौशल उन्न्यन पर भी चर्चा की गई।अपर कलेक्टर जोगेंद्र नायक ने कौशल विकास विभाग को ट्रेड चिन्हांकित कर दिव्यांगजनों  को ट्रेनिंग हेतु प्राथमिकता देने के लिये निर्देशित किया।
कार्यशाला में  बताया गया कि दिव्यांग्जनों को अन्य लोगों की भांति समान बिना किसी विभेद के संस्थानों में प्रवेश देना, खेलकूद , आमोद-प्रमोद के अवसर मिलना चाहिए। अधिनियम के विषय में जानकारी देते हुये प्रभारी उप संचालक समाज कल्याण आशा शुक्ला ने बताया कि किसी भी दिव्यांगजन के साथ दिव्यांगता के आधार पर भेद नहीं किया जा सकता। दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 की धारा 92 के अंतर्गत किसी  सार्वजनिक स्थान में दिव्यांगजन को जान बुझकर अपमानित करता है, भयभीत करता है, अनादर, हमला या बल प्रयोग करता है या दिव्यांग महिला की शालीनता भंग करता है ऐसी स्थिति में 6 माह से 5 साल तक कारावास व जुर्मानों से दंडित करने का प्रावधान है। । गृहिणी स्वयं सेवी संस्थान की अध्यक्ष श्रीमती रूपा श्रीवास्तव ने जिले में दिव्यांगजनों के उत्थान के लिये किये जा रहे कार्यो का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया। जन मानव विकलांग कल्याण संघ के अध्यक्ष, घनश्याम साहू ने दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला। इस कार्यशाला के समस्त अनुविभागीय अधिकारी, तहसीलदार, समस्त जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी,गृहिणी स्वयं सेवी संस्थान एवं आजिविका मिशन से जुड़े विभिन्न दिव्यांग स्व सहायता समूह के सदस्य भी मौजूद थे।

पुलिस प्रताडना से तंग आकर एक व्यक्ति ने की आत्महत्या करने कि कोशिस

सूर्यकान्त यादव :
 पुलिस प्रताडना से तंग आकर एक व्यक्ति की आत्महत्या की कोशिस करने का मामला सामने आया है...पीडित को इलाज के लिए मेडिकल कालेज अस्पताल मे भर्ती कराया गया है....श्याम लाल का इलाज आईसीयु मे जारी है...बयान और अन्य कार्रवाई के बाद जाँच की जा रही है....धौराभाठा निवासी श्याम लाल उम्र 52 वर्ष ने कीटनाशक का सेवन कर आत्महत्या की कोशिस की परिजनो को जब जानकारी मिल तब उन्होने श्याम लाल को अस्पताल मे भर्ती कराया...छुईखदान पुलिस पर मानसिक प्रताडना का आरोप लगाया जा रहा है....उधार लिए रूपय की वसुली के लिए उसे बीते शुक्रवार को छुईखदान पुलिस ने बुलाया था...यहा उसे 5 घंटे बैठाकर रखा गया...रूपय की वापसी के लिए दबाव बनाया गया.... आर्थिक तंगी के कारण वह पैसा वापस नही कर पाया ये किसान और परिजनो का कहना है..वही मामले मे पुलिस का कहना है,कि श्याम लाल ने 2013 मे छुईखदान थाना के वीरूटोला के चेतन वर्मा से जमीन के सबंध मे श्याम लाल ने पैसे लिए ते...और पैसे वापस नही करने के कारण चेतन वर्मा और उसकी पत्नि ने छुईखदान मे अपराध दर्ज करवाया था..जिसके बाद पुलिस ने पुछताछ और कथन के लिए श्याम लाल को थाने बुलवाया था...जिसके बाद श्याम लाल ने जहर सेवन कर लिया...श्याम लाल खतरे से बाहर है,उसका इलाज जारी है...बहरहाल देखना यह होगा कि जाँच के बाद पुरे मामला स्पष्ट हो पायेगा कि पुलिस की इसमे क्या भुमिका थी....