विशेष

अटॉर्नी जनरल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- तीन तलाक पर प्रतिबंध लगा तो कानून लाएगी केंद्र सरकार

केंद्र ने सोमवार को न्यायालय से कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट तीन तलाक को अवैध एवं असंवैधानिक करार देता है तो सरकार मुसलमानों में विवाह और तलाक के नियमन के लिए विधेयक लेकर आएगी। तीन तलाक केस में केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कोर्ट में कहा कि तीन तलाक से मुस्लिम महिलाओं के समानता के अधिकार का हनन होता है। उन्होंने कहा कि तलाक के सभी प्रारुप प्रकृर्ति के खिलाफ हैं। उन्होंने आगे कहा कि तलाक की मामले में मुस्लिम महिलाओं को समुदाय में बराबरी का दर्जा नहीं मिला है।
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के मुद्दे पर सोमवार को तीसरे दिन की सुनवाई हुई। पांच जजों की खंडपीठ को मुकुल रोहतगी ने जानकारी देते हुए बताया कि अगर कोर्ट तीन तलाक को प्रतिबंधित करती है तो केंद्र सरकार तत्काल तलाक पर कानून लेकर आएगी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को यह साफ कर दिया कि वह समय की कमी की वजह से सिर्फ ‘तीन तलाक’ पर सुनवाई करेगा। हालांकि कोर्ट केन्द्र के जोर के मद्देनजर बहुविवाह और ‘निकाह हलाला’ के मुद्दों को भविष्य में सुनवाई के लिए खुला रख रहा है।
प्रधान न्यायाधीश जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने कहा, ‘‘हमारे पास जो सीमित समय है उसमें तीनों मुद्दों को निबटाना संभव नहीं है। हम उन्हें भविष्य के लिए लंबित रखेंगे।’’ अदालत ने यह बात तब कही जब केन्द्र सरकार की ओर से पेश अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि दो सदस्यीय पीठ के जिस आदेश को संविधान पीठ के समक्ष पेश किया गया है उसमें ‘तीन तलाक’ के साथ बहुविवाह और ‘निकाह हलाला’ के मुद्दे भी शामिल हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात में गोरक्षा, लव जिहाद पर मुस्लिम नेताओं ने की खरी बात, पर सरकार ने पब्लिक से छुपाया

जमियत उलमा-ए-हिन्द के नेतृत्व में मुस्लिम बुद्धिजीवियों और धार्मिक नेताओं प्रतिनिधि मंडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नौ मई को मिला था। ये मुलाकात मुस्लिम समुदाय और सरकार के बीच “चौड़ी होती खाई” को पाटने के लिए की गयी थी। मुलाकात में गौरक्षा और लव जिहाद के नाम पर हो रही हिंसाओं से उपजे भय के वातावरण पर भी चर्चा हुई लेकिन सरकारी प्रेस विज्ञप्ति में इनका कोई जिक्र नहीं था। जबकि जमियत की तरफ से जारी बयान में इनका जिक्र किया गय गया था।
25 मुस्लिम धार्मिक नेताओं के इस प्रतिनिधि मंडल में शामिल जाहिर काजी अंजुमन-ए-इस्लाम के अध्यक्ष हैं। काजी ने इंडियन एक्स्प्रेस को बताया, “कई लोगों ने अलग-अलग स्वर में इस मुद्दे पर बात की। लेकिन कुल लबो-लबाब ये था कि समुदाय को लग रहा है कि उसे निशाना बनाया जा रहा है। चरमपंथी कानून को अपने हाथ में  ले रहे हैं। किसी को इसकी इजाजत नहीं होना चाहिए। हमने प्रधानमंत्री को बताया कि गौरक्षा और लव जिहाद से भय का वातावरण पैदा हो रहा है।”
मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी जोधपुर के वाइस-चांसलर अख्तरुल वासे ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “हमने प्रधानमंत्री से कहा कि उनके और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के उस बयान का असर जमीन पर नहीं दिख रहा है जिनमें उन दोनों ने कहा था कि किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी। कानून लागू करने वाली संस्थाएं अपना काम वाजिब ढंग से नहीं कर रही हैं।”
प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों के अनुसार पीएम ने उनसे कहा कि चाहे वो जिस भी पृष्ठभूमि से आते हों अब वो भारत के 125 करोड़ लोगों के प्रधानमंत्री हैं और जाति और समुदाय से ऊपर वो सभी के कल्याण के प्रतिबद्ध हैं। काजी के अनुसार पीएम मोदी ने उनसे कहा, “ये मेरी जिम्मेदारी है कि कोई भी उत्पीड़ित न महसूस करे।” लेकिन प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) की तरफ से जारी बयान में इसका कोई जिक्र नहीं था। पीआईबी के बयान में कहा गया, “प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण की प्रशंसा करते हुए आशा व्यक्त की कि पूरे राष्ट्र में लोगों का उनमें जो विश्वास है उससे समाज के हर तबके में सुख और समृद्धि सुनिश्चित होगी। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय न्यू इंडिया में बराबर का साझीदार बनने के लिए तैयार है।”

पीआईबी की तरफ से जारी किए गए ब्योरे में कहा गया कि प्रतिनिधि मंडल ने तीन तलाक के मुद्दे पर प्रधानमंत्री के प्रयासों की सराहना की। प्रतिनिधि मंडल के एक सदस्य के अनुसार तीन तलाक के मुद्दे पर पीआईबी ने जो कहा है वह सही है। प्रतिनिधि मंडल पीएम मोदी की इस बात से सहमत था कि तीन तलाक के मसले का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए और इसका समाधान समुदाय के अंदर से आना चाहिए और हम इससे सहमत थे।

MP Board 12th के टॉपर संयम जैन की कहानी पढ़कर हो जाएंगे भावुक..

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MP Board result 2017) के 12वीं के नतीजे में संयम जैन ने पूरे राज्य में टॉप किया है. टीकमगढ़ के रहने वाले संयम जैन के पिता छोटी सी दुकान से पूरे परिवार का खर्च चलाते हैं. संयम के रिजल्ट से एक बार फिर से साबित हो गया है कि मन में लगन हो तो सफलता हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता है. बेटे की इस सफलता पर पिता अनिल जैन खुशी के मारे फूले नहीं समा रहे हैं. वहीं मां सीमा के आंखों से तो खुशी के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे. आर्थिक मुश्किलों के बीच बेटे इस सफलता ने मां-पिता को समाज में सीना चौड़ा करने का मौका दिया है. पिता के सामने जब मीडियाकर्मियों ने माइक लगाई तो वे भावुक हो गए, उनका गला भर आया और चाहकर भी अपनी भावनाएं व्यक्त नहीं कर पा रहे थे. बारहवीं गणित में विदिशा के संयम जैन 500 में से 485 अंक लाकर टॉप पर रहे, जबकि सीधी की अनुष्का जौहरी को 500 में 472 अंक लाकर दूसरे नंबर पर रहीं.

बेटे की पढ़ाई की खातिर मां ने नौकरी करने की ठानी

संयम के पिता अनिल जैन दो महीने पहले तक टीकमगढ़ के एक कपड़े की दुकान में छह हजार रुपए महीने की पगार पर नौकरी करते थे. इस वजह से संयम की पढ़ाई का खर्च उठाने में उन्हें मुश्किल हो रही थी. बेटे को पढ़ाई में मुश्किल न हो इसलिए मां सीमा ने एक निजी स्कूल में पढ़ाना शुरू किया था. मां अपनी कमाई का पूरा हिस्सा बेटे की पढ़ाई पर खर्च करती थीं.

दो महीने पहले अनिल जैन परिवार के साथ विदिशा आ गए और यहीं एक छोटी सी दुकान खोली है. मां सीमा ने बताया कि उन्हें बेटे टॉप टेन में आने की उम्मीद तो थी, लेकिन उन्होंने एक बार भी नहीं सोचा था कि उनका संयम राज्य भर में टॉप करेगा. उन्होंने बताया कि सयंम पढ़ाई के साथ खेल-कूद में भी काफी अच्छा है. संयम इंजीनियरिंग की डिग्री लेना चाहता है. उसके बाद वह आईएएस बनने के लिए तैयारी करेगा. 

बोर्ड परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों को संयम ने संदेश दिया कि वे 8-10 घंटे ही पढ़ें, लेकिन पूरी एकाग्रता के साथ. उन्होंने कहा कि वे भी कभी 8 घंटे से ज्यादा नहीं पढ़ाई करते थे. संयम का मानना है खेल-कूद करने से दिमाग स्वस्थ्य रहता है, जिससे पढ़ाई भी अच्छे से होती है.

मालूम हो कि मध्‍यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 12वीं का रिजल्‍ट रिजल्ट सीएम शिवराज सिंह के सरकारी आवास पर घोषित किए गए. स्‍टूडेंट्स अपना रिजल्‍ट बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं. इस सिलसिले में मुख्यमंत्री आवास पर एक समारोह भी आयोजित हुआ, जिसमें मेधावी छात्रों को सम्मानित किया गया. खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें पदक प्रदान कर सम्मानित किया. हायर सेकेंडरी की मेधा सूची में छोटे शहरों के बच्चों ने बड़ी बाजी मारी है. मुख्यमंत्री आवास पर शुक्रवार की सुबह प्रदेशभर से मेधावी छात्र पहुंचे. इन छात्रों पर मुख्यमंत्री शिवराज ने पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया. इसके बाद उन्होंने विभिन्न संकायों की मेधा सूची में आए छात्रों को पदक प्रदान कर सम्मानित किया.

बता दें कि मध्‍यप्रदेश में 12वीं क्‍लास की परीक्षाएं 3 मार्च 2017 से शुरू होकर 31 मार्च तक आयोजित की गई थीं. वर्ष 2016 में हायर सेकेंडरी यानि 12वीं की परीक्षा में 7 लाख 66 हजार परीक्षार्थी शामिल हुए थे. इस वर्ष लगभग 7 लाख 12 हजार छात्र हायर सेकेंडरी की परीक्षा में सम्मलित हुए.

मीड डे मील में मिला सांप, उड़ गए प्रिंसिपल और टीचर्स के होश

सरकारी स्कूलों में मिड डे मील की सप्लाई पर एक बार फिर सवाल खड़े हो गए हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक हरियाणा के फरीदाबाद के राजकीय कन्या सीनियर सेकंडरी स्कूल में बच्चों को दिए जाने वाले खाने में एक छोटा सांप मिलने का मामला सामने आया है। इसकी सूचना मिलते ही बच्चों को खाना खाने से रोक दिया गया, लेकिन तब तक कुछ बच्चे इसे खा चुके थे। मिड डे मील खाने के बाद कई बच्चों ने तुरंत उल्टियां भी कीं। घटना का खुलासा उस वक्त हुआ जब प्रिंसिपल और शिक्षक खाने को चख रहे थे। उसी वक्त उन्होंने खाने में सांप देखा और तु्रंत बच्चों को इसे खाने से रोका।
मील में सांप को देखकर बच्चों के होश उड़ गए। उन्होंने माना कि उन्हें खाने से अजीब तरह की बदबू आ रही थी, लेकिन इस घटना से वे काफी सहम गए हैं। स्कूल की प्रिंसिपल ब्रजबाला ने आला अधिकारियों और खाना सप्लाई करने वाली इस्कॉन फूड रिलीफ फाउंडेशन को इस बारे में सूचित कर दिया है। जिन अन्य स्कूलों में खाना सप्लाई हुआ था, उन्हें भी इस बारे में सूचित कर दिया गया है।

नरेंद्र मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए चिट्ठी अभियान चलाएगा RSS से जुड़ा स्वदेशी जागरण मंच

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ा स्वदेशी जागरण मंच (SJM) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दबाव बनाने के लिए चिट्ठी अभियान चलाने की तैयारी में है। यह चिट्ठी अभियान चीनी कंपनियों पर रोक लगाने के लिए चलाया जाएगा। अगर स्वदेशी जागरण मंच को अनुमति मिल जाती है तो पीएम मोदी को देश के हर जिले से चिट्ठी मिलेगी जिसमें चीन को भारत में निवेश करने पर रोक व सीमा से सटे राज्यों में चीनी कंपनियों को टेंडर भरने पर रोक लगाने की मांग की जाएगी।
चीन के खिलाफ अपने नए अभियान के तहत स्वदेशी जागरण मंच ने एक ‘सुरक्षा अभियान मेमोरेंडम’ जारी किया है। मंच चाहता है कि इसे देश का हर जिला मजिस्ट्रेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे। इस मेमोरेंडम में कहा गया है कि चीनी कंपनियों से देश की छोटे व्यापारों को नुकसान पहुंच रहा है और युवाओं के लिए बड़े स्तर पर बेरोजगारी फैल रही है। इसके अलावा पड़ोसी मुल्क होते हुए चीन लगातार भारत को प्रताड़ित कर रहा है।
पहले से चलाते आ रहे चीनी कंपनियों के खिलाफ अभियान:
स्वदेशी जागरण मंच पहले से ही चीनी कंपनियों के खिलाफ अभियान चलाता आ रहा है। स्वदेशी जागरण मंच ने साल 2017 को “चीन विरोधी वर्ष” घोषित कर रखा है। स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक डॉक्टर अश्विनी महाजन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि अगर भारत और चीन के बीच दीवार बन जाए तो उन्हें खुशी होगी। जब डॉक्टर महाजन से पूछा गया कि क्या ग्लोबलाइजेशन से भारत और चीन को फायदा नहीं हुआ है? इस पर वो बोले, “अगर चीन में हर किसी को नौकरी मिल रही है तो इसकी वजह ये है कि वो अपना सामान बेचने में कामयाब हो रहे हैं लेकिन औसत अमेरिकी, ब्रिटिश और यूरोपीय घाटे में हैं।” महाजन ने आगे कहा, “सच ये है कि ग्लोबालइजेशन का फायदा केवल कुछ अमेरिकी कंपनियों को हुआ है।”

आरएसएस नेता कृष्ण गोपाल ने कहा- “असिहष्णु” लोगों को भारतीय संस्कृति के हिसाब से बदलना चाहिए अपना व्यवहार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के वरिष्ठ नेता कृष्ण गोपाल ने गुरुवार (11 मई) को जयपुर में कहा कि “असहिष्णु” लोगों को भारतीय संस्कृति के अनुसार अपना व्यवहार बदल लेना चाहिए। राजस्थान की राजधानी में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए आरएसएस के सह सरकार्यवाह गोपाल ने कहा कि चाहे वो कारोबार हो या सेवा क्षेत्र हिंदू समाज “तेजी से विकास” कर रहा है। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार गोपाल ने कार्यक्रम में कहा, “जहां तक मुसलमानों की बात है तो वो अपनी जड़ों की तरफ देख रहे हैं और वापस लौटना चाहते हैं।”
गोपाल ने कहा कि भारत में जन्मे विभिन्न धर्मों और समुदायों के बीच “कोई मतभेद” नहीं है। कृष्ण गोपाल ने कहा कि उनसे कई ऐसा मुसलमान मिले हैं जो अपनी जड़ों की जानते हैं और हिंदू सांस्कृतिक परंपराओं का पालन करते हैं। कार्यक्रम में राजस्थान की उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी भी मौजूद थीं।  माहेश्वरी ने भारतीय विश्वविद्यालयों में “भारत-विरोधी” नारे लगाए जाने पर चिंता व्यक्त की। माहेश्वरी ने कहा कि ऐसी मुद्दों से उचित तरीके से निपटना चाहिए। माहेश्वरी ने श्रोताओं से देश के विकास में रचनात्मक योगदान देने और भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने की अपील की।
61 वर्षीय कृष्ण गोपाल को इंडियन एक्सप्रेस पावरलिस्ट 2017 में देश का 22वां सबसे ताकतवर शख्श माना गया था। साल 2016 में इस लिस्ट में उनका स्थान 69वां था। जाहिर है पिछले एक साल में उनकी ताकत बढ़ी है। कृष्ण गोपाल को आरएसएस और भाजपा के बीच समन्वय की कड़ी माना जाता है। उत्तर प्रदेश से आने वाले कृष्ण गोपाल दिल्ली में चलने वाली आरएसएस की विचारधारा से प्रेरित संकल्प कोचिंग के संरक्षक भी हैं। ये कोचिंग लोक सेवा आयोग  की आईएएस, आईपीएस और आईएफएस जैसी प्रतिष्ठित नौकरियों की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराती है।
हाल ही में उत्तर प्रदेश में आरएसएस और भाजपा कार्यकर्ताओं के ऊपर हमले को लेकर आरएसएस और भाजपा के नेता यूपी के मुख्यमंत्री आदित्य नाथ से मिले थे उनमें कृष्ण गोपाल भी शामिल थे। माना जाता है कि यूपी और उत्तराखंड चुनाव की रणनीति बनाने में भी कृष्ण गोपाल की भूमिका रही थी।

अगर अकबर महान हैं तो महाराणा प्रताप क्यों नहीं: राजनाथ सिंह

पाली :केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्हें आश्चर्य है कि इतिहासकारों को अकबर की महानता तो नजर आई, लेकिन राजस्थान के वीर सपूत महाराणा प्रताप की महानता नजर नहीं आई. उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि इतिहासकारों से यह भूल हुई है.

सिंह पाली जिले के खारोकडा गांव में महाराणा प्रताप की आदमकद मूर्ति का लोकार्पण करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि उन्हें आश्चर्य हो रहा है कि इतिहासकारों को अकबर तो महान दिखा लेकिन महाराणा प्रताप की महानता उन्हें दिखाई नहीं दी. इतिहासकारों ने इस मामले में (महाराणा प्रताप का) सही मूल्यांकन नहीं किया है. इतिहासकारों को अपनी इस गलती को सुधारना चाहिए.

राजनाथ ने महाराणा प्रताप के अद्भुत शौर्य और साहस की चर्चा करते हुए कहा कि महाराणा प्रताप ने संघर्ष किया. उन्हें गद्दी और सत्ता विरासत में मिली लेकिन यह गद्दी फूलों की नहीं, बल्कि कांटों की सेज थी. त्याग और बलिदान का दूसरा नाम महाराणा प्रताप था. महाराणा ने कभी भी स्वाभिमान को नहीं छोड़ा. सारे हिन्दुस्तान ने उन्हें जननायक के रूप में स्वीकार किया है.

पाकिस्तान को मिलेगा जवाब


केंद्रीय गृहमंत्री ने पड़ोसी देश पाकिस्तान की चर्चा करते हुए कहा कि पाकिस्तान की कायारना हरकतें जारी हैं. वह अपनी कायराना हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. उन्होंने कहा कि भारत में हमले के बाद भारत के सैनिकों ने पाकिस्तान की धरती पर घुसकर आतंकवाद का सफाया किया. इसके माध्यम से भारत ने दुनिया में संदेश दिया है कि जरूरत पड़ने पर सीमा पार जाकर भी मार सकते हैं.

उन्होंने कहा कि कुछ दिनों पहले जो घटना हुई है, उसे लेकर देश को सेना के जवानों पर भरोसा होना चाहिए. भारत एक मजबूत देश है. हमें हमारी सेना के वीर जवानों के शौर्य और देशभक्ति पर नाज होना चाहिए. देश की जनता के मान सम्मान पर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी. राजनाथ ने कहा कि पहली गोली हम नहीं चलाएंगे. अगर उधर से गोली चली तो उसका माकूल जवाब दिया जायेगा.

पीएम नरेंद्र मोदी ने मुस्लिम समुदाय से कहा- तीन तलाक को राजनीतिक मुद्दा ना बनने दें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मुस्लिम समाज से कहा कि वे तीन तलाक के मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं होने दें और समुदाय के किसी अग्रणी संगठन को इस दिशा में सुधार के लिए नेतृत्व की भूमिका निभानी चाहिए। मोदी ने प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के नेताओं से बातचीत करते समय यह टिप्पणी की। संगठन के नेताओं ने यहां प्रधानमंत्री से मुलाकात की थी। प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा है कि लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत सद्भावना और मेल-जोल में है।
विज्ञप्ति के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार को नागरिकों में भेदभाव का कोई अधिकार नहीं है और भारत की विशेषता विविधता में एकता की है। तीन तलाक के मुद्दे पर मोदी ने अपनी यही बात दोहराई कि मुस्लिम समुदाय को इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं होने देना चाहिए। पीएमओ के अनुसार उन्होंने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों से इस दिशा में सुधार शुरू करने की जिम्मेदारी लेने को कहा।
बयान के मुताबिक प्रतिनिधिमंडल ने तीन तलाक के मुद्दे पर प्रधानमंत्री के रुख की सराहना की। मोदी का बयान माकपा नेता सीताराम येचुरी के इस बयान की पृष्ठभूमि में आया है कि तीन तलाक के खिलाफ प्रधानमंत्री का अभियान एक सांप्रदायिक मुहिम है। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारत में नयी पीढ़ी को उग्रवाद की वैश्विक बयार का शिकार नहीं होने देना चाहिए।पीएमओ के वक्तव्य के अनुसार मोदी की सोच की तारीफ करते हुए प्रतिनिधिमंडल ने उम्मीद जताई कि जनता में उनके प्रति जो ‘राष्ट्रव्यापी विश्वास’ है वह समाज के सभी तबकों की समृद्धि और कुशलता सुनिश्चित करेगा।
उन्होंने प्रधानमंत्री की आकांक्षा का जिक्र करते हुए कहा कि मुस्लिम समुदाय ‘न्यू इंडिया’ के निर्माण में बराबर का साझेदार बनना चाहता है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद एक बड़ी चुनौती है और इसके लिए उन्होंने अपनी पूरी ताकत से लड़ने का संकल्प व्यक्त किया।

 

राजनाथ सिंह ने पूछा- इतिहासकारों को महाराणा प्रताप में क्या कमी दिखी जो वे उनकी जगह अकबर को महान बताते हैं

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि महाराणा प्रताप को इतिहास में वो जगह नहीं मिली जो उन्हें मिलनी चाहिए थी। महाराणा प्रताप में ऐसी कौन-सी कमी थी। यह बात उन्होंने राजपूत योद्धा के योगदान पर प्रकाश डालटे हुए उनके स्टैच्यू का अनावरण करते हुई कही। साथ ही उन्होंने कहा कि राजपूत योद्धा के योगदान का पुनः मूल्यांकन करने के लिए इतिहासकारों से आग्रह किया। राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्हें आश्चर्य है कि इतिहासकारों को अकबर की महानता तो नजर आई, लेकिन राजस्थान के वीर सपूत महाराणा प्रताप की महानता नजर नहीं आयी। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि इतिहासकारों से यह भूल हुई है।
राजनाथ सिंह पाली जिले के खारोकडा गांव में महाराणा प्रताप की मूर्ति का लोकार्पण करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उन्हें आश्चर्य हो रहा है कि इतिहासकारों को अकबर तो महान दिखा लेकिन महाराणा प्रताप की महानता उन्हें दिखायी नहीं दी। इतिहासकारों ने इस मामले में (महाराणा प्रताप का) सही मूल्यांकन नहीं किया है। इतिहासकारों को अपनी इस गलती को सुधारना चाहिए।
राजनाथ ने महाराणा प्रताप के अद्भुत शौर्य और साहस की चर्चा करते हुए कहा कि महाराणा प्रताप ने संघर्ष किया। उन्हेें गद्दी और सत्ता विरासत में मिली लेकिन यह गद्दी फूलों की नहीं, बल्कि कांटों की सेज थी। महाराणा प्रताप अदभ्य साहस के प्रतीक थे। त्याग और बलिदान का दूसरा नाम महाराणा प्रताप था। महाराणा ने कभी भी स्वाभिमान को नहीं छोड़ा। सारे हिन्दुस्तान ने उन्हें जननायक के रूप में स्वीकार किया है।
गृहमंत्री ने पड़ोसी देश पाकिस्तान की चर्चा करते हुए कहा कि पाकिस्तान की कायरना हरकतें जारी हैं। वह अपनी कायरना हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में हमले के बाद भारत के सैनिकों ने पाकिस्तान की धरती पर घुसकर आतंकवाद का सफाया किया। इसके माध्यम से भारत ने दुनिया में संदेश दिया है कि जरूरत पड़ने पर सीमा पार जाकर भी मार सकते हैं। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों पहले जो घटना हुई है, उसे लेकर देश को सेना के जवानों पर भरोसा होना चाहिए। भारत एक मजबूत देश है। हमें हमारी सेना के वीर जवानों के शौर्य और देशभक्ति पर नाज होना चाहिए। देश की जनता के मान सम्मान पर कोई आंच नहीं आने दी जायेगी। राजनाथ ने कहा कि पहली गोली हम (भारत) नहीं चलायेंगे। यदि उधर से गोली चली तो उसका माकूल जवाब दिया जाएगा।

 

थूक लगाकर नोट गिनने वाले अपने नेता को नीतीश कुमार ने समझाया सफाई का महत्व, खुद साथ लेकर चलते हैं कई हैंड सैनिटाइजर्स

पूरे देश में स्वच्छता अभियान की शुरुआत करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाना जाता है। पीएम मोदी के इस अभियान का मोदी सरकार के मंत्रियों के साथ आम जन द्वारा भी स्वागत किया गया है और लोगों ने इसमें हिस्सा भी लिया। हालाकि, स्वच्छता को लेकर जागरुक रहने वाले मोदी अकेले नहीं है। पीएम मोदी के विरोधी माने जाने और 2019 में पीएम कैंडिडेट में रूप में प्रोजेक्ट किए जाने को लेकर चर्चा में रहने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी स्वच्छता के पक्षधर है। बिहार के सीएम नीतीश कुमार यात्रा के दौरान अपने साथ कई हैंड सैनिटाइजर्स लेकर चलते हैं। साथ ही पार्टी (जेडीयू) नेताओं से भी उन्होंने इस तरह की अच्छी स्वास्थ्य प्रथाओं को अपनाने के लिए कहा है।
हालांकि दिल्ली कॉन्फिडेंशियल के मुताबिक जेडीयू नेता नीतीश कुमार के इस अपील से जुड़ना नहीं चाहते थे, क्योंकि स्वच्छ भारत अभियान पीएम मोदी से जुड़ा है। जेडीयू नेताओं का कहना है कि नीतीश कुमार लंबे समय से इन हाइजेनिक प्रैक्टिस को अपनाते आ रहे हैं। यहां तक कि पीएम मोदी द्वारा साल 2014 में शुरू किए गए स्वच्छता अभियान से पहले से। हाल ही में दिल्ली में जेडीयू के नेता, जिन्हें थूक लगाकर अंगुलियों से नोट गिनने की आदत है, उनकी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश द्वारा निंदा की गई थी। यहां तक कि नीतीश कुमार ने अपने इस नेता को एक किताब भी सुझाई थी, जिसमें गंदे करेंसी नोटों द्वारा फैलने वाले संक्रमण की जानकारी दी गई।
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश भर में स्वच्छता के लिए अभियान छेड़ रखा है। प्रधानमंत्री ने हमेशा देश के लोगों से अपील की है कि सब लोग इस स्वच्छता अभियान से जुड़ें और अपने देश को साफ सुथरा बनाएं। पीएम मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत 2 अक्टबूर को गांधी जयंती के दिन की थी।

 

राष्‍ट्रपति चुनाव: ‘मोदी-शाह’ की जोड़ी से मुकाबले के लिए विपक्षी बना रहे प्‍लान

रायसीना हिल पर कब्जे केलिए संग्राम की उल्टी गिनती शुरू होने के साथ ‘धर्मनिरपेक्ष’ दलों के नेताओं ने 10, जनपथ के साथ मोदी-शाह की रणनीति का मुकाबला करने के लिए इस पर चर्चा शुरू कर दी है। भारत के शीर्ष संवैधानिक पद के उम्मीदवार पर सहमति बनाने की कोशिश की जा रही है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल जुलाई में खत्म होने जा रहा है। राष्ट्रपति चुनाव पर बातचीत अभी प्रारंभिक चरण में है और अभी किसी का नाम उम्मीदवार के रूप में बताना जल्दबाजी होगी। लेकिन सूत्रों के अनुसार, क्षेत्रीय पार्टियों की दिलचस्पी कांग्रेस की बजाय अपने बीच में से उम्मीदवार उतारने की है। हाल ही में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकापा) प्रमुख शरद पवार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की और राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक संयुक्त उम्मीदवार उतारने पर चर्चा की। बिहार के मुख्यमंत्री व जनता दल युनाइटेड (जदयू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार, जदयू नेता शरद यादव, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने सीताराम येचुरी व भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) नेता डी.राजा सभी ने सोनिया गांधी से मुलाकात की। वास्तव में यह सब बीते सप्ताह नीतीश कुमार की सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शुरू हुआ। नीतीश कुमार ने सोनिया से राष्ट्रपति चुनाव के लिए सर्वसम्मति से उम्मीदवार चुनने की बात कही। राष्ट्रपति चुनाव 25 जुलाई से पहले होने हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 25 जुलाई को कार्यकाल खत्म हो रहा है।
जदयू के प्रवक्ता के.सी. त्यागी ने कहा, “आम उम्मीदवार उतारने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है। भारत का संविधान खतरे में है, इसके प्रस्तावना के आदर्शो पर हमला किया जा रहा है। यदि एक संघ परिवार का कोई सदस्य भारत का संवैधानिक प्रमुख हो जाता है तो संविधान की समीक्षा की जाएगी, जो भारतीय लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं होगा।” उन्होंने कहा कि पार्टियां मई के अंत तक सर्वसम्मति पर पहुंच सकती हैं। निस्संदेह पार्टियां इस समय अपने पत्ते नहीं खोलेंगी। हालांकि शरद पवार और शरद यादव इस चर्चा के दायरे में हैं। राजा ने कहा, “सोनिया जी ने मुझे फोन किया था और मैं उनसे मिलने गया था। हमने उनसे राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक साझा उम्मीदवार रखने पर चर्चा की। लेकिन किसी नाम पर चर्चा नहीं हुई।” उन्होंने कहा, “उम्मीदवार पर आम सहमति होनी चाहिए।”
हालांकि, राष्ट्रपति चुनाव की तत्कालिक चुनौती और 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए एक बड़ा गठबंधन बनाना कुछ क्षेत्रीय दलों के कांग्रेस से मोहभंग हो जाने की वजह से यह आसान नहीं होगा। कांग्रेस के बड़े भाई की भूमिका वाली आदत इसमें बड़ी बाधा है। एक बड़ी क्षेत्रीय पार्टी के वरिष्ठ नेता ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर कहा, “समस्या यह है कि जहां भी कांग्रेस बड़ी स्थिति में है, वह छोटी पार्टियों को साथ नहीं लेती और जिन स्थानों पर यह छोटी है, वहां दूसरे दलों से यह बड़ा हिस्सा चाहती है।”
एक हालिया उदाहरण देते हुए नेता ने कहा कि हाल में कर्नाटक में हुए उपचुनावों में जनता दल सेक्युलर (जद-एस) ने अपना उम्मीदवार न उतारकर कांग्रेस की मदद की और कांग्रेस का उम्मीदवार जीत गया। उन्होंने कहा, “लेकिन कांग्रेस ने कहा कि वह खुद से जीती है। उसने जद-एस की सहायता की बात को खारिज कर दिया।”
त्यागी ने कहा, “यह एक दिलचस्प चुनाव होगा। सभी गैर-राजग दलों को लेकर हमारे पास राजग की तुलना में 35,000 ज्यादा वोट हैं। लेकिन इनमें तोड़-फोड़ होगी। अमित शाह और मोदी तोड़-फोड़ में बड़े माहिर हैं।”

IPL 2017: सीजन में 400 रन बनाने वाले पहले बल्‍लेबाज बने डेविड वॉर्नर, KKR के खिलाफ जड़ा तूफानी शतक

इंडियन प्रीमियर लीग के 37वें मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद के कप्‍तान डेविड वॉर्नर ने तूफानी बल्‍लेबाजी का प्रदर्शन किया। कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ मैच में वॉर्नर ने महज 43 गेंदों पर शतक जड़ दिया। इस मैच में शतक के साथ ही वॉर्नर टूर्नामेंट के इस सीजन में 400 रनों का आंकड़ा पार करने वाले पहले बल्‍लेबाज बन गए हैं। उनके पास ऑरेंज कैप भी है। कोलकाता ने टॉस जीतकर हैदराबाद को बल्‍लेबाजी के लिए आमंत्रित किया था, मगर वॉर्नर ने फैसले को पूरी तरह गलत साबित कर दिया। वॉर्नर के इस शानदार प्रदर्शन की बदौलत हैदराबाद ने मैच पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। खबर लिखे जाने तक टीम ने सिर्फ 11.3 ओवरों में ही 129 रन बना लिए थे।
कोलकाता इस सीजन में अब तक खेले गए नौ में से सात मैच जीतकर आठ टीमों की तालिका में शीर्ष पर है, वहीं हैदराबाद कुल नौ मैचों में से पांच में फतह के साथ तीसरे स्थान पर काबिज है।

JEE Mains में पूरे नंबर हासिल कर कल्पित ने रचा इतिहास, अब करना चाहता है ये बड़ा काम

आईआईटी और एमएनआईटी में दाखिले के लिए आयोजित की जाने वाली जेईई मेंस परीक्षा के नतीजे कल (27 अप्रैल) घोषित कर दिए गए, जिसमें राजस्थान के उदयपुर के रहने वाले कल्पिल ने पहला स्थान हासिल किया है। खास बात ये है कि कल्पित ने न सिर्फ पहला स्थान हासिल किया है, जबकि उन्होंने 360 में से 360 अंक हासिल कर इतिहास रच दिया है। कल्पित के पिता कंपाउंडर हैं और उनकी मां उदयपुर की एक स्कूल में टीचर हैं। उन्होंने जनसत्ता डॉट कॉम से खास बातचीत में कहा कि वो इसका श्रेय अपने माता-पिता के साथ गुरुजनों और अपने भाई को देना चाहता हैं। रेजोनेंस उदयपुर से कोचिंग कर रहे कल्पित इसके बाद जेईई एडवांस की पढ़ाई करने में ध्यान लगा रहे हैं।
उन्होंने बताया कि अगर वो जेईई मेंस में अच्छे अंक और रैंक हासिल करते हैं तो वो आईआईटी मुंबई से अपनी इंजीयरिंग पूरी करना चाहते हैं और कम्प्यूटर साइंस में इंजीनियनिंग पूरी करेंगे। वहीं उनका कहना है कि वो इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद विदेश नहीं जाना चाहते और वो देश में रहकर ही अपना करियर बनाएंगे। बता दें कि वो एक कंपाउंडर के बेटे हैं और एक साधारण परिवार से आते हैं। उन्हें सीबीएसई अध्यक्ष आरके चतुर्वेदी ने खुद फोन कर यह खुशखबरी सुनाई और उन्होंने एससी वर्ग में भी प्रथम स्थान हासिल किया है। वहीं राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी अपने ट्विटर के जरिए कहा कि “JEE Main परीक्षा में 100 फीसदी अंक हासिल करने वाले कल्पित पहला छात्र बन गया है। राजस्थान को तुम पर गर्व है।”
बता दें कि जेईई मेंस के बाद उम्मीदवारों को जेईई एडवांस में भाग लेना होगा, जिसकी रैंक के आधार पर उम्मीदवारों का कॉलेज में दाखिला होगा। उसकी रैंक के आधार पर विद्यार्थियों को कॉलेज का आवंटन किया जाएगा। वहीं जेईई एडवांस के लिए आवेदन प्रक्रिया भी जल्द ही शुरू कर दी जाएगी और उसके बाद उम्मीदवारों को इसमें भाग लेना होगा। बता दें कि यह परीक्षा अगले महीने में आयोजित होनी है।

संभावनाओं के बाद उपेक्षित है ऐतिहासिक मंढीप खोल गुफा

पैलीमेटा क्षेत्र में स्थित ऐतिहासिक और पुरात्वाविक महत्व वाली मंढीप खोल गुफा और उसके आसपास क्षेत्र में पर्यटन विकास की काफी संभावना है , किन्तु प्रशासनिक उदासीनता के चलते सुविधाओ और समस्याओ से जूझ रहा है ।
उल्लेखनीय है कि प्रसिद्ध मंढीप खोल गुफा  साल में सिर्फ एक बार अक्षय तृतीय के बाद आने वाले पहले सोमवार को 
खुलती है । 
इस साल यह  आगामी  1  मई   को खुलेगी ।
इस मौके पर यहां मेला का आयोजन भी होगा ।
गुफा के अंदर विहंगम दृश्य को देखने और वहां स्थित शिव लिंग की पूजा करने  छत्तीसगढ के अलावा  पडोसी राज्य मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र अन्य प्रान्त के लोग भी बडी संख्या में 
पहुंचते है ।
ठाकुरटोला जमीदारी के अधीन आने वाली गुफा तक पहुंचने के लिए एक ही नदी को अलग  अलग स्थानो पर  16 बार पार करना पडता है ।
गुफा के खुलने  के पहले  पूजा कर फायरिंग की जाती है ।
ताकि अंदर छुपे जंगली जानवर भाग जाएं ।
गुफा के अंदर नीव अंधेरा 
रहता है । 
जिससे लोगों को टार्च या मशाल लेकर जाना पडता है ।

कोई नही जान पाया गुफा की लम्बाई ,गहराई 

यह गुफा कहा से शुरू होकर कहा खत्म हुई है इसे जानने 
का अब तक काफी प्रयास किया जा चुका है , किन्तु  कोई भी इसकी किसी भी छोर को पकड नही पाया है  ।
यहां एक गुप्त गंगा भी है ।
जिसका पानी अविरल बहते रहता है ।
लोगो का ऐसा मानना है कि  इस पानी में स्नान करने से चर्म रोग तो दूर होते है  और खेत में छिडकाव कर दिया जाएगा तो वहा से भी कीटाणु और रोग दूर चले जाते है ।

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर  विकास के लिए तरस रहा है 

गुफा के चारो तरफ घने वृक्षो वाले जंगल है 
जो लोगो को बरबस ही अपनी ही ओर आकर्षित करते है ।
यहां भी अन्य क्षेत्रों की तरह सुविधाओ का विकास कर दिया जाये तो यह क्षेत्र भी पर्यटन का केन्द्र  बन सकता है ।
ठाकुरटोला के राधामोहन वैष्णो और संजय मसीह  ने बताया कि सुविधाओ के नहीं होने से यह क्षेत्र काफी पिछड गया है ।
यहां तक पहुचने के लिए अच्छी सडक तक नही है ।
उनका कहना है कि जिस प्रकार प्रशासन द्वारा डोगरगढ में मां बम्लेश्वरी  , नवरात्र मेले के समय  प्रबंध किया जाता है ।
उसी प्रकार से रहा भी हो जिससे  यहा विकाश हो । 
यहा पेय जल की व्यवस्था किया जाये गर्मियों के दिनो नदी नाले सूख गये है ।

अगर मंढीप खोल गुफा बस्तर क्षेत्र में होता तो कब का पर्यटन केन्द्र बन गया  होता ।
किन्तु दुर्भाग्य यह है कि राजनांदगांव जिले के अंतिम छोर में 95 कि.मी.दूरी पर आदिवासी बाहुल्य  क्षेत्र  ठाकुरटोला  जमीदारी के बीहड जंगल में मंढीप खोल गुफा  स्थित है ।

प्रदेश के मुख्यमंत्री डां रमन सिह का विधान सभा जिला राजनांदगांव है यह सांसद का सत्ता  होने के बाद भी  मंढीप खोल गुफा का अस्तिव बीहड जंगल में लुप्त हो रहा है ।

यहा बारिश के चार महीने  नदी नाले उफान पर रहता है  यहा समीप आने वाले  आधा दर्जन  गांव का ब्लाक मुख्यालय से संम्पर्क टुट जाता है आज भी यह क्षेत्र काफी पिछडा हुआ है ।
 अभी यह विकाश होने में  काफी पिछडे हुये है ।

यह ग्राम डंडूटोला और आसपास गांव के लोग  8 से 10कि.मी. नदी पार कर विधान सभा चुनाव की  वोट  डालने जाते है ।