देश

जम्मू में कर्फ्यू जारी, सेना ने किया फ्लैग मार्च ....पढ़िए पूरी खबर...!

जम्मू में शनिवार को दूसरे दिन भी कर्फ्यू जारी रहा , सेना ने संवेदनशील इलाकों में फ्लैग मार्च भी किया , आपको बता दें कि पुलवामा में आतंकवादी हमले में 40 जवानों की शाहदत के बाद एक विरोध प्रदर्शन में हिंसा भड़क गई थी. वही अधिकारियों ने बताया कि जम्मू विश्वविद्यालय ने शनिवार को होने वाली सभी परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है और समूच जम्मू क्षेत्र में इंटरनेट सेवा बंद है. जम्मू -श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रामबन में भूस्खलन की वजह से श्रीनगर जाने वाले वाहनों को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में आगे बढ़ने की इजाजत दे दी गई है.

आलोक वर्मा के बाद राकेश अस्थाना पर गिरी गाज, कार्यकाल घटाया गया

नई दिल्ली : सीबीआई विवाद में एजेंसी चीफ के बाद अब विशेष निदेशक राकेश अस्थाना समेत चार अफसरों पर गाज गिरी है। सरकार ने तत्काल प्रभाव से राकेश अस्थाना और CBI के तीन अन्य अफसरों का कार्यकाल घटा दिया है। कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने गुरुवार शाम में इस संबंध में अपना आदेश भी जारी कर दिया। तीन अन्य अफसरों में संयुक्त निदेशक अरुण कुमार शर्मा, DIG मनीष कुमार सिन्हा, SP जयंत जे. नाइकनवरे का नाम शामिल है, जिनका कार्यकाल छोटा किया गया है।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली एक उच्चस्तरीय सिलेक्शन कमिटी ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को पद से हटाने का बड़ा फैसला लिया था। समिति के अन्य सदस्यों में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस एके सीकरी शामिल थे। खड़गे के विरोध के बाद यह फैसला 2-1 के बहुमत से लिया गया था।

इससे पहले सीबीआई के दोनों वरिष्ठ अफसरों के एक दूसरे पर गंभीर आरोप लगाने के बाद सरकार ने दोनों को जबरन छुट्टी पर भेज दिया था। इसके बाद घटनाक्रम तेजी से बदले। सुप्रीम कोर्ट ने हाल में आलोक वर्मा को उनके पद पर बहाल कर दिया लेकिन एक दिन के बाद ही उच्च समिति ने वर्मा को पद से हटाकर उनका ट्रांसफर फायर सर्विसेज विभाग में कर दिया। सीबीआई के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ जब एजेंसी चीफ के खिलाफ इस तरह का ऐक्शन लिया गया।

ट्रांसफर होने के एक दिन बाद आलोक वर्मा ने सरकार को इस्तीफा भेज दिया। दरअसल, वर्मा का तबादला करते हुए उन्हें फायर सर्विसेज का डायरेक्टर बनाया गया था लेकिन उन्होंने चार्ज लेने से इनकार करते हुए इस्तीफा दे दिया।

मोदी सीएसआर पोर्टल लॉन्च करेंगे

नई दिल्ली  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 अक्टूबर को कॉरपोरेट सामाजिक जवाबदेही (सीएसआर) पोर्टल लॉन्च करेंगे और आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग पेशेवरों को संबोधित करेंगे। मोदी ने शुक्रवार को सभी भारतीय टेक्नोक्रेट को संबोधित करते हुए ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। इस दौरान उन तरीकों पर चर्चा की जाएगी, जिसमें आईटी व इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर बदलाव ला सकता है और वॉलेंटियर न्यू इंडिया के निर्माण में योगदान दे सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक्स व आईटी मंत्रालय ने कहा कि सीएसआर प्लेटफॉर्म आईटी व इलेक्ट्रॉनिक पेशेवरों को मदद करेगा।

अकबर पर लगे यौन दुर्व्यवहार के आरोपों पर सरकार ने चुप्पी साधी

नई दिल्ली -  केंद्र सरकार ने बुधवार को केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एम.जे.अकबरपर लगे यौन दुर्व्यवहार के आरोपों पर चुप्पी बनाए रखी जबकि कांग्रेस ने अकबर के इस्तीफे की मांग की। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां मंत्रिमंडल के निर्णय की जानकारी पत्रकारों को दी लेकिन उन्होंने अकबर और `मी टू` अभियान समेत किसी भी अन्य मामले पर कोई जवाब नहीं दिया।
अकबर पर लगे आरोपों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, `आज का मुद्दा मंत्रिमंडल निर्णय है, कृपया उस पर ध्यान लगाए।`
मामले पर जब पत्रकारों ने जवाब देने के दबाव डाला, तो प्रसाद ने दोबारा कहा, `मुद्दा मंत्रिमंडल निर्णय का है।`
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को अकबर के विरुद्ध लगे आरोपों के बारे में पूछे जाने कोई जवाब नहीं दिया था। जब पत्रकारों ने मामले पर जवाब देने के लिए दबाव डाला और पूछा कि क्या मामले के संबंध में कोई जांच होगी, तो वह वहां से कोई जवाब दिए बिना ही चली गईं।
छह महिला पत्रकारों ने पूर्व संपादक अकबर पर यौन उत्पीड़न और अनुचित व्यवहार के आरोप लगाए हैं।
कांग्रेस प्रवक्ता एस.जयपाल रेड्डी ने बुधवार को अकबर का इस्तीफा मांगा और कहा कि चुप्पी साधे रखना अच्छी बात नहीं है।

 

बापू के समाधि स्थल राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अध्यक्ष सोनिया गांधी राहुल गांधी सहित कई गणमान्य लोगों श्रद्धांजलि दी

नई दिल्ली-  दिल्ली के समाधि स्थल राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई गणमान्य लोगों ने बापू को श्रद्धांजलि दी।

उनके जन्मदिन के मौके पर देशभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। पीएम मोदी कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे। राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद स्वच्छता पुरस्कार बांटेंगे। इस दौरान वहां पीएम भी मौजूद रहेंगे। गांधी जयंती पर पीएम मोदी राष्ट्रव्यापी ‘स्वच्छ्ता ही सेवा अभियान’ का समापन करेंगे।

राजघाट पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद राहुल और सोनिया दोनों तत्काल वहां से चले गये क्योंकि उन्हें महाराष्ट्र के वर्धा में आयोजित कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जाना है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया राहुल के बाद राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद, सोनिया गांधी वहां पहुंचीं और महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान वहां भजन हो रहा था।

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने भी इस अवसर पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

पीएम मोदी ने अपनी 48वीं मन की बात में महात्मा गांधी का जिक्र किया था। उन्होंने बापू से जुड़ी कई बातों के बारे में बताया था। गांधी जयंती पर पीएम मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘गांधी जयंती पर राष्ट्रपिता को शत्-शत् नमन। आज से हम पूज्य बापू के 150वें जयंती वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। उनके सपनों को पूर्ण करने का हम सभी के पास यह एक बहुत बड़ा अवसर है।’

जहां एक तरफ पूरा देश आज बापू की 150वीं जयंती मना रहा है वहां राष्ट्रपिता खुद अपना जन्मदिन मनाना पसंद नहीं करते थे। वयोवृद्ध गांधीवादी रामचंद्र राही बताते हैं कि शायद गांधीजी अपना जन्मदिन नहीं मनाते थे लेकिन लोग इस खास दिन का जश्न मनाया करते थे।

1918 में उन्होंने अपना जन्मदिन मनाने वाले लोगों से कहा था, ‘मरने के बाद मेरी यह कसौटी होगी कि मैं जन्मदिन मनाने लायक हूं या नहीं।’ राही ने बताया, ‘वह अपने जन्मदिन पर गंभीर रहते थे। भगवान से प्रार्थना करते थे, चरखा चलाते थे और ज्यादातर समय मौन रहा करते थे। किसी भी महत्वपूर्ण दिन को वह इसी तरह मनाते थे।’

सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी सालगिरह, जोधपुर एयरफोर्स स्टेशन पहुंचे पीएम मोदी सर्जिकल स्ट्राइक प्रदर्शनी का करेंगे उद्धघाटन

नई दिल्ली  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (शुक्रवार) को राजस्थान के लिए रवाना होंगे । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहाँ 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी प्रदर्शनी के दौरान युद्ध स्मारक पर जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

एशिया के सबसे बड़े डिफेन्स बेस जोधपुर से मोदी पाक को बड़ा संदेश देने जा रहे है। मोदी सुबह 9 बजे से 3 बजे तक जोधपुर के तीनों सेनाओं के साथ जॉइंट कॉन्फ्रेंस में संबोधित करेंगे।

सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मोदी सुबह 9 बजे जोधपुर डिफेन्स एयरपोर्ट पर उतरेंगे और वहां से वे सीधा मिलिट्री स्टेशन पर लगने वाली सर्जिकल स्ट्राइक प्रदर्शनी का उद्धघाटन करेंगे।

उद्घाटन के बाद पीएम सर्जिकल स्ट्राइक प्रदर्शनी का अवलोकन कर सीधे कोणार्क कोर स्थित युद्ध स्मारक पर वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचेंगे।

पाकिस्तान बॉर्डर पर 4 जगह लगेगी सर्जिकल स्ट्राइक प्रदर्शनी

केंद्र सरकार भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान स्थित आतंकी ठिकानों पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी सालगिरह मना रही है। पाक बॉडर्र से सटे जोधपुर,जैसलमेर,अहमदाबाद और भुज में सर्जिकल स्ट्राइक प्रदर्शनी लगाई जा रही है। इसे पराक्रम पर्व का नाम दिया गया है।

इस प्रदर्शनी को 29 और 30 सितंबर को आमलोग भी देख सकेंगे। प्रदर्शनी में सेना के हथियार और अन्य उपकरण प्रदर्शित किए जाएंगे।

जोधपुर एयरफोर्स बेस पर पहली कमांडर कॉन्फ्रेंस

देश में 2015 तक कमांडर कॉन्फ्रेंस दिल्ली में ही आयोजित होती थी। लेकिन पीएम मोदी ने 2016 में यह कॉन्फ्रेंस दिल्ली से बाहर सैन्य क्षेत्र के पोत आईएनएस विक्रमादित्य और 2017 में देहरादून स्थित इंडियन मिलट्री एकेडमी में शुरू करवाई।

इसके बाद पहली बार एशिया के सबसे बड़े एयर बेस पर यह कॉन्फ्रेंस आयोजित हो रही है। कमांडर में पीएम मोदी, रक्षा मंत्री सीतारमण, राष्ठीय सुरक्षा सलाहकार और तीनो सेनाओं के प्रमुख शिरकत करेंगे।

देश की रक्षा तैयारी पर होगा मंथन

पीएम मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण तीनों सेनाओं के प्रमुख से ऑपरेशनल तैयारियों पर चर्चा करेंगें। पीएम मोदी तीनों सेनाओं की सयुक्त कमान की युद्ध की तैयारियों को लेकर कमांडर्स से बात करेंगे।

मौजूदा हालात में चीन औरपाकिस्तान की सामरिक तैयारियों, विश्व के मौजूदा हालात, महाशक्तियों की ऑपरेशनल तैयारियों के बारे में चर्चा करेंगे। साथ ही, इस कॉन्फ्रेंस में सेनाओं में हथियारों की कमी, नए हथियारों की खरीद, उनकी प्रक्रिया जल्दी शुरू करने और सभी प्रोजेक्ट में तेजी लाने को लेकर कमांडर्स पीएम को अवगत कराएंगे।

पीएम मोदी भी रक्षा को लेकर आने वाले दिनों में देश की क्या दिशा होगी इस पर अपना रुख सेनाओं के सामने रखेंगे ।

एससी-एसटी एक्ट के विरोध में 6 सितंबर को भारत बंद का ऐलान कई शहरों में धारा 144 लागू

नई दिल्ली: एससी-एसटी एक्ट में हुए संशोधन को लेकर एसटी-एससी वर्ग के लोग एक बार फिर विरोध प्रदर्शन की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने 6 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। वहीं हालात को देखते हुए जिला प्रशासन ने कई शहरों में धारा 144 लागू कर दिया है।
 उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार द्वारा एससी/एसटी एक्ट में संसोधन किए जाने के विरोध में सवर्ण समाज, करणी सेना, सपाक्स एवं अन्यों द्वारा छह सितम्बर को ‘भारत बंद’ के आह्वान को मद्देनजर धारा 144 का आदेश जारी किया गया है। इस बीच, ब्रह्म समागम सवर्ण जनकल्याण संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष धर्मेन्द्र शर्मा ने कहा कि एससी/ एसटी एक्ट के विरोध में 6 सितंबर को शांतिपूर्ण भारत बंद का समर्थन करेगा।
 छत्तीसगढ़ में भी सुलगी आग
एसटी-एससी एक्ट में संशोधन के खिलाफ छत्तीसगढ़ में भी आग सुलगने लगी है। मंगलवार को राज्य मुख्यालय पर सवर्ण समाज के लोगों ने बैठक की, जिसमें संयुक्त आंदोलन शुरू करने का फैसला लिया गया है। सबसे पहले तो सवर्णों के घरों के बाहर पोस्टर लगवाए जाएंगे, जिसमें 'सुप्रीम कोर्ट के आदेश को बहाल करो' लिखा होगा। इसके साथ ही, सवर्णों का आंदोलन सड़क पर भी जल्द नजर आएगा।
 ओबीसी वर्ग का मिला साथ
छत्तीसगढ़ सरकार के वित्त आयोग के पूर्व अध्यक्ष और ब्राह्माण समाज के नेता विरेंद्र पांडे, कुर्मी समाज के नेता राकेश सिंह बैस की उपस्थिति में सवर्णों की बैठक हुई, जिसमें ब्राह्माण, सिख, सिंधी, मुस्लिम, कुर्मी, साहू, मारवाड़ी, क्षत्रिय समेत अन्य सामान्य व ओबीसी वर्ग के लोग शामिल हुए।

मौलाना ने लाइव डिबेट में महिला वकील को पीटा, चैनल के स्टूडियो में पहुंची पुलिस.....

मौलाना ने लाइव डिबेट में , शो में हिस्सा लेने आई महिला वकील फराह फैज पर हाथ छोड़ दिया। बीच—बचाव करने के बाद भी मौलाना शांत नहीं हुए। टीवी चैनल के स्टूडियों में एक महिला की लाइव पिटाई देखकर दर्शक भौचक्के रह गए। दरसअल में टीवी चैनल जी हिंदुस्तान के लाइव डिबेट कार्यक्रम में तीन तलाक पर बहस चल रही थी। मामला बरेली की निदा खान के खिलाफ मौलवियों की ओर से जारी फतवे का था। अचानक बहस के दौरान मामला गर्मा गया। मौलाना एजाज अरशद कासमी उग्र हो उठे। उन्होंने शो में हिस्सा लेने आई महिला वकील फराह फैज पर हाथ छोड़ दिया। बीच—बचाव करने के बाद भी मौलाना शांत नहीं हुए। टीवी चैनल के स्टूडियों में एक महिला की लाइव पिटाई देखकर दर्शक भौचक्के रह गए। उधर डिबेट के दौरान मारपीट की सूचना पर नोएडा पुलिस जी न्यूज हिंदुस्तान के आॅफिस पहुंची और मौलाना को हिरासत में ले लिया।

सरकार को घेरने की रणनीति को लेकर मानसून सत्र शुरु होने से पहले आज होगी विपक्षी राजनीतिक दलों की बैठक

नई दिल्ली: मनहर चौधरी -  मानसून सत्र के आरंभ होने से पहले विपक्षी राजनीतिक दलों की आज बैठक होने जा रही है। इस बैठक में वे बुधवार से शुरू हो रहे मानसून सत्र के लिए अपनी रणनीति पर विचार-विमर्श करेंगे।  ऐसा  कयास लगाए जा रहे हैं की राज्यसभा के नए उपाध्यक्ष के चयन में विपक्षी दलों के बीच एका देखी जा सकती है। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में विपक्ष में शामिल प्रमुख दलों के नेता शामिल हो सकते हैं। पी.जे. कुरियन उपाध्यक्ष एक जुलाई को सेवानिवृत्त होने के बाद वे राज्यसभा के उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव के मसले समेत मानसून सत्र की रणनीति पर विचार-विमर्श करेंगे।   विपक्ष मानसून सत्र के दौरान मॉब लिंचिंग, बैंक धोखाधड़ी, किसानों की दशा और महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के मसलों को लेकर सरकार को घेर सकती है।
साथ ही ऐसा अनुमान लगया जा रहा है की कांग्रेस उपाध्यक्ष पद के लिए विपक्ष को समर्थन दे सकती है। हालांकि किसी पार्टी ने नहीं कहा है कि वह अपना उम्मीदवार उतारना चाहती। कयास यह लगाया जा रहा है कि तृणमूल कांग्रेस या राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के संयुक्त उम्मीदवार हो सकते हैं। विपक्ष के उम्मीदवार के नाम पर आमसहमति की संभावना दूर की बात दिखती है क्योंकि विगत में यह पद सत्ताधारी पार्टी के पास रही है। कयास यह भी लगाया जा रहा है कि मुकाबले की स्थिति में भाजपा की अगुवाई में राजग शिरोमणि अकाली दल के नरेश गुजराल का अपना उम्मीदवार बना सकता है।

दिल्ली: फीस नहीं दी तो 5 साल की बच्चियों को स्कूल के तहखाने में बनया बंधक

 दिल्ली के बल्लीमारान स्थित राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल में 59 मासूम बच्चियों को उमस भरी गर्मी के बीच एक तहखाने में बंधक बनाकर रखा गया। 
दोपहर के समय परिजन जब बच्चियों को लेने स्कूल पहुंचे तो इसका पता चला। बच्चियों का गर्मियों में भूख-प्यास से बुरा हाल था। अपने बच्चों की हालत देखकर परिजन बिफर गए। स्कूल के बाहर जमकर हंगामा किया गया। 
मामले की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मासूमों को जबरन बंधक बनाने और जेजे एक्ट की धारा 75 के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। 

पुलिस के मुताबिक, बल्लीमारान स्थित गली कासिम जान में राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल है। यहां नर्सरी से 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई होती है। आरोप है कि सोमवार सुबह जब स्कूल खुला तो सुबह 6.45 बजे नर्सरी और केजी कक्षा के अभिभावक अपने-अपने बच्चों को यहां छोड़ गए।

इस बीच दोपहर करीब 12.30 बजे वह अपने-अपने बच्चों को लेने पहुंचे तो पता चला कि 59 बच्चियां अपनी क्लास में नहीं थीं। कर्मचारियों से पूछा गया तो पता चला कि फीस न चुकाने पर स्कूल की एचएम (हैड मिस्टर्स) फरह दीबा खान के कहने पर इन बच्चियों को स्कूल के तहखाने (बेसमेंट) में रखा हुआ है। 

परिजन वहां पहुंचे तो देखा कि बच्चियों को एक तहखाने नुमा कमरे में जमीन पर बिठाया हुआ था। परिजनों का आरोप था कि वहां पंखा भी नहीं थे। साथ ही चार और पांच साल की सभी बच्चियों की भूख व प्यास से बुरी हालत थी। 

अपने परिजनों को देखकर बच्चियों ने रोना शुरू कर दिया। गुस्साए परिजनों ने जब एचएम से बातचीत करने का प्रयास किया तो उन्होंने बदतमीजी दिखाते हुए परिजनों को बाहर फिकवाने की बात की। 
एचएम का कहना था कि फीस जमा न करने वाले बच्चों को ही यहां रखा गया था। परिजनों ने खूब हंगामा किया। बाद में 1.05 बजे पुलिस को सूचना दी गई। छानबीन के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। 

स्कूल प्रशासन का कहना तहखाना नहीं एक्टिविटी रूम...
दूसरी तरफ स्कूल प्रशासन ने अपनी सफाई में कहा कि जहां बच्चों को रखा गया था वह तहखाना नहीं एक्टिविटी रूम है। कमरे में हवा व लाइट की व्यवस्था है। लेकिन बच्चियों को वहां क्यों रखा गया, इस पर स्कूल प्रशासन कोई जवाब नहीं दे पाया। 

मुंबई: अंधेरी में फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिरा, ६ लोग जख्मी, पश्चिमी रेलवे की ट्रेनें ठप

 मुंबई में अंधेरी वेस्ट में रोड ओवर ब्रिज का एक हिस्सा टूटकर अंधेरी स्टेशन के विले पार्ले से साउथ एंड जाने वाले ट्रैक पर गिर गया है। इसका ओवर हेड इक्विपमेंट क्षतिग्रस्त हुआ है। मौके पर दमकल की चार गाड़ियां पहुंच गई हैं। हालांकि इसकी वजह से पश्चिमी रेलवे की आवाजाही रुक गई है।हादसे में   6 लोग घायल हो गए हैं। वहीं 10-15 लोगों के जख्मी होने की आशंका है।
रेलवे सुरक्षा बल के आर कुदवाल्कर का कहना है, '6 घायलों को अस्पताल भेज दिया गया है। यह मत सोचिए कि कोई मलबे में दबा हुआ है। रेलवे प्रशासन, आरपीएफ, जीआरपी, सिटी पुलिस यहां मौजूद हैं और मलबे को हटाने का काम जारी है। अगले चार घंटों बाद रेलवे अपना काम शुरू कर देगा।'

गोखले ब्रिज के टूटने पर मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने सीपी मुंबई पुलिस और बीएमसी कमिश्नर से बातचीत की है। मुख्यमंत्री ने सीपी से यातायात की आवाजाही को सुचारु रुप से चलने और बीएमसी कमिश्नर से बेस्ट बसों की संख्या को बढ़ाने के लिए कहा है ताकि यात्रियों को कोई परेशानी ना हो।

ब्रिज गिरने की वजह से अंधेरी से विरार जाने वाली ट्रेनों के संचालन को फिलहाल बंद कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि अचानक सुबह 7.30 बजे ब्रिज गिर गया। अंधेरी से विले पार्ले जाने वाली सभी 4 लाइनें बंद कर दी गई हैं। ब्रिज की दूसरी तरफ दो स्कूल हैं और पास में ही रेलवे स्टेशन है। इसी वजह से इसका काफी प्रयोग किया जाता था। हालांकि अच्छी बात यह रही कि हादसे के समय ब्रिज पर ज्यादा लोगों की संख्या नहीं थी। जिसकी वजह से एक बड़ा हादसा टल गया।

घटना के बाद ट्विट करते हुए मुंबई पुलिस ने कहा कि ब्रिज गिरने के बाद मौके पर सुरक्षा से जुड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। पुलिस मौके पर पहुंच गई है और ट्रैफिक को रोक दिया गया है। बता दें कि मुबंई में लगातार बारिश हो रही है। मंगलवार को जिस दौरान ब्रिज गिरा उस समय भी बारिश हो रही थी। बारिश की वजह से कई इलाकों में पानी भर गया है।

मोदी सरकार के फैसले से देश के लाखों केंद्रीय कर्मचारी निराश, ओवरटाइम भत्ता बंद करने का आदेश जारी

दिल्ली केंद्र ने अपने कर्मचारियों को दिया जाने वाला ओवरटाइम भत्ता बंद करने का फैसला किया है। हालांकि परिचालन (यांत्रिकीय/ऑपरेशनल) कर्मचारियों के लिए यह सुविधा जारी रहेगी। कार्मिक मंत्रालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर यह कदम उठाया गया है। 
बता दे की पिछले कई वर्षों के दौरान वेतन में हुई वृद्धि को देखते हुए केंद्र सरकार ने सातवें वेतन आयोग के ओवरटाइम भत्ते (ओटीए) को बंद करने की सिफारिश को स्वीकार किया है। ऐसे अधिकारी-कर्मचारी जिन्हें अधिकांश कार्यालय से बाहर रहना पड़ता है, उन्हें यह सुविधा मिलती रहेगी। इसी के अनुसार सभी मंत्रालयों/विभागों तथा उनसे संबद्ध एवं अधीनस्थ भारत सरकार के कार्यालयों में यह फैसला लागू करने का निर्णय लिया गया है।

कौन हैं ऑपरेशनल तथा यांत्रिकीय कर्मचारी
केंद्र सरकार के ऐसे सभी गैर राजपत्रित कर्मचारी जो कार्यालय के सुचारू संचालन से सीधे लगे रहते हैं, उन्हें इस श्रेणी में रखा गया है। इनमें इलेक्ट्रिकल या मेकेनिकल उपकरणों का संचालन करने वाले कर्मचारी भी आते हैं।

जोर शोर से चल रहा है मंदिर बचाओ महायज्ञ की तैयारी। ।

खबरीलाल रिपोर्ट (काशी) ::- विदित हो की जगद्गुरु शंकाराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के शिष्य प्रतिनिधि दंडी स्वामीश्री: अविमुक्तेश्वरानंद: सरस्वती द्वारा काशी में तोड़े गए पुराणों में वर्णित मंदिर व देव विग्रहों के विरोध में काशी व पंचक्रोशी की नंगे पांव यात्रा कर सभी देवताओं से माफी मांगे और इसी क्रम में स्वामिश्री: ने स्वयं वाराणसी जिले के 60 से अधिक गांवों में जाकर मंदिर बचाओ महायज्ञ हेतु गांव वासियों को आमंत्रण दिए। स्वामिश्री: के अनुयायी एवं सनातन धर्मी वाराणसी जिले के 8 ब्लॉकों तथा वाराणसी के 90 वार्डों में जाकर प्रत्येक गांव एवं वार्ड वासियों को आमंत्रण दिए कि श्रीविद्या मठ, केदारघाट में 28 जून से 4 जुलाई 2018 तक चलने वाली 7 दिन व्यापी महायज्ञ में सम्मिलित होकर आहुति दें और भगवान से प्रार्थना करे कि वे शासन एवं प्रशासन को सद्बुद्धि प्रदान करे जिससे विकास के नाम पर पुराणों में वर्णित व प्राचीन मंदिरों को न तोड़ा जाए जिसे देखने व पूजन करने देश और विदेशों से श्रद्धालुगण काशी आते हैं। मिली जानकारी के अनुसार 28 जून से 4 जुलाई तक रोजाना सुबह 8 से 12 बजे तथा दोपहर 2 से शाम 6 बजे तक वाराणसी के केदारघाट स्थित श्रीविद्या मठ में महायज्ञ होंगे जिसमे रोजाना एक लाख से ऊपर आहुतियाँ दी जाएंगी साथ ही काशी खंड में वर्णित देवताओं की झांकियां भी प्रदर्शित होंगे जिसे सभी उपस्थित श्रद्धालुगण देख पाएंगे और गंगा जी मे स्नान कर पूजन कर पूण्य का भागीदार बन सकेंगे साथ ही एक स्वर में मंन्दिरों को बचाने हेतु अपनी आवाज बुलंद करेंगे। रोजाना शाम 7 बजे से 8:30 बजे तक स्वामिश्री: के अलावा विशिष्ट साधु-संत, महात्माओं के प्रवचन भी होंगे जिसका लाभ समस्त काशी वासी उठा सकते हैं। भारत के विभिन्न प्रान्तों से काशी के मंन्दिरों को बचाने हेतु श्रद्धालुगण काशी पहुंच रहे है और अनुमानित की जा रही है कि 7 दिन व्यापी महायज्ञ में लाखों श्रद्धालु पूजन पश्चात आहुति देंगे और प्रवचन में सम्मिलित होंगे।

श्रीविद्या मठ के बटुकों ने योग के माध्यम से दिया मंन्दिरों को बचाने का संदेश।

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल" (काशी) :: 21 जून अंतराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य पर काशी के शंकराचार्य घाट स्थित जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज द्वारा स्थापित श्रीविद्या मठ के बटुकों ने योग के माध्यम से मंन्दिरों एवं देव विग्रहों को बचाने का संदेश दिया। आज अल सुबह 5 बजे से 8 बजे तक योग अभ्यास के साथ साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद: सरस्वती उपस्थित हुए साथ ही साध्वी पूर्णाम्बा, साध्वी शारदाम्बा, अधिवक्ता रमेश उपाध्याय, डॉ विजय शर्मा, राजकुमार शर्मा, यतीन्द्रनाथ चतुर्वेदी, रवि त्रिवेदी, रागिनी पांडेय, विजया तिवारी, सावित्री पांडेय व आदि उपस्थित थे। काशी के प्रसिद्ध योग गुरु राजकुमार वाजपेयी ने उपस्थित बटुकों व अतिथियों को योगाभ्यास करवाया और रोजाना योग करने हेतु प्रेरित किया एवं योग के फायदे भी बताए। कार्यक्रम के अंत मे झंडा वंदन हुआ और उपस्थित सभी ने साथ मिलकर राष्ट्रीय गान गाये और संकल्प लिया कि वे काशी के पुराणों में वर्णित एवं प्राचीन मंन्दिरों एवं देव विग्रहों को बचाकर ही रहेंगे ।

विश्वगुरु बनना है तो हृदय से विश्व को अपनाना होगा :- स्वामिश्रीः अविमुक्तेश्वरानन्दः ।।

सुदीप्तो चटर्जी "खबरीलाल" (काशी) ::- हमारा भारतीय दर्शन हमें यह सिखाता है कि सबमें उस परमात्मा को देखो। जब सबमें उस परमात्मा को देखोगे तो किससे द्वेष करोगे, किससे घृणा करोगे ? सबमें वही दिखेगा। गीता भी कहती है कि वासुदेवः सर्वमिति स महात्मा सुदुर्लभः। जब ऐसा विचार मन में उदित हो जाएगा तो सब एक हो जाएंगे और सारा विरोधी विचार समाप्त हो जाएगा। उक्त कथन स्वामिश्रीः अविमुक्तेश्वरानन्दः सरस्वती महाराज ने योग दिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित शंकराचार्य घाट पर मन्दिर बचाओ योग व एक प्रहरीय सांकेतिक उपवास कार्यक्रम में कहि। स्वामिश्री: ने कहा कि आज व्यक्ति के हृदय में स्थित भगवान् और मन्दिर में स्थापित भगवान् दोनों को ही हम नहीं समझ पा रहे क्योंकि हमने अपने को प्रदेश भाषा रंग आदि के कारण समूहों में बांट लिया है, पर हमें इससे ऊपर उठना होगा। स्वामिश्री: ने कहा कि हम विश्व गुरु बनना चाहते हैं पर विश्व गुरु बनने के लिए हमें विश्व को अपनाना होगा। हमारे यहां जब दीक्षा होती है तो गुरु अपने शिष्य को हृदय से लगाता है और यहाँ तक कहा गया है कि सच्चा गुरु शिष्य नहीं बनाता है , वह तो उसे अपने ही जैसा गुरु बना देता है। आगे उन्होंने कहा कि नास्तिकता बढ़ती ही जा रही है । लोग विकास के नाम पर मन्दिरों और मूर्तियों को भी तोडने से संकोच नहीं कर रहे हैं और ये सब पाकिस्तान या अन्य किसी देश में नही हो रहा है जहाँ विधर्मी रहते हैं अपितु यह भारत जैसे आध्यात्मिक देश में काशी जैसी पवित्र नगरी में हो रहा जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता । स्वामिश्रीः ने सरकार की धर्मनिरपेक्षता पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक ओर तो सरकार स्वयं को धर्मनिरपेक्ष कहती है और दूसरी ओर मन्दिर में व्यवस्था करने के लिए काशी विश्वनाथ जैसे मन्दिर का अधिग्रहण करती है। जब आप धर्मनिरपेक्ष हो तो मन्दिर की व्यवस्था क्यों करते हो ? यदि मन्दिरों की व्यवस्था ही आपको करनी है तो काशी और पूरे देश में ऐसे अनेक मन्दिर हैं जहाँ पर सच में व्यवस्था की आवश्यकता है पर आप वहाँ तो कोई व्यवस्था नहीं करते पर यहाँ विश्वनाथ मन्दिर में आमदनी अधिक है इसलिए यहाँ पर व्यवस्था करने की होड़ लगी है । प्रसिद्ध योग गुरु राजकुमार वाजपेयी ने अपने उद्बोधन में कहा कि मन्दिरों को तोड़ना किसी भी हालत में सहन नहीं किया जा सकता । सनातन धर्म पर हमला वह भी काशी जैसे पवित्र क्षेत्र में हो रहा है इससे बडा अनर्थ और नहीं हो सकता है। यदि कुछ बना ही नही सकते तो बिगाड़ने का भी हक नहीं है। अधिवक्ता पं रमेश उपाध्याय ने योग और मन्दिर को जोड़ते हुए कहा कि जिस प्रकार योग से आत्मा शुद्ध होती है वैसे ही मन्दिर जाकर सनातनी हिन्दू भी स्वयं को शुद्ध और पवित्र होने का अनुभव करता है। काशी विदुषी परिषद् की महामन्त्री श्रीमती सावित्री पाण्डेय ने कहा कि काशी में अनेक सन्त हैं पर अकेले स्वामिश्रीः ही मन्दिर बचाने हेतु आगे आए हैं। ऐसे ही महात्माओं के कारण आज धरती टिकी हुई है। हम सबको इनका अनुकरण करना चाहिए। यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी ने कहा कि जो लोग मन्दिर बनाने के नाम पर ही अस्तित्व में आए , वे आज काशी के पौराणिक मन्दिरों को तुड़वा रहे हैं , यह इस देश की विडम्बना है। इस अवसर पर सुश्री स्वाती ने भगवान् शंकर , काशी व गंगा पर अनेक सुमधुर भजन प्रस्तुत किए। रंजन शर्मा के नेतृत्व में शंकराचार्य घाट पर ध्वजारोहण का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ तथा सभी ने एक स्वर से राष्ट्र गान व राष्ट्र नदी गंगा गान प्रस्तुत किये। इस कार्यक्रम में प्रमुख रूप से साध्वी शारदाम्बा, साध्वी पूर्णाम्बा, राजकुमार शर्मा , रवि त्रिवेदी, श्रीमती रागिनी पाण्डेय, श्रीमती विजय तिवारी, विजय शर्मा, हरिश्चन्द्र शर्मा, राजेश तिवारी , श्री अमित तिवारी, ब्रह्मबाला शर्मा, श्रीमती माधुरी पाण्डेय , शैलेष तिवारी, मयंक शेखर मिश्र, कृष्ण पाराशर व आदि जन उपस्थित रहे। कार्यक्रम का शुभारम्भ वैदिक मंगलाचरण से हुआ। बटुकों ने मिलकर मन्दिर बचाने हेतु योग किया। धन्यवाद ज्ञापन सुरेश जी ने किया।