राज्य

पढ़े पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के द्वारा अपने पुत्र अभिषेक सिंह के बचाव में दिए गए बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया

पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह के द्वारा अपने पुत्र एवं पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के बचाव में दिए गए बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भूल रहे हैं जब सत्ता में थे तब प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ मात्र सीडी लहराने पर एफआईआर दर्ज कराए थे। पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के खिलाफ एफआईआर तो न्यायालय के निर्देश पर हो रहा है और ये एफआईआर फोटो खिंचवाने के कारण नहीं बल्कि अनमोल इंडिया चिटफंड कंपनी को संरक्षण देकर चिटफंड कंपनी को विश्वसनीय बताने और चिटफंड कंपनी के काली करतूतों पर पर्दा डालने के कारण किया गया है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि हिंदुस्तान का वही छत्तीसगढ़ है जहां फर्जी चिटफंड कंपनियों के दफ्तरों का शुभारंभ तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह मुख्यमंत्री की पत्नी मुख्यमंत्री का पुत्र एवं तत्कालीन सरकार के मंत्री एवं भाजपा के बड़े नेताओं के द्वारा किया गया था। पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के खिलाफ चिटफंड कंपनी अनमोल इंडिया में जिन निवेशकों का पैसा डूबा है उनके परिवाद पर माननीय न्यायालय के निर्देश पर एफआईआर दर्ज हुई है। पूर्व रमन सरकार के संरक्षण में 5000 करोड से अधिक का चिटफंड घोटाला हुआ। फर्जी चिटफंड कंपनियों के द्वारा एक करोड़ जनता की गाढ़ी कमाई लूटी गई, चिटफंड घोटाले के कारण 57 जाने गई और आज जब चिटफंड कंपनी में डूबे निवेशकों को न्याय मिल रहा है तब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह बदलापुर का आरोप लगा रहे हैं। चिटफंड कंपनी के गोरखधंधे में पूर्व डॉ रमन सिंह सरकार का संरक्षण व साथ-साफ है पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह उनके सांसद पुत्र अभिषेक सिंह उनकी पत्नी वीणा सिंह भाजपाई मंत्री एवं सांसद व प्रदेश के आला अधिकारी रोजगार मेलों के माध्यम से इन चिटफंड कंपनियों द्वारा आयोजित कार्यक्रम में सीधे तौर में शामिल होते थे। पूर्व रमन सरकार के द्वारा बकायदा इन कार्यक्रमों के निमंत्रण दिए जाते थे और भोली भाली जनता को लगा कि भाजपाई सरकार इन चिटफंड कंपनियों की साझेदार है और जीवन की सारी कमाई इन घोटालों और गड़बड़झाला में लूटा दी।

छात्रसंघ चुनाव में वोटों के लिये छात्रों के साथ छलावा

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव के ठीक पहले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस और शहीद ए आजम भगत सिंह की मूर्तियों के साथ सावरकर की मूर्ति विश्वविद्यालय परिसर में लगाए जाने की कड़ी निंदा करते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री और कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी कहा है कि यह संघपरिवार की इतिहास बदलने की साजिश है। सावरकर को नेताजी सुभाष चंद्र बोस और शहीद ए आजम भगत सिंह के साथ एक ही स्तर पर एक साथ रखा ही नहीं जा सकता है। शहीद ए आजम भगतसिंह ने अंग्रेजों से न कभी माफी मांगी न कभी अंग्रेजों को पीठ दिखाई। शहीद ए आजम भगत सिंह और उनके साथियों की वामपंथी विचारधारा के बारे में सब जानते हैं। नेताजी सुभाष चंद्र बोस पहले कांग्रेस में रहकर और फिर आजाद हिंद फौज का गठन कर अंग्रेजों से लड़ते रहे। नेताजी के समर्थकों ने बाद में रिवॉल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी का गठन किया जो पश्चिम बंगाल में आज भी वाम मोर्चा का हिस्सा है। इन दोनों ही नेताओं ने कभी सांप्रदायिक राजनीति का समर्थन नहीं किया। शहीद ए आजम भगत सिंह के साथ अशफाक उल्ला खान जैसे समर्थक रहे जिन्होंने हंसते-हंसते फांसी का फंदा चूम लिया। आजाद हिंद फौज में नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बाद शाहनवाज हुसैन सबसे बड़े नेता थे। आजाद हिंद फौज में हिंदू मुसलमान सिख इसाई सब मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ लड़े थे। ऐसे महान नेताओं के साथ सावरकर की मूर्ति लगाना ठीक नहीं है। सावरकर ने तो अंडमान निकोबार के काला पानी से छूटने के लिए अंग्रेजों से एक बार नहीं अनेक बार माफी मांगी थी। सावरकर तो नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के खिलाफ अंग्रेजी सेना में भर्ती कराने में संलिप्त थे। सावरकर पर तो महात्मा गांधी की हत्या का मुकदमा भी नाथूराम गोडसे के साथ चला था। शहीद ए आजम भगत सिंह और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ सावरकर की मूर्ति लगाना इन दोनों महान शहीदों का अपमान है।

रेल मंत्री ने सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों की समीक्षा बैठक ली विगत सप्ताह से चल रही अच्छी समयबद्वता पर मंत्री ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को बधाई दी

बिलासपुर, 22 अगस्त, 2019 आज माननीय रेलमंत्री श्री पीयूष गोयल के द्वारा वीडियों कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से सभी रेलवे जोन के महाप्रबंधकों एवं मंडल रेल प्रबंधकों तथा अन्य उच्च अधिकारियों के साथ विभिन्न या़त्री सुविधाओं, समयबद्वता, अधोरचना के निर्माण की गाति को ओर तेज करने संबंधित विभिन्न मुददो पर बैठक ली। इस बैठक में माननीय रेलमंत्री के साथ रेल बोर्ड अध्यक्ष श्री वी.के. यादव सहित रेल मंत्रालय के उच्च अधिकारी भी जुड़े हुए थे।

इस बैठक में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन में परिचालित हो रही गाडियों की समयबद्भता के विषय में विगत सप्ताह से गाडियों की अच्छी समयबद्वता के लिए माननीय रेलमत्री ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे महाप्रबंधक श्री अजय विजयवर्गीय एवं उनकी टीम को बधाई दी। आज आयोजित इस बैठक में महाप्रबंधक ने रेलमंत्री महोदय के समक्ष दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में की जा रही गाडियों की समयबद्वता, खान पान व्यवस्था एवं लदान व आय से संबंधित जानकारी रखी। रेलमंत्री दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सभी रेल मंडलों में चल रहे विभिन्न अधोरचना पर चल रहे निर्माण प्रक्रिया को और अधिक तेज करते हुये जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश दिया। इसी प्रकार संरक्षा के विषय में चर्चा करते हुये संरक्षा संबंधित नियमो का कडाई से पालन करने के भी निर्देश दिए। आज की वीडियों कांफ्रेन्सिंग से आयोजित इस बैठक में रेलवे बोर्ड के अधिकारियो के साथ देश के सभी जोनो के महत्वपूर्ण अधिकारी एवं दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक श्री अजय विजयवर्गीय सहित अपर महाप्रबंधक, समस्त विभागाध्यक्ष तथा सचिव श्री हिमांशु जैन, उप महाप्रबंधक एवं मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रवीश कुमार भी उपस्थित थे।

स्टेशनों के प्लेटफार्म एवं सरकुलेटिंग क्षेत्र में गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ 15 दिनों का विशेष अभियान

रेलवे प्रशासन द्वारा सफाई का कार्य योजनाबद्ध तरीके से कराया जा रहा है। स्वच्छता के सभी उच्च मानकों के अनुसार साफ-सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों में आधुनिक स्वचलित मशीनों द्वारा सफाई की व्यवस्था की गई है। प्लेटफार्म एवं सरकुलेटिंग क्षेत्र की सफाई हेतु उच्चगति की बैट्री संचालित स्क्रबर मशीन, हाई प्रेशर जेट मशीन, रोड स्वीपर मशीन, सिंगल डिस्क स्क्रबर ड्रायवर मशीनों का इस्तेमाल किया जाता है। पटरियों एवं वाशेबल एप्रान की साफ-सफाई हेतु ईको फेंडली बायो डिग्रेडेबल केमिकल्स का प्रयोग किया जाता है। सूखे कचरे एवं गीला कचरे को अलग-अलग डस्टबीनों में एकत्रित किया जाता है। प्लास्टिक कचरे का बेहतर प्रबंधन हेतु बिलासपुर स्टेशन में बाटल क्रशर मशीन का प्रावधान भी किया गया है। यात्रियों को स्वच्छ वातावरण बनाये रखने हेतु विभिन्न प्रचार माध्यमों से जागरूक भी किया जा रहा है।

उपरोक्त प्रयासों के बावजूद भी कुछ यात्रियों द्वारा प्लेटफार्म एवं सरकुलेटिंग क्षेत्र में गंदगी फैलाने की शिकायतें मिलती हैं। इसी के मद्देनजर मंडल के सभी स्टेशनों के प्लेटफार्म एवं सरकुलेटिंग क्षेत्र में गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ वाणिज्य विभाग द्वारा सुरक्षा विभाग के सहयोग से 15 दिनों का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान गंदगी फैलाते पाये जाने वालों के विरूद्ध जुर्माने की कार्रवाई की जा रही है। इस अभियान के दौरान गंदगी फैलाने के 295 मामलों से 22,290 रूपये की जुर्माने की वसूली भी की गई है। रेलवे प्रशासन यात्रियों से आग्रह करता है कि इधर-उधर गंदगी ना फैलायें कृपया कचरे को डस्टबिन में ही डालें तथा स्वच्छ वातावरण बनाने में रेलवे का सहयोग करें।

दो दिन के टिकट चैकिंग अभियान में रेलवे में वसूले 12 लाख रूपये का जुर्माना

बिलासपुर एवं रायपुर मंडलों के सभी खंडों की 54 गाड़ियो में वृहद टिकट चैकिंग अभियान चलाये गये। बिलासपुर 22 अगस्त, 2019 बिलासपुर, रायपुर एवं नागपुर मंडल में संयुक्त रूप से एक सघन टिकट चैकिग अभियान दिनांक 21 से 30 अगस्त, 2019 तक सभी खंडों में चलाया जा रहा है। इस अभियान के प्रथम एवं द्वितीय दिवस में ही पकडे गये बिना टिकट, अनियमित टिकट एवं बिना बुक किये सामानों के मामलों से 12 लाख रूपये से भी अधिक जुर्माना वसूला गया।

इस सघन टिकट चैकिग अभियान के पहले एव द्वितीय दिवस में रायपुर एव बिलासपुर रेल मंडल के मंडल वाणिज्य प्रबंधक, सहायक वाणिज्य प्रबंधक सहित अनेक दोनों रेल मंडल के वाणिज्य विभाग एवं सुरक्षा विभाग के अनेक रेल कर्मचारियों ने इस टिकट चैकिग अभियान में भाग लिया। इन समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियां के द्वारा लगभग 54 गाडियों एवं रेलवे स्टेशनों में अभियान चलाया गया। नागपुर रेल मंडल द्वारा सघन टिकट चैकिंग अभियान 22 अगस्त, 2019 से चलाया जा रहा है। इस टिकट चैकिंग अभियान के दौरान कुल 1245 मामले पकडे गये, जिनमें बिना टिकट के 265 मामले एवं अनियमित टिकट के 355 मामले तथा बिना बुक किये लगेज के 575 मामले पकडे गये तथा 38 मामले समुचित किराये में अंतर के पाये गये। इस टिकट चेकिंग अभियान के दौरान कुछ गाडियां के पेन्ट्रीकार का भी निरीक्षण किया गया तथा कुछ मामले अनधिकृत वेंडर के भी पाये गये। इन सभी मामलों के मिलाकर कुल 12 लाख रूपये जुर्माना के तौर पर वसूले गये।

बिलासपुर : रेलवे में करने जा रहे है सफर तो ये खबर है आपके लिए ...

उतर रेलवे के दिल्ली रेल मंडल के अंतर्गत तुगलाकाबाद-पलवल खण्ड में चौथी नवनिर्मित लाइन के लिए नॉन इंटरलाकिंग के कार्य के फलरूवरूप इस खण्ड पर दिनांक 22 अगस्त, 2019 से 08 सितम्बर, 2019 तक उतर रेलवे की कुछ एक्सप्रेस गाडियों का परिचालन प्रभावित रहेगा।

इसी प्रकार दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से चलने वाली एवं आने वाली कुछ गाडियों का परिचालन भी प्रभावित रहेगा। दिनांक 01 से 04 सितम्बर, 2019 एवं 06 से 07 सितम्बर, 2019 गेवरा रोड से चलने वाली 18237 गेवरारोड-अमृतसर छत्तीसगढ एक्सप्रेस का बल्लभगढ रेलवे स्टेशन में ठहराव नही दिया जा रहा है। रदद होने वाली गाडियां- 01) दिनांक 06 एवं 07 सितम्बर, 2019 को निजामुदीन से चलने वाली 12808 निजामुदीन-विशाखापटनम एक्सप्रेस रदद रहेगी। 02) दिनांक 04 एवं 05 सितम्बर, 2019 को विशाखापटनम से चलने वाली 12807 विशाखापटनम-निजामुदीन एक्सप्रेस रदद रहेगी। 03) दिनांक 05 एवं 07 सितम्बर, 2019 को निजामुदीन से चलने वाली 12410 निजामुदीन-रायगढ गोडवाना एक्सप्रेस रदद रहेगी। 04) दिनांक 07 एवं 09 सितम्बर, 2019 को रायगढ से चलने वाली 12409 रायगढ- निजामुदीन गोडवाना एक्सप्रेस रदद रहेगी। 05) दिनांक 05 सितम्बर, 2019 को जम्मूतवी से चलने वाली 12550 जम्मूतवी-दुर्ग एक्सप्रेस रदद रहेगी। 06) दिनांक 03 सितम्बर, 2019 को दुर्ग से चलने वाली 12549 दुर्ग-जम्मूतवी एक्सप्रेस रदद रहेगी। 07) दिनांक 06 सितम्बर, 2019 को निजामुदीन से चलने वाली 12824 निजामुदीन-दुर्ग सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस रदद रहेगी। 08) दिनांक 05 सितम्बर, 2019 को दुर्ग से चलने वाली 12823 दुर्ग-निजामुदीन सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस रदद रहेगी। 09) दिनांक 06 सितम्बर, 2019 को जम्मूतवी से चलने वाली 18216 जम्मूतवी-दुर्ग एक्सप्रेस रदद रहेगी। 10) दिनांक 04 सितम्बर, 2019 को दुर्ग से चलने वाली 18215 दुर्ग-जम्मूतवी एक्सप्रेस रदद रहेगी। 11) दिनांक 08 एवं 11 सितम्बर, 2019 को अमृतसर से चलने वाली 18508 अमृतसर -विशाखापटनम हिराकुंड एक्सप्रेस रदद रहेगी। 12) दिनांक 05 एवं 06 सितम्बर, 2019 को विशाखापटनम से चलने वाली 18507 विशाखापटनम-अमृतसर हिराकुंड एक्सप्रेस रदद रहेगी। 13) दिनांक 07 सितम्बर, 2019 को दिल्ली सराईरोहिला से चलने वाली 14624 दिल्ली सराईरोहिला-छिदवाडा एक्सप्रेस रदद रहेगी। 14) दिनांक 08 सितम्बर, 2019 को छिदवाडा से चलने वाली 14623 छिदवाडा-दिल्ली सराईरोहिला एक्सप्रेस रदद रहेगी। परिवर्तित मार्ग से चलने वाली गाडियां- 01) दिनांक 01, 03, 04, 05 एवं 06 सितम्बर, 2019 को पूरी से चलने वाली 18477 पूरी-हरिद्वार कलिंग उत्कल एक्सप्रेस वाया आगरा केंट-मिथवाल-खुर्जा-मेरठ सिटी-टपरी होकर चलेगी। 02) दिनांक 06 से 08 सितम्बर, 2019 तक हरिद्वार से चलने वाली 18478 हरिद्वार-पूरी कलिंग उत्कल एक्सप्रेस वाया मेरठ सिटी-खुर्जा- मिथवाल-आगरा केंट होकर चलेगी। 03) दिनांक 05 सितम्बर, 2019 तक बिलासपुर से चलने वाली 18237 बिलासपुर- अमृतसर छत्तीसगढ एक्सप्रेस वाया आगरा केंट-मिथवाल-खुर्जा-मेरठ सिटी-टपरी होकर चलेगी। 04) दिनांक 07 सितम्बर, 2019 को नई दिल्ली से चलने वाली 12442 नई दिल्ली-बिलासपुर राजधानी एक्सप्रेस वाया खुर्जा-मिथवाल-आगरा केंट होकर चलेगी। 05) दिनांक 08 सितम्बर, 2019 को दिल्ली सराईरोहिला से चलने वाली 14624 दिल्ली सराईरोहिला-छिदवाडा एक्सप्रेस वाया पटेल नगर-रेवाडी-अलवर-मथुराजं. होकर चलेगी।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बाबुलाल गौर के निधन पर शोक व्यक्त

छ.ग. यादव समाज के द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने कहा है कि स्वर्गीय गौर आजीवन जन सेवा यादव समाज की सेवा, में लगे रहे. वह हमारे यादव समाज के पुरोधा थे उनके लिए जनहित सर्वोपरि था. उनमें प्रखर नेतृत्व और चाहे राजनिति संगठन हो या समाजिक संगठन हो सभी गुण था. छत्तीसगढ़ यादव समाज ने ईश्वर से प्रार्थना की है कि दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे और गोलोक मे स्थान मिले शोक संतप्त परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति दे.  मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर दुःख प्रकट किया है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक सन्देश में कहा है कि स्वर्गीय बाबूलाल गौर एक लोकप्रिय जनप्रतिनिधि थे, यादव समाज के पुरोधा थे उन्होंने अपना पूरा जीवन जनता की और समाज सेवा में समर्पित कर दिया. प्रदेश अध्यक्ष सुनील यादव प्रवक्ता जितेंद्र यादव उपाध्यक्ष सन्नी यादव प्रदेश सचिव मनोज यादव रूपेश यादव कुमार यादव सतीश यादव दिलीप यादव देवेंद्र यादव शेष नारायण यादव विजय यादव एवं छत्तीसगढ़ यादव समाज ने स्वर्गीय गौर के परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है.

भूपेन्द्र हुड्डा के कांग्रेस के लिए बगावती सुर ...बोले, अभी बंधनों से मुक्त होकर आया हूँ, आरपार की लड़ाई लड़ने को तैयार... धारा 370 के मामले में कांग्रेस भटक गई है रास्ता

हरियाणा:- भूपेंद्र हुड्डा की महा परिवर्तन रैली में आज हुड्डा ने कांग्रेस के प्रति बगावती सुर दिखा दिए। उन्होंने ऐलान कर दिया कि वह सभी बंधनों से मुक्त होकर रैली में आए हैं और जनता की लड़ाई के लिए वह किसी भी फैसले लेन के लिए तैयार हैं। हालांकि नई पार्टी बनाने की घोषणा तो नहीं की, लेकिन एक कमेटी का गठन कर दिया गया। जो कमेटी 10 तारीख तक अपना निर्णय हुड्डा को दे देगी। अब भूपेंद्र सिंह हुड्डा क्या करने जा रहे हैं यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा। हुड्डा ने तो आज हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए अपना मेनिफेस्टो भी जारी कर दिया और लोगों को लुभाने के लिए बहुत सी घोषणा कर डाली। अब देखना यह है कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा बनाई गई कमेटी क्या फैसला लेती है क्या भूपेंद्र सिंह हुड्डा नई पार्टी बनाते हैं या फिर कांग्रेस में ही रहकर अपनी लड़ाई लड़ते रहेंगे।

इस रैली में आज लोग इस उम्मीद से आए थे कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा क्या करने जा रहे हैं। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी कांग्रेस के प्रति अपने बगावती सुर मंच के माध्यम से दिखा ही दिए। काफी दिनों से यह कयास लगाए जा रहे थे कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा इस महा परिवर्तन रैली में कांग्रेस को अलविदा कह कर नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं। लेकिन हुड्डा ने नई पार्टी की घोषणा तो नहीं की। लेकिन कांग्रेस आलाकमान को यह जरूर दिखा दिया कि वह हरियाणा प्रदेश की कुर्सी पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। अपने शक्ति प्रदर्शन में उन्होंने आलाकमान को एक मैसेज भेजा है कि या तो उन्हें हरियाणा प्रदेश की कमान दी जाए या फिर अगले परिणाम के लिए तैयार रहें। इस रैली की सबसे बड़ी खासियत यही रही कि चाहे दीपेंद्र हुड्डा हों या फिर भूपेंद्र हुड्डा किसी ने भी कांग्रेस पार्टी का नाम नही लिया। यही नही राहुल गांधी और सोनिया गांधी का नाम भी मंच से अपने संबोधन के दौरान नहीं लिया गया। कहीं ना कहीं यह इस बात की ओर इशारा था कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कांग्रेस पार्टी से मोह भंग हो चुका है ।

हुड्डा ने अपने सम्बोधन में कहा कि मैं आज सारे बंधनों से मुक्त होकर आज यहां आया हूँ। प्रदेश की भाजपा सरकार ने किसानों के लिए कुछ नही किया है। फसलों के दाम नही मिल रहे, खाद बीज के दाम बढ रहे हैं, बेरोजगारी को बढ़ावा मिला है और कानून व्यवस्था का बुरा हाल है। प्रदेश अपराध के मामले में नम्बर एक पर है, पारदर्शिता के नाम पर केवल लूट हुई है। हमारी सरकार में किसी से नौकरी के नाम पर कोई पैसा नही लिया गया और भाजपा सरकार में नौकरी परचून की दुकान की तरह बेची हैं। उन्होंने कहा कि मैं लोगों की सरकार बनाने के लिए आया हूँ, मैं रिटायर होना चाहता था, लेकिन जनता की लड़ाई लड़ने के लिए अभी रिटायर नही होना चाहता। धारा 370 मामले पर उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर ही सवाल खड़ा कर दिया, बोले कि कांग्रेस भटक गई है। मैंने 370 का समर्थन भले ही किया हो लेकिन प्रदेश की सरकार से हिसाब लेंगे।

हुड्डा ने तो मंच से हरियाणा विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र ही जारी कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनी तो अपराधियों का सफाया होगा, किसानों का कर्जा माफ किया जाएगा, भूमि हीन किसान का भी कर्जा माफ होगा, 2 एकड़ भूमि के किसान को बिजली फ्री मिलेगी, आंगनवाड़ी, आशा वर्कर का भत्ता सरकारी कर्मचारियों के बराबर होगा, रिटायर सरकारी कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाली होगी, सरकारी कर्मचारियों को पंजाब की तर्ज पर वेतन मिलेगा, गरीब महिलाओं के लिए 2000 रुपए महीना प्रोहत्साहन राशि, गरीब को 2 रुपए गेंहू व 2 रुपए किलो चावल मिलेगा, फसल बीमा की क़िस्त सरकार भरेगी, हर परिवार में एक नौकरी दी जाएगी, पोस्ट ग्रेजुएट को 10 हजार, ग्रेजुएट को 5 हजार भत्ता दिया जाएगा, 50 हजार सफाई कर्मचारियों की भर्ती होंगे, बुजुर्गों के लिए 5 हजार रुपए महीना पेंशन दी जाएगी, हरियाणा रोडवेज में महिलाओं को कोई किराया नही लिया जाएगा। साथ उन्होंने एलान कर दिया कि उनकी सरकार बनी तो 4 उप मुख्यमंत्री बनेंगे। जिसमें हर वर्ग को प्रतिनिधित्व दिया जाएगा और वे आरपार की लड़ाई लड़ने के ले तैयार। उन्होंने कहा कि आगामी फैंसलें के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है, जिसमें 13 एमएलए व वरिष्ठ नेता होंगे, जो वो फैंसला करेंगे वही होंगा।

हुड्डा का कांग्रेस पार्टी से मोह भंग .... 18 अगस्त को भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा अलग पार्टी बनाने के दिए संकेत

. रोहतक :- 18 अगस्त को पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा महा परिवर्तन रैली रोहतक में करने जा रहे हैं। जिस तरह की भाषा भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खेमे के नेता बोल रहे हैं, उससे यह तय हो गया है कि हुड्डा का कांग्रेस पार्टी से मोह भंग हो गया है। आज रोहतक के कांग्रेस भवन में हुड्डा खेमे के नेता पूर्व विधायक सन्त कुमार ने एलान कर दिया कि कांग्रेस कार्यलय में शायद यह उनकी आखिरी प्रेस कॉन्फ्रेंस है। रैली में अलग पार्टी बनाने का फैंसला हो सकता है।

पूर्व विधायक सन्त कुमार ने कहा कि भूपेंद्र हुड्डा की 18 अगस्त की रैली हरियाणा की राजनीति की दिशा को बदल देगी। भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिए भूपेंद्र सिंह हुड्डा ही असली विकल्प हैं। इसलिए इस रैली में भूपेंद्र सिंह हुड्डा असाधारण ऐलान करेंगे। उन्होंने कहा के हुड्डा ने जनता की राय लेने के लिए उनकी ड्यूटी लगाई थी। जिसे उन्होंने पूरा किया है और जनता की राय भूपेंद्र हुड्डा को सौंप दी है। अब उस राय के अनुरूप ही रैली के मंच से बड़ा ऐलान होगा। अलग पार्टी बनाने के सवाल परकहा कि कुछ भी संभव है। यहां तक कि हुड्डा खेमे के इन दोनों नेताओं ने तो यह भी ऐलान कर दिया कि शायद कांग्रेस कार्यालय में यह उनकी आखिरी प्रेस कांफ्रेंस है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है, कार्यालय भी तैयार हैं और चुनाव लड़ने वाले नेता भी तैयार है।

गौरतलब है कि काफी लंबे समय से चर्चाएं चल रही हैं कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा नई पार्टी का गठन कर सकते हैं।वक्योंकि कांग्रेस पार्टी में उन्हें ज्यादा तवज्जो नहीं मिल रही है। 13 विधायक उनके साथ हैं और यह सभी विधायक अशोक तंवर को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी से हटा कर भूपेंद्र सिंह हुड्डा को कमान देने की मांग करते रहे। लेकिन आलाकमान ने उनकी इस मांग पर कोई विचार नहीं किया। जिसके चलते ऐसा प्रतीत होता है कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कांग्रेस से मोहभंग हो चुका है। इसलिए उम्मीद यही लगाई जा रही है कि 18 अगस्त को भूपेंद्र सिंह नई पार्टी का ऐलान कर चुनाव मैदान में उतर जायेंगे।

टिटलागढ-संबलपुर सेक्शन में भारी वर्षा के कारण बिलासपुर-टिटलागढ-बिलासपुर पैसेंजर रद्द रहेगी

ईस्ट कोस्ट रेलवे के खुरदा मंडल के टिटलागढ-संबलपुर खंड पर भारी वर्षा एवं रेलवे ट्रैक पर पानी बहने के कारण दिनांक 14 एवं 15 अगस्त 2019 को गाडी संख्या 58214/58213 बिलासपुर-टिटलागढ-बिलासपुर पैसेंजर रद्द रहेगी।

आदिवासी समाज की भाषाओं और बोलियों को संरक्षित किये जाने की जरूरत: सुश्री उइके..... राज्यपाल नई दिल्ली में आयोजित इंटरनेशनल डे ऑफ द वर्ल्ड इंडिजिनस पीपुल्स की रजत जयंती समारोह में हुई शामिल

रायपुर:- आदिवासी समाज के भाषाएं-बोलियां पिछले कई वर्षों में कई कारणों से विलुप्त हो गई और कुछ इसकी कगार में है। इनके लुप्त होने से समाज की अमूल्य ज्ञान, परम्पराएं, संस्कृति भी समाप्त हो जाती है। हम सबकी जिम्मेदारी है कि ऐसी बोलियों-भाषाओं को संरक्षित करें, यह बात छत्तीसगढ़ की राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज नई दिल्ली में आयोजित इंटरनेशनल डे ऑफ द वर्ल्ड इंडिजनस पीपुल्स (विश्व आदिवासी दिवस) की रजत जयंती समारोह में मुख्य अतिथि की आसंदी से कही। उन्होंने आदिवासी समाज की कुछ बोलियों और भाषाओं के संरक्षण पर जोर दिया। सुश्री उइके ने कहा- राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मुझे छत्तीसगढ़ के राज्यपाल की जिम्मेदारी दी है, वह मेरा ही नहीं पूरे जनजातीय समाज का सम्मान है, इनके लिए मैं उन्हें पूरे समाज की तरफ से धन्यवाद देती हूं। राज्यपाल ने कहा कि भाषा सभ्यता और संस्कृति की पोषक होती है। भाषा उस समाज की सभ्यता और संस्कृति का परिचय देती है। इस समय पूरे विश्व में लोक भाषा और लोक बोलियों पर संकट गहराया है। यह स्थिति हमारे देश की जनजातियों की बोलियों और भाषाओं में इसका प्रभाव अधिक है। उन्होंने कहा कि किसी भी भाषा की मौत सिर्फ एक भाषा की ही मृत्यु नहीं होती, बल्कि उसके साथ की ही उस भाषा का ज्ञान-भंडार, इतिहास, संस्कृति समाप्त हो जाती है। खासतौर पर आदिवासी समाज में अनेक संस्कृति और परम्पराओं के साथ जड़ी-बूटियों की और उनके औषधीय उपयोग की जानकारी होती है। भाषा के विलुप्त होने से यह भी गुम हो जाती है। हर भाषा में पर्यावरण से जुड़ा एक ज्ञान जुड़ा होता है। जब एक भाषा चली जाती है तो उसे बोलने वाले पूरे समूह का ज्ञान लुप्त हो जाता है। उन्होंने कहा कि मेरा यह मानना है कि कोई भी व्यक्ति अपने भावनाओं को जितने सही तरीके से अपनी मातृभाषा में व्यक्त कर सकता है, उतने अच्छे ढंग से अन्य भाषाओं में व्यक्त नहीं कर सकता। उन्होंने अपनी बोली भाषा से अपने संतानों को अवगत कराने का और परिवार में उनका उपयोग करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यह भी प्रयास करना चाहिए कि बच्चे की प्राथमिक शिक्षा का माध्यम उसकी मातृभाषा हो। आदिवासियों की भाषाओं-बोलियों सहित अन्य विलुप्त होती भाषाओं को बचाने का यह उपयुक्त माध्यम है। इस कार्यक्रम का आयोजन आज नई दिल्ली में इंडियन सोशल इंस्टीट्यूट एवं इंडिया इंडिजनस पीपुल्स सहित अन्य संस्थाओं द्वारा किया गया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2019 में इंटरनेशनल डे ऑफ द वर्ल्ड इंडिजनस पीपुल्स (विश्व आदिवासी दिवस) का थीम ‘इंडिजनस लैंग्वेजेस’ अर्थात आदिवासियों की भाषाएं-बोली निर्धारित किया गया है। कार्यक्रम में राज्यपाल सुश्री उइके ने रजत जयंती के अवसर पर प्रकाशित स्मारिका विमोचन किया। इस अवसर पर पूर्व विधायक श्री हीरा सिंह मरकाम, देश के विभिन्न भागों से आए विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि और समाज के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

पायलट बनने का जुनून नही बन पाया था तो खुद बना डाली नैनो कार को हेलीकॉप्टर ...फिर पुलिस ने मारी एंट्री फिर क्या हुआ पढ़े पूरी खबर BBN24 पर

बिहार के छपरा गांव का रहने वाला एक शख्स जो पायलट बनना चाहता था लेकिन आर्थिक स्थितियों की वजह से नहीं बन पाया. लेकिन अब शख्स ने टाटा नैनो कार को हेलीकॉप्टर में बदलकर अपना सपना पूरा कर लिया. मिथिलेश प्रसाद नाम के इस शख्स ने रोटर ब्लेड, टेल और रोटर मास्ट लगाकर कार को हेलीकॉप्टर का लुक दे दिया.

सिर्फ बाहर से ही नहीं बल्कि मिथलेश ने कार के इंटीरियर को भी हेलीकॉप्टर का लुक दिया है. इसके अलावा मिथलेश ने कार को हेलीकॉप्टर का लुक देने के लिए अलग तरह से पेंट भी किया है.

मिथलेश अभी तक कार से उड़ने के बारे में सिर्फ सोचते ही थे लेकिन अब उनकी कार-हेलीकॉप्टर सड़क चल भी रही है. मिथलेश की तरह ही कुछ महीनों पहले पाकिस्तान के एक पॉपकॉर्न विक्रेता मोहम्मद फैयाज ने भी एक हेलीकॉप्टर बनाया था. फैयाज भी एयर फोर्स पायलट बनना चाहता था लेकिन पारिवारिक मजबूरियों के चलते वह भी आगे की पढ़ाई नहीं कर सका था.

हालांकि पुलिस के हस्ताक्षेप करने के बाद उस प्लेन को उड़ाया नहीं जा सका और उसे जब्त कर लिया गया. इस प्लेन को बनाने में फैयाज ने अपनी बचत के पैसे, जमीन बेचने के साथ ही 90,000 रुपये का लोन भी लिया था.

युवाओं में परिवर्तन लाएगा लीड इंडिया फाउंडेशन का प्रशिक्षण कार्यक्रम

भारत को वैश्विक नेतृत्व का सपना दिखाने वाले पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ. अब्दुल कलाम ने 2020 तक देश को सक्षम बनाने की बात कही और नारा दिया लीड इंडिया 2020। यूं ही उन्होंने केवल सपना दिखाने की बात नहीं कही थी। यह कहने से पहले हैदराबाद के प्रो. एन.बी. सुदर्शन आचार्य के सहयोग से एक व्यापक योजना तैयार की गई। प्रो. एन.बी. सुदर्शन आचार्य जो हैदराबाद के दर्शनशास्त्र के व्याख्याता रहे हैं, ने डॉ. कलाम की मंशा के अनुरूप भारत को विश्व नेतृत्व के लिए सक्षम बनाने हेतु स्कूल, कॉलेज के विद्यार्थियों सहित युवाओं, शिक्षकों के लिए सुदर्शन व्यापक योजना तैयार कर भारत रत्न डॉ. अब्दुल कलाम के समक्ष रखा। वृत्ति से वैज्ञानिक डॉ. कलाम ने पहले देश भर में 2 लाख विद्यार्थियों पर योजना का परीक्षण किया। तब फिर भारत रत्न महामहिम डॉ. कलाम ने देश को 2020 तक भारत को विश्व का नेतृत्व करने का स्वप्न दिखाया। इस प्रकार भारत के विश्व नेता बनने का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक लीड इंडिया फाउंडेशन का प्रशिक्षण कार्यक्रम अस्तित्व में आया। डॉ. कलाम ने देश को दिए अपने संबोधन में कहा था “लीड इंडिया का यह प्रशिक्षण कार्यक्रम एक मिशन है। इससे मुझे आश्वस्ति मिलती है कि यह कार्यक्रम भारत के युवाओं में परिवर्तन लाएगा। भारत के विकसित देश बनने के लक्ष्य को प्राप्त करने में यह सहायक होगा।’’

प्रो. सुदर्शन आचार्य ने डॉ. कलाम के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए अनुसंधान के जरिए शिक्षा तथा व्यवहार में समानता लाने के ध्येय से व्यापक योजना को नाम दिया गया ‘आप बढ़ो, देश को बढ़ाओ’। पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम के निर्देशन व देखरेख में इस योजना का देश के अन्य भागों सहित आंध्र प्रदेश के कई जिलों में भी परीक्षण किया गया। इस सफल परीक्षण के पश्चात डॉ. कलाम ने आज़ादी की 60वीं वर्षगाठ पर कहा- ‘‘लीड इंडिया 2020 आज़ादी के बाद का दूसरा मिशन है।’’ उन्होंने 2013 में फिर से घोषित किया कि ‘‘यह एक सुपरीक्षित तथा सिद्ध राष्ट्रीय आंदोलन है।’’ इसके बाद आंध्र प्रदेश सरकार तथा जनरल इलेक्ट्रिक, आईबीएम, कैपिटल आईक्यू, हीटरो ड्रग्स, शांता बायोटिक्स आदि के सहयोग से 30 लाख से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

क्या है यह प्रशिक्षण

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत स्कूल तथा कॉलेजों में तीन दिवसीय प्रशिक्षण चलाया जाता है। इसमें लीड इंडिया से प्रशिक्षित प्रशिक्षक, अनुभवी मास्टर ट्रेनर्स के माध्यम से लीड इंडिया क्लब की स्थापना चिह्नित जिलों के स्कूलों में की जाती है।

निरंतरता

प्रशिक्षण उपरांत प्रशिक्षकों तथा मास्टर ट्रेनर्स के सहयोग से निरंतर विभिन्न स्तर पर गतिविधियों का संचालन किया जाता है। इसके लिए प्रशिक्षित छात्र तथा स्कूल के एक शिक्षक अथवा प्रिंसपल के साथ मिल कर अलग अलग समूह तैयार किये जाते हैं। समूह इस प्रकार तैयार किए जाते हैं- अध्ययन तथा वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकास समूह, अनुशासन तथा नागरिकता समूह, साहित्य एवं सांस्कृतिक समूह, स्वच्छता एवं स्वास्थ्य समूह, खेल समूह, सामुदायिक विकास समूह, संरक्षण समूह आदि। इस प्रकार छात्रों के समग्र विकास की दृष्टि से निरंतर कार्यक्रम चलाए जाते हैं। इस प्रकार छात्रों में संप्रेषण क्षमता, अनुशासन, नागरिक बोध, पर्यावरण, विकास को ले कर सम्यक दृष्टिकोण विकसित किया जाता है। इस प्रकार वे आगे चल कर देश व समाज के जिम्मेदार नागरिक के रूप में आगे बढ़ते हैं।

प्रशिक्षण का प्रभाव

आज के विद्यार्थी कल के नागरिक होंगे। उपरोक्त समूहों के माध्यम से छात्रों में शैक्षिक-सामाजिक दृष्टिकोण विकसित होता है। लीड इंडिया से प्रशिक्षित कुछ प्रमुख नामों की बात करें, तो बैंडमिंटन प्लेयर पी.वी. सिंधु, दृष्टिबाधित भोला श्रीकांत जिसे रतन टाटा का संरक्षण-सहयोग प्राप्त हुआ, डॉ. नवीन करुण्या जिन्होंने सबसे कम उम्र में जेएनयू से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की है। इसके अलावा इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रशिक्षित अनेक लोग वर्तमान में शिक्षा, प्रशासनिक सेवा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निबाह रहे हैं।

मान्यता

हाल ही में विस्तृत मूल्यांकन एवं परीक्षण के पश्चात भारत सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा मान्यता प्रदान की है। इससे ‘आप बढ़ो, देश को बढ़ाओ’ कार्यक्रम को देश भर में विस्तार दिया जा सकेगा।

रायपुर में कार्यक्रम

पत्रकार एवं समाजसेवी आदेश ठाकुर की पहल पर मई 2018 में रायपुर में एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। लीड इंडिया के राष्ट्रीय समन्वयक सुब्रत बैनर्जी तथा उपाध्यक्ष, अनुसूचित जनजाति आयोग के संयोजन में आदिवासी छात्रों के लिए चार दिन का प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया गया। इस प्रशिक्षण में रायपुर, महासमुंद, राजनांदगांव, बालोद, धमतरी, आरंग के 70 से अधिक स्कूली छात्रों ने भाग लिया था। प्रशिक्षण कार्यक्रम का संपादन हैदराबाद, अहमदाबाद के रिसोर्स पर्सन तथा गुजरात, बिहार, ओडिशा के मास्टर ट्रेनर्स ने किया था। कार्यक्रम की सफलता का अनुमान इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि प्रशिक्षण के समापन पर छात्रों से पूछा गया कि क्या वे कार्यक्रम की अवधि और बढ़वाना चाहते हैं, तब समवेत स्वर में उत्तर मिला- हां। यह भी कि प्रशिक्षण के आरंभ में जो बात करने से भी डर रहे छात्रों ने समापन पर अपने विचारों को अंग्रेजी-हिंदी भाषा में बेझिझक प्रस्तुत किया।

छत्तीसगढ़ में लीड इंडिया प्रशिक्षण आवश्यक

छात्रों में कौशल विकास तथा भविष्य के सुदृढ़, सद्चरित्र एवं जिम्मेदार नागरिक तैयार करने के लिए छत्तीसगढ़ में भी प्रदेश स्तर पर इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का क्रियान्वयन अपेक्षित है। छत्तीसगढ़ के एनजीओ, शासकीय एजेंसी तथा अन्य संस्थाओं के माध्यम से प्रदेश में लीड इंडिया के प्रशिक्षण का आयोजन किया जाना प्रदेश-देश को वैश्विक परिदृश्य के अनुरूुप तैयार करने के लिए तथा भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए अत्यंत आवश्यक प्रतीत होता है। विशेषकर छत्तीसगढ़ के उन क्षेत्रों पर तो यह नितांत आवश्यक है, जहां अत्यधिक शैक्षिक पिछड़ापन है और बच्चों का आईक्यू स्तर कमतर है।

जितेन्द्र गोलछा, रायपुर

लोगों ने कहा 70 साल का आज कलंक धुला

रोहतक- संसद में जम्मू कश्मीर से धारा 370 के समापन की घोषणा के साथ पूरे देश में खुशी का माहौल है वहीं हरियाणा के कैथल में बड़ी संख्या में लोग ढोल बाजे के साथ पटाखे फोड़ने लगे , भारत माता की जय बोलने लगे और तिरंगा फहराने लगे। अब कश्मीर भारत का हो गया है

रोहतक में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के दिखे बागी सुर,दिए बड़े संकेत,कहा लोगो के लिए हर तरह की कुर्बानी देने के लिए तैयार

रोहतक में हुड्डा के कार्यकर्ता सम्मेलन में कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के अलग ही तेवर नजर आए उन्होंने बड़े संकेत देते हुए कहा कि वह बड़ी कुर्बानी देने के लिए तैयार पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा ने तो कांग्रेस के आलाकमान पर ही सवाल खड़े कर दिए,उन्होंने कहा लोकसभा चुनाव में अगर बागडोर भूपेंद्र हुड्डा के हाथ में होती तो इसके परिणाम अलग ही होते हुडा की कार्यकर्ता सम्मेलन में गुटबाजी साफ नजर आई सम्मेलन में केवल हुड्डा गुट के ही नेता नजर आए जबकि अशोक तवर किरण चौधरी रणदीप सुरजेवाला तमाम बड़े नेता सम्मेलन से नदारद रहे।गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा द्वारा अलग पार्टी की चर्चा जोरों पर है।

कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली के आज कार्यकर्ता सम्मेलन कर रहे थे,लेकिन हैरानी की बात तो यह है कि हुड्डा गुट के ज्यादातर नेताओ ने राहुल,सोनिया का नाम नाम तक नही लिया,यही नही अपने भाषण में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बागी सुर भी नजर आए,उन्होंने कहा कि जब जब परिवर्तन हुआ है टकराव की स्थिति भी आई उन्होंने कहा अगर कार्यकर्ता चाहे तो हर तरह की कुर्बानी देने के लिए तैयार गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुडा की अलग पार्टी बनाने की चर्चाएं जोरों पर है और 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली में हुडा अलग पार्टी की घोषणा कर सकते हैं।

वही दूसरी ओर पूर्व सपीकर कुलदीप शर्मा ने रुओ कॉंग्रेस के आला कमान पर ही सवाल उठाते हुए कहा कि अगर प्रदेश की बागडोर हुड्डा जे हाथों में होती तो लोकसभा चुनाव में बुरी हार निहि होती।हुड्डा की जनसभा में गुटबाजी भी साफ नजर आई,कार्यकर्ता सम्मेलन में हुड्डा समर्थित नेताओ के इलावा बाकी नेता नदारद रहे,अशोक तंवर,किरण चौधरी,कुलदीप विश्नोई ओर रणदीप सुरजेवाला समेत बड़े नेता नही आए,