राज्य

स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत के तहत दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में दिनांक 16 से 30 सितम्बर, 2019 तक स्वच्छता-पखवाड़ा का आयोजन

बिलासपुर – 15 सितंबर, 2019

भारतीय रेलवे द्वारा “स्वच्छ-रेल स्वच्छ-भारत” के तहत स्वच्छता ही सेवा-पखवाडा का दिनांक 16 सितम्बर से 30 सितम्बर, 2019 तक आयोजन किया जा रहा है । इस स्वच्छता -पखवाडा दौरान दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में प्रत्येक दिवसों के थीम के अनुसार विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा । स्वच्छता-पखवाडा के दौरान इस आयोजन के सफलतापूर्वक निष्पादन के लिए जोनल एवं मंडल स्तर पर तथा विभिन्न वर्कशॉप में नोडल अधिकारियों को नामित किया गया है, जो अपने क्षेत्र में स्वच्छता को सुनिश्चित करते हुए जोनल एवं मंडल मुख्यालय को अपना रिपोर्ट प्रति दिन प्रस्तुत करेंगे ताकि समग्र जोन की रिपोर्ट मुख्यालय से बोर्ड को भेजी जा सके | इसके साथ ही साथ विभिन्न स्तरों पर तीनों रेल मंडलो के सभी खंडो पर अनेक कार्यक्रमों के साथ सेमिनार आदि भी आयोजित कर जागरूकता फैलाई जायेगी । रेलवे स्टेशनों पर पीए सिस्टम उदघोषणा सीसीटीवी पर विज्ञापन के माध्यम से भी यात्रियो से स्वच्छता अपनाने एवं उनसे भी जागरूकता फैलाने का अनुरोध किया जा रहा है । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे परिक्षेत्र में अवस्थित स्कूलो के बच्चों के लिये, वाल पेन्टिंग, निवंध, वाक्, प्रतियोगिता जैसे अलग अलग प्रकार से जागरूकता के लिए जागरूकता पोस्टर लगाकर और नारे से एवं नुक्कड़ नाटक आदि से भी जागरूकता के कार्यक्रम आयोजित की जायेगी |

दिनांक 16 सितम्बर से 30 सितम्बर, 2019 तक चलने वाले इस स्वच्छ-रेल स्वच्छ-भारत पखवाडा में मुख्यालय के साथ-साथ तीनों रेल मंडलों में भी इसे वृहद् रूप से मनाये जाने की रूपरेखा बना ली गयी है | तीनों रेल मंडलों में स्वच्छ-रेल स्वच्छ-भारत पखवाडा के दौरान स्वच्छता की शपथ एवं पूरे 15 दिनों तक रेलवे के कार्यालय, रेलवे स्टेशन, प्लेटफार्म, ट्रैक, कालोनी, रेलवे तरीकों के दोनो ओर की सफाई आदि सुनिश्चित की जायेगी एवं आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने एवं इसे आदत में शामिल करने सम्बंधित जानकारी एवं जागरूकता फैलाई जायेगी | दिनांक 16 सितम्बर से 30 सितम्बर, 2019 तक चलने वाले इस स्वच्छ-रेल स्वच्छ-भारत पखवाडा में पूरे 15 दिनों तक आयोजित कार्यक्रम को प्रतिदिन एक अलग-अलग थीम दी गयी है | पहले से पन्द्रहवें दिवस तक इस पखवाड़े में थीम रहेगी जो क्रमशः –

• स्वच्छता जागरूकता – इस थीम के अंतर्गत जोन, मंडल मुख्यालय एवं कारखनों में स्वच्छता से सम्बंधित शपथ ली जायेगी | विभिन्न जगहों पर प्रभात फेर, रेलवे के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के द्वारा एवं NGOके माध्यम से श्रमदान, नुक्कडनाटक, आदि के साथ वृक्षारोपण के कार्यक्रम भी आयोजित की गयी है |

• स्वच्छ संवाद – इस थीम के अंतर्गत एक से दुसरे तक संवाद के माध्यम से स्वच्छता अभियान को आगे बढाई जायेगी | स्टेशन पर उद्घोषणा कर, नाटक के माध्यम से एवं कालोनियों में घर-घर जाकर कालोनी वासियों, स्टेशन पर यात्रियों, कार्यालयों पर कार्मचारियों के मध्य सेमीनार, भाषण CCTV से एवं स्काउट एवं गाईड के सदस्यों के द्वारा जागरूकता फैलाई जायेगी |

• स्वच्छ स्टेशन – इस थीम के अंतर्गत स्टेशन पर विशेष अभियान चलाया जाएगा | इस दौरान यात्रियों से भी स्वच्छता के लिए अपील की जायेगी, अतिरिक्त डस्टबीन रखे जायेंगे, इस प्रकार समस्त रेलवे स्टेशनों पर विशेषकर A एवं A1 स्टेशनों पर उद्घोषणा, विज्ञापन, फिल्मों एवं पोस्टर, नाटक के माध्यम से स्टेशन पर उपस्थित कार्यालयों पर कार्मचारियों के द्वारा जागरूकता फैलाई जायेगी | ट्रेनों पर भी सफाई के लिए जागरूकता फैलाई जायेगी | जनता से सफाई के बारे में राय ली जायेगी व उनके शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए स्वच्छता को सुनिध्चित की जायेगी |

• स्वच्छ रेलगाड़ी – स्वच्छ रेलगाड़ी थीम के अंतर्गत गाड़ियों के भीतर एवं वाशिंग लाइन पर की सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा | इस दौरान बिलासपुर ज़ोन से शुरू होने वाली एवं यहाँ से होकर गुज़रने वाली गाड़ियों में नामित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के द्वारा नियमित रूप से निरिक्षण एवं सधन जांच की जायेगी, स्वच्छता से सम्बंधित शिकायतों पर विशेष नज़र राखी जायेगी | गाड़ियों के इन्साईड एवं आऊटसाईडकी सफाए पर एवं खान पान के सामानों के स्वाच्चता एवं पेंट्रीकार की स्वच्छता पर निगरानी रहेगी |

• स्वच्छ परिसर – इस थीम के अंतर्गत स्टेशन परिसर, रिटायरिंग रूम, डोरमेट्री , प्रतीक्षालय, रानिन्गरूम, कार्यालय परिसर, हास्पिटल, स्वस्थ्केंद्र, डिपो, ट्रेनिंग स्कूल एवं कालोनियों पर विशेष अभियान चलाया जाएगा कही भी कचरा डंप करने के जगहों को साफ़ किया जाएगा जिसे कर्मचारियों द्वारा एवं श्रमदान के द्वारा भी किया जाएगा एवं साथ ही साथ पौधारोपण के भी कार्य किये जायेंगे |

• स्वच्छ आहार – इस थीम के अंतर्गत स्टेशन पर स्टेशनों पर लगे खान-पान के सामानों की नापतौल के साथ उनकी गुणवत्ता के विषय में जांच की जायेगी, स्टेशनों पर खाने के सामन बनाने के जगह, रसोई, केन्टीन, कचरा फेकने के स्थान पर सफाई रखी जायेगी, साथ ही रनिंग रूम के किचन, प्रशिक्षण केन्द्रों के किचन आदि की भी जांच करते हुए सफाई को सुनिश्चित की जायेगी | इस दौरान सफाई कर्मचारियों, रसोई में काम करने वाले कर्मचारियों के स्वास्थ्य जाँच करते हुए सफाई का विशेष अभियान चलाया चलाया जाएगा साथ ही साफ़-सफाई के तरीको एवं सामानों की भी निगरानी की जायेगी |

• स्वच्छ नीर – स्वच्छ नीर थीम के अंतर्गत दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अंतर्गत आने वाले सभी जल आपूर्ती के स्रोत स्तानो पर साफ़-सफाई सुनिश्चित के लिए विशेष अभियान चलाया | इसके साथ ही समस्त वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पर, जल संग्रहण स्थानों पर, प्री एवं पोस्ट वाटर फ़िल्टर प्लांट,पर पानी की गुणवत्ता के विषय में मानक के अनुसार क्वालिटी सुनिश्चित की जायेगी | पानी के पाईप, पानी के निकासी, संग्रहन, फिल्ट्रेशन , आदि सभी जगहों पर सफाई के साथ पानी के सेम्पल के आधार पर गुणवता पर भी कड़ी निगरानी रखी जायेगी |

• स्वच्छ प्रसाधन – इस थीम के अंतर्गत स्टेशनों, कार्यालयों आदि के समस्त प्रसाधन कक्षों की गहन सफाई को सुनिश्चित की जायेगी | इसमें ट्रेनों के टॉयलेट, पानी के उपलब्धता, पाईप लिकिंग, पानी के निकासीकरण, आदि के बारे में विशेष ध्यान दिया जाएगा | इससे सम्बंधित बातों को भी नुक्कड़ नाटक ले माध्यम से एबं विभिन्न मीडिया के माध्यम से जनता एवं यात्रियों के मध्य भी जागरूकता फैलाई जायेगी |

• स्वच्छ प्रतिस्पर्धा – इस थीम का उद्देश्य है कि अच्छे स्वास्थ के लिए सफाई की महत्ता को बताना है | सफाई को अपने आदत में शामिल करने के लिए हर संभव प्रयास करते रहना है | इस दौरान सफाई से सम्बंधित अच्छे कार्य पर उन्हें सम्मानित किया जाएगा |

दिनांक 16 सितम्बर से 30 सितम्बर, 2019 तक चलने वाले स्वच्छ-रेल स्वच्छ-भारत पखवाडा में थीम के आधार पर फोकस होते हुए स्वच्छता से सम्बंधित कार्य संपादित किये जायेंगे | एवं अंतिम दिन दिनांक 30 सितम्बर को स्वच्छता पखवाड़ा के दौरान के अनुभवों की समीक्षा करते हुए आगे की रणनीति तैयार कर काम किया जाएगा |

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर मंडल में राजभाषा पखवाड़ा उद्घाटित

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर मंडल में दिनांक 13 सितंबर से 27 सितंबर 2019 तक राजभाषा पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इस दौरान अधिकारियों के लिये प्रश्नमंच, हिंदी प्रशासनिक शब्दज्ञान प्रतियोगिता, कर्मचारियों के लिये हिंदी टिप्पण आलेखन, हिंदी वाक, हिंदी निबंध एवं हिंदी प्रशासनिक शब्दावली ज्ञान प्रतियोगिता के अलावा कर्मचारियों और अधिकारियों के लिये राजभाषा कार्यशालाएं, तकनीकी संगोष्ठी एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। इसी क्रम में 13 सितंबर 2019 को हिन्दी दिवस की पूर्व संध्या में मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में मंडल रेल प्रबंधक श्री आर.राजगोपाल ने विद्या की देवी मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर और दीप प्रज्जवलित कर हिंदी पखवाड़ा का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मंडल राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक आयोजित की गई, जिसमें अप्रैल-जून 2019 तिमाही के दौरान मंडल में हुई राजभाषा प्रगति की समीक्षा की गई। बैठक पश्चात अधिकारियों के लिये बहुत ही रोचक ढंग से हिंदी प्रशासनिक शब्दावली ज्ञान प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसमें श्री साकेत रंजन, मंडल परिचालन प्रबंधक(सीआईसी) श्री पीयूष मिश्रा, सहायक मंडल व्द्यिुत इंजीनियर (कर्षण), श्री विकास सोनी, वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर, क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार के हकदार बने एवं श्री रामकुमार सिंह, वरिष्ठ मंडल इंजीनियर (समन्वय) एवं श्री ऋषि कुमार शुक्ला प्रेरणा पुरस्कार के हकदार रहे। पखवाड़ा के दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेताओं को दिनांक 27 सितंबर 2019 को आयोजित कार्यक्रम में मंडल रेल प्रबंधक के करकमलों से पुरस्कृत किया जाएगा। इस अवसर पर बिलासपुर मंडल के रेल अधिकारी सहित कर्मचारीगण उपस्थित थे। श्री आर. राजगोपाल, मंडल रेल प्रबंधक ने राजभाषा पखवाड़ा के आयोजन के लिये राजभाषा विभाग को बधाई दी और सरकारी कामकाज में राजभाषा प्रयोग बढाने का आव्हान किया । उन्होंने कहा कि सरकारी कामकाज में सरल हिंदी का प्रयोग करें और अंग्रेजी के प्रचलित शब्दों को देवनागरी लिपि में भी लिखकर प्रयोग में लाया जाए । उन्होंने काॅलोनी और स्टेशन में प्रदर्शित बोर्डों में हिंदी प्रयोग सुनिश्चित करने का निदेश दिया । कार्यक्रम का संचालन एवं आभार प्रदर्शन श्री प्रमोद सोनी, राजभाषा अधिकारी ने किया ।

मंडल के 13 स्टेशनों में ट्रेन एट अ ग्लांस डिस्प्ले बोर्ड की सुविधा

( अजीत मिश्रा ) रेलवे प्रशासन द्वारा बिलासपुर सहित मंडल के प्रमुख स्टेशनों में यात्री सुविधा का क्रमिक विकास किया जा रहा है। रेलवे प्रशासन द्वारा यात्रियों को यात्रा के दौरान स्टेशन में प्रवेश करते ही गाडियों से संबंधित सारी जानकारियां डिस्प्ले बोर्ड के माध्यम से उपलब्ध कराई गई है। मंडल के छोटे-छोटे स्टेशनों में भी डिस्प्ले बोर्ड की सुविधा का विस्तार किया जा रहा है। इसी कड़ी में यात्रियों की यात्रा को सरल, सुगम एवं मंगलमय बनाने की दिशा में मंडल के 13 स्टेशनों सक्ती, बाराद्वार, खरसिया, गेवरारोड, करगीरोड, कोतमा, बिजुरी, बुढार, अमलाई, नौरोजाबाद, बीरसिंगपुर, मनेन्द्रगढ एवं चिरमिरी में ट्रेनों से संबधित संपूर्ण जानकारियां देने वाली ट्रेन एट अ ग्लांस डिस्प्ले बोर्ड की सुविधा उपलब्ध कराई कराई गई है। ट्रेन एट अ ग्लांस डिस्प्ले बोर्ड के माध्यम से गाडियों का नाम, गाडियों का नम्बर, गाडियों के आगमन एवं प्रस्थान का समय, इंजन से लेकर गाडियों में लगे सभी कोचों के प्रकार एवं कोच के खडे़ होने के स्थान का संकेत के साथ ही साथ स्वचालित उद्घोषणा प्रणाली की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है। रेलवे प्रशासन को आशा है कि इस सुविधा से वहां के यात्रियों को एक ही जगह गाडियों से सबंधित सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्राप्त हो रही है जिससे उनका सफर सरल एवं आसान बन गई है।

8 लाख के नक्सल दम्पत्ति ने किया पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण

सुकमा:- सीमावर्ती तेलंगाना के कोत्तागुड़म के एसपी सुनील दत्त के समक्ष सोढ़ी नरसिम्हा राव उर्फ मनोज और उसकी पत्नी पोडियम सन्नी ने किया समर्पण । दोनों पर 4- 4 लाख का इनाम घोषित है । दोनों एरिया कमेटी के सदस्य हैं । नरसिंहा राव 2007 में नक्सल संगठन में हुआ था शामिल और 2009 में उसे तेलंगाना स्टेट के नक्सल संगठन के सेक्रेटरी हरिभूषण का गॉर्ड नियुक्त किया गया । बाद में इसे चेरला मंडल में महत्वपूर्ण पद पर नियुक्त किया गया था । 2013 में सुकमा जिले के पूवर्ती और बीजापुर के लँकापल्ली सीआरपीएफ केम्प हमले में इसकी सक्रिय भूमिका रही । इसकी पत्नी पोडियम सन्नी छग , महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश में सक्रिय थी । हिंसा , मारकाट से आजिज आकर और एसपी भद्रादि कोत्तागुड़म की नीतियों से प्रभावित इस दम्पत्ति ने समाज की मुख्य धारा से जुड़कर शांतिपूर्ण जीवन की ख्वाहिश से किया समर्पण ।

सूचना का अधिकार से नही मिल रही जानकारियां, अधिकारी कर रहें नियमों को तार तार

मरवाही : सुबीर चौधुरी : सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के अनुसार ऐसी जानकारी जिसे संसदीय विधान मंडल को देने से इनकार नहीं किया जा सकता हूं, उसे किसी आम व्यक्ति को देने से भी मना नहीं किया जा सकता। शायद यह बात अब कागजों तक ही सीमित रह गया है। सूचना का अधिकार यानी सरल शब्दों में हक की लड़ाई आम लोगों के लिए भ्रष्टाचार के विरोध में एक हथियार का काम करती है,वहीं योजनाओं में बरती गई अनियमितताओं को दबाने छिपाने में पूरा एक वर्ग लगा रहता है। ऐसे ही कुछ एक मामले हैं,जिन्हें संज्ञान में लेने का वक्त भी संबंधित अधिकारियों के पास नहीं होता,य यह कह सकते हैं, कि जानकारी जानबूझकर नहीं दी जाती। ऐसा ही एक मामला मरवाही के चंगेरी निवासी नारायण प्रसाद कैवर्त का ह। जिनके द्वारा 30 जनवरी 2019 को सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग बिलासपुर जन सूचना अधिकारी के समक्ष आरटीआई के तहत आवेदन प्रस्तुत किया गया। जिसमें आदिवासी कन्या छात्रावास बंशी ताल विकासखंड मरवाही के संबंध में विभिन्न जानकारियां मांगी गई।आवेदक के अनुसार प्रथम समयावधि समाप्त होने तक कोई जानकारी नहीं दी गई, जिस पर आवेदक ने प्रथम अपीलीय अधिकारी आयुक्त आदिम जाति तथा अनु जाति रायपुर के समक्ष प्रथम अपील 8 मार्च 2019 को पेश किया। जिसके संदर्भ में निश्चित समय अवधि तक पुनः कोई जानकारी नहीं मिली जिस पर सुनवाई करने पुणे आयुक्त रायपुर को एक आवेदन 25 जुलाई 2019 को भेजा गया आज पर्यंत सूचना की जानकारी नहीं मिल पाने से आहत नारायण प्रसाद ने कहा कि मैं बारंबार इस संबंध में प्रयास करता रहता हूं पर निराशा के अलावा कुछ हाथ नहीं लगा लगा, वहीं सूचना का अधिकार मजाक का पर्याय बनकर रह गया है अधिकारियों को इस बात का बिल्कुल भी खौफ नहीं रह गया कि इससे उन पर कार्यवाही हो सकती है उन्हें इस बात का भय ज्यादा है की जानकारी देने के बाद बड़े भ्रष्टाचार का खुलासा प्रारंभ हो जाएगा जिसे विभाग एक साथ मिलकर दबाने की कोशिश करता है ऐसे में सूचना का अधिकार नियम को ही बंद कर देना चाहिए जिसे दे पाने में प्रशासन सक्षम नहीं, व जानकारी पाने के लिए आम लोगों को दर-दर भटकना पड़े।

जम्मू कश्मीर में बम ब्लास्ट से आहत छत्तीसगढ़ के वनवासी ग्राम कोसा बाड़ी के संदीप ध्रुव पिता संतोष ध्रुव का सहयोग करने इस नम्बर से करे समपर्क

मुंगेली (लोरमी)-अचानकमार टाइगर रिजर्व से लगा हुआ वनग्राम कोसा बाड़ी का परिवार रोजी रोटी की तलाश में कश्मीर कमाने खाने के लिए गए हुए थे . इस स्थिति में अपने बच्चे को भी साथ लेकर के सेब के बगीचे में काम में लगे हुए थे. इस बीच 16 वर्षीय संदीप ध्रुव रास्ते पर घूमते हुए जा रहा था तभी एक सुनहरा गेंद जैसा चीज दिखा ,वह बच्चा जिसे गेंद समझ रहा था वो बम निकला, छुते ही बम फट गया जिससे संदीप गंभीर रूप से घायल हो गया। संदीप की आँखें इस दुघँटना के कारण दिखना बंद हो गया ,वहअब दुनिया नहीं देख सकता लेकिन उसके जीवन में वह दर्दनाक घटना अब भी ताजा है बनी हुई है संदीप ने बताया घटनास्थल से 1 किलोमीटर की दूरी पर ही भारतीय सेना का कैंप था यानी हैंड ग्रेनेड सेना के जवानों को निशाना बनाने के लिए फेंका गया था लेकिन वह इसका शिकार हो गया इसी रास्ते से आर्मी भी सर्चिंग के लिए निकलती है. साथ ही साथ आपके अलावा उनके पैरों में गंभीर चोटें और हाथ भी झुलस गया है साथ ही साथ पेट और जांघों में भी कील चुभा हुआ हैं. सेना के जवानों ने यथासंभव उनका मदद किया और तत्पश्चात उनके पिताजी उन्हें ले करके छत्तीसगढ़ ले आए और घर में ही आरती की स्थिति तंगहाली होने की वजह से रखे हुए थे जिससे बीमारी और जो हताहत हुए शरीर है धीरे धीरे समस्या ग्रस्त बनते जा रहा था इसी स्थिति में आज हमने डॉक्टर से संपर्क करके उन्हें 102वाहन के माध्यम से इलाज करने हेतू सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोरमी भेजे हैं . इनकी स्थिति इतनी गंभीर है कि अभी तक इनको ना राशन कार्ड आधार कार्ड और ना ही स्मार्ट कार्ड बना है और ना ही इनका बैंक खाता नंबर है ना ही फोन नंबर। आथिँक तंगी की वजह से इलाज कराने हेतु उचित स्थान नहीं जा पा रहे थे और डरे और सहमे हुए थे। आज हमारी संस्था के संवेदनशील सदस्य उन श्रीवासुदेव सिंह राजपूत जी और संजय राजपुत जी ने आगे इलाज करवाने हेतु प्रेरित किए तो परिवार को हौसला मिला और उन्होंने आगे इलाज करवाने के लिये राजी हुये। आप सभी से विनम्र निवेदन है भगवान स्वरूप बच्चे के सहयोग के लिये आगे आयें जिससे बच्चे का समुचित इलाज हो सके ,अगर आप लोरमी के आसपास हैं तो प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र लोरमी में मरीज से मिल सकते है ,अगर कोई भी जानकारी लेना चाहें या सहयोग करना चाहें तो हमारे नंबर पर संम्पर्क करे निवेदक-प्रयास अ स्माल स्टेप परिवार ल़ोरमी मुंगेली मोबाइल नंबर-9300711483

प्रदेश स्तरिय युवा सम्मेलन प्रदेश कार्यालय में हुआ सम्पन्न

रायपुर, एक सितम्बर 2019/प्रदेश मरार पटेल युवा प्रकोष्ठ का प्रदेश स्तरिय युवाओं का सम्मेलन आज प्रदेश कार्यालय महामाई पारा स्थिति पटेल विद्या मंदिर में आयोजित की गई। जिसमें मुख्यरूप से राजेन्द्र नायक पटेल जी, संरक्षक श्री टी. आर. पटेल, प्रदेश महामंत्री श्री रामेश्वर पटेल और सलाहकार श्री एन. के. पटेल, गरियाबंद जिला के संरक्षक श्री रोशन पटेल कार्यालय प्रभारी श्री खेलसिंह नायक, युवा प्रकोष्ठ कार्यकारी अध्यक्ष श्री सोमनाथ पटेल और युवा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष श्री दुलेश्वर पटेल बैठक में उपस्थित थे। मरार समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्री राजेन्द्र नायक पटेल ने शाकम्बरी माता की छाया चित्र पे पुष्प माला चढ़ा कर सम्मेलन की सुरुवात की। इस अवसर पर बड़ी संख्या में प्रदेश के प्रभारी के साथ बड़ी संख्या में युवाओ ने शिरकत किया। उपस्थित युवाओं को प्रदेश अध्यक्ष श्री राजेन्द्र नायक ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि युवाओ की जोश देख के लगता है कि आने वाला समय मे समाज की बागडोर निःसंदेह युवाओं के हाथों में होगा। हमारे समाज को जिस प्रकार से कार्यकारी अध्यक्ष श्री सोमनाथ पटेल ने प्रदेश स्तर से जिला स्तर पर जो कार्य युवाओं को संगठित करने के लिए बीड़ा उठाया है ओ काबिले तारीफ है। श्री पटेल ने आगे कहा कि हमारे समाज के युवाओं का जो जोश जुनका की मिसाल देख कर उन्होंने कांकेर की कुमारी साधना पटेल की तारीफ करते हुए कहा कि बैठक में आपकी उपस्थित से नारी सक्ती के लिए एक संदेश है। जो समाज की सेवा में तत्पर है। युवा प्रकोष्ठ के कार्यकारी अध्यक्ष श्री सोमनाथ पटेल ने मंच का संचालन करते हुए उपस्थित युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमने पूरे राज्य में ग्रामीण अंचल से शहर अंचल के युवाओं को सामाजिक गतिविधियों से जोड़ने के लिए कार्य तीव्रगति से किया जा रहा है। प्रदेश में युवाओं को शिक्षा के क्षेत्र में कैरियर मार्गदर्शन करने के लिए प्रेरित किया और आने वाले दिनों में युवाओ को संगठित करते हुए एक कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा जिसमे निचले ग्रामीण स्तर से लेकर प्रदेश के युवाओं को शामिल कर समाज के प्रख्यात ख्याति प्राप्त समाज सेवकों को कार्यशाला में आमंत्रित किया जाएगा। श्री पटेल ने कहा कि समाज के लिए गौरव की बात है कि युवा प्रकोष्ठ को स्वेछा से समाज के आगंतुकों ने सहयोग राशि प्रदान किया। इनमें अधिवक्ता श्री एन के पटेल, श्री त्रिपुरारी पटेल, श्री टी. आर. पटेल, श्री बसंत पटेल के साथ अन्य सामाजिक बंधुओं ने भी सहयोग राशि प्रदान किया। सम्मेलन को युवा प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष ने संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश मे सभी जिला में युवाओ को संगठित करने का कार्य किया जा रहा आने वाले समय मे इस कार्य को तेजी से किया जाएगा। श्री पटेल ने बताया कि छत्तीसगढ़ के समस्त जिला में युवा टीम का गठन करना, युवा प्रकोष्ठ का बैंक खाता खुलवाना, जिला तहसील, जनगणना, विविध कार्यक्रमों के लिए सहयोग राशि एकत्रित करने के संबंध में विस्तार से चर्चा की गई। इस अवसर पर युवा प्रकोष्ठ उपाध्यक्ष श्री रितेश पटेल, आईटी प्रमुख श्री कुमार पटेल, प्रदेश महामंत्री श्री हरीश पटेल, श्री संकर दयाल पटेल, श्री सियाराम पटेल श्री भगत पटेल, राजिम से श्री बसंत पटेल, श्री हरीश पटेल, श्री पवन पटेल, श्री चेतन पटेल, श्री उत्तम पटेल, श्री गोविंद पटेल, श्री पारसमणि पटेल, श्री देवलाल पटेल, श्री तोपेन्द्र पटेल, श्री कपिस सूर्यवंशी, श्री गोविंद पटेल सहित प्रदेश स्तर के युवा बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

छत्तीसगढ़ के बस्तर अंचल में मूसलाधार बारिश का कहर जारी

छत्तीसगढ़ (बस्तर) शैलेश गुप्ता । वनों से आच्छादित बस्तर अंचल में तेज़ बारिश के चलते जनजीवन अस्तव्यस्त है, बारिश इतनी तेज़ हैकि सड़कों पर वहां चालकों को कुछ दिखाई नही दे रहा है। वाटर ड्रेनेज सिस्टम के दुरुस्त न होने कारण शहर के निचले बस्तियों में पानी भरने से लोग परेशान हैं। एक तरफ जहां किसानों को बारिश के चलते भरपूर पानी मिल रही है वही अन्य नागरिक इस भारी वर्षा के परेशान नज़र आ रहे हैं।

गहन टिकट चेकिंग अभियान से वसूला गया जुर्माना

मुख्य वाणिज्य प्रबन्धक के आदेशानुसार टिकटधारी यात्रियों की बेहतर सुविधा को ध्यान में रखते हुए स्टेशनों एवं गाडियों में बेटिकट यात्रियों की रोकथाम हेतु वरि.मंडल वाणिज्य प्रबंधक(समन्वय) श्री पुलकित सिंघल के मार्गदर्शन में 10 दिनों का गहन टिकट चेकिंग अभियान पूरे मंडल में चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत मंडल वाणिज्य विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा योजनाबद्ध तरीके से टिकट चेकिंग किया जा रहा है। इस अभियान के दौरान बिना टिकट, अनियमित टिकट एवं बिना बुक लगेज के यात्रा करने वाले यात्रियों पर रेलवे नियमानुसार जुर्माने की कार्रवाई की जा रही है। इस अभियान के दौरान 09 दिनों में मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों एवं गाडियों में नामित अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा चलाये गये गहन टिकट अभियान में कुल 5,304 मामलों से 15,57,970 रूपये जुर्माने के रूप में वसूले गये। जिसमें बिना टिकट के 1032 मामलों से 6,00,480 रूपये, अनियमित टिकट के 1,581 मामलों से 7,02,300 रूपये, बिना बुक किये गये लगेज के 2,622 मामलों से 2,47,155 रूपये, टिकट श्रेणी परिवर्तन के 12 मामलों से 1,385, धुम्रपान के 01 मामले से 200 रूपये तथा गंदगी फैलाने के 56 मामलों से 6,450 रूपये शामिल हैं।

प्रमोद कुमार बने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के नये अपर महाप्रबंधक

प्रमोद कुमार ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अपर महाप्रबंधक का पदभार ग्रहण किया। अपर महाप्रबंधक का कार्यभार संभालने से पूर्व श्री प्रमोद कुमार वरिष्ठ उप महाप्रबंधक; (SDGM) एवं मुख्य सर्तकता अधिकारी, दक्षिण रेलवे, चन्नेई के पद पर पदस्थ थे। श्री प्रमोद कुमार 1984 बैच के भारतीय रेल विधुत इंजीनियरिंग सेवा के अधिकारी है। उन्होंने ने आगरा विश्वविघालय से विज्ञान में स्नातक की शिक्षा प्राप्त की है। श्री कुमार ने उतर मध्य रेलवे के इलाहाबाद में मुख्य विधुत इंजीनियर (निर्माण), उतर पश्चिम रेलवे के जयपुर मंडल में अपर मंडल रेल प्रबंधक, कार्यकारी निदेशक, अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन; (RDSO) व उतर रेलवे के मुरादाबाद में मंडल रेल प्रबंधक, मुख्य परियोजना निदेशक, रेलवे विधुत, जयपुर के पदों पर कार्य किया है। श्री कुमार को विध्ुतीकरण परियोजनाओं के कर्षण वितरण, रोलिंग स्टॉक, संचालन निर्माण और सामान्य सेवा के अनेक कार्यो में भी कार्य करने का गहन अनुभव है। उन्होनें भारतीय रेलवे में आठ जगहों पर विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया गया।

प्रधान मुख्य वाणिज्य प्रबंधक सैय्यद निशात अली के नेतृत्व में चलाया गया विशेष टिकट चेकिग अभियान।

प्रधान मुख्य वाणिज्य प्रबंधक सैय्यद निशात अली के नेतृत्व में विशेष टिकट चेकिग अभियान। इस दौरान14,761मामलों से 38 लाख 83 हजार से अधिक बतौर भाड़ा व् जुर्माना के वसूले गये। बिलासपुर 28 अगस्त, 2019 दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा अपने टिकटधारी यात्रियों की सुविधा के लिए जोनल एवं मंडल स्तर पर स्टेशनों, विभिन्न रेल खण्डों एवं ट्रेनों पर संघन टिकट चेकिंग अभियान चलाकर अवांछित भीड़ एवं बिना टिकट के यात्रा कर रहे एवं बिना टिकट एवं प्रर्याप्य टिकट के तथा बिना बुक किये गए सामानों आदि पर से भाड़ा व् जुर्माना लगाया गया ताकि वास्तविक टिकट धारी यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े। जिसके लिए रेलवे द्वारा समय समय पर विभिन्न मीडिया के द्वारा पीए मशीन से घोषणा करवाकर सही टिकट लेकर ही रेल सफ़र करने को प्रेरित करने का कार्य करती रहती है। दिनांक 27 अगस्त, 2019 को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के प्रधान मुख्य वाणिज्य प्रबंधक के दिशा निर्देश एवं नेतृत्व में बिलासपुर- बिल्हा सेक्शन में टिकट चेकिग अभियान चलाया गया। इस अभियान में कुल 73 मामलों से 26 हजार रूपये प्राप्त किये गये। इस अभियान में बिना टिकट के 26 मामले पकडे गए जिनसे बतौर भाड़ा व् जुर्माना के 12725 रूपये वसूले गए एवं अनियमित टिकट के 22 मामले पकडे गए जिनसे 10890 रूपये वसूले गए। इस प्रकार बिना बुक किये गये लगेज के 23 मामलो से 2300 रूपये वसूले गये। इस अभियान में कुल 73 मामलों से 26 हजार अधिक बतौर भाड़ा व् जुर्माना के वसूले गये। इस टिकट चैकिंग अभियान के दौरान 7 दिनो में कुल 14,761 मामले पकडे गये, जिनमें बिना टिकट के एवं अनियमित टिकट के बिना बुक किये लगेज के तथा अन्य मामलों के पाये गये । जिनसे 38,83,504 लाख रु. वसूले गए ! इस टिकट चेकिग अभियान के दौरान कल 27 अगस्त, 2019 को प्रधान मुख्य वाणिज्य प्रबंधक सैय्यद निशात अली, मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (यात्री सेवा) अजय शंकर झा, उप.मु.वा.प्र यात्री सेवा, यात्री बिपणन एवं माल भाडा सहित मुख्य वाणिज्य निरीक्षक (मुख्यालय) एवं टिकट चेकिग स्टाफ के साथ भाग लिया । यात्रियों से अनुरोध है कि उचित टिकट लेकर ही ट्रेनों में सफर करें एवं राष्ट्र के विकास में अपना अमूल्य योगदान दें।

उचित टिकट लेकर ही गाडियों में करे यात्रा ...पढ़े पूरी खबर

मुख्य वाणिज्य प्रबन्धक के आदेशानुसार टिकटधारी यात्रियों की बेहतर सुविधा को ध्यान में रखते हुए एवं गाडियों में बेटिकट यात्रियों की रोकथाम हेतु वरि.मंडल वाणिज्य प्रबंधक(समन्वय) श्री पुलकित सिंघल के मार्गदर्शन में 10 दिनों का गहन टिकट चेकिंग अभियान पूरे मंडल में चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत मंडल वाणिज्य विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा योजनाबद्ध तरीके से टिकट चेकिंग किया जा रहा है। इस अभियान के दौरान बिना टिकट, अनियमित टिकट एवं बिना बुक लगेज के यात्रा करने वाले यात्रियों पर रेलवे नियमानुसार जुर्माने की कार्रवाई की जा रही है। इस अभियान में टिकट चेकिंग के दौरान बिना ओरिजनल टिकट, प्लेटफार्म टिकट एवं ब्लैंक टिकट के साथ यात्रा करते यात्री भी पकडे गये है। जिनपर बिना टिकट यात्रा करते पाये जाने की कार्रवाई रेलवे नियमानुसार की गई है। रेलवे प्रशासन यात्रियों से आग्रह करता है कि टिकट लेने के उपरांत काउंटर छोडने के पहले अपने टिकट की समुचित जांच अवश्य करें तथा उचित टिकट के साथ ही यात्रा करें। बिना ओरिजनल टिकट, प्लेटफार्म टिकट, बिना टिकट अथवा अनुचित टिकट के साथ यात्रा ना करें तथा जुर्माने एवं यात्रा के दौरान होने वाली अनावश्यक परेशानी से बचें।

कोरबा एवं रायपुर के बीच चल रही हसदेव एक्सप्रेस, बिलासपुर एवं कोरबा के बीच रहेगी रदद....।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के बिलासपुर रेल मंडल के अंर्तगत कोरबा एवं रायपुर के बीच चलने वाली 18801/18802 कोरबा-रायपुर-कोरबा हसदेव एक्सप्रेस एवं 18803/18804 कोरबा-रायपुर-कोरबा हसदेव एक्सप्रेस के दोनों रैकों में एलएचबी कोच होने के कारण इन का प्राथमिक रखरखाव का कार्य किया जायेगा। एलएचबी कोच का प्राथमिक रख रखाव का कार्य बिलासपुर कोचिंग कॉम्लेक्स में किया जायेगा। यह कार्य 03 से 29 सितम्बर, 2019 के बीच विभिन्न दिवसों में किया जायेगा। जिसका विवरण इस प्रकार है- ऽ दिनांक 03, 10, 17 एवं 24 सितम्बर, 2019 (प्रत्येक मंगलवार) को रायपुर से चलने वाली 18804 रायपुर-कोरबा हसदेव एक्सप्रेस को बिलासपुर में ही समाप्त होगी एवं यह गाडी बिलासपुर से ही दिनांक 04, 11, 18 एवं 25 सितम्बर, 2019 (प्रत्येक बुधवार) को 18803 कोरबा-रायपुर हसदेव एक्सप्रेस बनकर रायपुर के लिए रवाना होगी। यह गाडी बिलासपुर एवं कोरबा के बीच रदद रहेगी। ऽ दिनांक 07, 14, 21 एवं 28 सितम्बर, 2019 (प्रत्येक शनिवार) को रायपुर से चलने वाली 18802 रायपुर-कोरबा हसदेव एक्सप्रेस को बिलासपुर में ही समाप्त होगी एवं यह गाडी बिलासपुर से ही दिनांक 08, 15, 22 एवं 29 सितम्बर, 2019 (प्रत्येक रविवार) को 18801 कोरबा-रायपुर हसदेव एक्सप्रेस बनकर रायपुर के लिए रवाना होगी। यह गाडी बिलासपुर एवं कोरबा के बीच रदद रहेगी।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए लगाये गए अप्रेल से अगस्त तक 1702 से अधिक अतिरिक्त कोच

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की हमेशा से यही कोशिश रही है कि सभी यात्रियों को ट्रेन में सीट एवं बर्थ आसानी से प्राप्त हो जाये और वे आरामदायक स्थिति में अपनी यात्रा पूरी कर सके | जिसके लिए समय समय पर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा विभिन्न दिशाओं के प्रमुख नगरों की दिशाओं के लिए स्पेशल ट्रेन चला रही है साथ ही साथ यात्रियों को सुविधा प्रदान करनें के लिए पर्याप्त संख्या में अतिरिक्त कोच भी उपलब्ध करा रही है | यात्रियों की सुविधा को ध्यान मे रखते हुये दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे द्वारा हमेशा से ही अतिरिक्त कोच मुहैया कराई जा रही है, ताकि प्रतीक्षासूची के यात्री भी अपनी यात्रा पूरी कर सके । इस दृष्टी से वर्ष 2018-19 मे 1653 अतिरिक्त कोच विभिन्न ट्रेनों मे लगाये गए थे जबकि वर्तमान वित्ते वर्ष के अप्रेल से अगस्त माह तक ही में 1702 कोच अतिरिक्त लगाये जा चुके है | जिनका माह वार स्थिति निम्नानुसार है- अप्रेल 19 मई 19 जून 19 जुलाई 19 अगस्त 19 264 388 366 339 345 अप्रेल 19 तक मई 19 तक जून 19 तक जुलाई 19 तक अगस्त 19 तक 264 652 1018 1357 1702 दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा 2018 के अगस्त माह तक सिर्फ 966 ही अतिरिक्त कोच लगाए जा सकी थी | इन तमाम अतिरिक्त कोचों को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा अधिकांशतः अमरकंटक एक्सप्रेस, दुर्ग-पुरी एक्सप्रेस, रीवा पैसेंजर कम एक्सप्रेस, अम्बिकापुर एक्स[रेस, सारनाथ एक्सप्रेस, दक्षिण बिहार एक्सप्रेस, बिलासपुर-भोपाल एक्सप्रेस, इन्तेर्सिती एक्सप्रेस, शिवनाथ एक्सप्रेस आदि ट्रेनों में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से छूटने वाली ट्रेनों में लगाए जाती है |

यात्रियों की सुविधा हेतु मंडल के 11 स्टेशनों के प्लेटफार्म का विस्तार किया गया

मंडल प्रशासन द्वारा संरक्षा संबंधी कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जा रहा है। स्टेशनों में यात्रियों की सुरक्षा एवं संरक्षा का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। साथ ही लगातार यात्री सुविधाओं का क्रमिक विस्तार किया भी किया जा रहा है। यात्रियों को गाडियों में सुगम एवं सुरक्षित ढंग से चढने-उतरने की सुविधा को ध्यान में रखते हुए प्लेटफार्म विस्तार का कार्य किया जा रहा है। इस वर्ष मंडल के सीआईसी सेक्शन के 11 स्टेशनों घुटकू, खोडरी, पेण्ड्ररोड, सिंगपुर, मुढरिया, नौरोजाबाद, कटोरा, सूरजपुर, करोंजी, बिश्रामपुर एवं अम्बिकापुर के प्लेटफार्म का विस्तार किया गया है। इस कार्य के दौरान इन स्टेशनों के प्लेटफार्म को ऊंचा कर हाईलेबल प्लेटफार्म में बदला गया साथ ही इसकी लंबाई बढाई गई जिससे 24 कोच आसानी से प्लेटफार्म में आ जायें और यात्रियों को गाडियों में चढने-उतरने में परेशानी ना हों। रेल प्रशासन आशा करता है कि इस सुविधा से यहां के यात्रियों को गाडियों में बेहतर एवं सुरक्षित चढने-उतरने की सुविधा प्राप्त होगी तथा वे लाभांवित होंगे।