छत्तीसगढ़

पुलिस वालो की हत्याओं में शामिल 8 लाख के इनामी नक्सली ने किया सरेंडर

दंतेवाड़ा:-लोन वर्राटू अभियान के तहत 8 लाख के इनामी नक्सली ने सोमवार दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक के सामने सरेंडर कर दिया है। सरेंडर करने वाले इस नक्सली का नाम कोसा मरकाम है। कोसा, नक्सलियों की उत्तर बस्तर कमेटी मे काम करते हुए शीर्ष माओवादियों के साथ काम कर चुका है। यह अपने साथ लाइट मशीन गन रखता था। इससे उसने कई बार पुलिस के लोगों पर हमले किए हैं. पुलिस के मुताबिक कोसा, साल 2018 में नारायणपुर जिले की एक घटना में शामिल था। इसमें इरपानार के जंगलों में नक्सलियों ने पुलिस पार्टी पर फायरिंग की थी। इस वारदात में 4 पुलिस जवान शहीद हुये थे। साल 2019 मे कांकेर जिले के परतापुर माहला क्षेत्र में भी इस तरह का हमला नक्सलियों ने किया था। बीएसएफ के 4 जवान इस घटना में शहीद हो गए थे।

जगदलपुर में पत्रकारों के सिर पर बंधी पट्‌टी, बोले- मैं भी कमल शुक्ला मुझे भी गोली मारो

 

कांग्रेस भवन के सामने भी किया विरोध,ज्ञापन सौंपा

जगदलपुर:-जगदलपुर में वरिष्ठ और युवा पत्रकारों ने कांकेर कांड के खिलाफ आवाज बुलंद की। पत्रकारों ने सिर पर पट्‌टी बांधकर मारपीट में घायल कांकेर के पत्रकार कमल शुक्ला के समर्थन में विरोध प्रदर्शन किया। पत्रकारों ने हाथ में एक पोस्टर भी थाम रखा था, इस पर लिखा था मैं भी कमल शुक्ला, मुझे भी गोली मारो। दरअसल कांकेर में पत्रकार कमल शुक्ला से मारपीट करने वाले कांग्रेस नेता गफ्फार मेमन ने थाना परिसर में लायसेंसी पिस्तौल से गोली मारने की धमकी दी थी। इस मामले में आरोंपियों पर कार्रवाई की मांग के साथ पत्रकारों ने अपर कलेक्टर अरविंद एक्का को संभागीय कमिश्नर के नाम ज्ञापन भी सौंपा।

नेताओं पर हो कार्रवाई, कलेक्टर एसपी को हटाया जाए

कांकेर में दो दिन पहले भ्रष्टाचार की खबरों के उजागर होने से नाराज कांग्रेसियों ने कमल शुक्ला पर जानलेवा हमला किया। थाना परिसर में गुंडागर्दी की। पूरा हंगामा पुलिस के सामने ही हुआ। इसलिए जगदलपुर में पत्रकारों ने मांग की है इस मामले में कलेक्टर और एसपी पर भी कार्रवाई होनी चाहिए। पत्रकारों ने दो टूक कहा है कि 1 अक्टूबर तक अगर इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई तो 2 अक्टूबर को बस्तर के सारे पत्रकार मुख्यमंत्री निवास रायपुर में धरना देने के लिए मजबूर हो जाएंगे।

कोविड सेंटर मे हो रहा मरीजों का बेहतर इलाज,मानसिक तनाव दूर करने के लिए मरीजों को योगा और डांस भी करा रहे

मदन खांडेकर

गिधौरी /बिलाईगढ़-:-एक तरफ जहां वैश्विक कोरोना महामारी लगातार बढ़ रहा है और जिसे देखते हुए बलौदाबाजार जिले के सभी विकास खण्डों में साथ ही जिला बलौदाबाजार मे कोविड सेंटर खोला गया जिसके मद्देनजर लगातार स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगो का कोरोना टेस्ट कर रही है और जो व्यक्ति पाजिटिव निकल रहे है उन्हे कोविड सेंटर मे रखा जा रहा है। तांकि उस व्यक्ति का बेहतर से इलाज हो सके जहा बलौदाबाजार जिले मे बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिलाईगढ़ विकासखंड मे कोविड केयर सेंटर खम्हरिया मे स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाया गया है। जहा बिलाईगढ़ क्षेत्र के मरीजों का बेहतर इलाज हो रहा है। वही नजदीक मे ही इलाज मिल जाने की वजह से लोगो मे खुशी का महौल देखी जा रही है। साथ ही मानसिक तनाव दूर करने के लिए मरीजों को योगा और डांस भी करा रहे है। आपको बता दे कि जिले मे लगातार बढ़ते कोरोना प्रकोप को देखते हुए डीएव्ही मुख्यमंत्री पब्लिक स्कूल खम्हरिया को कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। जहा कोविड सेंटर के प्रभारी रोशन देवांगन ने बताया कि 5 सितंबर को कोविड केयर सेंटर चालू हुआ है जिसमे अभी तक 198 मरीज की भर्ती किया गया है जिसमे से 128 स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए है। और साथ ही अभी वर्तमान मे 55 लोगो का इलाज कोविड केयर सेंटर मे चल रहा है। वही डाक्टर रोशन ने आगे बताया कि 14 कोरोना मरीज का आक्सीजन लेवर डाऊन होने की वजह से उन्हे जिला अस्पताल रिफर भी किया गया है। मीडिया की टीम ने जहां कोविड केयर सेंटर मे भर्ती मरीजों से जब हमने दूर से बात किया तो उनका कहना है कि यहां किसी प्रकार की कोई भी समस्या नही है समय समय पर नाश्ता और खाना के साथ उचित इलाज भी मिल रहा है। साथ ही हमारा अच्छे से इलाज यहा हो रहा है और समय - समय मे चेक अप कर हमे दवाई दि जा रही है।

जांजगीर चाम्पा जिले के हड़ताली एनएचएम कर्मियों ने खत्म किया धरना प्रदर्शन, काम पर वापस लौटे

जांजगीर चाम्पा:-जिले के हड़ताली एनएचएम संविदा स्वास्थ्यकर्मियों ने नियमितिकरण और हड़ताल अवधि की कार्यवाही शून्य करने के आश्वासन के बाद धरना प्रदर्शन स्थगित कर दिया है। सोमवार से जिले के सभी साढ़े 3 सौ एनएचएम स्वास्थ्यकर्मी काम पर लौट गए हैं। इस आशय का पत्र उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वस्थ अधिकारी डॉ.एसआर बंजारे के समक्ष उपस्थित हो कर दिया है।गौरतलब है कि जांजगीर चाम्पा जिले में पदस्थ साढ़े 3 सौ एनएसएम स्वास्थ्यकर्मी मांगे पूरी नहीं होने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे। इस वजह से कोरोना काल में जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था भी चरमरा गई थी। इस दौरान एनएचएम कर्मियों ने धरना प्रदर्शन दो थानों में गोबर एकत्रित करने और बेचने के साथ ही सरकार की सद्बुद्धि के लिए यज्ञ भी किया था और उसका परिणाम भी अब सार्थक रूप ले चुका है।

कोरोना संक्रमित की मृत्यु होने पर सुरक्षित परिवहन और अंतिम संस्कार करवाने के लिए कलेक्टर ने किए आदेश जारी

जांजगीर-चांपा:-कलेक्टर यशवंत कुमार ने जिले के एक 40 वर्षीय पुरूष की कोरोना वायरस से मुत्यु हो जाने पर मृतदेह के सुरक्षित परिवहन एवं अंतिम संस्कार के लिए निर्देश जारी किया है। दरअसल जिले के सक्ती तहसील के ग्राम नगरदा निवासी 40 वर्षीय पुरूष की मेकाहारा रायपुर में कोरोना संक्रमण से मुत्यु हो गई। कलेक्टर मृतदेह के सुरक्षित परिवहन एवं अंतिम संस्कार के लिए निर्देश जारी किया है। निर्देश के परिपालन में एसडीएम भास्कर मरकाम ने आरआई प्रदीप बंजारे, महेश देवागंन, पटवारी भूपेन्द्र बरेठ, आरएचओ चन्द्रप्रकाश कश्यप और सुपरवाइजर आरव्ही राठौर की ड्यूटी लगाई है। जारी आदेश में कहा है कि कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करते हुए परिवारजनों की सहमति पर शव को सुपुर्दगी में लेकर अंतिम संस्कार निर्धारित मुक्तीधाम पर कराना सुनिश्चित करें।

कांग्रेस शासन में पूरे प्रदेश में चल रहा गुंडाराज : केदार कश्यप

जगदलपुर:-कांकेर में पत्रकारों पर हुए हमले पर पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने कलमकारों का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि छतीसगढ़ में वर्तमान कांग्रेस शासन में पूरे प्रदेश में गुंडाराज और माफियाराज चल रहा है। कांग्रेसी अपनी कारगुजारियों को छिपाने अब पत्रकारों पर हमला कर रहे हैं। हमारे देश में मीडिया को चौथा स्तंभ का सम्मानित दर्जा प्राप्त है। जिस तरह कांग्रेसी और कांग्रेस संरक्षण प्राप्त गुंडे, रेत माफिया खुलकर पुलिस थाना के सामने पत्रकारों पर खुलेआम हमला करने का दुःसाहस कर रहे हैं वह लोकतंत्र की आजादी का सीधा उल्लंघन है। पत्रकार कांग्रेसियों के अवैध धंधों की पोल खोल रहे हैं, जिससे ये लोग मारपीट में उतारू हो गए हैं।

कश्यप ने कहा कि भाजपा इसका पुरजोर विरोध करती है। उन्होंने कहा कि भूपेश सरकार के कार्यकाल में हिंसा का माहौल निर्मित हो रहा है और लगातार पत्रकारों पर कहीं न कहीं झूठे मामले दर्ज कर पत्रकारों के लिखने की आजादी पर रोक लगाने और कांग्रेस के भ्रष्टाचार को छिपाने का प्रयास किया जा रहा है जो बर्दाश्त के बाहर है। उन्होंने कहा कि हमलावरों के खिलाफ कड़ी से कड़ी काईवाई होनी चाहिए और पत्रकारों को उचित न्याय मिलना चाहिए। पूर्व मंत्री कश्यप ने कहा कि मीडियाकर्मियों को कार्य करने के लिए सुरक्षा देने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है, लेकिन उन्हीं के कार्यकर्ता गुंडे बन कर छत्तीसगढ़ में भय का माहौल बना रहे हैं जो अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर कुठाराघात है।

छत्तीसगढ़ जनजाति गौरव समाज के प्रदेश पदाधिकारियों की घोषणा

रायपुर:-जनजाति समाज के गौरवशाली परंपरा को पुनर्स्थापित करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य के समस्त जनजाति समाज प्रमुखों की एक वर्चुअल बैठक राष्ट्रीय अजजा आयोग के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार साय, राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम, छग राज्य अजजा आयोग के पूर्व अध्यक्ष देवलाल दुग्गा एवं पूर्व मंत्री केदार कश्यप की उपस्थिति में संपन्न हुई।

वर्चुअल बैठक को संबोधित करते हुये नंदकुमार साय ने कहा कि जनजाति समाज का अतीत बहुत ही गौरवशाली रहा है और इसीलिए हमें अपना भविष्य भी गौरवशाली बनाना है। मध्यभारत के इस क्षेत्र में हमारे पूर्वजों ने लंबे समय तक शासन किया है। हमारे पूर्वजों के शासनकाल में सभी समाज के लोग आपसी सामंजस्य और सौहार्द्र के साथ रहते हुये सनातन धर्म का पालन करते आये हैं। हमें अपने उस गौरवशाली इतिहास की जानकारी अपने युवा पीढ़ी को देना है तथा जनजाति समाज मे शिक्षा का प्रचार-प्रसार करते हुये अपने संवैधानिक अधिकारों को प्राप्त करना है।

राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम ने अपने संबोधन में कहा कि जनजाति समाज के इस गौरवशाली इतिहास और परंपरा को देखते हुये कुछ राष्ट्रविरोधी विघटनकारी तत्व जनजाति समाज को तोड़ने व समाज मे विभेद उत्पन्न करने का षडयंत्र कर रहे हैं। हमे इस षडयंत्र को दूर करने के लिये सम्पूर्ण जनजाति समाज को जागरूक करना होगा और इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिये छत्तीसगढ़ में जनजाति गौरव समाज की स्थापना की जा रही है।

तत्पश्चात सर्वसम्मति से छत्तीसगढ़ गौरव समाज के प्रदेश पदाधिकारियों, संभागीय अध्यक्षों तथा महिला/युवा/ कर्मचारी संगठन प्रमुखों की घोषणा की गई है, जो निम्नानुसार है।

जनजाति गौरव समाज के सभी प्रांतीय पदाधिकारी महोदय

छत्तीसगढ़ जनजाति गौरव समाज

संरक्षक:नंदकुमार साय जी

रामविचार नेताम जी

देवलाल दुग्गा जी

केदार कश्यप जी

रिषेश्वर महाराज

राजाराम तोडम

अध्यक्ष:एम. डी. ठाकुर

उपाध्यक्ष:मोहन सिंह टेकाम

बंशीधर उरांव

चैत राम अटामि

विदेशी राम ध्रुव

यज्ञराम सिदार

महासचिव:विकास मरकाम

सचिव:डॉ गंभीर सिंह

रामलखन पैंकरा

रामजी ठाकुर

रघुराज सिंह उइके

गोपाल नाग

कोषाध्यक्ष: आर. एन. साय

प्रवक्ता:डॉ देवेंद्र माहला

इंदर भगत

परमानंद तेता

सोशल मीडिया प्रभारी: रामप्रसाद मौर्य

संभागीय अध्यक्ष

सरगुजा:परमेश्वर सिंह

बिलासपुर: देवेन्द्र प्रताप सिंह

रायपुर:बुद्धेश्वर ध्रुव

बस्तर:भोजराज नाग

दुर्ग: टेकराम भंडारी

जनजाति गौरव महिला समाज

अध्यक्ष: श्रीमती गीतांजलि परमानंद तेता

महासचिव: श्रीमती पिंकी शिवराज शाह

जनजाति गौरव युवा समाज

अध्यक्ष:भूपेंद्र नाग

महासचिव: रवि भगत

जनजाति गौरव कर्मचारी समाज

अध्यक्ष: उत्तर सिंह सिदार

महासचिव: लखेश्वर कुदराम

थाना गंगालूर क्षेत्रांतर्गत पुलिस पार्टी व माओवादी के बीच मुठभेड़, 01 माओवादी ढेर डीआरजी, एसटीएफ, कोबरा व केरिपु की संयुक्त टीम की कार्यवाही- बीजापुर

बीजापुर:-बीजापुर जिले में चलाये जा रहे माओवाद विरोधी अभियान के तहत दंतेवड़ा-बीजापुर के सीमावर्ती क्षेत्र थाना गंगालूर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम पिडिया, डोडी, तुमनार, ईरेनार व पेददापाल के जंगलों में सूचना पर सोमवार सुबह जिला दंतेवाड़ा एवं बीजापुर की संयुक्त पुलिस टीम (डीआरजी, एसटीएफ, कोबरा एवं केरिपु बल) माओवादी विरोधी अभियान पर रवाना हुई थी । 3 दिनों से एंटी नक्सल आपरेशन पर निकले थे जवान। अलग-अलग इलाके में 4 बार हुआ माओवादियों से हुआ मुठभेड़। अभियान के दौरान सोमवार सुबह थाना गंगालूर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम ईरेनार व पेदद्ापाल के मध्य जंगल में माओवादियों व पुलिस पार्टी के बीच मुठभेड़ हुआ । मुठभेड़ पश्चात घटनास्थल का सर्चिंग करने पर 01 अज्ञात माओवादी का शव बरामद किया गया। मौके से 01 नग *SBML* गन, 03 नग जिंदा आईईडी, 02 नग बैटरी, ईलेक्ट्रिक वायर, पिटठू, रेडियो, छाता, नक्सली पत्र, नक्सली साहित्य एवं अन्य नक्सल दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद किया गया । सर्चिंग के दौरान घटना स्थल पर खून के धब्बे मिले और अन्य माओवादियों के मारे जाने कि सम्भावना है साथ ही दवाईयां एवं अन्य दैनिक उपयोग कि समाग्री को पुलिस पार्टी द्वारा जला कर नष्ट किया गया। वापसी के दौरान जिला बल व सीआरपीएफ 85 के जवानों द्वारा मल्लूर क्षेत्र में एक आईईडी को मौके पर निष्क्रिय किया गया।

मरीजों की मदद के लिए राज्यपाल ने रोबोट भारती का ऑनलाइन किया शुभारंभ, रोबोट के माध्यम से होगा इलाज

रायपुर:-राज्यपाल अनुसुईया उइके ने आज अस्पताल में इलाज करा रहे कोविड-19 मरीजों की मदद के लिए विशेष रूप से निर्मित रोबोट ‘भारती’ का ऑनलाइन शुभारंभ किया है। इस अवसर राज्यपाल ने कहा कि यह अविष्कार कोविड-19 के इस संकट काल में निश्चित ही क्रांतिकारी और लाभदायक साबित होगा। इससे कोविड-19 की इलाज कर रहे चिकित्सकों को काफी मदद मिलेगी। कभी-कभी चिकित्सक कोविड-19 के इलाज के दौरान संक्रमित हो जाते हैं, वे संक्रमित होने से बच पाएंगे और वे इलाज प्रभावी ढंग से कर सकेंगे। साथ ही मरीजों को भी मदद मिलेगी।

आपको बता दें की राज्यपाल ने इस खोज के लिए SPAR VY Research Initiative के युवा वैज्ञानिक आदित्य और वी.वाई. हास्पिटल के डाइरेक्टर डॉ. पूर्णेन्दू सक्सेना को बधाई दी है। उन्होंने आदित्य को आत्मनिर्भर होते भारत के युवा के रूप मे देखा और डॉ. सक्सेना से कहा कि आप में सेवा भावना है और चिकित्सक होने के साथ-साथ समाज सेवा का कार्य करते हैं। इसी सोच के कारण यह अविष्कार संभव हो पाया है जो कोविड-19 के लिए इलाज के लिए मददगार साबित होगा और हम जल्द ही छत्तीसगढ़ को कोरोना मुक्त कर पाएंगे। आज इस रोबोट के माध्यम से महामहिम राज्यपाल महोदया ने वी.वाई अस्पताल के कोविद वार्ड में भर्ती मरीज से बात की। उन्होंने उसका हाल चाल पूछा और ये भी पूछा की रोबोट से बात कर के कैसा लग रहा है? मरीज ने कहा कि अच्छा लग रहा है। उन्होंने मरीज को हर हाल में सकारात्मक बने रहने की समझाइश दी और मनोबल बढ़ाया।

डॉ. सक्सेना ने बताया कि हमारा देश इस समय कोविड-19 के संक्रमण से ग्रसित है। कोविड-19 के मरीजों के इलाज के दौरान हमने यह महसूस किया कि ऐसा उपकरण बनाया जाए, जो चिकित्सकों और मरीजों की सहायता कर सके। तद्नुरूप, इसका निर्माण SPAN VY रिसर्च इनिशिएटिव द्वारा किया गया है। इसको बनाने वाली टीम का नेतृत्व आदित्य करते हैं जो BIT Raipur के युवा अभियंता है। उनके साथ आशीष शर्मा, शुभम साहू और धनंजय पूरी गोस्वामी उनके सहयोगी रहे हैं। इस टीम का मार्गदर्शन VY के मेडिकल डायरेक्टर्स डॉ पूर्णेन्दु सक्सेना और डॉ आनंद जोशी ने किया। इसके निर्माण में 45 दिन लगे। कोई भी इसे स्मार्ट फोन के माध्यम से रिमोट संचालित कर सकता है। ये रोबोट मरीज तक पहुच सकता है।

इसके माध्यम से मरीज की डॉक्टर, नर्स या परिजन के साथ सीधी बात हो सकती है। उसकी समस्याओं को समझा जा सकता है व उसके मॉनीटर्स का अवलोकन किया जा सकता है। मरीज तक दवा और खाना आदि लाने ले जाने का काम इसके माध्यम से संभव है। ये सब बिना संपर्क में आए हो सकता है। इसकी एक विशेषता ये है कि इसके भीतर अल्ट्रा वायोलेट लाइट्स भी फिट होती है। इसको इन्फेक्टेड जगहों में रिमोट संचालित कर भेजा जा सकता और उस जगह को जीवाणुरहित किया जा सकता है। इस रोबोट की खासियत यह है कि नेटवर्क न होने या अच्छा नेटवर्क न होने के बावजूद डॉक्टर और उनके परिजन वीडियो कॉलिंग के माध्यम से बात कर सकते हैं। रोबोट भारती ऑनलाइन प्रदर्शन के दौरान वी.वाय. हास्पिटल के कोविड वार्ड में गई और मरीज के समक्ष उपस्थित हुई। इसके माध्यम से मरीजों ने राज्यपाल और उनके परिजनों से बातचीत की। इस अवसर पर अस्पताल के चिकित्सकगण और कर्मचारीगण उपस्थित थे।

कलमवीरों पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा-शाहिद महमूद

कोरिया:-वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला पर खुलेआम हमला की कड़ी निंदा करते हुए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) के संस्थापक सदस्य एवं प्रदेश प्रतिनिधि शाहिद महमूद ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि यह पत्रकार कमल शुक्ला पर हमला नहीं बल्कि लोकतंत्र पर हमला है , संविधान पर हमला है,इस कृत्य की जितनी भी निंदा की जाए कम है।क्या ऐसे ही गढ़ेंगे नवा छत्तीसगढ़?क्या इसी को बदलाव कहते हैं?ऐसी घटनाएं न सिर्फ छत्तीसगढ़ की अस्मिता और संस्कृति के विरुद्ध है,बल्कि छत्तीसगढ़ में चुनाव से पूर्व कलमवीरों की सुरक्षा को लेकर किये गए वादे और पत्रकार सुरक्षा कानून का मजाक है,कलमवीरों पर ऐसे हमले बर्दास्त नहीं किये जायेंगे,इस वक्त वैश्विक महामारी कोरोना से छत्तीसगढ़ भी जूझ रहा है,संक्रमण का पारा निरंतर चढ़ाव पर है बावजूद इसके लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारों , कोरोना योद्धाओं के द्वारा अपनी जान को जोखिम में डाल कर पल पल की खबर समाज के बीच पहुँचाकर अपने नैतिक दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं, ऐसे में इन कोरोना योद्धा पत्रकारों का सम्मान और उत्साह वर्धन करने के बजाय इनको खुले आम पीटा जा रहा है,जान से मारने की धमकी दी जा रही है,ऐसी अमानवीय कृत्यों की जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे)कड़ी निंदा करती है,घटना में संलिप्त लोगों पर कठोर वैधानिक कार्यवाही की जानी चाहिए।

IAS मयंक चतुर्वेदी होंगे गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला के नए सहायक कलेक्टर, जारी हुआ आदेश

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही:-राज्य सरकार ने 2017 बेच के IAS मयंक चतुर्वेदी को बड़ी जिम्मेदारी दी हैं। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में सहायक कलेक्टर के पद पर मयंक चतुर्वेदी को नियुक्त किया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने आदेश जारी किया हैं।

लाइसेंसी हथियार चाहिए तो पहले लगाने होंगे 10 पौधे, सूरजपुर जिले के कलेक्टर ने जारी किया आदेश

सूरजपुर:-वृक्षों के महत्व को आज पूरी दुनिया समझने लगी हैं। यही कारण हैं जो वैष्विक स्तर पर पौधारोपण के लिए विभिन्न कवायदे की जा रही हैं। इसी क्रम में सूरजपुर के कलेक्टर रणबीर शर्मा ने पौधारोपण को प्रोत्साहित करने के लिए अनूठी पहल की है। इसमें उनके द्वारा गन लाइसेंस लेने वाले व्यक्तियों के समक्ष पहले 10 पौधों के रोपण की शर्त रखी गई है। गन का लाइसेंस लेने के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति को पहले 10 फलदार पौधों का रोपण कर जिला प्रशासन द्वारा जारी फेसबुक पेज ट्रीस फॉर गन में फोटो अपलोड करना होगा। इसके पश्चात ही जिला प्रशासन आवेदक के आवेदन पर विचार करेगी। ऐसी अनूठी पहल शायद ही पहले कभी सूनी गई होगी, जिसकी शुरूआत अब सूरजपुर जिले से की गई है।

बता दें कि कलेक्टर रणबीर शर्मा पर्यावरण में बड़ी ही रूचि रखते हैं इसके साथ ही साफ-सफाई और पौधारोपण के प्रति भी अत्यंत संवेदनशील है। अपनी नवीन पदस्थापना के बाद से ही कलेक्टर ने जगह-जगह साफ-सफाई की व्यवस्था को सुधारा है और विभिन्न प्रयासों के तहत् फलदार व छावदार पौधों का रोपण कराया है। कलेक्टर शर्मा ने ट्रीस फॉर गन के संकल्पना के विषय में बात करते हुए बताया है कि गन लाइसेंस के लिए 10 फलदार पौधों का रोपण कर उक्त फेसबुक पेज पर अपलोड करना अनिवार्य कर दिया गया है और यह एक शुरूआत है। इसी प्रकार के कई कार्यों में पौधों के रोपण के साथ जिले की सुंदरता व विकास की राह सुनिश्चित की जाएगी। आमजन भी फेसबुक पेज ट्रीस फॉर गन पर विजीट करके अवलोकन कर सकते हैं।

मेडिकल कॉलेज के संविदा चिकित्सा शिक्षक 7वें वेतनमान की मांग को लेकर 29 सितंबर से काली पट्टी बांधकर करेंगे विरोध प्रदर्शन

रायपुर:-पं. जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के संविदा चिकित्सा शिक्षकों ने सरकार से कोरोना काल में वेतन विसंगति को दूर करने और नियमतिकरण की मांग की है। इनका आरोप है कि सरकार ने शासकीय डेंटल कॉलेज के डॉक्टरों को 7वें वेतनमान का लाभ दे दिया, लेकिन हमे इसका लाभ नहीं दिया गया। ऐसे में 104 संविदा डॉकटरों ने तय किया है कि वे 29 सितंबर से काली पट्टी बांधकर अनिश्चितकालीन सांकेतिक प्रदर्शन शुरू करेंगे। इस दौरान सभी सेवाएं जारी रहेंगी लेकिन निश्चित समयावधि के बाद यह तय करेंगे की आगे सेवाए जारी रखनी है या नहीं।

इस बारे में शिक्षक संघ रायपुर के सचिव डॉ. पीयूष भार्गव का कहना है कि सरकार के समक्ष कई बार मांग रखी जा चुकी है लेकिन कोई परिणाम देखने को नहीं मिला। जिसके कारण हमारे पास विरोध प्रदर्शन के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। हम मेडिकल कॉलेज के संविदा डॉक्टर्स है लेकिन हमे 7वां वेतनमान नहीं मिला है।

रायपुर रेलवे स्टेशन में बनेगा आधुनिक फुट ओवब्रिज, यात्रियों को मिलेंगी सुविधाएं

रायपुर:-रायपुर रेलवे स्टेशन में आधुनिक फुट ओवरब्रिज (एफओबी) का निर्माण शुरू हो गया है। इस एफओबी की खासियत है कि इसमें रैंप और एस्केलेटेर के माध्यम से यात्रियों को चढ़ने-उतरने की सुविधा मिलेेगी। करीब 9 करोड़ रुपए की लागत से सभी प्लेटफार्मों को नए एफओबी से जोड़ा जाएगा। हर प्लेटफार्म पर एस्केलेटर लगाने के लिए अलग से ढाई करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। रेलवे अफसरों की मानें तो छह महीने में नए एफओबी और रैंप बनकर तैयार हो जाएगा। बिलासपुर और दुर्ग स्टेशनों में वर्षों पहले से रैंप की सुविधा है। लेकिन राजधानी व मंडल का स्टेशन होने के बाद भी रायपुर में रैंप नहीं था।

रायपुर स्टेशन में लिफ्ट लगाने के लिए एफओबी के एक तरफ की सीढ़ियों को तोड़ दिया गया। इससे यात्रियों का पूरा दबाव दूसरी सीढ़ी पर है। प्लेटफॉर्म नंबर 2-3 और 5-6 में एक साथ दो ट्रेनों के आने के बाद एफओबी की सीढ़ियों पर ठसाठस भीड़ रहती है। लिफ्ट का उपयोग बुजुर्ग व निशक्त यात्री ही कर सकते हैं।

नया एफओबी फूड प्लाजा से बाजू में बने गार्डन की जगह से शुरू होगा और प्लेटफॉर्म नंबर-7 तक को जोड़ेेगा। एफओबी के तय ड्राइंग डिजाइन के मुताबिक एफओबी के सारे रैंप दुर्ग की ओर रहेंगे तथा बिलासपुर की ओर एस्केलेटर लगेंगे। एफओबी और रैंप से स्टेशन के फुटओवरब्रिज और सीढ़ियों पर व्यस्त समय में होने वाली भीड़ से निजात मिलेगी। सभी प्लेटफार्मों को जोड़ने के लिए तीन एस्केलेटर लगाने का प्लान है।

बिलाईगढ़ वन विभाग की कार्यवाही. सागौन का बड़ा-बड़ा सिलपठ एवं दो मोटरसाइकिल से बांस पिका करील पकड़ाया कार्यवाही जारी

मदन खांडेकर

गिधौरी/बिलाईगढ़:-बिलाईगढ़ वन परिक्षेत्र मे लगातार अवैध लकडी ,तथा बांस का पिका का का अवैध परिवहन पर हमेशा बिलाईगढ़ वन विभाग बहुत ही सुर्खियों मे रहा जिसमे भारी लापरवाही का आरोप लगा था और कार्यवाहि पर लीपापोती पोती का खेल चल रहा था बिलाईगढ़ परिक्षेत्र अधिकारी की सुस्ती रवैये से वन तस्कर का हौसला बुलंद होते जा रहे थे जिस लगातार मामला मीडिया मे प्रकाशित होने के बाद वन विभाग की नजर अवैध कारोबारी पर पडी.है इसी दौरान बिलाईगढ़ परीक्षेत्र के अंतर्गत जंगल से करील एवं लकड़ी चोरी करने वालों को धरपकड़ करने हेतु सतत जंगल में गस्त किया जा रहा आज दिनांक 27/9 /2020 को बिलाईगढ़ परीक्षेत्र के बिलाईगढ़ परिवृत्त कक्ष क्रमांक 399 401 400 में मलुहा से भंडोरा मार्ग के सामने से दो मोटरसाइकिल में 70 किलोग्राम कटा हुआ बास कलीर बेचने हेतु जंगल से चोरी कर परिवहन करने के अपराध में पकड़ा गया प्रेम सिंह पिता अलग सिंह उम्र 42 वर्ष जाति गोंड साकिन पचपेडिया दूसरा उत्तर कुमार पिता गुलाल उम्र 32 वर्ष जाति गोंड साकिन पचपेडिया खाना सलिहा जिला बलौदा बाजार छत्तीसगढ़ से हीरो होंडा स्प्लेंडर वाहन क्रमांक सीजी 04 डी ई6780 एवं सीजी 04 सी एल2192 को जप्त किया गया एवं जप्त किए गए नाशवान कलीर को जमीन में गड्ढा खोदकर दबाया गया प्रकरण में भारतीय वन अधिनियम 1927 की धारा 41(2 )52 एवं छत्तीसगढ़ वनोपज अभिवहन नियम 2001 का उल्लंघन करने के अपराध में 1 अपराध दर्ज कर POR क्रमांक 15551/12 दिनांक 27/9/2020 जारी किया गया । एवं पी आर ओ क्रमांक 15550/15 मनीराम पिता महादेव जाति सतनामी उम्र 42 वर्ष साकिन खैरझिटी एवं नरेश वर्ल्ड मनीराम जाती सतनामी उम्र 19 वर्ष साकिन खैरझिटी द्वारा साइकिल में सागौन का सिर पट परिवहन किया जा रहा था सभी को जप्त कर उन परिक्षेत्र बिलाईगढ़ लाया गया। जिसमे वन मंडल अधिकारी बलौदा बाजार आलोक तिवारी एवं उप वन मंडल अधिकारी कसडोल उदय सिंह ठाकुर के मार्गदर्शन एवं जगदीश जयसवाल वन परीक्षेत्र अधिकारी बिलाईगढ़ के निर्देशन पर कार्यवाही किया गया है ।