बड़ी खबर

छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का भूमिपूजन 29 अगस्त को: सोनिया गांधी और राहुल गांधी रखेंछत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का भूमिपूजन 29 अगस्त को: सोनिया गांधी और राहुल गांधी रखेंगे आधारशिलागे आधारशिला

 मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष, सभी मंत्री, सांसद व विधायकों की गरिमामय उपस्थिति में नवा रायपुर अटल नगर में दोपहर 12 बजे होगा भूमिपूजन कार्यक्रम

रायपुर, 29 अगस्त 2020 छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का भूमिपूजन 29 अगस्त को दोपहर 12 बजे सांसद  सोनिया गांधी एवं  राहुल गांधी द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया जाएगा। छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर अटल नगर में विधानसभा का नवीन भवन बनेगा। भूमिपूजन कार्यक्रम मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, नेता प्रतिपक्ष  धरमलाल कौशिक, लोक निर्माण मंत्री  ताम्रध्वज साहू, संसदीय कार्य मंत्री   रविन्द्र चौबे, विधानसभा के उपाध्यक्ष मनोज मंडावी सहित मंत्रियों, सांसदों, संसदीय सचिवों और विधायकों की गरिमामय उपस्थिति में निर्माण स्थल पर संपन्न होगा।

    गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का निर्माण महानदी एवं इन्द्रावती भवन के मध्य के पीछे 51 एकड़ भूमि पर किया जाएगा। नवीन भवन 52 हजार 497 वर्ग मीटर में होगा। भवन में विधायकों की बैठक क्षमता के अनुरूप सदन का निर्माण एवं अध्यक्षीय दीर्घा, अधिकारी दीर्घा, प्रतिष्ठित दर्शक दीर्घा, पत्रकार दीर्घा एवं दर्शक दीर्घा का निर्माण किया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों, नेता प्रतिपक्ष एवं उपाध्यक्ष और मुख्य सचिव तथा विधानसभा के प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य सचिव के लिए कक्ष, मीटिंग हॉल एवं स्टाफ कक्षों का निर्माण किया जाएगा। नवीन भवन में विभिन्न समिति कक्षों का निर्माण, पुस्तकालय, एलोपैथिक, होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक औषधालय, पोस्ट ऑफिस, रेल्वे रिजर्वेशन काऊंटर एवं बैंक के लिए भी कक्षों का निर्माण होगा। विधानसभा के चारों ओर सड़क निर्माण, वृक्षारोपण सहित सौन्दर्यीकरण का कार्य किया जाएगा।

नीति आयोग के सूचकांक में शीर्ष पांच राज्यों में छत्तीसगढ़ का चौथा स्थान

नई दिल्ली: नीति आयोग ने इंस्टीट्यूट ऑफ कॉम्पिटिटिवनेस के साथ साझेदारी में  Export Preparedness Index (EPI) 2020 पर रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में भारतीय राज्यों की निर्यात तैयारी और प्रदर्शन का मूल्यांकन किया गया है। इसका उद्देश्य चुनौतियों और अवसरों की पहचान करना है; सरकारी नीतियों की प्रभावशीलता में सुधार; और एक सुविधा नियामक ढांचे को बढ़ावा देना। सूचि के अनुसार भूमि से घिरे हुए राज्यों में, शीर्ष पांच राज्यों में छत्तीसगढ़ का स्थान चौथा है।

 
Export Preparedness Index (EPI) 2020 की लिस्ट शेयर करते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय छत्तीसगढ़ ने लिखा है "नीति आयोग की (Export Preparedness Index) निर्यात की तैयारी सूचकांक के हिसाब से स्थल-सीमा से घिरे राज्यों में छत्तीसगढ़ चौथे स्थान पर। नीति आयोग ने राज्यों की भौगोलिक स्थिति के आधार पर स्थलीय भूभाग से घिरे (Landlocked) राज्यों में छत्तीसगढ़ को 55.95 अंकों के साथ चौथा रैंक दिया है।"    

ईपीआई की संरचना में 4 स्तंभ- नीति, व्यवसाय परितंत्र, निर्यात परितंत्र, निर्यात निष्पादन तथा 11 उप स्तंभ - निर्यात संवर्धन नीति, संस्थागत संरचना, व्यवसाय वातावरण, अवसंरचना, परिवहन संपर्क, वित्त की सुविधा, निर्यात अवसंरचना, व्यापार सहायता, अनुसंधान एवं विकास अवसंरचना, निर्यात विविधीकरण और विकास अनुकूलन शामिल हैं।  

देश में कोरोना के 67151 नए मामले आए, 1059 की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 32 लाख के पार

नई दिल्ली:-देश में कोरोना संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 67,151 नए मामले सामने आए और 1059 लोगों की मौत हुई। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 67,151 नए मामलों के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 32,34,475 हो गया। इसी दौरान 63,173 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जिससे कोरोना से मुक्ति पाने वालों की संख्या 24,67,759 हो गई है। स्वस्थ होने वालों की तुलना में संक्रमण के नए मामले अधिक होने से सक्रिय मामलों में 2919 की वृद्धि हुई है और इनकी संख्या 7,07,267 हो गई है। देशभर में पिछले 24 घंटों के दौरान 1059 लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या 59,449 हाे गई। देश में सक्रिय मामले 21.87 प्रतिशत और रोगमुक्त होने वालों की दर 76.30 प्रतिशत है जबकि मृतकों की दर 1.84 प्रतिशत है।

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 31,67,323 हुई, रिकवरी रेट भी बढ़ा

नई दिल्लीः कोरोना वायरस महामारी से देश में संक्रमितों का आंकड़े दिनों-दिन लगातार बढ़ते जा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी किए गए आंकडों के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 31,67,323 हो गई है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 60,975 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 848 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। इसके साथ ही देश में मृतको की संख्या 58,390 हो गई है। दूसरी तरफ, अच्छी बात ये भी है कि अब तक इस वायरस से 24,04,585 लोग ठीक हो चुके हैं। इसके साथ ही रिकवरी रेट बढ़कर 75.91 प्रतिशत पर पहुंच गया है। 

एनडीटीवी इंडिया के मुताबिक, कोरोना के बढ़ते मामलों का एक कारण सैंपल टेस्टों में की गई बढ़ोत्तरी भी है। ICMR के द्वारा प्राप्त आकंड़ों के अनुसार सोमवार 24 अगस्त को देश में 9,25,383 लोगों के सैंपल एकत्रित किए गए तो वहीं 24 अगस्त तक कुल 3,68,27,520 लोगों की कोरोना की जांच हो चुकी है। पॉजिटिविटी रेट में भी थोड़ी गिरावट देखी गई है जो सात प्रतिशत से नीचे आकर 6.58 फीसदी हो गई है। 
अगर पूरे विश्व के आंकड़े देखें जाएं तो उस लिहाज से भारत में रोजाना आने वाले मामलों की संख्या सबसे ज्यादा है, पिछले 21 दिनों से लगातार भारत में कोरोना के मरीज अन्य देशों के मुकाबले ज्यादा देखने को मिल रहैं. WHO के आंकड़ों के अनुसार 4 अगस्त से लेकर 24 अगस्त तक लगातार भारत में सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज सामने आए हैं। 
आपको बता दें कि राज्यों में महाराष्ट्र की स्थिति सबसे चिंताजनक बनी हुई है। पिछले 24 घंटों में महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं और मरने वालों की संख्या भी इसी राज्य में सबसे ज्यादा है। 24 घंटों में महाराष्ट्र में 11015, आंध्र प्रदेश में 8601, तमिलनाडु में 5967, कर्नाटक में 5851 और उत्तर प्रदेश में 4601 नए मामले सामने आए। वहीं इस दौरान महाराष्ट्र में 212, कर्नाटक में 127, तमिलनाडु में 97, आंध्र प्रदेश में 86 और उत्तर प्रदेश में 61 लोगों की मौत हुई है।

कांग्रेस में बड़े बदलाव के लिए पार्टी के 23 नेताओं ने लिखी सोनिया को चिट्ठी, कल CWC में होगा मंथन

कांग्रेस पार्टी में अप्रत्याशित रूप से बड़े फेरबदल की मांग की जा रही है. कांग्रेस में बदलाव की मांग करते हुए सीडब्ल्यूसी सदस्यों, पार्टी सांसदों और पूर्व मंत्रियों सहित पार्टी के शीर्ष 23 नेताओं ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है.

सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की सोमवार को होने वाली बैठक में संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा की जाएगी. माना जा रहा है कि मीटिंग के केंद्र में यही पत्र रहेगा. यह पत्र दो सप्ताह पहले ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखा गया था.

दिल्ली: धौला कुआं में एनकाउंटर, ISIS का एक आतंकी गिरफ्तार, दूसरा फरार

दिल्ली:-दिल्ली के धौला कुआं रिंग रोड के पास एनकाउंटर चल रहा है. पुलिस का कहना है कि इस एनकाउंटर के दौरान एक आतंकी को पकड़ लिया गया है. आतंकी का नाम अबू युसूफ बताया जा रहा है.

दिल्ली के धौला कुआं रिंग रोड के पास एनकाउंटर चल रहा है. पुलिस का कहना है कि इस एनकाउंटर के दौरान एक आतंकी को पकड़ लिया गया है. स्पेशल सेल की टीम अभी भी ऑपरेशन को अंजाम दे रही है. उसका कहना है कि अभी और भी गिरफ्तारी हो सकती है.

जानकारी के मुताबिक, पकड़े गए आतंकी का नाम अबू यूसुफ बताया जा रहा है. उसके पास से 2 आईईडी और हथियार बरामद किए गए हैं. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कल देर रात अपना ऑपरेशन शुरू किया था, जो अभी तक जारी है. बताया जा रहा है कि आतंकी के निशाने पर एक महत्वपूर्ण शख्सियत थी।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार आईएसआईएस आतंकी अबू युसूफ उत्तर प्रदेश के बलरामपुर का रहने वाला है. एक टीम बलरामपुर में रेड कर रही है. अबू युसूफ के साथ एक और आतंकी था, जो फरार हो गया है. उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि आईएसआईएस के आतंकी दिल्ली में बड़ा आतंकी हमला करना का प्लान बना रहे थे. लोन वुल्फ अटैक का प्लान था. कई जगह की आतंकी ने रेकी की थी. पुलिस के मुताबिक, दिल्ली कुछ लोग अबू यूसुफ को संसाधन मुहैया करा रहे थे, उनकी धर पकड़ के लिए छापेमारी की जा रही हैं।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डिप्टी पुलिस कमिश्नर (डीसीपी) प्रमोद सिंह कुशवाहा ने कहा कि धौला कुआं में एनकाउंटर के दौरान स्पेशल सेल ने एक आईएसआईएस के आतंकी को पकड़ा है. उसके पास से आईईडी बरामद किए गए हैं. फिलहाल एनकाउंटर जारी है. कुछ और लोग गिरफ्तार किए जा सकते हैं।

Breaking: प्रदेश में मिले 768 नए कोरोना मरीज व 8 की मौत, रायपुर से ढाई सौ से अधिक,कल रात मिले थे 54 और केस

रायपुर:-छत्तीसगढ़ मेंं शुक्रवार को 768 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने रात 8:45 बजे की स्थिति में मेडिकल बुलेटिन जारी की है। आज 266 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। 8 मरीजों की मौत की पुष्टि की गई है। 768 मरीजों में रायपुर जिले से 253,दुर्ग से 88,राजनांदगांव से 67, सुकमा से 53,कांकेर से 49, जांजगीर-चांपा से 37, रायगढ़ से 33, बस्तर से 26, कोरिया से 25,बिलासपुर से 23, धमतरी से 19,गरियाबंद से 14,कोंडागांव से 11, बलौदाबाजार से 9,महासमुंद व कोरबा से 8-8,बालोद व दंतेवाड़ा से 7-7, जशपुर व बीजापुर से 6-6, कबीरधाम से 5, नारायणपुर से 4,बेमेतरा से 3, सरगुजा, सूरजपुर व बलरामपुर से 2-2, मुंगेली से 1 मरीज की पहचान हुई है। बताया गया है कि, गुरुवार देर रात 54 और मरीजों की पहचान हुई थी। इनमें रायपुर से 53 व कांकेर से 1 मरीज शामिल था। प्रदेश में अब तक 19459 मरीजों की पहचान हो चुकी है। इनमें 12005 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 180 मौत दर्ज की गई है। एक्टिव केस की संख्या 7274 पहुंच चुकी है।

सुप्रीम कोर्ट ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में CBI जांच का दिया आदेश

नई दिल्लीः सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पटना से मुंबई जांच रद्द करने की अभिनेता रिंया चक्रवर्ती की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने केस की जांच का अधिकार सीबीआई को दे दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने बिहार में दर्ज थ्प्त् को सही ठहराया है, साथ ही मुंबई पुलिस को आदेश दिया है कि वो जांच में सहयोग करें। जस्टिस हृषिकेश रॉय की एकल पीठ ने फैसला सुनाया। खंडपीठ ने कहा कि पटना में दर्ज एफआईआर से पता चलता है कि मुंबई पुलिस का भी अधिकार क्षेत्र है। शीर्ष अदालत ने 11 अगस्त को सुनवाई के बाद चक्रवर्ती की याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।
कोर्ट ने कहा कि मुंबई पुलिस ने इस मामले में जांच नहीं बल्कि सिर्फ पूछताछ की थी। सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई पुलिस को कहा कि सभी दस्तावेज सीबीआई को दें। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस को बड़ा झटका लगा है। 
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब सीबीआई टीम मुंबई जाएगी। इस केस की जांच अब मुंबई में ही की जाएगी। सीबीआई मुंबई पुलिस से केस डायरी, सभी गवाहों और संदिग्धों के बयान, फॉरेंसिक और ऑटोप्सी रिपोर्ट मांगेगी। सीबीआई उन लोगों के बयान दर्ज करेगी जो सुशांत की मौत के वक्त वहां मौजूद थे। एजेंसी रिया, उनके भाई शोविक, पिता इंद्रजीत और बाकियों को समन भेजेगी। इसके बाद ही सीबीआई किसी की गिरफ्तारी पर फैसला लेगी।

हालांकि, रिया चक्रवर्ती ने अपनी याचिका में कहा कि बिहार पुलिस के पास इस मामले में कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है और राज्य में चुनाव से पहले राजनीतिक लाभ के लिए अभिनेता की मौत का इस्तेमाल किया जा रहा था। मीडिया का ध्यान आकर्षित करने और मामले की सनसनीखेज स्थिति एक और आधार है, जिस पर चक्रवर्ती ने मामले को मुंबई स्थानांतरित करने की मांग की है।

राजपूत के पिता केके सिंह की शिकायत के आधार पर कि रिया चक्रवर्ती उनकेे बेटे की आत्महत्या के लिए जिम्मेदार थीं, पटना पुलिस ने 25 जुलाई को एक प्राथमिकी दर्ज की थी।

सिंह ने यह भी आरोप लगाया कि राजपूत के बैंक खाते से चक्रवर्ती ने अवैध रूप से 15 करोड़ रुपये स्थानांतरित किए। हालांकि, अभिनेता ने सभी आरोपों से इनकार किया है और यह सुनिश्चित किया है कि वह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा शुरू की गई जांच में सहयोग करेगा। इस बीच, ईडी ने मंगलवार को अपने बेटे के वित्त पर ईडी से पूछताछ की।

मुख्यमंत्री 20 अगस्त को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत 19 लाख किसानों के खातों में अंतरित करेंगे 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त

 रायपुर, 19 अगस्त 2020  रायपुर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने मंत्री मण्डल के सहयोगियों के साथ पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्वर्गीय   राजीव गांधी की जयंती 20 अगस्त को अपने निवास कार्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त की राशि का ऑनलाईन अंतरण करेंगे। मुख्यमंत्री इस अवसर पर तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष 2018 के प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में 232.81 करोड़ की राशि उनके खातों में अंतरित करेंगे साथ ही गोधन न्याय योजना के तहत गोबर विक्रेताओं को दूसरे पखवाड़े में बेचे गए गोबर की राशि का अंतरण भी करेंगे।

    छत्तीसगढ़ सरकार की राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 5750 करोड़ की अनुदान सहायता राशि दी जा रही है। जिसमें प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ की राशि राजीव गांधी जी के शहादत दिवस 21 मई को प्रदान की गई थी वहीं इस योजना के तहत दूसरी किश्त के रूप में 1500 करोड़ की राशि 20 अगस्त को प्रदान की जा रही है। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में गोधन न्याय योजना के तहत दो रूपए प्रति किलो की दर से गोबर की खरीदी की जा रही है। इस योजना के तहत 2 अगस्त से 15 अगस्त तक खरीदे गए गोबर की राशि भी विक्रेताओं को उनके खातों में अंतरित की जाएगी।
    इस अवसर पर प्रदेश के 114 विकासखण्डों के अंतर्गत तेंदूपत्ता संग्रहण वर्ष 2018 सीजन में 728 समितियों के 11 लाख 46 हजार 626 तेंदूपत्ता संग्राहकों को 232 करोड़ 81 लाख रूपए की प्रोत्साहन पारिश्रमिक की राशि वितरित की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री बघेल यह राशि सीधे तेंदूपत्ता संग्राहकों के खाते में आर.टी.जी.एस. के जरिए अंतरित करेंगे। तेंदूपत्ता संग्राहकों को प्रोत्साहन पारिश्रमिक वितरित करने के लिए संबंधित जिलों में जिला स्तर पर और 114 विकासखण्डों में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। विकाखण्ड स्तर पर आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों में अधिकतम प्रोत्साहन पारिश्रमिक की राशि प्राप्त करने वाले 10 संग्राहक सदस्यों को सम्मानित किया जाएगा।
    उल्लेखनीय है कि तेंदूपत्ता संग्रहण वर्ष 2018 सीजन में प्रदेश की 880 प्राथमिक वन समितियों द्वारा कुल 14.85 लाख मानक बोरा तेंदूपत्ता का संग्रहण किया गया था। संग्रहण पारिश्रमिक की दर वर्ष 2018 में 2500 रूपए प्रति मानक बोरा थी। वर्ष 2018 में 11 लाख 98 हजार 673 तेंदूपत्ता संग्राहकों को 371.15 करोड़ रूपए की राशि संग्रहण पारिश्रमिक के रूप में वितरित की गई थी। इन 880 समितियों में से 854 समितियों के तेंदूपत्ता का निर्वर्तन निविदा के माध्यम से किया गया है। इनमें से 728 समितियां लाभ की स्थिति में रहीं। तेंदूपत्ता व्यापार से शुद्ध लाभ की 80 प्रतिशत राशि प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में तेंदूपत्ता संग्राहकों को वितरण करने का प्रावधान राज्य शासन की नीति में है।
    लाभ की स्थिति वाले 728 समितियों के 11 लाख 46 हजार 626 तेंदूपत्ता संग्राहकों को कुल 232.81 करोड़ रूपए की राशि प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में वितरित की जाएगी। ये समितियां प्रदेश के 114 विकासखण्डों के अंतर्गत स्थित है। जिन संग्राहकों के बैंक खातों का विवरण प्राप्त हो गया है, उनके खाते में यह राशि सीधे एक्सिस बैंक के माध्यम से आर.टी.जी.एस से भेजी जाएगी।

भाटापारा के सुहेला में दो ट्रक की हुई भिड़ंत एक ड्राइवर की हुई मौत

भाटापारा :-  भाटापारा के सुहेला में दो ट्रक की हुई भिड़ंत एक ड्राइवर की हुई मौत ,भाटापारा से सुहेला की ओर जा रही थी ट्रक  ड्राइवर की मौत ,तथा सुहेला से भाटापारा की ओर आ रही ट्रक चालक घटना स्थल में ट्रक छोड़कर फरार, सुहेला थाना क्षेत्र की घटना, सुहेला थाना पुलिस जुटी जाच में

आजादी के तिहत्तर साल बाद भी मुलभुत सुविधाओ से वंचित है यहाँ के ग्रामीण ...पढ़े ये विशेष रिपोर्ट

आजादी के तिहत्तर साल में गांवों का विकास कहा तक हुआ है यह अगर देखना हो तो कोरिया जिले के  भरतपुर विकाशखण्ड में जाकर  देखा जा सकता है । भरतपुर विकाशखण्ड के  सुदूर वनांचल के गांवों की हालत यह है कि वहाँ आने जाने के लिए न तो सड़क है और न ही नदी में पुल है गावो में बिजली तक नही है ।

ऐसे में ग्रामीणों को मुख्य मार्ग व ब्लाक मुख्यालय तक आने जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जनप्रतिनिधि है कि चुनाव के समय केवल वोट मांगने आते है और उसके बाद पलटकर नही देखते । 

 देश को आजाद हुए तिहत्तर साल का समय हो गया इस दौरान देश ने विकास के कई बड़े बड़े आयाम स्थापित किये । पर असल मे गावो में बसने वाले भारत का विकास कहा तक पहुचा यह जनपद पंचायत भरतपुर के घघरा मुख्य मार्ग से लावाहोरी जाने वाले रास्ते मे जाकर आसानी से देखा जा सकता है । इस मुख्य मार्ग से भरतपुर जनपद पंचायत के सात गांव कोरमो ढाप कुदरा दुलारी खोहरा ठरगी और लावाहोरी आदि गांव जुड़े है पर इन गांवों में रहने वाले ग्रामीणों को सड़क पुल और बिजली नही होने से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। समस्या बरसात के दिनों में ज्यादा बढ़ जाती है मुख्य मार्ग घघरा तक पहुँचने के लिए ग्रामीण जान जोखिम में डालकर नदी पार करते है और जंगल की कच्ची सड़क से होते हुए किसी तरह पहुँचते है। ग्रामीणों का कहना है कि अधिकारी कभी गांव आये तो काम हो जाने की बात कहकर चले जाते है और नेता चुनाव के समय वोट मांगने के बाद दुबारा पलटकर नही आते। 


 तस्वीरों में आप साफ देख सकते है कि किस तरह इन गांवों को जोड़ने वाली रापा नदी में पुल नही होने से ग्रामीण नदी पार कर रहे है अपने छोटे बच्चों और सामान को लेकर जान जोखिम में डालकर आ जा रहे है। इतना ही नही दुपहिया वाहन को भी किसी तरह पार कर रहे है ऐसे में कभी भी बड़ी घटना हो सकती है। बरसात में समस्या बढ़ जाती है पहले जान जोखिम में डालकर ग्रामीण नदी पार करते है फिर उसी मार्ग में बरसात में कीचड़ से सनी सड़क पर चलते हुए मुख्य मार्ग तक पहुँचते है। गाँव मे बिजली की परेशानी अलग है ऐसा नही है कि इन सभी समस्याओं की जानकारी विकास के लिए जिम्मेदार अधिकारी और जनप्रतिनिधियों को नही है पर सरकार बदली विधायक बदले नही हो पाया तो आज तक आजादी के बाद केवल विकास । 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने ईआईए अधिसूचना के मसौदे पर उठाए सवाल, कहा : सतत विकास की प्रक्रिया होगी बाधित

रायपुर, 15 अगस्त 2020 : BBN24 NEWS

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिख कर पर्यावरण प्रभाव आंकलन ( EIA ) अधिसूचना के मसौदा पर सवाल उठाए हैं।  बघेल ने कहा कि यह मसौदा सतत विकास की प्रक्रिया को बाधित करेगा। उन्होंने पत्र के माध्यम से मसौदे को लेकर कुछ सुझाव और आपत्ति भी दर्ज कराई है।

श्री बघेल ने केंद्रीय मंत्री को पत्र में लिखा है कि मैं पर्यावरण मंजूरी देने की नई प्रक्रिया को अधिक समीचीन और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस से जोड़ने के आपके उद्देश्य को समझता हूं। लेकिन ईआईए अधिसूचना, 2020 के मसौदे के प्रावधान पर्यावरणीय न्यायशास्त्र के अनुरूप नहीं हैं और ये ’सतत विकास’ और ईआईए प्रक्रिया के अपने उद्देश्यों को पूरी नहीं करता है।

सीएम बघेल ने लिखा है कि ईआईए अधिसूचना 2020 के मसौदा में पर्यावरण मंजूरी देने के संबंध में प्रदेश सरकार के विचारों और राय को शामिल नहीं किया गया है। वहीं, ईआईए अधिसूचना, 2020 के मसौदे में कोई ऐसा प्रावधान नहीं है, जो अनुसूची V और VI के तहत संवैधानिक अधिकारों की गारंटी देता हो। श्री बघेल ने पत्र में लिखा है कि ईआईए अधिसूचना के प्रारूप में पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए आवश्यक संवेदनशीलता को पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया गया है।
    पत्र में श्री बघेल ने उम्मीद जताई है कि ईआईए अधिसूचना 2020 के प्रारूप को अंतिम रूप देने से पहले उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर ध्यान दिया जाएगा।

BBN 24 NEWS : अकलतरा : कर्रा नाला बांध को चौपाटी के रूप में किया जायेगा विकसित- विधायक सौरभ सिंह

सुबोध थवाईत -कोटमी सोनार

कोटमी सोनार  ( BBN NEWS ) । जांजगीर चंपा जिला अन्तर्गत ग्राम कोटमी सोनार के कर्रा नाला बांध को क्रोकोडायल पार्क के साथ ही कर्रानाला बांध को विकसीत करने  की योजना बनाई गई है आज कर्रानाला बांध का निरीक्षण करने विधायक सौरभ सिंह, कांग्रेस नेता राघवेंद्र सिंह,जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल, डीएफओ,मत्स्य विभाग के अधिकारी कोटमी सोनार पहुचे थे। विधायक सौरभ सिंह  ने बताया कि प्रदेश का एकमात्र क्रोकोडायल पार्क कोटमी सोनार में स्थित है यहां हजारो की संख्या की में पर्यटक पहुचते है यहां क्रोकोडायल पार्क कुछ दूरी पर कर्रानालाल बांध है

जिसे टूरिज्म ,चौपाटी की तरह  विकसीत करने से यहां आने पर्यटक ,सैलानियों को मनोरजंन करने की एक और प्राकृतिक जलाशय मिल सकता है।कर्रानाला बांध के समीप आगन्तुको के लिए एक सुंदर सा रेस्ट हाउस, कैंटीन का निर्माण किया जायेगा जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी उपलब्ध हो सकेगा।

इसके साथ ही क्रोकोडायल पार्क में विधायक सौरभ सिंह, कांग्रेस नेता राघवेंद्र सिंह,जिला पंचायत सीईओ,डीएफओ द्वारा वृक्षारोपण किया गया।

इस दौरान सरपंच प्रतिनिधि बलराम सिंह नेताम, वरिष्ठ कांग्रेस नेता सौरभ सिंह बाबा, राजकुमार सिंह,हर्ष सिंह, जनपद सीईओ सत्यव्रत तिवारी, पूर्व सरपंच सन्तकुमार नेताम, गौठान समिति अध्यक्ष अजीम मोहम्मद, गोलू थवाईत, राकेश शर्मा,कुशल पटेल ,सीताराम दास,सहित अन्य उपस्थित रहे।

BJP कल लाएगी अविश्वास प्रस्ताव, गहलोत सरकार की बढ़ीं मुश्किलें

राजस्थान में सियासी हलचल तेज हो गई है. शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. भारतीय जनता पार्टी BJP ने ऐलान किया है कि वो कल ही सदन में अविश्नास प्रस्ताव लाएगी. ऐसे में अशोक गहलोत सरकार के सामने बहुमत साबित करने की चुनौती है. गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी की बैठक हुई, जिसमें ये फैसला लिया गया.

 

कोरिया। 5 दिनों से लगातार हो रही बारिश से सोनहत ब्लॉक के ग्राम छेगुरा में हसदेव नदी का रपटा पुल टूटा । 6 से अधिक गांव जिला मुख्यालय से टूटा संपर्क । जान जोखिम में डालकर ग्रामीण कर रही नदी पार ।

संपर्क टूटने वाले गांव कछाड़ी, लोककी,जोगिया, छेगुरा, मझगवां, भगवतपुर ।

अभी तक अधिकारी ना जनप्रतिनिधि नहीं पहुंचे । भरतपुर सोनहत विधानसभा का मामला ।

ब्लॉक सोनहत पहुंचमार्ग में हसदो नदी पर बना रपटा पुल पूरी तरह से टूट जाने से आवागमन बाधित हो गया है। बारिश के इस सीजन में पुल टूटने से चार पहिया वाहन तो जा नही सकती है।लोग बहते पानी में जान जोखिम में डाल कर नदी पार कर आवश्यक कार्यो से सोनहत व जिला मुख्यालय पहुंच रहे है। इस रपटा पुल के टूटने से ग्राम पंचायत कछाड़ी सहित लोलकी, जोगिया, छेंगुरा, मझगवां, भागवतपुर सहित सूरजपुर जिले के छतरंग,पालकेवरा, घुईडीह, ग्राम पंचायतो के लोगो का सोनहत ब्लाक मुख्यालय से सम्पर्क टूट गया है। इन ग्रामो के लोग इस मुख्य सड़क मार्ग से ही सोनहत आवश्यक कार्यो से आना जाना करते है। लेकिन पुलिया के टूटने से अब लोग बहते नदी पार कर जान जोखिम में मुख्यालय आवश्यक कार्यो से आ रहे है। बता दे की यह रपटा पुल का कुछ हिस्सा करीब 4 साल पहले टूट गया था। इसी दौरान सोनहत से कच्छाड़ी ग्राम पंचायत तक पी एम जे एस वाई के तहत सड़क भी बनी थी।लेकिन टूटे हुवे रपटा पुल के जगह नई पुल की स्वीकृति नही होने की वजह से टूटे हुवे पुल जस का तस छोड़ दिया गया । जो इन चार सालो में अब पूरी तरह टूट गया है। इसके उपरांत स्थानीय ग्रामीणो सहित सरपंच नए पुल की स्वीकृति के लिये तत्कालीन सन्सदिव सचिव से मांग की थी लेकिन कोई ध्यान नही दिया गया।। उसके बाद वर्तमान विधायक एवम् राज्यमन्त्री गुलाब कमरो से भी ग्रामीणों ने नए पुल के स्वीकृति के लिए मांग की है। लेकिन अब तक पुल की स्वीकृति नही मिली है। इधर पुल का टूटा हुआ हिस्सा धीरे धीरे बारिश के बहाव में बहता गया। जो वर्तमान में पूरी तरह से टूट गया है। फ़ोटो सलग्न:-सोनहत- कछाडी मार्ग में हसदो नदी पर रपटा पुल के टूटने से लोग जान जोखिम में डाल नदी पार कर रहे