राजनीति

नगरीय प्रशासन विकास एवं श्रम विभाग के मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 30 को रहेगे बिलासपुर दौरे पर

नगरीय प्रशासन विकास एवं श्रम विभाग के मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया 30 जनवरी 2021 को जिले के प्रवास पर रहेंगे। डॉ. डहरिया 30 जनवरी को दोपहर 12.30 बजे निजी निवास रायपुर से बिलासपुर के लिए कार द्वारा प्रस्थान करेंगे और बिलासपुर पहंुचकर दोपहर 3 बजे से शाम 4 बजे तक कपिल नगर सरकण्डा बिलासपुर में भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल होेंगे। वे शाम 4 बजे कपिल नगर सरकण्डा से मोपका के लिए प्रस्थान करेंगे तथा शाम 4.15 से शाम 6.30 बजे तक वार्ड क्र. 47 मोपका परिक्षेत्र बिलासपुर में बाबा गुरू घासीदास जन्मोत्सव व पारिवारिक मिलन समारोह कार्यक्रम में शामिल होेंगे। कार्यक्रम समाप्ति के पश्चात् वे शाम 6.30 बजे कार द्वारा रायपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।

कमीशन के बगैर कोई कार्य नही , विकास दिखाने के लिए भाजपा के किये कार्यो पर वाह वाही लूट रही कांग्रेस - महेश गागड़ा

बीजापुर - प्रदेश सरकार की झूठी वादों और अहित नितियों के खिलाफ किसान उतरे भाजपाइयों के संग सड़क पर। प्रदेश भाजपा के आव्हान पर पूर्व मंत्री महेश गागड़ा और जिला भाजपा अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार के नेतृत्व में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन और कलेक्ट्रेड घेराव किया। इस दौरान जन समुदाय को संबोधित करते हुए महेश गागड़ा ने प्रदेश सरकार को तीखा प्रहार करते हुए कहा कि सत्ता हतियाने के लिए कांग्रेस जनता से अनगिनत वादे थोक के भाव मे किये परंतु सरकार में आते ही इनका दोहरा चरित्र जनता के सामने आ गया,ऐसा कोई वर्ग हो जिसे कांग्रेस ने ठगा नही चाहे किसान हो,युवा वर्ग हो विभिन्न विभाग के कर्मचारी हर एक वर्ग के साथ छलावा प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार ने किया है। एक दिवसीय धरना और कलेक्ट्रेट घेराव कार्यक्रम में उमड़ा जनसैलाब को आने वाले समय मे बदलाव का संकेत बताया। साथ ही श्री गागड़ा ने कहा कि यह अब शुरूआत है आने वाले समय मे जनता के साथ हो रही अन्याय के खिलाफ भाजपा सड़क की लड़ाई क्यों न लड़ना पड़े सदैव तत्पर रहेगी । आगे उन्होंने स्थानीय विधायक पर पुलिस की आड़ लेकर आदिवासियों को परेशान करने और डंडे खिलाने के कार्य करवाने का आरोप लगाया। वही जिला भाजपा अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने कहा कांग्रेस बार-बार बिना ज्ञान के केंद्र की मोदी सरकार पर दोष मढ़ना बंद करके अपने किये वादों को पूरा करें,अपनी नाकामी छुपाने के लिए केंद्र पर दोष लगा रही है जबकि बारदाना व्यवस्था करना प्रदेश सरकार की होती है। सिर्फ किसानो के साथ अन्याय नही हो रहा बल्कि हर वर्ग के साथ यथास्थिति है जो कि भूपेश सरकार की नाकामी बताने के लिए काफी है। सरकार चला नही पा रहे हैं तो कुर्सी छोड़ देनी चाहिये। आज बीजापुर जिले में विधायक सीधा-सीधा भ्रष्टाचार में संलिप्त है वे स्वयं अधिकारियों के साथ निर्माण कार्यों की भ्रष्टाचार के हिस्सेदारी में हैं ऐसे में क्षेत्र का विकास बेहतर कभी नही हो सकता। लंबे समय बाद बड़ी संख्या में जनता भाजपा के साथ पुनः खड़ी नजर आ रही है जन समर्थन देख भाजपा संगठन भी गदगद है एक दिवसीय धरना में जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से हजारों लोग एकत्रित हुए थे। नया बस स्टैंड में धरना देने पश्चात हजारों भीड़ कलेक्टर कार्यालय का घेराव करने निकले हालांकि भारी पुलिस बल तैनात थी व जगह-जगह बैरिकेड लगा रखी थी एक बैरिकेड को तोड़ आगे बड़े पर आगे जाने से आंदोलनकरियों को पुलिस ने रोका इस दौरान सैकड़ों भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में बाइक रैली भी निकाली.।

भाजपा का आंदोलन फ्लाप शो -कांग्रेस किसानों के नाम पर किये आंदोलन में किसान ही नही आये - कांग्रेस

रायपुर/22जनवरी 2021। भारतीय जनता पार्टी द्वारा किया गया आंदोलन पूरी तरह फ्लाप साबित हुआ। प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री और किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष चन्द्रशेखर शुक्ला ने कहा कि किसानों के नाम पर किये गए आंदोलन को किसानों ने ही नकार दिया। किसानों ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा किये गए आंदोलन से दूरी बना कर यह बता दिया कि भारतीय जनता पार्टी के उठाये गए मुद्दों से राज्य के किसान सहमत नही है। कांग्रेस महामंत्री चन्द्रशेखर शुक्ला ने कहा कि जब राज्य में 90 प्रतिशत से अधिक धान की खरीदी हो चुकी है। राज्य के उन्नीस लाख से अधिक किसानों ने अपना धान बेच कर भुगतान प्राप्त कर लिया है तब भाजपाइयों को किसानों की सुध आ रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की किसानों से किये गए वायदे को निभाने की प्रतिबद्धता है कि धान खरीदी को अभी 9 दिन शेष है सरकार ने 84 लाख मीट्रिक टन धान की रिकार्ड खरीदी कर लिया है। कांग्रेस महामंत्री चंद्रशेखर शुक्ला ने कहा कि जब केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के द्वारा मांगे गए धान बोरो में कटौती किया था तब कोई भाजपा का नेता राज्य किसानों के हित मे आवाज नही उठाया। जब केंद्र ने राज्य से लिये जाने वाले चावल के कोटे को 60 लाख मीट्रिक टन से घटा कर 24 लाख कर दिया तब रमन सिंह सहित किसी भी भाजपा नेता और सांसद ने इसका विरोध नही किया। जब मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार को धान पर बोनस देने पर रोक लगाया तब भी भाजपा के छत्तीसगढ़ के नेता राज्य के बजाय केंद्र सरकार के पक्ष में खड़े थे। आज भाजपा नेता किसानों के हित में घड़ियाली आंसू बहा कर आंदोलन की नौटंकी कर रहे।

विरोध करने वाले भाजपा नेताओं ने पहले अपना धान बेचा और अब दिखावे का विरोध कर रहे है- विक्रम शाह मंडावी

बीजापुर - छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार शुक्रवार को ज़िला कांग्रेस कमेटी बीजापुर के द्वारा विशेष प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया जिसमें प्रेस से चर्चा करते हुए बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं बीजापुर के विधायक ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा की मोदी सरकार प्रदेश सरकार से लगातार सौतेला व्यवहार कर रही है चाहे बरदाने की आपूर्ति की बात हो फिर किसानों से सम्बंधित कोई और हमेशा से मोदी सरकार और भाजपा के लोगों ने प्रदेश के किसानों से सौतेला व्यवहार ही किया है जबकि प्रदेश की जनता ने केंद्र में प्रदेश के हित की बात करने के लिए भाजपा को प्रदेश ने नौ सांसद दिए है पर आज तक प्रदेश हित में किसी भी सांसद ने संसद में या फिर केंद्र सरकार से एक भी ऐसी बात नहीं रखी जिससे प्रदेश की जनता को लाभ हो, केंद्र की मोदी सरकार के लगातार सौतेला रवैए के बावजूद प्रदेश की भूपेश सरकार ने बिना किसी दबाव के आज पर्यंत तक पिछले वर्षों की अपेक्षा अधिक धान की ख़रीदी कर रही है। विवादित काले क़ानूनों को लेकर बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और बीजापुर के विधायक ने भाजपा और मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा की देश में जब से मोदी सरकार आई है तब से लगातार किसान विरोधी क़ानून ला रहे है मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में अपने व्यापारिक मित्रों को लाभ पहुँचाने के लिए किसान विरोधी भूमि अधिग्रहण क़ानून लाई थी जिसका कांग्रेस पार्टी ने पुरज़ोर विरोध किया था जिसके फलस्वरूप मोदी सरकार को मजबूरन भूमि अधिग्रहण क़ानून को वापस लेना पड़ा अब फिर उसी रास्ते पर चलते हुए मोदी सरकार ने अपने व्यापारिक मित्रों को लाभ पहुँचाने के लिए विवादित तीन काले क़ानूनों को लाई है जिसका पूरे देश में विरोध है और देश के किसान आज सड़कों पर है और कई किसानों ने तीन काले क़ानूनों के विरोध करते करते अपने प्रणों तक की आहुति दे रहे है लेकिन भाजपा के सांसद इस पर भी राजनीतिक रोटियाँ सेंक रहे है। जबकि प्रदेश के भाजपा सांसदों को मोदी सरकार से माँग करनी चाहिए कि किसान हित में इन तीन काले क़ानूनों को पूरी तरह वापस ले। भाजपा और मोदी सरकार चाहती ही नहीं की किसानों की आय दुगुनी हो बल्कि भाजपा और मोदी सरकार की हमेशा से ये कोशिश रही है की किसी भी तरह देश के किसानों की ज़मीन को छीनकर मोदी सरकार के कुछ चुनिंदा व्यापारिक मित्रों को दिया जाय अब देश और प्रदेश का किसान जाग गया है अब मोदी सरकार और भाजपा के किसी भी जुमले में आने वाले नहीं है। प्रेस से चर्चा में विक्रम शाह मंडावी ने आगे कहा की भाजपा के लोग एक तरफ़ तो धान ख़रीदी का विरोध कर रहे है वहीं दूसरी तरफ़ धान के समर्थन मूल्य का लाभ ले रहे है भाजपा का ये कैसा विरोध ? भाजपा ने हमेशा से किसानों का अपमान ही किया है जिसका सबसे बड़ा उदाहरण किसान सम्मान निधि है जिसके नाम पर भाजपा और मोदी सरकार ने किसानों का अपमान करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है। इसके विपरीत कांग्रेस की भूपेश सरकार ने अपने दो वर्षों के कार्यकाल में किसानों से किए गए हर वादे को पूरी की है चाहे धान का समर्थन मूल्य 2500 देने की बात हो या फिर क़र्ज़ माफ़ी की बात हो भूपेश सरकार हर वो वादा पूरा करी है जो वादे किसानों से की गई थी। आगे विक्रम शाह मंडावी ने कहा कि भाजपा ने 2014 के घोषणा पत्र में किसानों को फसल के लागत एवं समर्थन मूल्य पर 50 प्रतिशत का वायदा किया था उसे आज तक पूरा नहीं किया गया। प्रदेश में भाजपा के 15 सालों में छत्तीसगढ़ में किसानों से एक एक दाना ख़रीदने का वादा, 5 हार्सपावर पम्पों को मुफ़्त बिजली, 2100 रुपए में धान का समर्थन मूल्य, 300 रुपए बोनस देने के वादे से पूरी तरह मुखर गई यहाँ तक की किसान आत्म हत्याओं पर भी भाजपा सरकार शून्य बनी रही और लगातार किसानों से पंद्रह सालों तक छल करती रही। वही स्थिति केंद्र की मोदी सरकार की है मोदी सरकार ने किसानों की आय दुगुनी करने का वादा किया पर आज तक इस पर कोई रोड मेप नहीं है स्वामिनाथन कमेटी लागू नहीं कर उसके मापदण्ड को ही बदल डाला और तीन किसान क़ानून जिसमें किसान क़ानून -1 प्राइवेट मंडी, किसान क़ानून -2 कॉंटेक्टफ़ार्मिंग, किसान क़ानून -3 बड़े जमाख़ोरों और बड़े मुनाफ़ाखीरों को खुली छूट देने की कोशिश मोदी सरकार और भाजपा लगातार कर रही है। जिसका पूरे देश में विरोध हो रहा है आने वाले दिनों में भाजपा और केंद्र की मोदी सरकार के किसान विरोधी रवैए का कांग्रेस लगातार विरोध करेगी। आज के प्रेस वार्ता में ज़िला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष लालू राठौर प्रदेश कांग्रेस सचिव अजय सिंह, ज़िला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुड़ियाम, बस्तर क्षेत्र आधिवासी विकास प्राधिकरण की सदस्य एवं ज़िला पंचायत सदस्य श्रीमती नीना रावतिया उद्दे के अलावा बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे।

किसान आंदोलन के समर्थन में NSUI ने भेजा धान एव्म नगद

कृषि बिल कानून के विरोध में दिल्ली में लगातार दो महीनों से आंदोलन किसानों के द्वारा किया जा रहा है जिसके समर्थन में एनएसयूआई द्वारा पूरे प्रदेश में चलाए जा रहे एक रुपए एक पहली ध्यान देकर बढ़ाएं किसानों का सम्मान अभियान तहत के संगठ्न के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा द्वारा अपने जमीनी कार्यकर्ताओं को घर-घर जाके किसानों के सहयोग हेतु उन्हें प्रेरित करने,एव्म समाज के हर वर्ग को इस अभियान से जोड़ने का निर्देश दिया गया था, जिसका पालन करते हुए जिला जांजगीर-चाँपा इकाई के द्वारा विभिन्न ब्लॉकों से किसानों, जनप्रतिनिधियो, सम्मानीय कांग्रेस जनो की मदद से लगभग 100 बोरी धान एव्म 12000/- नगद इक्ट्ठा किया गया, BBN24 News को जानकारी देते हुए जिला अध्यक्ष अंकित सिंह सिसोदिया ने कहा की कार्यकर्ताओं के द्वारा किसानों के लिए समर्थन मे मदद जूटाने के लिए दिन रात मेहनत किया जा रहा है, अभी भी कुछ ब्लाको से कुछ सामान आना जारी है l जिन्हे पुनः राजीव भवन रायपुर भेजा जाएगा l विधानसभा अध्यक्ष आकाश तिवारी ने इस पुरे अभियान की सराहना करते हुए कहा कि किसानों की पीड़ा को समझते हुए प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा के द्वारा यह कदम उठाया गया यह कदम अत्यंत सराहनीय निश्चित तौर पर इससे दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलनरत किसानों को सहायता मिलेगी l इस अवसर पर राष्ट्रीय संयोजक राजकुमार सिंह प्रदेश सह संयोजक अमित कुमार यादव गौरव शुक्ला अर्पित देवांगन गिरीश जायसवाल सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे l

चिरमिरि में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार हेतु जे सी सी जे ने सौंपा ज्ञापन

चिरमिरि में स्वास्थ्य सुविधाओं के आभाव को देखते हुवे जनहित में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे)के एक प्रतिनिधि मंडल ने रीजनल अस्पताल चिरमिरि में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार हेतु प्रबंध-सह-निदेशक एस ई सी एल बिलासपुर के नाम रीजनल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.राजीव दुबे को 23 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंप कर तत्काल पूर्ण करने की मांग की,ज्ञात हो कि चिरमिरि क्षेत्र के सबसे बड़े हॉस्पिटल में बुनियादी सुविधाओं का आभाव है,तथा प्रबंधन इस ओर गंभीर नहीं है,जिसके कारण यहां के लोगों को इलाज हेतु बाहर जाना पड़ता है, तथा कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है,मांग पूर्ण नहीं होने पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने आन्दोल की चेतावनी भी दी है, प्रतिनिधिमंडल में मुख्य रूप से वरिष्ठ नेता शिव नारायण राव,पार्षद आदित्य राज डेविड,शाहिद महमूद,समुद्र राज,उदय सिंह,फणीन्द्र हमाम मिश्रा,सानु जोंसी,सुनील सोनवानी,राजेन्द्र नाथ प्रधान,शेरू खान,फैजान रज़ा, संदीप सिंह,भोलेश्वर साहू,तिलकेश्वर चौहान,जोली रॉय,रामदेव लकड़ा,जीशान,अनस,पिंटू,योसेस जेफरसन,अनिल दलाई,छोटकन पांडेय,शामिल थे,

भाजपा के धरने से किसानों ने बनाई दूरी अनेकों ब्लाक में दर्जन भर भी भाजपाई नहीं जुटे - कांग्रेस

रायपुर/13 जनवरी 2021। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा के धरने को किसानों का समर्थन नहीं मिला। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा आयोजित धरना से किसानों ने अपने आपको अलग रखा एक भी किसान और किसान संगठन ने भाजपा के धरने को समर्थन नहीं दिया। जो भाजपा तीन काले कानून बना कर देश के किसानों के खिलाफ षड़यंत्र रची है। उस भाजपा के छत्तीसगढ़ इकाई के लोग किसानों के समर्थन में आंदोलन की नौटंकी कर रहे है। भाजपा का प्रदर्शन फ्लाप साबित हुआ, अनेकों ब्लाक में दर्जन भर भी भाजपाई नहीं जुटे। भाजपा नेताओं को वास्तव में किसानों की चिंता है तो वह केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन करें जो छत्तीसगढ़ के धान उत्पादक किसानों को 2500 रू. धान की कीमत देने में अडंगेबाजी लगाती है। मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के चावल में कटौती करती है। मोदी सरकार ने किसान सम्मान निधि से छत्तीसगढ़ के 25 लाख किसानों को वंचित रखा। भाजपा के किसी नेता ने छत्तीसगढ़ के किसानों के हित में केन्द्र से प्रधानमंत्री मोदी से बात करने की हिम्मत नहीं जुटाई। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि राज्य में अब तक 70 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है। प्रदेश में अब तक लगभग 17 लाख किसानों का धान सरकार खरीदी कर चुकी है। जब धान खरीदी का लक्ष्य 80 फीसदी पूरा हो गया तब भाजपा को किसानों की सुध आ रही है। भारतीय जनता पार्टी के नेता जवाब दें कि केन्द्र के द्वारा छत्तीसगढ़ के सेन्ट्रल पूल के चावल में कटौती कर 60 लाख मीट्रिक टन से घटा कर 24 लाख मीट्रिक टन किये जाने पर क्यों मौन है? जूट कमिश्नर ने छत्तीसगढ़ सरकार की मांग के अनुसार 3.5 लाख गठान बारदाने देने की सहमति नहीं दी, इस बारे में भाजपा नेताओं ने कब केन्द्र को पत्र लिखा? छत्तीसगढ़ के किसानों को धान की कीमत 2500 देने की छूट के लिये मोदी सरकार को भाजपा के किस नेता ने पत्र लिखा? जनता सांसदों का चुनाव तो इसीलिये करती है कि सांसद उनके हक की आवाज केन्द्र में उठायेंगे भाजपा के 9 सांसदों ने छत्तीसगढ़ के किसानों के हक की आवाज कब-कब केन्द्र के समक्ष उठाया है?

भाजपा किसानों के नाम पर घड़ियाली आंसू बहाना बंद करे - कांग्रेस

रायपुर/12 जनवरी 2021। भाजपा द्वारा किये जा रहे आंदोलन पर कांग्रेस ने सवाल खड़ा किया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा कौन सी नैतिकता से किसानों के लिये आंदोनल कर रही है। राज्य के मुद्दों के दिवालियापन से जूझ रही भाजपा किसानों के नाम पर अपनी डूब चुकी नैय्या को बचाने में लगी है। भाजपा दावा कर रही है कि प्रदेश में धान खरीदी सही ढंग से नहीं हो रही जबकि राज्य में अब तक 70 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है। प्रदेश में अब तक लगभग 17 लाख किसानों का धान सरकार खरीदी कर चुकी है। जब धान खरीदी का लक्ष्य 80 फीसदी पूरा हो गया तब भाजपा को किसानों की सुध आ रही है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा को किसानों के बारे में बोलने का प्रदर्शन करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं, भाजपा की छत्तीसगढ़ में सरकार थी 15 सालों तक किसानों के साथ वादाखिलाफी किया जब केंद्र में सरकार बनी तब किसानों के हितों के खिलाफ उद्योगपतियों को बढ़ावा देने तीन काले कानून बनाया है। भाजपा को प्रदर्शन करना ही है तो मोदी सरकार के खिलाफ करें। छत्तीसगढ़ का किसान तो खुश है उसका धान समर्थन मूल्य पर बिक रहा है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से छत्तीसगढ़ के किसानों को 10,000 रू. की अतिरिक्त सहायता मिल रही है, गोधन न्याय योजना से छत्तीसगढ़ के किसान अपने मवेशियों के गोबर तक बेच कर मुनाफा कमा रहे है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेता जवाब दें कि केन्द्र के द्वारा छत्तीसगढ़ के सेन्ट्रल पूल के चावल में कटौती कर 60 लाख मीट्रिक टन से घटा कर 24 लाख मीट्रिक टन किये जाने पर क्यों मौन है? जूट कमिश्नर ने छत्तीसगढ़ सरकार की मांग के अनुसार 3.5 लाख गठान बारदाने देने की सहमति नहीं दी, इस बारे में भाजपा नेताओं ने कब केन्द्र को पत्र लिखा? छत्तीसगढ़ के किसानों को धान की कीमत 2500 देने की छूट के लिये मोदी सरकार को भाजपा के किस नेता ने पत्र लिखा? जनता सांसदों का चुनाव तो इसीलिये करती है कि सांसद उनके हक की आवाज केन्द्र में उठायेंगे भाजपा के 9 सांसदों ने छत्तीसगढ़ के किसानों के हक की आवाज कब-कब केन्द्र के समक्ष उठाया है? भाजपाई यदि किसानों के हक में ईमानदारी से आंदोलन करना चाहते है तो मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन करें जो देश के किसानों और खेती को गुलाम बनाने पर तुली हुई है।

एनएसयूआई की मुहिम एक रुपए एक पैली धान देकर बढ़ाए किसानों का मान की समय सीमा.......

रायपुर एन एस यु आई संगठन द्वारा किसान आंदोलन के समर्थन में चलाई जा रही मुहिम "एक रुपया, एक पैली धन, देकर बढ़ाए किसान का मान" का प्रथम चरण आज 09 जनवरी 2021 को समाप्त होता हैं, अंतिम चरण 10 जनवरी 2021 से 13 जनवरी 2021 तक चलेगा, आगामी चरण हेतु संगठन की रणनीति इस प्रकार है-

छत्तीसगढ़ एनएसयूआई के कार्यकर्ता अब गांव, घर एवं सभी वर्गों के लोगों से किसानों की मदद के लिए एनएसयूआई के कार्यकर्ता मांग करेंगे।

कार्यक्रम की रूपरेखा

फ्लेक्स/बैनर, दानपेटी, झंडा, गाड़ी, पाम्पलेट के साथ “छेर-छेरा” स्वरूप घर-घर से दान एकत्रित करना है।

● कार्यक्रम को विधानसभा, नगर/ग्राम पंचायत, जनपद क्षेत्रो में प्रतिदिन पदयात्रा के रुप मे करना है।

● 13 जनवरी 2021 तक सभी क्षेत्रों से एकत्रित धान एवं राशि को जिला मुख्यालय (कांग्रेस भवन) में एकत्रित करना है।

14 जनवरी 2021 को जिला मुख्यालय से एकत्रित धान एवं राशि, राजधानी रायपुर लाया जाएगा।

15 जनवरी 2021 को राजधानी रायपुर में प्रेस-वार्ता कर एकत्रित धान एवं राशि के वाहन को आंदोलन स्थल दिल्ली हेतु हरि झंडी दिखाकर रवाना किया जाएगा

जांजगीर : सम्मान बढ़ाने Nsui ने लिए किसानों से एक रुपया और एक पैली धान, भेजेंगे दिल्ली....

NSUI के जांजगीर जिला अध्यक्ष अंकित सिंह सिसोदिया के निर्देशानुसार प्रदेश स्तरीय मुहिम के तहत एक रूपया एक पैली धान देकर बढ़ाएं किसानो का सम्मान कार्यकर्म के तहत अकलतरा विधानसभा मे कृषि उपज मंडी अकलतरा में धान इक्कट्ठा कर दिल्ली में बैठे किसानों के हक लड़ाई में छत्तीसगढ़ के किसानों से सहयोग मांगा गया. वही इस दौरान प्रमुख रूप से एनएसयूआई प्रदेश सह संयोजक अमित कुमार यादव विधानसभा अध्यक्ष अर्पित देवांगन विजय यादव देवेंद्र तिवारी नरेश यादव गोकुल पटेल छोटू कुमार ललित दिनकर उपस्थित थे

भोपालपटनम के सरपंच संघ के ब्लॉक अध्यक्ष समेत नौ भाजपाइयों ने किया कांग्रेस प्रवेश -बीजापुर

सीएम भुपेश बघेल के प्रवास से पहले भाजपा को लगा झटका बीजापुर - प्रदेश के मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के प्रवास से दो दिन पहले भोपालपटनम ब्लॉक के सरपंच संघ के अध्यक्ष अशोक मढे ( चंदुर सरपंच) व मीना गोटे ( सरपंच तिमेड) ने बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष व क्षेत्रिय विधायक के सामने नौ कार्यकर्ताओं सहित कांग्रेस के रीति नीति से प्रभावित होकर आज कांग्रेस में प्रवेश किया । क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी ने कांग्रेस का गमछा पहनाकर सरपंच समेत सभी कार्यकर्ताओं का स्वागत किया। सरपंच संघ के ब्लॉक अध्यक्ष अशोक मढे ने सम्बोधित करते हुए कहा की पिछले 15 सालो से वे भाजपा के कार्यकर्ता रहे लेकिन क्षेत्र के विकास में मुझे कोई उपलब्धि नही दिखी जिससे मेने ओर मेरे साथियो के साथ आज में कांग्रेस में प्रवेश कर रहा हु और वर्तमान में भुपेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की तारीफ़ भी की ओर कहा कि क्षेत्र के हर अंतिम व्यक्ति तक विकास पहुंचना ही कांग्रेस का लक्ष्य है। जिला अध्यक्ष लालू राठौर ने भी संबोधित करते हुए कहा कि इससे भोपालपटनम ब्लॉक के कांग्रेस पार्टी को ओर भी मजबुती मिली है जिससे की ग्रामीण अंचलों में क्षेत्र का विकास और भी बेहतर ढंग से किया जा सकेगा। सरपंचों समेत इस अवसर पर समेत चंदुर के महेंद्र बंदम, अभिजीत बंदम, कोड़े सुरेश, सुमन वासम, यालम सडवाली, राजाबाबू मढे, रामबाबू मढे ने कांग्रेस पार्टी में प्रवेश किया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष लालू राठौर, प्रदेश सचिव अजय सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुडियम व बस्तर आदिवासी विकास प्राधिकरण की सदस्य नीना रावतिया उद्दे , नगर अध्यक्ष संतोष गुप्ता, जिला कांग्रेस प्रवक्ता ज्योति कुमार भी उपस्थित थे।

हाथरस में हुए गैंग रैप का विरोध , दोषियों को फांसी देने की मांग Nsui ने फुका पुतला

जांजगीर एनएसयूआई के द्वारा एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा के निर्देशानुसार NSUI जिला अध्यक्ष अंकित सिंह सिसोदिया के नेतृत्व में 14 सितंबर के दिन उत्तरप्रदेश के हाथरस में हुए गैंग रैप के विरोध में व गैंगरेप के दोषियों को फांसी देने की मांग को लेकर योगी आदित्यनाथ का पुतला जलाकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया जिलाअध्यक्ष अंकित सिंह ने कहा कि यूपी के हाथरस में जिस तरह एक दलित लड़की का गैंगरेप किया गया यह घटना बेहद शर्मनाक हैं व योगी आदित्यनाथ के प्रदेश सरकार लाचार कानून व्यवस्था को उजागर करती हैं जिस तरह दरिंदो ने आपसी रंजिश के चलते 4-5 लोगों ने गैंग रेप किया तथा उसके बाद उसके पूरे शरीर पर चोट मारी जिसके कारण पीड़िता की गर्दन, रीढ़ की हड्डी टूट गई और तो और दरिंदगी की सारी हदें पार करते हुए उसकी जीभ भी काट दी ताकि वो कुछ बोल ना सकें। इसके बाद 15 दिनों तक उसका उपचार भी चला लेकिन उसे बचाया नही जा सका और बीते मंगलवार को उसने दम तोड़ दिया। इस जघन्य कृत्य के बाद उत्तरप्रदेश पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठा हैं क्योंकि उत्तरप्रदेश पुलिस ने अपराधियों पर कार्यवाही करने की जगह उन 223 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करदी जिन्होंने इस घिनोने कृत्य के खिलाफ आवाज उठाई थीं। उत्तरप्रदेश के आला अधिकारी पिछले 15 दिनों तक इस घिनोने कृत्य को फर्जी बताने में लगे रहे तथा उन्हीं लोगों पर कार्यवाही करते रहे जो मनीषा के पक्ष में आवाज उठा रहे थें। योगी आदित्यनाथ की उत्तरप्रदेश पुलिस ने तानाशाही की सारी हदें तो जब पार करदी जब परिजनों को मनीषा का शव भी नही सौंपा गया और देर रात खुद पुलिस ने मनीषा के शव का अंतिम संस्कार कर दिया।न आये दिन कोई ना कोई देश की बेटी दरिंदो की हवस का शिकार होती रहती हैं लेकिन वो दरिंदे राजनीतिक हस्तक्षेप के बाद बच निकलते हैं। आज हमारे देश में ऐसे कानून की जरूरत हैं जोकि हमारी बहन-बेटियों को सुरक्षा प्रदान कर सकें और रेप आरोपियों के लिए ऐसी सजा का प्रावधान हो कि जो इस तरह की घिनोनी और गंदी सोच रखते हैं उनको सबक मिल सकें।

आज के इस पुतला दहन में मंजू सिंह दिवाकर राणा, देवेंद्र अग्निहोत्री, देवेंद्र जैन, वाहिद खान, राजेश जैन, प्रशांत शर्मा, कृष्ण कुमार सिंह, राजेश जायसवाल, श्याम खरे, दिलेश्वर साहू, महेश्वर टंडन, राज कुमार सिंह, (राष्ट्रीय संयोजक) अमित यादव, (प्रदेश सहसयोजक), अर्पित देवांगन, जयदीप सिंह, अभिजीत सोनवानी, विकास भारद्वाज, अविनाश साहू, आयुष पांडे ( प्रदेश प्रवक्ता ) , अमन सोनवानी, शिवांश अग्रवाल, विजय यादव, नरेश यादव, देवेंद्र तिवारी, सूरज मिरी, उत्कर्ष सिंह सेंगर,आदित्य सिंह चंदेल,भुनेश्वर आनंद, योगेश पाटिल, संतोष नायक, योगेंद्र सोनवानी, अभिषेक बंजारे,सुमित कंवर उपस्थित थे

संयुक्त राष्ट्र की 75वीं महासभा को नरेेंद्र मोदी ने किया संबोधित,कहा- यूएन में बदलाव की जरूरत

नई दिल्ली:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को संयुक्त राष्ट्र 75वीं महासभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने साफ शब्दों में कहा कि यूएन में बदलाव की जरूरत है। इसके अलावा पीएम मोदी ने दो टूक शब्दों में पूछा कि आखिर यूएन में भारत की निर्णायक भूमिका कब?कोरोना महामारी के चलते पीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने एक तरफ संयुक्त राष्ट्र के स्वरूप में बदलाव की मांग जोरदार तरीके से उठाई।दूसरी तरफ आतंकवाद और विस्तारवाद के बहाने नाम लिए बिना पाकिस्तान और चीन पर निशाना भी साधा। पीएम मोदी ने कहा कि भारत दुनिया को अपना परिवार मानता है और मानवता के लिए काम कर रहा है।पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र की उपलब्धियों और नाकामियों का जिक्र करते हुए कहा कि, कहने को तो ठीक है कि तीसरा विश्वयुद्ध नहीं हुआ। लेकिन इस बात को नहीं नकार सकते कि अनेक युद्ध हुए, गृहयुद्ध हुए। आतंकी हमलों ने विश्व को थर्रा दिया। खून की नदियां बहती रहीं।

इन हमलों में जो मारे गए वे हमारी तरह इंसान ही थे। वे लाखों बच्चे जिन्हें दुनिया में छा जाना था वे दुनिया छोड़कर चले गए। कितने ही लोगों को अपने जीवनभर की पूंजी गंवानी पड़ी। उस समय और आज भी संयुक्त राष्ट्र के प्रयास क्या पर्याप्त थे? पिछले 8-9 महीने से पूरा विश्व कोरोना महामारी से संघर्ष कर रहा है। इस महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? संयुक्त राष्ट्र के स्वरूप में बदलाव आज समय की मांग है।

पीएम ने चीन पर निशाना साधते हुए कहा, भारत जब किसी से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है तो किसी तीसरे के खिलाफ नहीं होती। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की साजिश नहीं होती। हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव को साझा करने में कभी पीछे नहीं रहे। माना जा रहा है कि पीएम का इशारा चीन की कर्जजाल नीति की ओर था, जिसके तहत उसने कई छोटे देशों पर पहले कर्ज लाद दिया और फिर उन्हें अपनी शर्तें मानने के लिए मजबूर कर रहा है।पीएम मोदी ने कहा कि महामारी के इस मुश्किल समय में भारत ने 150 देशों को जरूरी दवाएं भेजी हैं।

विश्व के सबसे बड़े वैक्सीन उत्पादक देश के तौर पर मैं वैश्विक समुदाय को आश्वासन देना चाहता हूं कि भारत की वैक्सीन उत्पादन क्षमता मानवता को इस संकट से बाहर निकालने में काम आएगी। हम भारत और अपने पड़ोस में फेज 3 क्लिनिकल ट्रायल की ओर बढ़ रहे हैं। वैक्सीन डिलिवरी के लिए कोल्ड चेन बनाने में भारत सभी की मदद करेगा। अगले साल जनवरी से भारत सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के तौर पर अपना दायित्व निभाएगा। दुनिया के अनेक देशों ने भारत पर जो अपना विश्वास जताया है उसके लिए आभार जताता हूं। विश्व के सब से बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जनकल्याण से जगकल्याण का है। भारत की आवाज़ हमेशा शांति, सुरक्षा, और समृद्धि के लिए उठेगी। भारत की आवाज़ मानवता, मानव जाति और मानवीय मूल्यों के दुश्मन- आतंकवाद, अवैध हथियारों की तस्करी, ड्रग्स, मनी लॉन्ड्रिंग के खिलाफ उठेगी।

लॉकडाउन में परीक्षार्थियों का प्रवेश पत्र ही होगा पास, सीएम के प्रति आभार - आकाश शर्मा

(BBN24_NEWS) लॉकडाउन के बीच होने वाली सभी परीक्षाओं में विद्यार्थियों का प्रवेश पत्र ही पास होगा 22 सितंबर से लग रहे लॉकडाउन में शक्ति से नियमों का पालन कराया जाएगा जिसे देखते हुए एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थियों का प्रवेश पत्र ही पास मान्य करने की अपील की थी विद्यार्थी जगत की समस्या को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों को आदेश दिया है संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान विभिन्न परीक्षाओं में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र ही पास माना जाएगा साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्र छात्राओं को किसी भी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े लॉकडाउन के दौरान NET, CLAT, JEE Advance समेत CBse छत्तीसगढ़ इंजीनियरिंग कॉलेज काउंसलिंग की परीक्षा आयोजित होनी है आदेशों में कलेक्टरों को आवश्यक व्यवस्था करने के निर्देश जारी किए गए हैं एनएसयूआई के प्रदेश सह-संयोजक अमित कुमार यादव ने बताया कि संगठन एवं समस्त परीक्षार्थियों की ओर से माननीय मुख्यमंत्री जी का आभार व्यक्त किया है

केंद्र से मिले अधिकार के दुरुपयोग से प्रदेश में कोरोना की दहशत और मातम पसरा, गली-मुहल्लों में मौतों का करुण क्रंदन सुनाई दे रहा - शिवरतन शर्मा

भाटापारा। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व भाटापारा विधायक शिवरतन शर्मा ने प्रदेश के कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे द्वारा केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन को लेकर सुझावों का आदान-प्रदान बंद करने पर रंज जताने पर हैरानी जताई है। श्री शर्मा ने कहा कि इससे यह तथ्य अब आईने की तरह साफ हो गया है कि प्रदेश सरकार कोरोना की रोकथाम में बुरी तरह विफल होकर घुटनों पर आ गई है और अब उसे फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना की रोकथाम के लिए की गई रणनीतिक तैयारियों की अहमियत समझ आ रही है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व विधायक शर्मा ने प्रदेश के कृषि मंत्री चौबे और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बयानों में विरोधाभास को लेकर प्रदेश सरकार को ‘कन्फ़्यूज़्ड सरकार’ बताया और कहा कि इस सरकार ने अपनी अंदरूनी राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता के चलते प्रदेश को कोरोना के मामले में सबसे बदतर हालत में ला पटका है। शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार के मंत्री चौबे को इस बात पर ज़रा तो शर्म महसूस करनी चाहिए कि लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार के फैसले को ग़लत बताकर प्रलाप करने वालों को इस बात की पीड़ा हो रही है कि केंद्र सरकार उनको कोई सुझाव नहीं दे रही है। श्री शर्मा ने कहा कि अपने बड़बोलेपन का भद्दा प्रदर्शन करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राहुल गांधी के टिप्स के सहारे छत्तीसगढ़ को कोरोना मुक्त रखने का दावा किया था और लॉकडाउन, कंटेनमेंट ज़ोन, रेड-येलो-ग्रीन ज़ोन तय करने का अधिकार मांगा था, ताकि शराब की कोचियागिरी और अपनी मनमानियाँ करने की छूट मिल सके। तब पूरी प्रदेश सरकार और कांग्रेस के नेता उसी सुर में सुर मिलाकर प्रधानमंत्री मोदी के प्रति अपमानजनक टिप्पणियाँ तक कर रहे थे। आज पूरा प्रदेश कांग्रेस सरकार के उन्हीं कर्मों के चलते संकट में है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व विधायक शर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार से अधिकार मिलने के बाद आज प्रदेश को कोरोना संक्रमण के मामले में सबसे बदतर हालत में लाने के बाद प्रदेश के मंत्री चौबे किस मुँह से केंद्र सरकार से सुझाव का आदान-प्रदान बंद होने पर शिकायत कर रहे हैं? केंद्र सरकार से अधिकार लेकर भी प्रदेश सरकार आज अपने नाकारापन के चलते कोरोना के मोर्चे पर कोई ठोस व कारग़र पहल करने में लाचार दिख रही है, अलबत्ता उसने केंद्र से अधिकार मांगकर उसका इस क़दर दुरुपयोग किया कि आज पूरे प्रदेश में कोरोना की दहशत और मातम पसर गया और हर गली-मुहल्ले से मौतों का करुण क्रंदन सुनाई दे रहा है। श्री शर्मा ने कहा कि कृषि मंत्री चौबे को यह भी स्पष्ट करना चाहिए कि जब उन्हें लॉकडाउन का कोई विशेष महत्व नहीं नज़र नहीं आ रहा है तो फिर ज़िलेवार लॉकडाउन क्यों जारी है? प्रदेश सरकार की समझ और सूझबूझ की दयनीय दशा तो यह है कि जहाँ कोरोना संक्रमण की दर कम है, वहाँ तो उसने लॉकडाउन कर रखा है, और राजधानी में जहाँ हज़ारों मामले रोज़ सामने आ रहे हैं, प्रदेश सरकार को वहाँ लॉकडाउन की ज़रूरत महसूस नहीं हो रही है! प्रदेश सरकार तो अपने स्वास्थ्य मंत्री को ही विश्वास में लेकर नहीं चल रही है, जबकि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री को विश्वास में लिया जाना चाहिए।
Previous123456789...3132Next