राजधानी

रायपुर में OPD और IPD की सुविधा फ्री:

अस्पतालों में पर्चा बनवाने नहीं देनी होगी 10 रुपए फीस, आयुष्मान या राशन कार्ड रखने वालों को मिलेगा फायदा रायपुर राज्य सरकार ने राजधानी रायपुर के सरकारी अस्पतालों में OPD (आउट पेशेंट डिपार्टमेंट) और IPD (इन पेशेंट डिपार्टमेंट) सुविधा को फ्री कर दिया है। आयुष्मान कार्ड अथवा राशन कार्ड रखने वाले किसी व्यक्ति को अब इलाज के लिए 10 रुपए फीस नहीं देनी होगी। मरीजों को अब केवल कुछ पैथोलॉजी जांच के लिए शुल्क अदा करना होगा। अधिकारियों ने बताया, स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराकर किसी भी सरकारी स्वास्थ्य केंद्र में फ्री इलाज कराया जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग ने रायपुर के शहरी स्वास्थ्य केंद्रों में यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की है। अगर यह प्रयोग सफल रह तो इसे ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसे लागू किया जाएगा। वहां भी कोई दिक्कत पेश नहीं आई तो फिर पूरे प्रदेश में लागू करने की योजना है। फिलहाल शहरी क्षेत्र के 14 लाख से अधिक लोगों को इस योजना का फायदा मिल सकता है। रायपुर के इन अस्पतालों में यह सुविधा डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल, जिला अस्पताल पंडरी, आयुर्वेदिक हॉस्पिटल, जच्चा-बच्चा केंद्र कालीबाड़ी, डीडी नगर, हीरापुर, गोगांव, भनपुरी, गुढ़ियारी, राजातालाब, मोवा, आमासिवनी, कचना, लाभांडी, बोरियाकला, देवपुरी, कांशीराम नगर, मठपुरैना, भाठागांव, चंगोराभाठा, खोखोपारा और रामनगर। इन केंद्रों में रोजाना चार हजार 500 से ज्यादा मरीज इलाज कराने के लिए पहुंचते हैं। ऑनलाइन पंजीयन प्रणाली ने काम करना शुरू किया सरकारी अस्पतालों में ऑनलाइन पंजीयन प्रणाली ने काम करना शुरू कर दिया है। पहले से पंजीकृत मरीजों के मोबाइल नंबर बताते ही तुरंत OPD पर्ची मुहैया हो गई। रायपुर जिला अस्पताल में कुछ देर के लिए पोर्टल में तकनीकी वजहों से थोड़ी दिक्कत हुई, लेकिन थोड़ी देर में यह ठीक कर लिया गया। अधिकारियों ने बताया, दूसरे केंद्रों से ऐसी कोई शिकायत नहीं आई है।

CM हाउस में कवासी लखमा ने तली पकौड़ियां:सर्व आदिवासी समाज के प्रदेशबंद के बाद समाज प्रमुखों को भोज; मुख्यमंत्री बोले- बस्तर के अंग्रेजी स्कूलों में मिलेगी हॉस्टल की सुविधा।

रायपुर राज्य सरकार के खिलाफ सर्व आदिवासी समाज के प्रदेश बंद के एक दिन बाद कांग्रेस की डिनर पॉलिटिक्स सामने आई है। मुख्यमंत्री निवास में मंगलवार रात बस्तर के आदिवासी समाज के प्रमुखों के लिए भोज का आयोजन हुआ। बस्तर के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा करीब 300 लोगों को लेकर मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री ने सभी से बात की। इस दौरान उन्होंने बस्तर संभाग के स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में छात्रावास की सुविधा देने की भी घोषणा की। रात के भोज में व्यवस्था का जिम्मा खुद कवासी लखमा ने संभाल लिया। उन्होंने होटल से आए रसोइए को हटाकर पकौड़े की कड़ाही खुद संभाल ली। भोज के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मंत्री कवासी लखमा और बस्तर क्षेत्र के कांग्रेस विधायकों ने आदिवासी समाज के प्रमुखों और प्रतिनिधियों के साथ भोजन किया। इस दौरान बस्तर की समस्याओं पर चर्चा हुई। चर्चा के दौरान लोगों ने कहा कि राज्य सरकार ने इंग्लिश मीडियम स्कूल प्रारंभ कर गरीब और आदिवासी परिवारों के बच्चों की शिक्षा के लिए एक अच्छी पहल की है। इन स्कूलों में छात्रावास हो जाए तो बस्तर के दूर-दराज के बच्चों को भी इसका फायदा मिल पाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उन्हें भरोसा दिया कि बस्तर संभाग में जहां भी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खुले हैं वहां बच्चों के लिए हॉस्टल की भी व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा, राज्य सरकार की यह मंशा है कि आदिवासी अंचलों के लोगों को भी वैसी ही सुविधाएं मिले जैसी मैदानी क्षेत्रों के लोगों को मिल रही हैं। राज्य सरकार आदिवासी अंचलों में शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के बेहतर से बेहतर अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। यह डिनर पॉलिटिक्स आदिवासी समाज की नाराजगी दूर करने में कितना कामयाब होती है यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

राजपूत क्षत्रिय महासभा 1282 उपसमिति रायपुर दक्षिण महिला मंडल द्वारा तीज मिलन का कार्यक्रम का आयोजन

रायपुर राजपूत क्षत्रिय महासभा 1282 उपसमिति रायपुर दक्षिण महिला मंडल अध्यक्ष आरती राजपूत की अध्यक्षता में एवं समस्त महिला मंडल पदाधिकारी द्वारा तीज मिलन का कार्यक्रम लक्ष्मी मैरिज हॉल महादेव घाट रोड सुंदर नगर रायपुर में आयोजित किया गया। इस अवसर पर महिलाओं द्वारा विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किया गया भगवान शंकर व गणेश जी की आरती के साथ दीप प्रज्वलित। 2.महिलाओं के लिए सोलह श्रृंगार प्रतियोगिता। 3.महिलाओं द्वारा डांस प्रतियोगिता। 4. पिछले वर्ष ऑनलाइन गेम्स किए गए थे उन विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। 5.मनोरंजन गेम्स अन्य कार्यक्रम। उपस्थित सभी क्षत्राणी द्वारा कोविड का पालन करते हुए मास्क सेनिटाइजर के साथ ड्रेस कोड लाल रंग की साड़ी के साथ आयोजन को सफल बनाया गया। महिला मंडल प्रचार सचिव ने बताया कि तीज क्विन प्रतियोगिता में प्रथम रिया ठाकुर भाटा गांव तीज क्वीन बनीं द्वितीय स्थान पर रही माया ठाकुर रायपुरा तृतीय स्थान पर रही है भारती केसरी चौथे स्थान पर माया ठाकुर कुशालपुर रहे। डांस प्रतियोगिता में पहले स्थान पर श्वेता ठाकुर दूसरी दूसरे स्थान पर रिया ठाकुर तीसरे स्थान पर माया ठाकुर कुशालपुर रहीं । उक्त कार्यक्रम की गरिमा बढ़ाने के लिए मुख्य अतिथि कन्हैया सिंह ठाकुर महासभा के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष विशेष अतिथि रमेश सिंह उपसमिति रायपुर दक्षिण अध्यक्ष ठा. लव सिंह एवं समस्त पदाधिकारी उपस्थित हुए। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए महिला मंडल पदाधिकारि समस्त महिला मंडल सदस्यों का योगदान रहा।

वैक्सीन ही सुरक्षा कवच है:

पहली बार 7 दिनों में 12 लाख को टीके; संक्रमण दर 0.12%, इस माह 33 लाख टीके मिलेंगे, जो 66% लोगों को लगेंगे प्रदेश में टीकाकरण ने स्पीड पकड़ ली है। पहली बार केवल सात दिनों में 11.23 लाख से अधिक टीके लगाए गए हैं। ये अपने आप में रिकॉर्ड है, क्योंकि इतना अधिक वैक्सीनेशन तो तब भी नहीं हुआ जब राज्य में टीकारण शुरू हुआ था। कोरोना की दूसरी लहर के बाद तो एक समय तो ऐसा आ गया था जब लोग वैक्सीनेशन के लिए सुबह 4-4 बजे से टीकाकरण केंद्र में लाइन लगा रहे थे। उस दौरान भी इतने लोगों को टीके नहीं लगाए गए। हालांकि उस समय टीके की कमी थी और लोग किसी भी सूरत में वैक्सीन लगवाना चाहते थे। इधर, प्रदेश में कोरोना के 28 नए संक्रमित मिले हैं, जिसमें रायपुर का एक नया केस भी शामिल है। इस दौरान कोई मौत भी नहीं हुई है। राहत की बात ये है कि प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या अब घटकर 332 पर आ गई है। वहीं 15 जिलों में एक भी नया मरीज नहीं मिला है। 100 लोगों की जांच में 0.12 फीसदी दर से मरीज मिल रहे हैं। प्रदेश को इस महीने 35 लाख टीके मिलेंगे। अभी तक 19 लाख टीके आ चुके हैं। टीके क इतनी बड़ी खेप अब तक नहीं मिली है। हालांकि 11 सितंबर के पहले तक टीकाकरण में इतनी स्पीड नहीं थी। उस समय तक रोज औसतन 60 से 70 हजार टीके ही लग रहे थे। अचानक स्पीड बढ़ी और टीकाकरण दोगुने से ज्यादा हो गया। पिछले सात दिनों से रोज करीब डेढ़ लाख टीके लगाए जा रहे हैं। राज्य के एक-एक शहर और गांव के साथ-साथ रायपुर में भी टीकाकरण तेज हो गया है। पिछले हफ्ते तक चार-पांच हजार ही टीके रोज लगाए जा रहे थे। अब यहां का आंकड़ा 20 हजार के पार चला गया है। इस महीने 35 लाख टीका लगने के बाद राज्य में 1 करोड़ 90 लाख से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो जाएगा और 66 फीसदी से ज्यादा आबादी काे वैक्सीन की पहली या दूसरी डोज लग जाएगी। हालांकि जानकारों के अनुसार दोनों डोज 70 फीसदी होने पर ही सुरक्षित स्थिति मानी गई है। अभी प्रदेश में 14 प्रतिशत लोगों को ही दोनों डोज लगी है, जबकि 55 फीसदी से अधिक आबादी सिंगल डोज लग चुकी है। आईसीएमआर की ताजा रिसर्च के मुताबिक सिंगल डोज से भी प्रोटेक्शन बढ़ता है। 13 जिलों में एक्टिव मरीज इकाई अंक में प्रदेश के 13 जिलों में अब एक्टिव मरीज इकाई के अंक पर आ गए हैं। चार जिले कवर्धा, मुंगेली, सूरजपुर और गौरेला में तो सक्रिय मरीजों की संख्या भी शून्य हो गई है। शनिवार को प्रदेश के 15 जिलों में एक भी नया केस नहीं मिला है। ये स्थिति अर्से बाद आई है। जानकारों के मुताबिक प्रदेश में वैक्सीनेशन के बढ़ते दायरे से कोरोना को लेकर स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। हर दिन एक दर्जन या इससे अधिक जिले ऐसे रह रहे हैं जहां एक भी नया मरीज नहीं मिल रहा है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर में सर्वाधिक एक्टिव मरीजों वाले रायपुर जिले में भी अब सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर 20 से नीचे आ गई है। सबसे अधिक केस वाले रायपुर में कोरोना अब नियंत्रण में प्रदेश में टीके की संख्या के लिहाज से रायपुर टॉप पर है। यहां अब तक 21 लाख से अधिक टीके लग चुके हैं। जिसमें साढ़े 14 लाख से अधिक पहला और 6 लाख को दूसरा डोज लगा है। रायपुर में एक्टिव मरीजों की संख्या जहां पहली लहर के पीक में 13 हजार से अधिक पहुंच गई थी वहीं दूसरी लहर में ये संख्या करीब 30 हजार के पार हो गई थी। अब यहां 20 से कम मरीज हैं। वहीं, ऐपिडेमिक कंट्रोल के डायरेक्टर डॉ. सुभाष मिश्रा ने बताया कि प्रदेश में इस माह में 35 लाख से अधिक टीके शेड्यूल किए गए हैं। अधिक संख्या में टीका मिलने से वैक्सीनेशन की रफ्तार में स्वभाविक रूप से बड़ा बदलाव आया है। नक्सल पीड़ित जिलों में भी सुदूर इलाकों में जा रहीं टीमें स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के मुताबिक प्रदेश में बीते सात दिन से टीका पर्याप्त संख्या में मिलने के कारण सघन टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। वैक्सीनेशन टीमें लोगों के घर में भी जाकर टीके लगा रही हैं। यहां तक कि धुर नक्सल पीड़ित इलाकों में भी टीमें नाव से जा रही हैं। बीजापुर सीएमओ डॉ. आरके सिंह के मुताबिक इस हफ्ते में वो खुद टीम के साथ पामेड़ से आगे के सुदूर इलाकों में टीका लगाने के लिए गए। टीम रासपल्ली, धर्मारम जैसे इलाके में भी टीके लगाकर आई है। बीजापुर में दूसरी लहर का पीक गुजरने के बाद जून जुलाई के माह में कोरोना केस बढ़ गए थे। उसके बाद से सीमा पर टेस्टिंग ट्रेसिंग जैसी गतिविधियां चल रही है। टीका सुरक्षा कवच प्रदान कर रहा टीका सुरक्षा कवच प्रदान कर रहा है। ये अब सिद्ध हो गया है। प्रदेश में कोरोना की लगातार सुधरती स्थिति में वैक्सीनेशन का बढ़ता दायरा एक अहम वजह है। लोग टीका लगवाने के बाद सावधानी रखें। जितना कड़ाई से नियमों का पालन करेंगे उतनी ही अच्छी स्थिति बनेगी। - डॉ. नितिन एम नागरकर, डायरेक्टर, एम्स रायपुर

100 मीटर के भीतर 200 वॉट के साउंड सिस्टम पर बजेंगे डीजे, शहर के तालाबों के पास निगम ने बनाए विसर्जन कुंड।

रायपुर रविवार का दिन भगवान गणेश के विदा होने का दिन है। जिला प्रशासन ने विसर्जन को ध्यान में रखकर एक गाइडलाइन शनिवार की रात जारी की है। इसके मुताबिक, विसर्जन के दौरान 200 वाट के साउंड सिस्टम पर डीजे बजा सकेंगे। पंडाल के 100 मीटर के भीतर ही इसे बजाने की अनुमति होगी। विसर्जन के स्थल तक डीजे लेकर रैली या जुलूस की शक्ल में पहुंचने की अनुमति नहीं दी गई है। इससे पहले विसर्जन के मौके पर साउंड सिस्टम के इस्तेमाल पर जिला प्रशासन ने पूरी तरह से बैन लगा दिया था। धार्मिक संगठनों की मांग को ध्यान में रखकर कलेक्टर कार्यालय ने नया आदेश जारी कर 100 मीटर की परीधि में ही इसे बजाने की अनुमति दी है। दूसरी तरफ नगर निगम विसर्जन कुंड भी बना रहा है। खारून नदी महादेवघाट में अस्थाई विसर्जन कुंड को तैयार किया गया है। यहां श्रद्धालु ने सपरिवार पहुंचकर घाट पर पूजा के बाद भगवान गणेश की प्रतिमाएं विसर्जित कर सकते हैं। नदी प्रदूषित न हो इसके लिए नगर निगम ने अलग से बंदोबस्त किया गया है। इसके अलावा रायपुर के हर जोन में तालाब या सार्वजनिक चौराहों पर नगर निगम के घरों की छोटी प्रतिमाओं के लिए अस्थाई कुंड रखवाया है, जहां लोग प्रतिमा विसर्जित कर सकेंगे। 19 को सुबह 6 बजे से 22 सितम्बर को दोपहर 2 बजे तक खारुन नदी तट पर बने कुंड में प्रतिमाएं विसर्जित हो सकेंगी। इस दौरान नगर निगम के लोगों की यहां ड्यूटी लगाई गई है। शहर के कई तालाबों के किनारे नगर निगम ने अस्थाई विसर्जन कुंड रखवाए हैं। खारुन तट पर लोगों की सुरक्षा के लिहाज से SDRF, पुलिस और जिला प्रशासन के अफसरों की टीम भी तैनात रहेगी। विसर्जन को लेकर ये हैं नियम गणेश पंडाल के 100 मीटर की परिधि में 200 वॉट के साउंड सिस्टम पर डीजे, धुमाल या बैंड बजाया जा सकेगा। मूर्ति विसर्जन के दौरान प्रसाद, चरणामृत या कोई भी खाने-पीने की चीजें बांटी नहीं जाएंगी। मूर्ति विसर्जन के लिए एक से अधिक वाहन की अनुमति नहीं होगी। विसर्जन के लिए सिर्फ पिकअप, टाटा एस जैसे छोटे वाहनों का इस्तेमाल किया जाएगा। विसर्जन के लिए सिर्फ चार लोग ही जा सकेंगे, यह चारों उसी गाड़ी में होंगे जिस गाड़ी में मूर्ति होगी। किसी भी अतिरिक्त साज-सज्जा झांकी की अनुमति नहीं होगी। विसर्जन के लिए नगर निगम द्वारा तय किया गए रूट का ही इस्तेमाल करना होगा। शहर के भीड़भाड़ वाले इलाकों से मूर्ति विसर्जन के लिए वाहन ले जाने की अनुमति नहीं होगी, रिंगरोड का इस्तेमाल करना होगा।

केन्द्रीय केबिनेट सचिव ने जन स्वास्थ्य और कोविड-19 को लेकरराज्यों के मुख्य सचिवों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ली बैठक।

रायपुर, 18 सितम्बर 2021/भारत सरकार के केबिनेट सचिव राजीव गौबा ने आज नई दिल्ली से देश के विभिन्न राज्यों के मुख्य सचिवों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक लेकर देश में कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर तथा जन स्वास्थ्य को लेकर विस्तार से चर्चा की। बैठक में भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी सहित सभी राज्यों के स्वास्थ्य सचिव, डिविजनल कमिश्नर्स, जिला कलेक्टर्स भी शामिल हुए। छत्तीसगढ़ से मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन एवं स्वास्थ्य सचिव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी वर्चुअल बैठक में शामिल हुए। केबिनेट सचिव ने देश में संभावित कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए राज्यों के अस्पतालों में मौजूद स्वास्थ्य सुविधाओं, दवाओं की व्यवस्था, ऑक्सीजन सर्पोटेड बैड, आई.सी.यू., वेन्टीलेटर्स, ऑक्सीजन कन्टेनर्स की व्यवस्था सहित कोविड-19 टीकाकरण, कोविड गाईड लाइन के पालन के संबंध में विस्तार से जानकारी ली गई। बैठक में कोविड गाईड लाइन को अपनाने के लिए नगरीय निकायों, ग्राम पंचायतों एवं जनप्रतिनिधियों के सहयोग लेने के लिए अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की गई।

संगठन की सफलता के लिए सामूहिक उत्तरदायित्व की भावना आवश्यक - डॉ. चौधरी ,शिक्षक संचेतना की आयोजन समिति बैठक सम्पन्न।

रायपुर - संगठन में शक्ति होती है इसीलिये कहा गया है कि संघे शक्ति कलोयुगे। हम एक ही राष्ट्रीय विचारधारा में सकारात्मकता के साथ नवीन प्रयोग समारोह एवं स्थानो का चयन सामूहिक निर्णय से करते आ रहे है। जिससे संस्था दो दशक से विविध आयोजनो से देश में सम्मानजनक पहचान बना सकी है। संगठन की सफलता के लिये समस्त सदस्यो के सामूहिक उत्तरदायित्व की भावना से संगठन को अपेक्षित सफलताएं प्राप्त हो रही है। उपर्युक्त विचार राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की आयोजन समिति बैठक में महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आगामी माह 19 एवं 20 अक्टुबर को होने वाले अखिल भारतीय साहित्यकार सम्मेलन के आयोजन के संबंध में पदाधिकारियों के मार्गदर्शन में व्यक्त किये। आयोजन की प्रभारी एवं राष्ट्रीय संयोजक डॉ. अनसूया अग्रवाल ने कहा कि नेतृत्व के साथ सक्रिय रूप से साथ-साथ कार्य करने से सफलता निश्चित ही प्राप्त होती है। बैठक की अध्यक्षता समिति की अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता डॉ. मुक्ता कौशिक ने बताया कि छत्तीसगढ़ प्रदेश के पदाधिकारियों को गर्व होना चाहिये कि देश के प्रमुख लगभग एक सौ पदाधिकारी हमारे आमंत्रण पर सम्मेलन में उपस्थित होंगे। इसीलिये सभी का यथोचित सम्मान भी होगा। बैठक में सर्वसहमति से निर्णय हुए कि समारोह स्थल एवं आवास व्यवस्था प्रभारी डॉ. मुक्ता कौशिक होगी। सम्मेलन के मंच, अभिनंदन अतिथि सत्कार की व्यवस्था प्रभारी डॉ. अनसूया अग्रवाल एवं भोजन-स्वल्पाहार की प्रभारी पूर्णिमा कौशिक एवं प्रदेश पदाधिकारी होंगे। प्रचार-प्रसार एवं स्मारिका प्रकाशन सरस्वती वर्मा प्रदेश प्रवक्ता छत्तीसगढ़ एवं श्री जितेन्द्र रत्नाकर, भुवनेश्वरी जायसवाल करेंगे। मंच संचालन एवं अतिथि आमंत्रण डॉ. शैलचन्द्रा(राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष) एवं डॉ. शिवा लोहारिया अध्यक्ष राष्ट्रीय इकाई महिला होगी। सम्मान पत्र एवं स्मृति चिन्ह की व्यवस्था डॉ. आशीष नायक, डॉ. रिया तिवारी, डॉ. हंसा शुक्ला करेंगे। राष्ट्रीय पदाधिकारियों एवं अतिथियो की सम्पूर्ण व्यवस्थापक डॉ. सुजाता शुक्ला, सतीश मिश्रा , नेहादास एवं डॉ. रचना पाण्डेय होगी। आयोजन समिति बैठक की अध्यक्षता राष्ट्रीय मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष , सुवर्णा जाधव ने की। इस अवसर पर डॉ. शहाबुद्दीन शेख, डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा, हरेराम वाजपेयी, डॉ. शिवा लोहारिया, डॉ. शैलचन्द्रा, डॉ. अनसूया अग्रवाल, डॉ. रिया तिवारी, डॉ. आशीष नायक, डॉ. सुजाता शुक्ला, डॉ. हंसा शुक्ला, डॉ. रचना पाण्डेय, डॉ. मुक्ता कौशिक, कान्हा कौशिक, सतीश मिश्रा आदि ने भी मार्गदर्शन किया। आभासी बैठक का संचालन दमकता कान्हा कौशिक, रायपुर, छत्तीसगढ़ ने किया। एवं आभार प्रदेश सचिव लक्ष्मीकांत वैष्णव ने माना।

छत्तीसगढ़ में बड़ी भर्ती की तैयारी:चंदूलाल चंद्राकर मेडिकल कॉलेज और संबद्ध अस्पताल में 1041 पदों पर होगी भर्ती, चिकित्सा शिक्षा विभाग ने दी मंजूरी।

छत्तीसगढ़ ( रायपुर ) के स्वास्थ्य विभाग में बड़ी भर्ती की तैयारी तेज हो गई है। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने चंदूलाल चंद्राकर मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के अधिग्रहण के बाद 1041 पदों पर सरकारी नियुक्तियों को मंजूरी दी है। मंजूरी का पत्र गुरुवार को ही संचालक चिकित्सा शिक्षा को भेजा गया। जल्दी ही इन पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी। जिन 1041 पदों पर भर्ती की मंजूरी दी गई है, उनमें 616 पद अस्पताल के लिए और 425 पद मेडिकल कॉलेज के लिए होंगे। राज्य सरकार ने पिछले महीने ही दुर्ग के एक निजी मेडिकल कॉलेज का अधिग्रहण किया था। उसके बाद वहां नए सिरे से सरकारी नियुक्तियों की तैयारी हो गई है। अस्पताल में सबसे अधिक पद है तो नर्सिंग अधीक्षक कार्यालय का भी सेटअप तैयार किया गया। रिकॉर्ड सेक्शन और कैजुअल्टी में अलग-अलग पदों को मंजूरी दी है। चिकित्सा से जुड़े पदों के अलावा अन्य सेवाओं के पदों पर भी भर्ती की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग में इन पदों पर भर्ती होने के बाद आमजन को बेहतर सुविधाएं मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। चन्दूलाल चन्द्राकर मेमोरियल मेडिकल कॉलेज चन्दूलाल चन्द्राकर मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के लिए शैक्षणिक पदों में अधिष्ठाता के लिए एक पद, प्राध्यापक के लिए 21 पद, सह प्रध्यापक के लिए 38 पद, सहायक प्राध्यापक के लिए 67 पद स्वीकृत किए गए हैं। वहीं सहायक प्राध्यापक (एपिडोमायोलॉजी), स्टेटीस्टिशियन कम प्रदर्शक के एक-एक पद को मंजूरी मिली। ट्यूटर-डिमान्सटेटर के लिए 29 पद, सीनियर रेसिडेंट के लिए 36 पद, जूनियर रेसिडेंट के लिए 50 पद और डेंटल सर्जन के दो पदों के लिए मंजूरी मिली है। अधिष्ठाता कार्यालय में प्रशासकीय अधिकारी, कम्प्यूटर प्रोग्रामर, लाईब्रेरियन, पीटीआई, कार्यालय अधीक्षक, सीनियर ऑडिटर के लिए एक-एक पद मंजूर हुए हैं। यही नहीं सहायक कार्यालय अधीक्षक के लिए तीन पद, सहायक प्रोग्रामर के लिए एक पद, मेडिको सोशल वर्कर के लिए तीन पद, सहायक लाईब्रेरियन के लिए एक पद बनाए गए हैं। यहां 10 स्टोनोग्राफर, 2 कम्प्यूटर ऑपरेटर, एक लेखापाल, 12 सहायक ग्रेड-2, दो केटलॉगर, दो लाईब्रेरी सहायक और 15 सहायक ग्रेड-3 के भी पद हैं। वाहन चालक के लिए 5 पद, लाईब्रेरी अटेंडेंट के लिए 2 पद, भृत्य के लिए 7 पद, चौकीदार के लिए 7 पद, क्लीनर के लिए 3 पद, पंप अटेंडेंट के लिए चार पद, सरवेंट के 20 पद और माली के 4 पदों के सेटअप को भी मंजूरी मिल गई है। मेडिकल कॉलेज के इन विभागों में इतने पद पैराक्लीनिकल डिपार्टमेंट में लैब टेक्नीशियन के लिए 20 पद, मोडेलर के लिए एक पद, लैब अटेंडेंट के लिए 9 पद, स्वीपर के लिए 18 पद, डिक्सेसन हॉल अटेंडेंट के 4 पदों के लिए मंजूरी दी गई हैं। एनाटॉमी विभाग में स्टोनो टायपिस्ट के लिए 3 पद, पैथालॉजी विभाग में स्टोर कीपर के लिए 7 पद हैं। शहरी स्वास्थ्य प्रशिक्षण केन्द्र में रिकॉर्ड क्लर्क के लिए तीन पद, ग्रामीण स्वास्थ्य प्रशिक्षण केन्द्र में पब्लिक हेल्थ नर्स के लिए एक पद मंजूर हुआ है। हेल्थ इंसपेक्टर-स्वास्थ्य सहायक (पुरुष) के लिए दो पद और हेल्थ एजुकेटर के एक पद के लिए मंजूरी प्रदान की गई है। अस्पताल में सबसे अधिक पद चन्दूलाल चन्द्राकार मेमोरियल हॉस्पिटल में अस्पताल अधीक्षक कार्यालय में अस्पताल अधीक्षक और सहायक अस्पताल अधीक्षक के लिए एक-एक पद की स्वीकृति दी गई है। इसी प्रकार प्रशासनिक अधिकारी, मेडिकल रिकाॅर्ड ऑफिसर, कार्यालय अधीक्षक, मेडिको सोशल वर्कर, सहायक कार्यालय अधीक्षक, डायटिशियन और बॉयोकेमिस्ट के लिए एक-एक पद स्वीकृति प्रदान की गई है। सहायक ग्रेड-2 के लिए पांच पद, कैशियर और लेखापाल के लिए एक-एक पद, फार्मासिस्ट ग्रेड-2 के पांच पद, स्टुअर्ड के लिए एक पद, स्टोर कीपर के लिए दो पद, सहायक ग्रेड-3 के लिए पांच पद, दफ्तरी के लिए दो पद और भृत्य के लिए 5 पदों के लिए मंजूरी प्रदान की गई है। नर्सिंग अधीक्षक कार्यालय का भी सेटअप अस्पताल के नर्सिग अधीक्षक कार्यालय में नर्सिंग अधीक्षक और उप नर्सिंग अधीक्षक के लिए एक-एक पद तथा सहायक नर्सिंग अधीक्षक के लिए चार पदों के लिए मंजूरी दी गई है। इसी प्रकार नर्सिंग सिस्टर के लिए 30 पद, स्टॉफ नर्स के लिए 170 पद, टेलर के लिए दो पद, बढ़ई के लिए एक पद, हेड कुक के लिए एक पद, वार्ड ब्वाय के लिए 195 पद, स्वीपर कम अटेंडेंट, नाई और कुक असिस्टेंट के लिए एक-एक पदों की स्वीकृति दी गई है। रिकॉर्ड सेक्शन में भी अलग-अलग पद मेडिकल रिकार्ड सेक्शन में स्टेटिशियन के लिए एक पद, कोडिंग क्लर्क के लिए चार पद, रिकार्ड क्लर्क के लिए पांच पद, स्टोनो टायपिस्ट के लिए एक पद, दफ्तरी और भृत्य के लिए दो-दो पद की मंजूरी दी गई है। सेन्ट्रल स्टेरीलाईजेशन में असिस्टेंट नर्सिंग सुपरिटेंडेंट के लिए एक पद, स्टॉफ नर्स, टेक्निशियन, टेक्निकल असिस्टेंट, वार्ड ब्वाय और स्वीपर के लिए चार-चार पदों की स्वीकृति दी गई है। लाण्ड्री सर्विसेस में सुपरवाईजर के लिए दो पद, धोबी और पैकर के लिए 12-12 पद की मंजूरी दी गई है। ब्लड बैंक में टेक्निशियन और स्टोर कीपर, लैब अटेंडेंट के लिए 6-6 पद और रिकार्ड कीपर के लिए दो पदों की स्वीकृति प्रदान की गई हैं। कैजुअल्टी के लिए अलग से पदों की मंजूरी केजुअल्टी सर्विसेस में केजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर के लिए चार पर, स्टॉफ नर्स के लिए दो पद, टेक्निशियन के लिए तीन पद, ईसीजी टेक्निशियन के लिए दो पद, रेडियोग्राफर के लिए तीन पद मंजूर हुए हैं। वहां रिसेप्सनिस्ट क्लर्क के लिए दो पद, वार्ड ब्वाय और स्टेचर बेयरर के लिए 6-6 पदों की मंजूरी दी गई है। सेन्ट्रल वर्कशॉप में असिस्टेंट इलेक्ट्रीकल इंजीनियर, असिस्टेंट मैकनिकल इंजीनियर, सीनियर टेक्निशियन मैकनिकल, सीनियर टेक्निशियन इलेक्ट्रीकल, सीनियर टेक्निशियन इलेक्ट्रॉनिक्स और सीनियर टेक्निशियन रेफ्रिजरेशन के लिए एक-एक पद दिए गए हैं। जूनियर टेक्निशियन के लिए दो पद, बढ़ई और ब्लैक स्मीथ के लिए एक-एक पद और अटेंडेंट के लिए चार पदों के लिए स्वीकृति दी गई है।

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर में दाखिले की तारीख बढ़ी।

रायपुर, दिनांक, 11 सितंबर, 2021। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में संचालित स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रमों में रिक्त स्थानों पर प्रवेश की तिथि बढ़ा दी गई है। बीएससी (इलेक्ट्रॉनिक मीडिया) एवं बीए ( पत्रकारिता एवं जनसंचार) प्रथम वर्ष में ऑनलाइन माध्यम से प्रवेश की तिथि प्राचार्य स्तर पर 17 सितंबर 2021 तथा कुलपति की अनुमति से 30 सितंबर 2021 कर दी गई है। प्रवेश के इक्छुक विद्यार्थियों द्वारा विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.ktujm.ac.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। प्रवेश मेरिट के आधार पर दिए जाएंगे। इसके बाद विभागों द्वारा मेरिट सूची जारी की जाएगी। अधिक जानकारी के लिए विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर लॉगइन के किया जा सकता है।

विसर्जन कुंड में पंपों से भर रहे खारून नदी का पानी।

रायपुर । 2021: कोरोना संकटकाल के बीच राजधानी रायपुर में गणेश चतुर्थी पर शुक्रवार को गणेश प्रतिमाओं स्थापना के साथ ही जिला और नगर निगम प्रशासन ने खारुन नदी के किनारे बनाए गए सौ से अधिक कुंडों में विसर्जन की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इन कुंडों में दो पंपों से नदी का पानी खींचकर डाला जा रहा है। निगम के अफसरों का कहना है कि 11 दिन बाद गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन इसी कुंड में किया जाएगा। संस्कृत महाविद्यालय के विद्वान पूरे विधि-विधान से विसर्जन करवाएंगे। इसके अलावा नगर निगम की टीम ने शहर के जिन प्रमुख तालाबों में हर साल गणेश प्रतिमाएं विसर्जित की जाती है, उसके किनारे सौ से ज्यादा बड़े ड्रम,खुली टंकियां रखकर अस्थायी विसर्जन कुंड भी बना रही है, ताकि प्रतिमाएं विसर्जित करने में किसी तरह की दिक्कत न हो। राजधानी रायपुर में परंपरागत तरीके से गणेश प्रतिमा स्थापना के तीसरे दिन से लेकर 11वें दिन तक विसर्जन का क्रम जारी हो जाता है। लिहाजा, नगर निगम ने भी अभी से विसर्जन के लिए कुंड बनाने के साथ सारी व्यवस्थाएं करना शुरू कर दिया है। सौ से अधिक कुंडों में पानी भरा जा रहा है। इसके साथ ही सड़क और लाइटिंग की भी व्यवस्था की जा रही है। नगर निगम कमिश्नर प्रभात मलिक ने गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए व्यवस्था बनाने अफसरों की टीम तैयार की हैं। खारुन नदी के किनारे बनाए गए कुंड के अलावा प्रमुख तालाबों के किनारे भी अस्थायी कुंड बनाने में निगम का अमला जुटा हुआ है। यहीं नहीं, तालाबों के किनारे पानी के ड्रम, बड़ी टंकिया भी रखी जाएंगी, ताकि इनमेंं प्रतिमाओं का विसर्जन किया जा सके। कोरोना संकट के चलते घटी मूर्तियों की संख्या कोरोना संकटकाल की वजह से शहर में गणेश प्रतिमाओं की स्थापना कम हुई है। लिहाजा विसर्जन में भी भीड़भाड़ कम होने की संभावना है क्योंकि प्रशासन की सख्त गाइडलाइन की वजह से इस बार कई बड़ी गणेशोत्सव समितियों ने प्रतिमाएं स्थापित नहीं की हैं। कोरोना संकट के पहले तक सार्वजनिक समितियों के साथ ही घरों में स्थापित होने वाली प्रतिमाओं की संख्या आठ हजार से ज्यादा होती थी। मगर, कोरोना के कारण बड़ी प्रतिमाओं की स्थापना इस बार काफी कम हुई हैं। ऐसे में छोटी प्रतिमाओं का तालाब या नदी किनारे बनाए गए कुंड में विसर्जन करने के बजाए लोग घरों या आसपास बनाए गए कुंड में ही करेंगे ऐसी संभावना है। घर में करे प्रतिमाओं का विसर्जन महापौर एजाज ढेबर और सभापति प्रमोद दुबे ने शहरवासियों से अपील की है कि विसर्जन कुंड के अलावा घरों में भी कुंड बनाकर प्रतिमाओं का विसर्जन कर सकते हैं। विसर्जन से निकली मिट्टी का उपयोग घर के गमलों में किया जा सकता है।

बार संचालकों को लाइसेंस शर्तों के अनुसार ही शराब सेवन कराने की अनुमति।

रायपुर - राजधानी में अपराध रोकने के लिए प्रमुख होटल, ढाबा, कैफे, बार संचालकों की बैठक शुक्रवार को रखी गई। इस मौके पर पुलिस अधिकारियों ने संचालकों को कई निर्देश दिए। इसमें बार संचालकों को लाइसेंस शर्तों के अनुसार ही शराब सेवन कराने की अनुमति होगी। नाबालिगों को किसी भी तरह के नशे का सेवन कराना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। भवन के अंदर व बाहर पर्याप्त मात्रा में सीसीटीवी कैमरे लगवाने होंगे। समुचित पार्किंग की व्यवस्था करने के साथ ही पार्किंग व्यवस्थित कराने के लिए स्टाफ लगवाने होंगे। संस्थान में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का सत्यापन 15 दिवस के भीतर कराना होगा। ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग नियमानुसार (समय एवं ध्वनि सीमा) करने होंगे। नशा से संबंधित प्रतिबंधित वस्तुओं को उपलब्ध कराना अथवा बाहर से लाकर सेवन करने की अनुमति नहीं होगी। कार्यक्रम के लिए कोई भी परफार्मर या सेलिब्रेटी बाहर से बुलाने पर दो दिवस पूर्व इसकी सूचना संबंधित थाने में देनी होगी। निर्देशों का उल्लंघन करने वाले संचालकों के विरुद्ध आवश्यक वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। बैठक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल के निर्देशानुसार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर तारकेश्वर पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण लखन पटले, नगर पुलिस अधीक्षक सिविल लाइन नसर सिद्धकी उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री से श्री रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधिमंडल ने की सौजन्य मुलाकात।

रायपुर - मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आज शाम यहां उनके निवास कार्यालय में प्रो चांसलर राजीव माथुर के नेतृत्व में आए श्री रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधिमंडल ने सौजन्य मुलाक़ात की। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को श्री रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी कैम्पस में नवनिर्मित इंजीनियरिंग ब्लॉक भवन के उद्घाटन तथा विश्वविद्यालय परिसर में निर्मित नवीन मार्गों की नाम पट्टिका के अनावरण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने आमंत्रित किया। राजीव माथुर ने मुख्यमंत्री बघेल को बताया कि इंजीनियरिंग ब्लॉक का नामकरण महान अभियंता भारत रत्न डॉ. एम विश्वेश्वरैया के नाम पर और नवीन मार्गों का नामकरण महान हस्तियों के नाम पर किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह कार्यक्रम सितम्बर महीने के अंतिम सप्ताह में आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आमंत्रण के लिए धन्यवाद देते हुए शिक्षा की बेहतर सुविधा मुहैया कराने विश्वविद्यालय में चल रहे अधोसंरचना निर्माण के कार्यों पर प्रसन्नता जताई। इस अवसर पर वाईस चांसलर डॉ. राजेश पाठक, ओएसडी सुश्री मोनिका मिश्रा और योग विभागाध्यक्ष डॉ. कप्तान सिंह उपस्थित थे।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने प्रदेशवासियों को गणेश चतुर्थी की बधाई दी, राष्ट्रीय एकता और सांस्कृतिक संकल्प का पर्व बताया ।

रायपुर 10 सितंबर 2021। भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष चतुर्थी को गणेश चतुर्थी पर्व पर छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने प्रदेशवासियों को सुख-शांति और समृद्धि के लिये बधाई शुभकामनाएं दी है ।डॉ चरणदास महंत ने कहा कि, प्रथम पूज्यनीय श्री गणेश चतुर्थी का पर्व भगवान गणेश जी के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। भगवान गणेश जी को बुद्धि, विवेक, धन-धान्य, रिद्धि-सिद्धि के कारक है, सच्चे मन और विधि पूर्वक भगवान श्रीगणेश जी की पूजा करने से जीवन में सुख शांति और समृद्धि आती है। कोई भी शुभ कार्य बिना गणेश जी के पूरा नहीं हो सकता। इसीलिए सर्वप्रथम भगवान गणेश जी की पूजा और स्तुति की जाती है। डॉ महंत ने कहा कि, गणेश चतुर्थी राष्ट्रीय एकता और सांस्कृतिक संकल्प को स्मरण करने का पुण्य दिवस है। गणेशोत्सव के दौरान कोरोना के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए इससे बचाव एवं सावधानी रखने एवं शासन की गाइड लाइन का पूरी तरह से पालन करने की प्रदेशवासियों से अपील की है।

तीन खिलाड़ियों को खेल के आधार पर क्रम से पूर्व पदोन्नति प्रदान करने का लिया गया निर्णय।

डीजीपी डीएम अवस्थी की अध्यक्षता में समिति की बैठक संपन्न- रायपुर 8 सितंबर। डीजीपी डीएम अवस्थी की अध्यक्षता में आज यहां पुलिस मुख्यालय में खेल के आधार पर क्रम से पूर्व पदोन्नति समिति की बैठक संपन्न हुयी। बैठक में वर्षों से लंबित खेल के आधार पर क्रम से पूर्व पदोन्नति प्रकरणों का निराकरण करते हुये तीन खिलाड़ियों को क्रम से पूर्व पदोन्नति प्रदान करने का निर्णय लिया गया। समिति की बैठक में तीसरी वाहिनी में पदस्थ कंपनी कमांडर रुस्तम सारंग ( वेटलिफ्टिंग) को राजपत्रित अधिकारी के पद पर पदोन्नत किये जाने हेतु शासन को प्रस्ताव भेजने का निर्णय लिया गया। राजनांदगांव में पदस्थ आरक्षक श्री मनोज ठाकुर( वूशु) और रायपुर में पदस्थ प्रधान आरक्षक श्री दीपेश कुमार सिन्हा (व्हालीबॉल) को क्रम से पूर्व पदोन्नति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। एसटीएफ बघेरा में पदस्थ प्रधान आरक्षक श्रीनिवास लू ( कराटे, वूशु ), महासमुंद में पदस्थ प्रधान आरक्षक साईमा अंजुम( हैंडबॉल) एवं प्रथम वाहिनी छसबल में पदस्थ प्रधान आरक्षक श्री हितेश कुमार साहू (बॉक्सिंग) को 50 हजार रूपये की नगद राशि का पुरस्कार प्रदान करने का निर्णय लिया गया। इसी प्रकार राजनांदगांव में पदस्थ आरक्षक विमला बरेठ( कबड्डी), कबीरधाम में पदस्थ श्री वसीम रजा कुरैशी( वूशू), बालोद में पदस्थ आरक्षक अमरिका उसारे( कबड्डी), रायपुर में पदस्थ आरक्षक रीता छोटेराय ( कबड़्डी) एवं रायपुर में पदस्थ आरक्षक कविता पटले( कबड्डी) को 35 हजार रूपये की नगद राशि का पुरस्कार प्रदान करने का निर्णय लिया गया। शेष खिलाड़ियों को पुलिस महानिदेशक द्वारा पांच सौ रूपये का नगद पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। समिति की बैठक में एडीजी श्री हिमांशु गुप्ता, डीआईजी श्री ओपी पाल, डीआईजी श्री आर एन दाश, डीआईजी श्रीमती हिमानी खन्ना, एआईजी श्रीमती मिलना कुर्रे, प्रस्तुतकर्ता अधिकारी श्रीमती सबा अंजुम उपस्थित रहे। खिलाड़ियों की ये हैं उपलब्धियां- रूस्तम सारंग- वेटलिफ्टर श्री रूस्तम सारंग ने 2010 में चीन में आयोजित एशियन गेम्स में नवां स्थान, 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स में चौथा स्थान, ग्लास्गो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में सातवां स्थान, कॉमनवेल्थ वेटलिफ्टिंग चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल सहित कई अन्तर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में विभिन्न पदक जीते और देश का नाम रोशन किया। मनोज ठाकुर- वूशू खिलाड़ी श्री मनोज ठाकुर ने वूशू में सीनियर राष्ट्रीय वूशू चैंपियनशिप 2014 एवं 2015 में तीसरा स्थान, तीसरी फेडरेशन कप वूशू चैंपियनशिप में तीसरा स्थान सहित कई स्पर्धाओं में पदक अर्जित किये। दीपेश कुमार सिन्हा- व्हालीबॉल खिलाड़ी श्री दीपेश कुमार सिन्हा ने काठमांडू में आयोजित साउथ एशियन गेम्स 2019 में गोल्ड मेडल, एशियन सीनियर मेन्स व्हालीवॉल चैंपियनशिप तेहरान में आठवां स्थान, जकार्ता में आयोजित एशियन गेम्स में 12वां स्थान अर्जित किया।

कानून-व्यवस्था दुरस्त रखने हेतु छोटी घटनाओं पर तत्काल करें कार्रवाई- अवस्थी

एसपी थानों का आकस्मिक निरीक्षण करें और शिकायतें सुनें - रायपुर 7 सितंबर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने आज यहां पुलिस मुख्यालय में कानून व्यवस्था के विषय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी आईजी एवं एसपी की बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि कानून-व्यवस्था को दुरस्त रखने के लिये छोटी-छोटी घटनाओं पर संज्ञान लेने और उन्हें रोकने की जरूरत है। आप सभी को बेसिक पुलिसिंग करने की आवश्यकता है। यदि बेसिक पुलिसिंग पर ध्यान दिया जाए तो बड़ी घटनाओं को आसानी से रोका जा सकता है। आप सभी को अपने सूचना तंत्र को मजबूत करने की जरूरत है। सूचनाएं मिलने पर तत्काल रिस्पॉन्स करिये और अपने वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी दें। श्री अवस्थी ने कहा कि पुलिस असामाजिक तत्वों पर सख्त कार्रवाई करे। सभी संप्रदाय के नागरिकों की रक्षा करना पुलिस की जिम्मेदारी है। डीजीपी ने कहा कि सभी एसपी स्वयं थानों का औचक निरीक्षण करें और वहां बैठकर लोगों की शिकायतें भी सुनिये। आपके क्षेत्र में जितने भी आदतन गुंडे- बदमाश हैं उनकी लिस्ट बनाकर सख्त कार्रवाई करें। डीजीपी ने निर्देश दिये कि कानून-व्यवस्था मजबूत रखने के लिये लगातार पेट्रोलिंग करिये और संवेदनशील इलाकों में स्वयं निरीक्षण करिये। बेसिक और इंपेक्टफुल पुलिसिंग पर ध्यान देने की आवश्यकता है। जिससे आम नागरिकों के मन में विश्वास और अपराधियों में भय व्याप्त रहे। उन्होंने कहा कि त्यौहारों का सीजन आ रहा है, इसके मद्देनजर विशेष अहतियात बरतने की जरूरत है। महिला, बच्चों और बुजुर्गों की सुरक्षा करना पुलिस की प्राथमिकता होना चाहिए। उन्होंने कर्तव्य के प्रति लापरवाह थानेदारों पर त्वरित अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिये।
Previous123456789...3536Next