राज्य

दुध डेरियो की दुकाने बढ रही है शहर मे, ग्रामिण दुध उत्पादक नही दिखते डेरियो मे बेचते दुध,शहरवासियो को शंका मिलावटी दुध बिकता है शहर मे ,फुड एण्ड  सेफ्टी विभाग खमोश

दुध डेरियो की दुकाने बढ रही है शहर मे, ग्रामिण दुध उत्पादक नही दिखते डेरियो मे बेचते दुध,शहरवासियो को शंका मिलावटी दुध बिकता है शहर मे ,फुड एण्ड सेफ्टी विभाग खमोश

भाटापारा:- भाटापारा शहर दिन-ब-दिन बड रही है, 27 वार्ड से 31 वार्डो का शहर बन चुका है, यही नही भाटापारा को संयुक्त जिले का दर्जा भी प्राप्त है,जिसके चलते शासकिय अधिकारियो एवं कर्मचारियो की एक बडी संख्या भी निवास करती है आस पास सिमेन्ट फेक्ट्ी होने से कुछ निजी हाॅटलो को वार्षिक किराए पर लेकर अन्य प्रदेश के लोग भी रह रहे है, लगभग सभी परिवारो की सुबह की जरूरत होती है दुध, लोगो की जरूरत को ध्यान मे रखते हुए हर मोहल्ले मे खुल रही है दुध की डेरी, शहर के कुछ दुध डेरी ऐसे है जहा सुबह से शाम तक ग्राहक कभी भी जाए उन्हे कच्चा ताजा दुध मिल ही जाती है, शहर व ग्रामिण क्षेत्र के दुध उत्पादक की बडी संख्या लगभग सुबह से रायपुर व बिलासपुर दुध होलसेलरो को बेचने निकल जाती है, तथा कुछ छोटे दुध उत्पादको को शहर के गिने चुने डेरियो मे दुध देते देखा जाता है, सवाल यह उठता है कि शहर के अन्य डेरियो मे दुध कहा से आता है, और क्या यह दुध गाय और भैस के ही है या किसी द्रव्य प्रदार्थ से मिलाकार बनाया जाता है ? जब इस संबंध मे जिला फुड सेफ्टी आफिसर संध्या महिलांग से बात कि गई तो उन्होने बताया कि कुछ जगहो से मिल्क प्रोडक्ट का सैम्पल लिया गया है, दुध डेरियो मे भी जाॅच कर सैम्पल लिया जाएगा, किसी भी दुध डेरी मे मिलवटी दुध मिलेगी तो उच्च अधिकारियो को कार्यवाही के लिए पत्र लिखा जाएगा।

Leave a comment