राज्य

 छत्तीसगढ़ उपचुनाव विवाद मामला

छत्तीसगढ़ उपचुनाव विवाद मामला

बिलासपुर:- छत्तीसगढ़ उपचुनाव विवाद मामला : रुपधर पुड़ो की याचिका हाईकोर्ट ने की ख़ारिज….सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट से 4 महीने के भीतर सुनवाई को कहा था। अंतागढ़ उपचुनाव में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने रूपधर पुड़ो की याचिका खारिज कर दी है। रुपधर पुड़ो अंतागढ़ के उस उपचुनाव बतौर निर्दलीय प्रत्याशी खड़े थे, जिसमें कांग्रेस के प्रत्याशी मंतूराम पवार ने नामांकन वापसी के आखिरी दिन अपना नाम वापस ले लिया था..जिसके बाद अंतागढ़ चुनाव में भोजराज नाग के सामने सिर्फ रुपधर पुड़ो रह गये थे। अंतागढ़ के पराजीत प्रत्याशी व आंबेडकर राइट्स पार्टी ऑफ इंडिया के रूपधर पुड़ो ने आरोप लगाया था कि अंतागढ़ उपचुनाव में नाम वापस लेने का दबाव डाला था। नाम वापस नहीं लेने की शर्त पर उन्हें बाकियों का हवाला देते हुए फंसाने की धमकी दी गई थी। टेपकांड सामने आने पर उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर विजयी भाजपा प्रत्याशी का चुनाव निरस्त करने और उन्हें विजयी घोषित करने की मांग की है। चुनाव में उन्हें 1286 वोट मिले थे। इस मामले को लेकर याचिका हाईकोर्ट में दायर की गयी थी। हालांकि इससे पहले कांग्रेस ने भी हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी..जिसे खारिज कर दिया गया था.. बाद में कांग्रेस इस मामले में अंतागढ़ चुनाव में फिक्सिंग और फोन कांड जैसे मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट भी गयी थी।पिछली महीने 10 नवंबर को जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस खानविलकर और जस्टिस चंद्रचूर्ण की बेंच ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को निर्देश दिए थे कि वो अंतागढ़ चुनाव में आरपीआई के प्रत्याशी रुपधर पुड़ो की याचिका पर चार महीने में सुनवाई पूरी करे. इसके बाद उस निर्णय के प्रकाश में सुप्रीम कोर्ट मामले की सुनवाई करेगी.

Leave a comment