राज्य

 मनरेगा डाटा आपरेटर ने फर्जी मस्टररोल के जरिये सरकारी धन राशि का किया गबन

मनरेगा डाटा आपरेटर ने फर्जी मस्टररोल के जरिये सरकारी धन राशि का किया गबन

देवरबीजा (साजा)=प्रदेश में चर्चा में रहने वाले साजा जनपद पंचायत से फर्जी शिक्षाकर्मी के भर्ती मामले का दाग धुल नही पाया था कि एक नये फर्जीवाडा का मामला सामने आया है जिसमें मनरेगा के डाटा ऑपरेटर वर्षो से ग्राम पंचायतो में शासन से आये मनरेगा अंर्तगत धन राशि को फर्जी मस्टररोल के जरिये राशि आहरण कर अपने तथा अपने परिवार परिचितो के खाते में डाल रहा था पुलिस व जनपद अधिकारीयो से मिली जानकारी अनुसार जनपद पंचायत साजा में मनरेगा के डाटा आपरेटर पद पर कार्यरत हरिर्कीतन कौशिक मनरेगा का आनलाईन कार्य करता था जो कि 1 जनवरी 2017 से बैंक खाता के खंगाले गये जानकारी में 36120 हजार रुपये फर्जी रुप से आहरण कर गबन कर लिया मामले का खुलासा तब हुआ जब कलेक्टर जनर्दशन में 14 नवम्बर को मनरेगा में मजदुरी किये मजदुरो ने आवेदन लगा कलेक्टर से मजदुरी नही मिलने कि शिकायत और फर्जीवाडा होने कि शिकायत कि थी तब साजा जनपद में मनरेगा के कार्यक्रम अधिकारी रविकिरण कराडे एकाउंटेंट अल्पना चौहान ने ग्राम पंचायतवार मनरेगा के कार्य व भुगतान कि जांच पडताल किया तब फर्जी मस्टररोल के जरिये राशि आहरण होने व कार्य पुर्ण नही होने का खुलासा हुआ तब मामले कि जानकारी कार्यक्रम अधिकारी ने जिला कलेक्टर जिला पंचायत सीईओ सहित अन्य अधिकारीयो को दिया तब मामले को संज्ञान में जिला पंचायत सीईओ ने उक्त डाटा आपरेटर के विरुद्ध थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने का मौखिक आदेश दिया तब मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत साजा एआर साहु ने थाना साजा में डाटा आपरेटर के कथित फर्जी राशि आहरण कि रिपोर्ट दर्ज कराया थाना प्रभारी साजा रामकुमार राणा के बताए अनुसार आरोपी हरिर्कीतन कौशिक के विरुद्ध मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत साजा के रिपोर्ट एंव जनपद पंचायत से प्राप्त दस्तावेजो कि पडताल में डाटा आपरेटर द्वारा फर्जी मस्टरोल के जरिये मनरेगा के राशि का आहरण कर गबन करने के मामले में कार्यवाही करते हुए आरोपी को गिरफतार कर प्रारभिंक पुछताछ कर मामला दर्ज करते हुए भारतीय दंड विधान कि धारा 420,467,468,471,409 के तहत अपराध दर्ज किया गया और मामले को विवेचना में लिया सुत्रो से मिली जानकारी अनुसार मनरेगा डाटा आपरेटर हरिर्कीतन कौषिक द्वारा ग्राम पंचायत जेवरा,ओडिया,कन्हेरा,केहका,हरदास आदि में मनरेगा के कार्यो में फर्जी मस्टररोल के जरिये लाखो रुपये के फर्जी राषि आहरण किये जाने कि आशंका है बहरहाल मामले तह तक जाने के बाद ही फर्जी राशि आहरण के राशि का वास्तविक आंकडा कि जानकारी होगी। मामले कि जानकारी लगते ही थाना साजा में भारी भीड एकत्र हो गई थी वही जनपद अध्यक्ष ओमप्रकाश वर्मा भी इस दौरान थाना पहुंच मामले कि जानकारी लिये और कहा कि मनरेगा जैसे महत्वपुर्ण योजना के मजदुरी राशि का फर्जी रुप से आहरण करना बडा अपराध है मामले कि उच्च स्तरीय जांच हो और दोषीयो के विरुद्ध कडी कानुनी कार्यवाही होनी चाहिये गौरतलब हो की साजा जनपद पंचायत में जवाबदार अधिकारी नही होने से अव्यवस्था है ।अभी जो सीईओ है प्रभारी है ।केन्द्र और राज्य सरकार के जनकल्याणकारी योजनाओं का सही जानकारी आम जनताओ को नही मिल पा रहा है साजा जनपद पुरा फर्जीवाडा , भष्ट्राचार मे लिप्त है ।

Leave a comment