ज्योतिष

सावधान :  पितृ पक्ष में भूलकर भी मत करें ये 6 काम,खुशियों में लग सकता है ग्रहण

सावधान : पितृ पक्ष में भूलकर भी मत करें ये 6 काम,खुशियों में लग सकता है ग्रहण

यह बात तो आप सभी जानते ही होंगे की पितृ पक्ष में 16 श्राद्ध होते है, जिनमे लोग अपने पितरों को खुश करते है। हिन्दू धर्म में पितृ पक्ष का बहुत महत्व है। इन दिनों लोग अपने पितरों को खुश करने के लिए और उनका आशीर्वाद पाने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्य करते है। लेकिन आज की इस पोस्ट में हम आपको उन कामों के बारे में बताएंगे जो आपको भूलकर भी पितृ पक्ष में नहीं करने चाहिए।


आपको बता दे कि 13 सितंबर दिन शुक्रवार को सुबह सात बजकर 34 मिनट पर चतुर्दशी तिथि की समाप्ति है। सात बजकर 35 मिनट पर पूर्णिमा का प्रारंभ होगा, जो कि 14 सितंबर दिन शनिवार को सुबह 10 बजकर 02 मिनट पर समाप्त हो जाएगा। श्राद्ध तर्पण पिंडदान का समय दोपहर का होता है, इसलिए पूर्णिमा 13 सितंबर दिन शुक्रवार को होगी।

-पितृ पक्ष में अगर कोई आपके घर भोजन-पानी मांगने आए तो उसको कभी भी ख़ाली हाथ वापिस मत जाने दे।
-पितृ पक्ष में गाय, कुत्ता, बिल्ली और कौए आदि को नहीं मारना चाहिए बल्कि इनको खाने के लिए कुछ जरूर देना चाहिए।
-पितृ पक्ष में मांसाहार भोजन का सेवन भूलकर भी मत करे। इसके अलावा इस दौरान शराब आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए।
-पितृ पक्ष में परिवार में होने वाली आपसी कलह से बचे। इस दौरान अपने घर शांत माहौल रखे।
-पितृ पक्ष के दौरान आप अपने घर में जो भी भोजन पकाते है, उसका सेवन करने से पहले उस भोजन में से कुछ भोजन अपने पित्तरो के लिए निकाल कर रख ले।
-पितृ पक्ष के दौरान भौतिक सुख जैसे सोने के आभूषण, नए वस्त्र, वाहन आदि बिलकुल मत खरीदे। ऐसा करना अशुभ माना जाता है।

अगर हमारी ये पोस्ट आपको सच मे पसंद आया हो तो अपने दोस्तो को भी शेअर करना ना भूले !साथ मे अगर आप ऐसी ही और पोस्ट पढ़ना चाहते है तो हमे फॉलो करना बिलकुल न भूल!

Leave a comment