ज्योतिष

माया बड़ी विचित्र  है और मन बड़ा चंचल है... पूज्या पूजा किशोरी

माया बड़ी विचित्र है और मन बड़ा चंचल है... पूज्या पूजा किशोरी

हेमंत जायसवाल@BBN24 (दुर्गा चौक मौहाडीह द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के चतुर्थ दिवस की कथा) बिर्रा - संसार की समस्त प्राणी संसार में आते है कर्मवश पर भगवान आते है -करूणावश , जिसका नाम , श्रवण, संकीर्तन, सब मंगलमय है। धरती से पाप का भार उतारने अठाइसें द्वापर युग में भगवान विष्णु का बीसवाँ अवतार लीला पुरूषोत्तम श्रीकृष्ण जी के रूप मे हुआ जिनकी सम्पूर्ण लीलाएं माधुर्यता सें भरी हुई है। भगवान कथा में दिव्य आंनद है, क्यों कि बच्चों कि वह सच्चिदानन्द कि कथा है इससे केवल मनोरंजन की नहीं मनोभंजन भी करना चाहिए। कलयुग के ताप और दोष से बचने के लिए भागवत एक औषधि ही नहीं वह वैघ भी है। ये बाते सिलादेही में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन कृष्णावतार का वर्णन करते हुए व्यासपीठ सें पूज्या पूजा किशोरी जी ने कही द्वारा समुद्र मत्थन वामन अवतार श्री राम जन्म की कथा सुनाई गई, उन्होंने श्रोताओं से कहा संसार में मांगने वाला ही हमेंशा छोटा कहाता है देनेवाला तो दाता होता है। वामन भगवान भी राजा बलि सें मांगने गये तो छोटा ही बने और राजा बलि को दाता का सम्मान दिया। बलि ने अपना सर्वस्य समर्पण कर दिया तो भगवान वामन ने कहा सर्वस्व समर्पण का रखने पर मैं ऐसे दाता का सदैव ऋणी बन जाता हूँ। दानकी भूमि है जहां राम की संस्कृति है रोम की नहीं। श्रोताओं को प्रतिदिन जीवन्त झांकियों के साथ कथा ज्ञान एवं संकीर्तन का लाभ मिल रहा हैं। चौथे दिन की कथा में शैलेन्द्र पटेल, छोटू महराज, राजकुमार पटेल, प्यारेलाल पटेल, नरसिंग पटेल, माखन पटेल, कमलकिशोर साहू, जितेंद्र पटेल, दल्लू पटेल, छेदी पटेल, गेंदलाल, रतिराम पटेल, कौशिक पटेल, ,सालिक राम, संजू साहू, एम.एल. साहू, रामखिलावन वैष्णव, बलद राम, ओमप्रकाश पटेल,तीजूराम- श्रीमतीमोहनकुमारी साहू, अमृत बाई, दुरपति पटेल, जीवन पटेल, हेमंत जायसवाल, नवधा केवट सहित सैकडो श्रोता उपस्थित थे।

संबंधित तस्वीर

Leave a comment