ज्योतिष

परंपरा अनुसार आज शाम 4 बजे श्रावण-भादौ मास में सोमवार को महाकाल की शाही सवारी निकलेगी

परंपरा अनुसार आज शाम 4 बजे श्रावण-भादौ मास में सोमवार को महाकाल की शाही सवारी निकलेगी

 उज्जैन। श्रावण-भादौ मास में सोमवार को महाकाल की शाही सवारी निकलेगी। परंपरा अनुसार शाम 4 बजे मंदिर से चतुरंगी सेना के साथ अवंतिकानाथ शाही ठाठबाट से नगर भ्रमण के लिए निकलेंगे।
भक्तों को भगवान के एक साथ छह रूपों में दर्शन होंगे। भगवान महाकाल पालकी में चंद्रमौलेश्वर, हाथी पर मनमहेश, गरुड़ पर शिवतांडव, नंदी पर उमा-महेश, रथ पर होलकर तथा सप्तधान स्वरूप में सवार होकर भक्तों को दर्शन देने निकलेंगे। रात करीब 10 बजे पालकी पुन: मंदिर पहुंचेगी।
सवारी में 64 भजन मंडलियां शामिल होगी वही 28 स्वागत मंच बनाए जाएंगे। सवारी में 4 लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान लगाया जा रहा है जिसके मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस बल और प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारियों की ड्यूटी आ लगाई गई है ।
कलेक्टर मनीष सिंह ने पुलिस कंट्रोल रूम पर पत्रकारों से चर्चा में बताया कि सोमवार को बाबा महाकाल की अंतिम और शाही सवारी तय समय अनुसार शाम ठीक 4:00 बजे पूजन के बाद मंदिर से बाहर आएगी जो 4:35 बजे गुजरी 5:15 बजे रामघाट 7:45 बजे टंकी चौक 8:30 बजे कंठाल 9:00 बजे गोपाल मंदिर 9:45 बजे गुजरी और 10:00 बजे पुनः महाकाल मंदिर में प्रवेश करेगी।सवारी के आगे प्रचार वाहन, कड़ाबिन, पुलिस बैंड, घुड़सवार दल, स्काउट गाइड, सेवादल और 64 भजन मंडलियां चलेगी । सवारी में 15 वे क्रम पर रजत पालकी में सवार बाबा महाकाल चंद्रमौलेश्वर स्वरुप में भक्तों को दर्शन देंगे , जिसके पीछे भगवान के अन्य स्वरूप और गाजे बाजे चलेंगे 

Leave a comment