राजनीति

मुख्यमंत्री की फोटो वाला थैला, या नेताओ द्वारा जरूरत मंदो को सामग्री वितरित करते हुए फोटो लेना उन जरूरत मंद व्यक्तियों का मजाक उड़ाने के समान है शिवरतन

मुख्यमंत्री की फोटो वाला थैला, या नेताओ द्वारा जरूरत मंदो को सामग्री वितरित करते हुए फोटो लेना उन जरूरत मंद व्यक्तियों का मजाक उड़ाने के समान है शिवरतन

भाटापारा:- कोरोना वैश्विक महामारी के चलते 25 मार्च से लगातार छत्तीसगढ़ में लॉक डाउन है ऐसी विषम परिस्थितियो में भाटापारा क्षेत्र की विभिन समाज सेवी संस्थाओ द्वारा जैसे शीतला माता मंदिर मातादेवालय समिति,मयूर क्लब,प्रेम प्रकाश मंडल,गुरुद्वारा प्रबंधन समिति(मिक्कू सचदेव),श्री नारायणी सेवा समिति,मावली माता मंदिर समिति सिंगारपुर,पूर्व पार्षद सुनंद मिश्रा व उनके सहयोगीगण, ज्वाइन हैंड समिति,द्वारा जरूरत मंदो को चावल दाल, व कुछ संस्थाओं द्वारा दोनो समय का भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है,ऐसी सभी समितियों को इस परोपकारी कार्य के लिए धन्यवाद देता हूं । पूरे छत्तीसगढ़ में लगभग सभी शहरों व कस्बो में इस प्रकार की सामाजिक संस्थाओं द्वारा यह परोपकारी कार्य किया जा रहा है किंतु दुर्भाग्य की बात यह है कि प्रदेश शासन द्वारा ऐसी संस्थाओं को इस परोपकारी कार्य से रोकने का आदेश प्रसारित करना तथा यह आदेश देना की संस्था को जो भी देना हो शासन को दे और शासन इसकी वितरण की व्यवस्था करेगा यह सही नही है। प्रदेश की स्थिति ये है कि नीचे जरूरत मंदो को पहचानने व उन तक समान पहुचाने में शासकीय अमला पूर्ण रूप से सफल नही होगा क्योंकि शासकीय अमले के पास इसके अतिरिक्त और भी बहुत से कार्य है। शासन द्वारा जो सामग्री वितरीत की जा रही है उसमें मुख्यमंत्री की फोटो वाला थैला, या नेताओ द्वारा जरूरत मंदो को सामग्री वितरित करते हुए फोटो लेना उन जरूरत मंद व्यक्तियों का मजाक उड़ाने के समान है.। प्रदेश शासन अपने इस तुगलीकी आदेश को वापस ले और समाज सेवी संस्थाओं को इस परोपकारी कार्य को करने की स्वतंत्रता दे। एक आदेश जरूर शासन को करना चाहिए कि सामग्री वितरित करते हुऐ लोगो की फोटो ना ले।

Leave a comment