रोजगार

किसान की बेटी बनी डॉक्टर

किसान की बेटी बनी डॉक्टर

ग्राम बेन्द्री अभनपुर के एक साधारण किसान की बेटी डॉक्टर बन गयी है. रेशमा साहू पंडित रवि शंकर यूनिवर्सिटी से स्पेक्ट्रोस्कोपिक तकनीक के द्वारा प्रोटीन, ड्रग, एंजाइम एवं बायो मार्कर का नानोमटेरिअल के साथ अन्तरक्रिया का अध्य्यन कर रही थी. रसायन शास्र बिभाग के शोध निर्देशक प्रोफेसर कल्लोल के घोष के मार्गदर्शन में शोध कार्य पूर्ण किया है साथ ही डॉक्टर रेशमा साहू का कहना है कि वो आज डॉक्टर बनने पर बहुत गर्वान्वित महसूस कर रही है . उनके पिताजी एक साधरण किसान है उसके डॉक्टर बनने के पीछे उसके पिताजी की सबसे अहम भूमिका निभाई है . आज पण्डित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय का 25वाँ दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राज्यपाल अनुसुईया उइके थीं. अध्यक्षता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की. दीक्षांत समारोह में 151 शोधार्थियों को डॉक्टोरेट की उपाधि प्रदान करने के साथ 67 स्टूडेंट्स को 137 गोल्ड मैडल दिया गया ,, वहीं इस अवसर पर राज्यपाल अनुसूइया उइके ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जब विद्यार्थि अब तक प्राप्त संवैधानिक ज्ञान के आधार पर अपने जीवन के उद्देश्य को पालन करे, शिक्षा मनुष्य के लिए वरदान है,,और उन्होंने उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को बधाई दी हैं

Leave a comment