छत्तीसगढ़

कलेक्टर ने की स्कूल शिक्षा विभाग के काम-काज की समीक्षा 30 जून के पहले पुस्तकें वितरण के दिए निर्देश

कलेक्टर ने की स्कूल शिक्षा विभाग के काम-काज की समीक्षा 30 जून के पहले पुस्तकें वितरण के दिए निर्देश



स्कूलों का मरम्मत 20 तारीख तक करना अनिवार्य


कक्षा पहली से दसवीं तक 3 लाख 7 हजार 


बच्चों को मिलेगा निःशुल्क किताब

बलौदाबाजार, 11 जून 2019/ कलेक्टर श्री कार्तिकेया गोयल ने कहा कि नये शैक्षणिक सत्र में बच्चों के उपयोग के लिए पहुंच रही किताबों का वितरण 30 जून के पहले हर हाल मंे हो जाने चाहिए। इस तिथि के बाद किताबें अवितरित पाई गईं तो जिम्मेदारी तय करके कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर श्री गोयल आज यहां समय-सीमा की बैठक में नये शैक्षणिक सत्र शुरू होने के पहले स्कूल शिक्षा विभाग के काम-काज की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने मरम्मत के लिए स्वीकृत स्कूल भवनांे को 20 तारीख तक अनिवार्य रूप से मरम्मत का काम पूर्ण करने को कहा है। बैठक में जिला पंचायत के सीईओ श्री एस.जयवर्धन, अपर कलेक्टर श्री जोगेन्द्र नायक सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

जिला शिक्षा अधिकारी श्री ए.के.भार्गव ने बैठक में बताया कि छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम से बच्चों में वितरण के लिए पुस्तकें आना शुरू हो गये हैं। जिले के कुल 117 संकुल केन्द्रांे में से 100 केन्द्रों पर किताबें पहुंच चुकी हैं। उन्होंने बताया कि कक्षा पहली से कक्षा दसवीं तक के सभी बच्चों को निःशुल्क रूप से किताबें बांटी जाती हैं। सरकारी के अलावा निजी स्कूल के बच्चों को भी मुफ्त में पुस्तकें दी जाती है। उन्होंने बताया कि जिले में 3 लाख 7 हजार बच्चों को निःशुल्क पुस्तकें दी जायेगी। इनमें 2 लाख 82 हजार हिन्दी माध्यम के स्कूलों में और  25 हजार अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के लिए हैं। कलेक्टर ने कहा कि स्कूल खुलते हीं ये किताबें बच्चों में वितरण कर दिया जाये। किसी भी हालत में किताब स्टोर रूम, संकुल अथवा अन्य स्कूल में डम्प हालत में नहीं मिलने चाहिए। उन्होंने जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं जिला स्तरीय अधिकारियों को आकस्मिक रूप से इनका निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। डीईओ ने बताया कि इस साल से बच्चों को दिए गये पुरानी पुस्तकें उनसे वापस लिये जाएंगे। ये पुस्तकें बुक बैंक योजना के अंतर्गत स्कूलों में रखे जायेंगे और उनका इस्तेमाल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शाला गणवेश जुलाई महीने में आने की संभावना है।

 

कलेक्टर ने बैठक में बरसात में पहुंचविहीन हो जाने वाले स्कूलों की जानकारी भी मंगाई है। उन्होंने मरम्मत कार्य के लिए पूर्व से स्वीकृत शालाओं को अगले 20 तारीख तक मरम्मत कार्य पूर्ण कराने को कहा है। ईई आरईएस ने बैठक में बताया कि मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर जारी है। उन्होंने मरम्मत के लिए आने वाले नये प्रस्ताव में स्कूल भवन के निर्माण से लेकर अब तक हुए मरम्मत कार्य की इतिहास भी प्रस्तुत करने को कहा है।तभी नयी स्वीकृति दी जा सकेगी। जिला शिक्षा अधिकारी ने बैठक में बताया कि मध्यान्ह भोजन की तैयारियां भी पूर्ण कर ली गई है। चावल आदि का आवंटन मिल चुका है। कलेक्टर ने सुरक्षा घेरा वाले स्कूलों में हरियर छत्तीसगढ़ अभियान के अंतर्गत पौधे लगाने के निर्देश भी दिये हैं।

Leave a comment