छत्तीसगढ़

 गौ-मूत्र खरीदी का जायजा लेने कलेक्टर पहुँचे गौठान,अब तक 98 लीटर की हुई है खरीदी

गौ-मूत्र खरीदी का जायजा लेने कलेक्टर पहुँचे गौठान,अब तक 98 लीटर की हुई है खरीदी

मुर्गी पालन के लिए इच्छुक महिला स्व सहायता समूह ने शेड की मांग, कलेक्टर ने दी तत्काल स्वीकृति बलौदाबाजार,6 अगस्त 2022/कलेक्टर रजत बंसल ने गौठानों में संचालित हो रहें गतिविधियों का जायजा लेने जिलें के विभिन्न गौठान का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान वह बलौदाबाजार विकासखंड अंतर्गत ग्राम खम्हारडीह एवं विकासखंड पलारी अंतर्गत ग्राम छेरकापुर के गौठान पहुँचकर व्यवस्थाओं सम्बंधित जानकारी हासिल की। उन्होंने मुख्य रूप से गौधन न्याय योजना विस्तार के तहत छेरकापुर के गौठान में संचालित गौ-मूत्र खरीदी के संबंध में विस्तृत जायजा लिया। उन्होंने गौ-मूत्र खरीदी से लेकर कीटनाशक बनाने की पूरी गतिविधियों को देखा। उपस्थित गौठान प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं पशु पालन विभाग के अधिकारियों ने गौ-मूत्र खरीदी एवं उसमें उपयोग होने वाले उपकरणों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। श्री बंसल ने उपस्थित महिला स्व सहायता समूहों के सदस्यों से चर्चा कर उनकी समस्याओं के बारे जानकारी हासिल किया। साथ ही उन्होंने शीघ्र ही समस्या के निराकरण करनें का आश्वासन सदस्यों को दिया। इसके साथ ही खम्हारडीह के गौठान में गोबर खरीदी,वर्मी कंपोस्ट,टांका निर्माण,महिला स्व सहायता समूहों के कार्य एवं बाड़ी का जायजा लिया। गौठान में वर्मी कंपोस्ट का कार्य करने वाली भारत माता वाहिनी महिला स्व सहायता समूह की अध्यक्ष रजनी वैष्णव एवं बाड़ी की कार्य करने वाली नारी शक्ति महिला स्व सहायता समूह की अध्यक्ष उमेश्वरी चंदेल ने शेड की कमी होने के बारे में जानकारी दी। साथ ही सभी ने मुर्गी पालन की गतिविधियां प्रारंभ करनें इच्छा जतायी जिस पर कलेक्टर श्री बंसल ने जनपद पंचायत सीईओ को एक नये वर्किंग शेड स्वीकृत के साथ ही एक अलग से बड़ा मुर्गी शेड स्वीकृत करनें के निर्देश दिए है। इस अवसर पर गौठान में वृक्षारोपण भी किया गया। इस मौके पर सरपंच श्रीमती परमेश्वरी पैकरा,जिला पंचायत सीईओ गोपाल वर्मा,जनपद पंचायत सीईओ रूही टेंभुलकर, सहित स्थानीय ग्रामीण एवं जनप्रतिनिधि गण उपस्थित थे। गौ-मूत्र की खरीदी पशुपालक ग्रामीणों ने अब तक कुल 98 लीटर गौ-मूत्र विक्रय कर हुए लाभांवित* जिले में गौ-मूत्र की खरीदी विकासखंड पलारी के ग्राम छेरककापुर एवं सिमगा अंतर्गत ग्राम रोहरा के गौठान में की जा रही है। जिसके तहत पशुपालक ग्रामीणों ने ग्राम छेरककापुर में 4 किसानों से 50 लीटर और रोहरा में 8 किसानों से 48 लीटर गौ-मूत्र की खरीदी की गई है। इस तरह अब तक कुल 98 लीटर गौ-मूत्र विक्रय कर पशुपालक लाभांवित हुए हैं। इसमे रोहरा में 40 लीटर जीवामृत एवं 5 लीटर ब्रह्मास्त्र का निर्माण किया जा चूका है। उल्लेखनीय है की मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने विगत दिनों 28 जुलाई को हरेली तिहार के अवसर पर प्रदेश में गोमूत्र खरीदी योजना की शुरुआत की है। जिसके तहत पशुपालक ग्रामीणों से 4 रूपए लीटर में गौ-मूत्र की खरीदी की जा रही है। जैविक खेती की ओर बढ़ते छत्तीसगढ़ में बीते दो वर्षों में बड़ी संख्या में कृषक वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग खाद के रूप में कर रहे हैं। अब गौ-मूत्र से बायोपेस्टीसाइड का निर्माण करने की तैयारी है। गोमूत्र के साथ नीम व अन्य जैविक रासायनों का इस्तेमाल कर कीट नियंत्रक, जीवामृत और ग्रोथ प्रमोटर जैसे उत्पाद बनाए जाएंगे। यह उत्पाद फसलों को कीटों से बचाने के साथ रासायनिक पेस्टीसाइड से होने वाले नुकसान से भी बचाएंगे, जिससे मानव शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों से भी बचा जा सकेगा।

Leave a comment