छत्तीसगढ़

रेलवे सुरक्षा बल के हेड कांस्टेबल को मिला डी जी अवार्ड  हवालदार राजेन्द्र रायक्वाड ने बचाई थी यात्री की जान

रेलवे सुरक्षा बल के हेड कांस्टेबल को मिला डी जी अवार्ड हवालदार राजेन्द्र रायक्वाड ने बचाई थी यात्री की जान

भाटापारा:- चलती ट्रैन में पानी लेकर चढ़ने का प्रयास करते समय गिरे बुजुर्ग यात्री की जान बचाने वाले आरपीएफ के प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायक्वाड को डी जी अवार्ड से नवाजा गया है उन्होंने अपनी सजगता और हिम्मत से एक यात्री की जान बचाई थी।उक्त हेड कांस्टेबल को जीवन रक्षक पदक भी देने की मांग लोगो ने की है। विदित हो की प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायकवाढ दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे गोंदिया आरपीएफ टास्क फोर्स में तैनात है।हेड कांस्टेबल राजेन्द्र को उसके द्वारा लगातार किये जा रहे उलेखनीय उपलब्धियों केंलिये रेलवे बोर्ड के डी जी पदक से उन्हें नवाजा गया है। उन्होंने गत वर्ष और उसके डेढ़ वर्ष पूर्व ट्रेन में चढ़ने का प्रयास करते समय दो यात्रियो की जान बचाई थी और उनकी सजगता हिम्मत से किये गए इस कार्य के लिए मण्डल सुरक्षा आयुक्त आशूतोष पाण्डेय ने भी प्रसंशा पत्र देकर उनका उत्साहवर्धन करते हुए सम्मानित किया था। उल्लेखनीय है की हेड कांस्टेबल राजेन्द्र रायकवाढ ने 26 दिसम्बर 2020 को गाड़ी संख्या 02843 पूरी - अहमदाबाद एक्सप्रेस के गोंदिया स्टेशन में ट्रैन के रुकने पश्चात एक बुजुर्ग यात्री मौलिक जयसन हरिहर भाई उम्र 60 साल जो कि कालीकट से सूरत तक यात्रा कर रहे थे पीने का पानी लेने प्लेटफार्म में उतरे उसी दरम्यान गाड़ी रवाना होने लगी और बुजुर्ग यात्री चलती गाड़ी में पानी लेकर चढ़ने के प्रयास करते निचे गिर गए और गाड़ी तथा प्लेटफार्म के बीच फसकर घसीटने लगे, मौके पर तैनात टास्क टीम गोंदिया के प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायकवार ने बिना समय गवाएं दौड़कर उक्त बुजुर्ग यात्री को पकड़े रखा और यात्री को प्लेटफार्म तथा ट्रैन के बीच घुसने से सुरक्षित बाहर निकाला जिससे उक्त बुजुर्ग यात्री की जान बच सकी इस दौरान यात्री को सिर पर गंभीर चोटे आई तथाउक्त बुजुर्ग यात्री को प्रधान आरक्षक पी दलाई एवम आर एस ठाकुर की सहायता से शासकीय अस्पताल के टी एस गोंदिया उपचार करा कर उनके परिजनो को सूचित किया। उक्त घटना के पूर्व भी प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायकवाढे ने 28 मई 2019 को पूरी गांधीधाम एक्सप्रेस में बलांगीर से सूरत तक की यात्रा कर रहे एक बुजुर्ग यात्री देवजी भाई पटेल 65 वर्ष को भी अपनी जान की परवाह किये बगैर उस वक्त बचाया था जब वो ट्रेन में चढ़ते वक्त गिर कर घिसटने लगा था। प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायक्वाड ने इसके अलावा डिवीजन और ज़ोन क्षेत्रो में हुए अपराधो को भी खोज निकालने में विशेष भूमिका का निर्वहन किया है। राजेन्द्र को डी जी अवार्ड मिलने पर नागपुर,रायपुर और बिलासपुर डिवीजन के उनके अधिकारीयो सहित सहयोगियों ने उनको बधाई प्रेषित करते हुए शुभ कामनाये दी है। प्रधान आरक्षक राजेन्द्र रायक वाढ पूर्व में अपनी सेवाएं भाटापारा आरपीएफ में भी दे चुके है। उनके द्वारा लगातार किये जा रहे कार्यो को देखते हुए नागरिको ने रेल मंत्री से उन्हें जीवन रक्षक पदक देने की मांग की है।

Leave a comment