विश्व

यौन दुव्र्यवहार के आरोप ब्रितानी रक्षामंत्री का इस्तीफा

यौन दुव्र्यवहार के आरोप ब्रितानी रक्षामंत्री का इस्तीफा

लंदन, 2 नवम्बर। यौन दुव्र्यवहार के आरोपों के बीच ब्रिटेन के रक्षा मंत्री सर माइकल फैलन ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा है कि ब्रितानी सेना के मानदंडों के मुताबिक हो सकता है कि उनका व्यवहार खरा नहीं उतरा हो।

उन्होंने बताया कि 10 या 15 साल पहले जो चीज स्वीकार्य थी, अब साफ तौर पर वो स्वीकार्य नहीं है। हाल में संसद में गंभीर यौन दुव्र्यवहारों के आरोपों के बाद वो पहले नेता हैं जिन्होंने इस्तीफा दिया है।
उनके व्यवहार के बारे में ये ताजा दावे बुधवार को किए गए, लेकिन इस पर प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कोई बयान नहीं दिया गया है। टेरीजा मे ने कैबिनेट में अपनी भूमिका को गंभीरता से लेने पर सर फैलन की तारीफ की है।
अपने त्यागपत्र में फैलन ने लिखा है कि हाल के दिनों में जनप्रतिनिधियों पर कई सारे आरोप सामने आए हैं। इनमें से कुछ आरोप मेरे अतीत के व्यवहार के बारे में हैं।
उनके अनुसार कि इनमें से अधिकांश गलत हैं लेकिन मैं स्वीकार करता हूं कि अतीत में मेरा व्यवहार ऐसा रहा है, जो सेना की अगुवाई करने के लिए जरूरी मानकों के अनुरूप नहीं है।
उन्होंने अपने इस्तीफे के फैसले को सही बताया कि इन बरसों में संस्कृति काफी बदल गई है। 10 या 15 साल पहले जो स्वीकार्य हो सकता था, अब बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है। उन्होंने कहा कि अब संसद को आत्ममंथन करने की जरूरत है और प्रधानमंत्री ने साफ भी किया है कि व्यवहार में सुधार की जरूरत है और हमें किसी भी तरह के उत्पीडऩ के आरोपों के खिलाफ वेस्टमिंस्टर के कर्मचारियों को बचाने की जरूरत है। (बाकी पेजï 5 पर)
जब उनसे ये पूछा गया कि क्या आपको माफी मांगनी चाहिए, उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हम सभी को अब अतीत पर एक नजर दौड़ा लेनी चाहिए, कुछ न कुछ ऐसा जरूर मिलेगा जिसके लिए आपको अफसोस करना पड़े, जिसे शायद आपने अलग तरीके से किया होता।
उन्होंने कहा कि साढ़े तीन साल तक रक्षा मंत्री पद संभालना उनके लिए सौभाग्य की बात रही है। प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और उनके कार्यकाल की तारीफ की है।
सर माइकल फैलन पिछले चार दशक से लगातार सांसद रहे हैं। मार्च 1983 में, वो लेबर पार्टी के एक उम्मीदवार से हार गए थे लेकिन इसी दौरान मार्गारेट थैचर ने आम चुनावों की घोषणा की तो वो 77 दिन बाद ही चुनाव जीत गए।
साल 1992 में उनका राजनीतिक करियर थोड़ा रुका, जब वो आम चुनावों में डार्लिंगटन की सीट लेबर पार्टी के उम्मीदवार से हार गए। इसके बाद 1997 में कंजर्वेटिव उम्मीदवार के रूप में वेस्टमिंस्टर से चुनाव लड़ा। गठबंधन सरकार के दौर में उन्हें मंत्री बनाया गया था। डेविड कैमरन के कार्यकाल में 2014 में वो मंत्री रहे। इसी दौरान उन्होंने रक्षामंत्री का पदभार संभाला था। (बीबीसी)

Leave a comment