राजधानी

 नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के सवाल पर सरकार ने सदन को बताया.. छत्तीसगढ़ पर संभावित आय से अधिक कर्ज, हर साल राज्य सरकार को 5000 करोड रुपए से अधिक का केवल ब्याज बताना पड़ रहा

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के सवाल पर सरकार ने सदन को बताया.. छत्तीसगढ़ पर संभावित आय से अधिक कर्ज, हर साल राज्य सरकार को 5000 करोड रुपए से अधिक का केवल ब्याज बताना पड़ रहा

रायपुर – छत्तीसगढ़ सरकार कर्ज के बोझ में दबती जा रही है। हालात ऐसे हैं कि सरकार पर अनुमानित राजस्व आय का 106% कर्ज भार है, मतलब, जितनी आय संभावित है उससे कहीं अधिक कर्ज है। बजट 2021-22 के मुताबिक प्रदेश में 79 हजार 325 करोड़ रुपए की कुल राजस्व प्राप्तियां अनुमानित हैं। कर्ज की यह मात्रा छत्तीसगढ़ के सकल घरेलू उत्पाद (GDP)का 22% होता है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के सवाल के लिखित उत्तर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि दिसम्बर 2018 से 24 नवम्बर 2021 तक सरकार ने 51 हजार 335 करोड़ रुपए का कर्ज लिया है। यह कर्ज भारतीय रिजर्व बैंक की उधारी है। नाबार्ड से लिया गया और केंद्र सरकार ने उपलब्ध कराया है। हालात ऐसे हैं कि सरकार को हर साल करीब 5 हजार करोड़ रुपए से अधिक का केवल ब्याज चुकाना पड़ रहा है। विधानसभा में दिए गए उत्तर के मुताबिक सरकार ने दिसम्बर 2018 से मार्च 2019 तक ब्याज के रूप में विभिन्न वित्तीय संस्थाओं को 1771 करोड़ 94 लाख रुपए का भुगतान किया। वहीं 590 करोड़ 64 लाख रुपए मूलधन के दिए।

Leave a comment