राजधानी

स्थानिय विधायक बताये की 15 साल प्रदेश में उनकी सरकार रही तब भाठापारा में चिकित्सा के क्षेत्रों में विधायक ने क्या विकास कार्य किये है -सुशील शर्मा

स्थानिय विधायक बताये की 15 साल प्रदेश में उनकी सरकार रही तब भाठापारा में चिकित्सा के क्षेत्रों में विधायक ने क्या विकास कार्य किये है -सुशील शर्मा

भाठापारा-भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा के दुवारा राज्य सरकार लगाये अनर्गल आरोप पर पलटवार करते वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस कर प्रदेश कांग्रेस सचिव और मारो नगर पंचायत के पर्वेक्षक सुशील शर्मा ने कहा कि उल्टा चोर कोतवाल को डांट लगाये वाली कहावत को चरितार्थ करते हुये भूपेश सरकार के खिलाफ इस भयंकर कोरोना संक्रमण काल मे अपनी उपस्तिथि दिखाने अपनी गाल बजाने से बाज नही आ रहे है,स्थानिय विधायक बताये की 15 साल प्रदेश में उनकी सरकार रही तब भाठापारा में चिकित्सा के क्षेत्रों में विधायक ने क्या विकास कार्य किये है उनके कार्यकाल में एक भी नये स्वस्थ केंद्र का निर्माण एवं टीकाकरण केंद्र का निर्माण नही किया गया,सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की स्तिथि में कोई सुधार कार्य नही किया गया आज भी यह केंद्र मात्र रिफर सेंटर बनकर रह गया है,कोविड़-19 जैसे महामारी के शिकार लोगो को हो रही टिका, दवाई,आक्सीजन की कमी के लिये केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार पूर्ण रूपेण जिम्मेदार है,मोदी सरकार के दुवारा नोट बंदी,जी एस टी, किसानों के लिये लाये काले कानून जैसे तुगलकी फैसलों की तरह कोविड़-19 के नियंत्रण में सरकार ने लगातार गलत फैसले लिये गये जिसका परिणाम आज पूरा देश और देश के साथ साथ छत्तीसगढ़ की जनता भी। भुगत रही है। जबकि राज्य में कांग्रेस की भूपेश बघेल की सरकार ने कोरोना महामारी को समाप्त करने के लिये प्रदेश में लॉक डाउन करना,सेनेटाइजर की व्यवस्था,माक्स की अनिवार्यता,दो गज की दूरी जैसे महत्वपूर्ण निर्णय कर जनता जनार्दन को इस महामारी से बचा कर रखा,केंद्र की मोदी सरकार ने इसकी तारीफ भी की और राज्य सरकार से कोविड़-19 से बचाव के फार्मूलों की जानकारी भी ली किन्तु उस पर गंभीरता पूर्वक अमल नही किया गया,आज भी राज्य की भूपेश सरकार इस संक्रमण काल मे महामारी से बचाव हेतु लगातार जनजागरण कर जनता को जागरूक करने में तन मन धन से लगी हुई है,इसके साथ ही सरकार ने सभी नगरीय निकाय क्षेत्रों और ग्राम पंचायत क्षेत्रों में कोरेन्टीन सेंटर सहित कोविड़-19 अस्पताल का निर्माण कर जनता की भलाई करने में लगी हुई है, छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम के नेतृत्व में पूरे प्रदेश में कोरोना महामारी के रोकथाम में सहयोग करने के लिये जिला और ब्लॉक स्तर पर कोरोना कंट्रोल रूम गठित कर कोविड़ से पीड़ितों को चिकित्सा,स्वास्थ,अस्पताल लाने और ले जाने,टेस्टिंग कराने, टिका कारण करवाने,बेड और आक्सीजन की व्ययस्था सहित जरूरत मन्दो को भोजन उपलब्ध कराने पूरे प्रदेश में कांग्रेस के कार्यकर्ता जी जान से लग कर कार्य कर रहे है। ऐसे संक्रमण काल के समय स्थानिय विधायक के दुवारा राज्य सरकार पर मिथ्या आरोप लगाना उनकी छपास रोग से ग्रसित मानसिकता को प्रदर्षित करती है,विधायक बताये की उनके दुवारा कोविड़-19 के पहले चरण में क्या योगदान दिया गया था,आज केंद्र सरकार के अति विस्वास और अदूरदर्शी निर्णय के चलते देश और प्रदेश की जनता को कोरोना महामारी के मामले में दूसरी बार भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है,केंद्र सरकार के दुवारा लगातार छत्तीसगढ़ प्रदेश के साथ भेदभावपूर्ण की नीति अपनाई जा रही है,आज प्रदेश की इस गंभीर स्तिथि के लिये केंद्र की मोदी सरकार ही पूर्णता जिम्मेदार है। प्रदेश कांग्रेस सचिव सुशील शर्मा ने आगे कहा कि केंद्र सरकार यदि अपना टिका और वैक्सीन अन्य देशों को देने की अपेक्षा प्रदेशो को दिया होता तो आज प्रदेशो से कोरोना संक्रमण पूरी तरह समापन की ओर अग्रसर होता,कांग्रेस के नेताओ के दुवारा लगातार मांग करने पर अब जाकर 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के नागरिकों को टीकाकरण की अनुमति प्रदान की गई है,ऐसे महामारी के समय भी भूपेश सरकार ने गरीबो और मज़दूरो को जीवन निर्वाह करने रोजगार गारंटी के तहत कार्य प्रदान किया, किसानों को धान का बोनस दिया,रेलवेस्टेशन,बस स्टेण्ड से लेकर एयरपोर्ट तक सभी जगह आने और जाने वालों का कोरोना टेस्ट कराने की व्यवस्था करना जैसे महत्वपूर्ण कार्य मे प्रशासन तंत्र लगा हुवा है। ऐसे नाजुक संक्रमण काल के समय विधायक को अनर्गल मिथ्या आरोप न लगाकर जनता जनार्दन की सेवा और सहयोग करने में राज्य सरकार का साथ देना चाहिये और अपने जनप्रतिनिधि होने का दायित्व निभाना चाहिये।पूर्व में जब इस महामारी का जन्म हुवा था उस समय देश के प्रधानमंत्री ने जनता जनार्दन से थाली और ताली बजवाकर,शंख और घंटी बजवाकर,दीपक और मोमबत्ती जलवाकर कोरोना को भगाने की अपील की गई थी उंसके स्थान पर यदि दवाइयों,अस्पतालों और वैक्सीन के निर्माण पर गंभीरता पूर्वक धयान दिया जाता तो आज देश और प्रदेश से कोविड़-19 का विनाश निश्चिय हो जाता और इस महामारी से जनता को राहत मिल जाती,यह महामारी इसकदर नही फैलती,कांग्रेस के नेताओ पर गुटबाज़ी का आरोप लगाकर अपनी जवाबदेही से विधायक शिवरतन शर्मा बचना चाहते है, आपकी पार्टी में कितनी गुटबाज़ी है और आप स्वयं किस तरह गुटबाज़ी करते है इससे पूरा क्षेत्र भली भांति परिचित है। अंत मे सुशील शर्मा ने विधायक से कहा कि इस संक्रमण काल के समय राज्य सरकार पर आरोप लगाने से बचें और सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर क्षेत्र की जनता को इस महामारी से बचाने सहयोग करने आगे आकर सड़को पर जन सेवा करें।

Leave a comment