क्राइम

झोलाछाप डॉक्टर की दुकानदारी चरम सीमा पर  कार्यवाही आखिर कब

झोलाछाप डॉक्टर की दुकानदारी चरम सीमा पर कार्यवाही आखिर कब

सारंगढ़:- नर्सिंग होम एक्ट की धज्जियां उड़ाने वाली तस्वीरें अगर आपको देखनी है तो आप रायगढ़ जिले के सारंगढ़ क्षेत्र में जा कर देखिए जहां पर झोलाछाप डॉक्टर धड़ल्ले के साथ अपनी दुकानदारी खोले बैठे हुए हैं. खासतौर से क्षेत्र में बंगाली झोलाछाप डॉक्टरों का बोलबाला चल रहा है लेकिन बंगाली झोलाछाप डॉक्टरों के ऊपर कार्यवाही करने के लिए आला अधिकारी नदारद दिख रहे हैं. प्रदेश में नर्सिंग होम एक्ट को शुरू हुए अब 9 साल से भी अधिक होने को है लेकिन मजाल है इन झोलाछाप डॉक्टरों के ऊपर कोई अधिकारी कार्यवाही कर दे. टेबल बंगाली डॉक्टर ही नहीं यहां पर फर्जी डिग्री धारी डॉक्टर भी बैठे हुए हैं लेकिन फर्जी डॉक्टरों पर अब तक कार्यवाही ना होना स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली पर सवालिया निशान भी खड़ा होता है.

भेड़वन गोड़म क्षेत्र में बंगाली डॉक्टर इन दिनों में अपने पांव पसारे हुए हैं. बीते दिनों क्षेत्र के झोलाछाप डॉक्टर राम परावाणी के गलत इलाज के कारण एक बच्ची बाल बाल बची परिजनों की शिकायत पर आला अधिकारियों द्वारा शीघ्र कार्यवाही का आश्वासन दिया गया.

आपको बता दें कि उक्त झोलाछाप डॉक्टर द्वारा पिछले कई सालों से क्षेत्र में भोले-भाले ग्रामीणों के जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. लेकिन कार्यवाही ना होने की वजह से झोलाछाप डॉक्टर के हौसले दिनोंदिन बुलंद होते नजर आ रहे हैं. अब देखना होगा कि मीडिया के संज्ञान में आने के बाद आलाधिकारी और जनप्रतिनिधि उक्त झोलाछाप डॉक्टर के ऊपर क्या कार्यवाही करते हैं.

Leave a comment