व्यापार

छत्तीसगढ़ के एम एस एम ई उद्यमियों के लिए ए&ए  बिज़नेस कंसल्टिंग ने की खास सेवाओं की शुरुआत

छत्तीसगढ़ के एम एस एम ई उद्यमियों के लिए ए&ए बिज़नेस कंसल्टिंग ने की खास सेवाओं की शुरुआत

रायपुर, 9 जुलाई, 2018 : एमएसएमई के लिए बिजनेस कंसल्टिंग के क्षेत्र में अग्रणी नाम ए एन्ड ए  बिजनेस कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड ने हाल ही में रायपुर में काम का शुभारम्भ किया। यह कम्पनी क्लाइंट के व्यवसाय का विश्लेषण करने, समस्या से संबंधित क्षेत्रों की पहचान करने और कस्टम-डिजाइन समाधानों को लागू करने में विशेषग्यता रखती है, ताकि क्लाइंट्स की उल्लेखनीय वृद्धि तथा फायदे में बढ़ोत्तरी के लिए प्रभाव डाले जा सकें। देशभर में अब तक 10,000 से भी अधिक एमएसएमई क्लाइंट्स को सेवाएं दे चुकी यह कम्पनी इस बात पर विश्वास करती है कि भारत में रायपुर एक बहुत ही महत्वपूर्ण एमएसएमई हब है जिसके लिए उन्हें सेवाएं देनी चाहिए। 

इसी कड़ी में एक प्रेस मीट के दौरान यह घोषणा करते हुए, प्रवीण दरयानी, चेयरमैन तथा मैनेजिंग डायरेक्टर, ए एन्ड ए बिजनेस कंसल्टिंग ने कहा-'एमएसएमई हमारे देश की जीडीपी में करीब 40 प्रतिशत का योगदान देती हैं और करीब 80 मिलियन लोगों को रोजगार देती हैं. राष्ट्र की आर्थिक वृद्धि के लिए वे सर्वोत्कृष्ट हैं तथा खास देख रेख की पात्र हैं'।

राष्ट्र की आर्थिक वृद्धि में सहयोग करने के बड़े लक्ष्य के साथ काम कर रही ए एन्ड ए बिजनेस कंसल्टिंग एमएसएमई व्यवसायियों को अधिक व्यवस्थित होने में  मदद करने के साथ ही यह भी सुनिश्चित करती है कि सही प्रक्रिया, तकनीक, लोग तथा पहुँच को सही तरीके से रखकर सर्वोत्तम प्रदर्शन तथा मुनाफे में बढ़त को तय किया जा सके।

कम्पनी की प्रैक्टिस की श्रृंखला व्यवसाय, फाइनेंस, ब्रांडिंग, ह्यूमन रिसोर्सेस, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी तथा ऑपरेशंस आदि से लेकर इसके फ्लैगशिप प्रोग्राम जैसे कि स्पीड फॉर बिजनेस (एसएफबी) तथा स्ट्रैटजिक अलाइंस इन बिजनेस (एसएबी) तक संचालित होती है. इन सबके जरिये कम्पनी एमएसएमई ऑन्त्रप्रेन्योर्स का विकास करने में सहायता कर रही है एवं उन्हें उनके व्यवसाय को बढ़ाने में भी मदद कर रही है.   दरियानी आगे बताते हैं-'एमएसएमई व्यवसायों में मानव संसाधनों को मजबूत बनाना, उत्पादों पर काम करना, ब्रांड के प्रति समझ तथा सिस्टम में सुधार लाना वे महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं जिनपर ए एन्ड ए कम्पनी ध्यान केंद्रित करती है. इसके बाद वृद्धि और टर्नओवर अपने आप आ जाते हैं'।

ए ए बी सी के बारे में:
ए एन्ड ए बिजनेस कंसल्टिंग (ए ए बी सी) स्मॉल एन्ड मीडियम एंटरप्राइज (लघु व मध्यम उद्यमों) के लिए भारत की अग्रणी कंसल्टिंग कम्पनी है. 2009 में स्थापित एएबीसी ने विभिन्न व्यवसायों में सहयोग कर व्यवस्थित वृद्धि हासिल करते हुए 1500 पूर्ण विकसित कंसल्टिंग प्रोजेक्ट्स पूरे किये हैं। वर्तमान में देशभर के 7 राज्यों में 18000 से अधिक एमएसएमई के साथ हम उपस्थिति दर्शा रहे हैं।

मारे 300 से अधिक प्रोफेशनल्स की टीम विभिन्न उद्योगों से जुड़े क्लाइंट्स को सेवाएं दे रही है जिनमें टैक्सटाइल से लेकर मशीन टूल्स, अपैरल, एग्रीकल्चर, इंजीनियरिंग, कैमिकल्स, फूड प्रोसेसिंग, हेल्थकेयर तथा फार्मास्यूटिकल्स, टेलीकॉम, एजुकेशन, बीएफएसआई, ऑटोमोबाइल, कंस्ट्रक्शन तथा इंफ्रास्ट्रक्चर एवं एफएमसीजी आदि शामिल हैं।

हमारे पास छह अलग-अलग कंसल्टिंग प्रैक्टिस हैं जिनके साथ हम काम करते हैं. ये हैं सेल्स (बिजनेस), फाइनेंस, ब्रांडिंग, ह्यूमन रिसोर्सेस, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी तथा ऑपरेशंस (बिजनेस प्रोसेस). विभिन्न उद्योगों में विशेषग्यता रखने वाली 100 से अधिक हमारे कंसल्टेंट्स की टीम सब्जेक्ट मैटर एक्सपर्ट्स (एस. एम. ए.) टीम द्वारा समर्थन प्राप्त है. ये दोनों एक साथ मिलकर क्लाइंट्स के बिजनेस में उल्लेखनीय बदलाव लाने की जिम्मेदारी निभाते हैं।

सभी प्रैक्टिस से जुड़े समस्त कंसल्टिंग प्रोडक्ट्स एएबीसी की प्रोडक्ट रिसर्च एन्ड डेवलपमेंट टीम (पीआरडी) द्वारा अनुसन्धान और विकसित किये गए हैं. यह टीम एसएमई व्यवसाय की चुनौतियों को समझने के लिए प्रायमरी रिसर्च करता है और उसके बाद रिसर्च से प्राप्त नतीजों तथा क्लाइंट से मिले फ़ीडबैक के आधार पर उत्पादों को विकसित करता है. इन उत्पादों के जरिये उपलब्ध करवाए गए समाधान एसएमई के लिहाज से खरे उतरते हैं, चाहे फिर वे एसएमई किसी भी आकार की हों और उनके द्वारा कितनी भी बड़ी चुनौती का सामना क्यों न किया जा रहा हो।

कम्पनी द्वारा अपनाई जा रही कंसल्टिंग मेथडोलॉजी एकदम अनूठी है. हम विशिष्ट क्लाइंट के लिए खास कंसल्टेंट को निर्धारित करते हैं, काम की गुंजाईश (स्कोप ऑफ वर्क-एसओडब्ल्यू) को फ़ाइनल करते हैं, क्लाइंट के व्यवसाय पर उस एसओडब्ल्यू को लागू करने को प्रतिबद्ध रहते हैं. हम क्लाइंट्स के कर्मचारियों को और अधिक प्रोडक्टिव बनाने एवं उन्हें बेहतर प्रोफेशनल्स बनाने के लिए प्रशिक्षण भी देते हैं. इससे भी आगे हम अपने क्लाइंट्स के ग्रुप्स के लिए नेटवर्किंग के अवसर भी बनाते हैं जहाँ वे एक-दूसरे के साथ संसाधनों को उपजाने और एक्सचेंज करने का काम कर सकते हैं. अंत में, हम अपने क्लाइंट्स (एसएमई मालिकों) को बिजनेस के विभिन्न पहलुओं पर प्रशिक्षित करते हैं और इस तरह से उनके ज्ञान में इजाफा करके, उनके व्यावसायिक परिदृश्य को और विस्तृत करते हैं. इस तरह यह एक प्रोजेक्ट की शुरुआत में समर्पित एसओडब्ल्यू के प्रभावशाली कार्यान्वयन के रूप में परिणाम पहुँचते हैं।

एएबीसी में हमारा विजन लोगों और संस्थानों को वृद्धि करने में सहायता करना है. अपने इस दृष्टिकोण से गहराई से जुड़े रहते हुए हमने मार्च 2018 में 1239 व्यवसायों वित्तीय स्तर पर आगे बढ़ने में सहायता की है. हम अब 31 मार्च 2020 तक 2020 व्यवसायों को आर्थिक स्तर पर वृद्धि करने में सहायता करने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं. हम भारत में एसएमई सेक्टर में वांछित परिवर्तन का अंदाज लगा सकते हैं ।हम एक व्यवस्थित तरीके से आगे बढ़ने में सहायता करके लाखों एसएमई के आर्थिक भाग्य को संवारना चाहते हैं। 

संबंधित तस्वीर

Leave a comment