व्यापार

GST व्यवस्था में थोड़ा सुकून

GST व्यवस्था में थोड़ा सुकून

नई दिल्ली:-केंद्र गवर्नमेंट जल्द ही लोगों को GST व्यवस्था में थोड़ी राहत दे सकती है. केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने इस बात के इशारा दिये हैं कि गवर्नमेंट 28 फीसद कर स्लैब के दायरे में आने वाली वस्तुओं की संख्या में कटौती कर सकती है. उन्होंने साथ ही यह भी बताया है कि राजस्व संग्रह पूर्व स्तर पर आ गया है.बताते चलें कि देशभर में चीज एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था एक जुलाई को लागू हुई थी. इसके तहत 1200 से अधिक वस्तुओं व सेवाओं को पांच फीसद, 12 फीसद, 18 फीसद व 28 फीसद कर स्लैब की कैटेगरी में रखा गया था. जानकारी के लिए बता दें कि 28 फीसद के कर स्लैब के तहत वॉशिंग मशीन, फ्रिज, इलेक्ट्रिकल फिटिंग्स, सीमेंट, सीलिंग फैन, घड़ियां, ऑटोमोबाइल, तंबाकू उत्पाद, न्यूट्रीशनल ड्रिंक, ऑटो पार्ट्स, प्लास्टिक फर्नीचर व प्लायवुड आते हैं. अरुण जेटली ने बताया है कि कुछ कमोटिडी पर 28 फीसद पहले से ही नहीं होनी चाहिए थी. इस कारण पिछली तीन से चार बैठकों में GST काउंसिल ने 100 तरह की चीजों पर GST दर में कटौती की है. इसपर 28 फीसद कर घटाकर 18 फीसद व 18 फीसद से कम करके 12 फीसद कर दिया गया है. उन्होंने एक प्रोग्राम के दौरान बोला कि धीरे-धीरे कर की दर को घटाया जा रहा है. ऐसा करने के पीछे मुख्य उद्देश्य राजस्व संग्रह में स्थिरता प्राप्त करना था. अब इसमें कमी लाने की आवश्यकता है.काउंसिल इसी दिशा में कार्य कर रही है.GST काउंसिल की अगली मीटिंग 10 नवंबर को होनी है.इसमें हाथ से निर्मित फर्नीचर, प्लास्टिक उत्पादों व शैंपू जैसे रोजमर्रा की वस्तुओं पर कर की दरें कम करने पर विचार किया जा सकता है.

Leave a comment