व्यापार

बेमौसम बारिश, कोरोना का कहर और लॉकडाउन के बढ़ते दिन के चलते अब कोल्ड ड्रिंक्स बाजार पुरानी स्थिति में लौट आए

बेमौसम बारिश, कोरोना का कहर और लॉकडाउन के बढ़ते दिन के चलते अब कोल्ड ड्रिंक्स बाजार पुरानी स्थिति में लौट आए

भाटापारा  बेमौसम बारिश, कोरोना का कहर और लॉकडाउन के बढ़ते दिन के चलते अब कोल्ड ड्रिंक्स बाजार अंतिम सांस लेता दिख रहा है। फरवरी का उत्पादन कालातीत अवधि के करीब आता जा रहा है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने सभी डिस्ट्रीब्यूटर, होलसेल और रिटेल काउंटर को सूचना भेजने की तैयारी कर ली है |

बेमौसम बारिश, कोरोना का कहर और लॉकडाउन के बढ़ते दिन के चलते अब कोल्ड ड्रिंक्स बाजार अंतिम सांस लेता दिख रहा है। फरवरी का उत्पादन कालातीत अवधि के करीब आता जा रहा है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने सभी डिस्ट्रीब्यूटर, होलसेल और रिटेल काउंटर को सूचना भेजने की तैयारी कर ली है कि ऐसे कोल्ड ड्रिंक्स की जांच कर लें जो एक्सपायरी डेट के करीब पहुंच चुकी है। कोरोना वायरस से हर उद्योग छोटा हो या बड़ा बुरी तरह प्रभावित हुआ है। नौकरियां जाने लगी हैं तो उद्योग की सांसे टूटने लगी है। ले-देकर कुछ तो चालू हुए हैं लेकिन उनमें भी इतनी शक्ति नहीं है कि वे जल्द अपनी पुरानी स्थिति में लौट आए।

ताजा मामला कोल्ड ड्रिंक्स बाजार से जुड़ा हुआ है। यह उद्योग फरवरी माह में अपना उत्पादन चालू कर देता है और सप्लाई भी साथ-साथ साथ चलती रहती है। इस बार फरवरी माह से अब तक रह-रहकर कुछ दिन के अंतराल में बारिश हो रही है तो कोरोना वायरस ने इस उद्योग पर भी कहर बरपाया है। लॉकडाउन के बाद कारोबारी जगत में ताले लगे हुए हैं ऐसे में बड़ी संख्या में डिस्ट्रीब्यूटर से लेकर रिटेल काउंटर तक में अच्छी खासी मात्रा में कोल्ड ड्रिंक्स का स्टॉक जाम हो चुका है। इसमें से कई की कालातीत की अवधि मई और जून माह में खत्म होने वाली है। इससे होने वाले नुकसान को देखते हुए खाद्य एवं औषधि प्रशासन में कंपनियों से लेकर रिटेल काउंटर तक इसकी सूचना भिजवाने की तैयारी कर दी है कि विक्रय के पहले इसका ध्यान अवश्य रखें अन्यथा लेने के देने हो सकती है।
 
  
फरवरी से उत्पादन मध्य जून तक बाजार

कोल्ड ड्रिंक्स का बाजार फरवरी माह से लेकर जून माह तक माना जाता है। इसमें बीच में बारिश हो गई तो दोबारा कारोबार जमाने में 15 दिन का समय लगता है लेकिन इस बार मौसम शायद कोल्ड ड्रिंक्स से खफा है तभी तो लगभग हर पखवाड़े बारिश हो रही है। इस बार मौसम के साथ कोरोना वायरस ने सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। इधर मार्च से लेकर अब तक इसका कहर जारी है। लॉकडाउन के बाद तो यह पूरी तरह संकट में आ चुका है। अब मई मध्य और जून का पहला पखवाड़ा ही अंतिम उम्मीद है। यदि इस बीच सुधार नहीं आया तो नुकसान का आंकड़ा उद्योग को पूरी तरह तबाह कर सकता है।
 
डिमांड काउंटरों में ताला
कोल्ड ड्रिंक्स का सबसे बड़ा बिक्री केंद्र हॉटल, रेस्टोरेंट्स, फूड काउंटर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, टी एंड कॉफी काउंटर, फास्ट फूड सेंटर इन सभी में ताला लगा हुआ है। इसके खुलने की उम्मीद को लेकर चारों तरफ अनिश्चितता बनी हुई है। इन सभी सेल काउंटर काउंटरों के बंद होने से कोल्ड ड्रिंक्स कंपनियों को तगड़ा झटका लगा है।

बॉक्स

अब वेंटिलेटर पर उद्योग
ताजा स्थिति के बाद यह उद्योग चारों तरफ से असुरक्षित हो चुका है क्योंकि जब तक स्थिति सामान्य होगी तब तक बारिश का मौसम दस्तक दे चुका होगा। यानी एक झटके में पूरा प्रोडक्ट बेकार हो जाने वाला है, क्योंकि इनकी सेल्फलाइफ या फिर कालातीत अवधि खत्म होने में ज्यादा दिन नहीं है। ऐसे में इसका विक्रय मुसीबत में डाल सकता है।
 
फूड एंड सेफ्टी का अलर्ट

खाद्य एवं औषधि प्रशासन के अनुसार बिना गैस के पैक किया जाने वाला कोल्ड ड्रिंक्स की एक्सपायरी डेट उत्पादन के बाद 3 माह की होती है जबकि गैस वाले कोल्ड ड्रिंक्स की कालातित अवधि कम से कम 5 से 7 माह की होती है। अधिकतर कोल्ड ड्रिंक्स की कंपनियां फरवरी लगते ही उत्पादन चालू कर देती है और सप्लाई भी साथ-साथ किया करती है।
 

एक्सपायरी प्रोडक्ट तत्काल नष्ट करें
प्रशासन ने ऐसे सभी कारोबारियों से कहा है कि बाजार जब भी खुलेगा तब सबसे पहले हर कोल्ड ड्रिंक्स की पैकिंग की जांच करें और एक्सपायरी हो चुकी प्रोडक्ट को या तो खुद नष्ट करें या कंपनियों को वापस भेजें। नहीं लेने की स्थिति में ऐसे उत्पादन खुद नष्ट करें या स्थानीय निकाय की मदद लें। इस काम में विभाग के सुरक्षा अधिकारी से भी मदद ली जा सकती है।
 

वर्जन

लॉकडाउन में रियायत पाने वाली ऐसी सभी संस्थानें जो कोल्ड ड्रिंक्स बेचती है वे एक्सपायरी डेट का अवलोकन जरूर करें। साथ ही स्थिति बहाली के बाद खुलने वाली संस्थानों को भी हर प्रोडक्ट की जांच करनी होगी। एक्सपायर हो चुकी कोल्ड ड्रिंक्स को नष्ट करवाएं।

डॉ आरके शुक्ला

असिस्टेंट कमिश्नर खाद्य एवं औषधि प्रशासन रायपुर

Leave a comment