विशेष

आत्मसमर्पित नक्सली और पुलिस कप्तान का अभिनय , शार्ट फ़िल्म से नक्सलवाद पर करेंगे चोट , बस्तर में बन रही नक्सलवाद आधारित फिल्म

आत्मसमर्पित नक्सली और पुलिस कप्तान का अभिनय , शार्ट फ़िल्म से नक्सलवाद पर करेंगे चोट , बस्तर में बन रही नक्सलवाद आधारित फिल्म

अब तक आप ने देखा होगा कि माओवादी किसी भी बड़ी घटना को अंजाम देने के बाद मिली कामयाबी का वीडियो बना कर सोशल मीडिया में वायरल करते है। साथ ही स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को, गांव में सभा कर ग्रामीणों को भी दिखाते हैं। ताकि बस्तर के भोले भाले ग्रामीणों के दिल और दिमाग मे माओवादी अपनी जगह बना सके। जिससे लोकतंत्र के खिलाफ ग्रामीणों के मन में गुस्सा फूट सके। इसके लिए नक्सलियो ने विशेष रणनीति के तहत अपना एक प्रोडक्शन हाउस बना कर रखा है।

इस प्रोडक्शन हाउस से माओवादी अपनी जल, जंगल, जमीन की लड़ाई और पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ , किसी बड़े नेता को मौत के घाट उतारने जैसे कहानियों की शार्ट फ़िल्म बना के ग्रामीणों को दिखाते है, साथ ही सोशल मीडिया में धड़ल्ले से वायरल भी करते है। इन सब को देखते हुए अब दन्तेवाड़ा पुलिस भी नक्सलियो की खोखली विचारधारा पर आधारित सच्ची घटना की शार्ट फ़िल्म बना रहीं है। इस शार्ट फ़िल्म में सरेंडर माओवादी, डीआरजी के जवान , महिला डीआरजी के साथ दन्तेवाड़ा एसपी व एएसपी खुद रोल प्ले कर रहे है। इस फ़िल्म निर्माण के लिए रायपुर ,और भिलाई से वीडियो ग्राफर बुलाये गए है।

बता दे कि छग का बस्तर संभाग और इसका एक एक जिला , एक एक गांव आज लाल आतंक की चादर ओढ़े हुए है। पुलिस के एक्शन मोड़ में आने के बाद भी लगातार माओवादी इन इलाकों में अपनी पैठ जमाये हुए है। बस्तर जैसे खूबसूरत जगह के लिए अभिशाप बने ये माओवादी कई छोटी बड़ी घटनाओं को अंजाम देते है, और हर घटना के पीछे मिली कामयाबी की वीडियो बना कर बस्तर के भोले भाले ग्रामीणों को दिखाते है। ताकि ग्रामीणों के मन , मस्तिष्क मे भी सरकार व , पुलिस तंत्र के खिलाफ गुस्सा फूट सके और नक्सली ग्रामीणों के दिल और दिमाग मे अपनी जगह बना सके व उनका विश्वास पा सके।

बस्तर में माओवादियो ने रानिबोधली, ताड़मेटला, बुर्कापाल, झीरम , जैसी कई बड़ी घटना को अंजाम दिया है। और इसकी वीडियो भी बनाई है। इस वीडियो को अपने प्रोडक्शन हाउस के माध्यम से एडिटिंग कर माओवादी इसे रिलीज भी किये है। वही अब दन्तेवाड़ा पुलिस भी माओवादियो को उन्ही की बोली से उन्ही को जवाब देने की तैयारी कर रही है। नक्सलियो पर दन्तेवाड़ा पुलिस अब वीडियो वार करने जा रही है। नक्सलियो के द्वारा ग्रामीणों पर अत्याचार, लिंग भेद, अपने ही साथियों को मौत के घाट उतारना, महिला नक्सल साथियों की नशबंदी जैसे कई मुख्य बिंदुओं पर दन्तेवाड़ा एडिशनल एसपी सूरज सिंह परिहार ने स्क्रिप्ट लिखी है। लगभग एक महीने में तैयार हुई स्क्रिप्ट के बाद अब इस स्क्रिप्ट पर अलग अलग भूमिका अदा करने कलाकार दन्तेवाड़ा के जंगल में अलग अलग लोकेशन पर शूटिंग कर रहे है।

इस 10 मिनट की शार्ट फ़िल्म में सेंट्रल कमेटी के शीर्ष माओवादी नेता गणपति का रोल प्ले करने रायपुर के कलाकार को बुलाया गया है। वही खूंखार इनामी माओवादी हिड़मा का रोल दन्तेवाड़ा डीआरजी जवान मुकेश तांती कर रहे है, और खूंखार महिला नक्सली हूँगी का रोल महिला डीआरजी की आरक्षक सुनैना पटेल कर रही है। साथ ही एसपी की भूमिका स्वयं एसपी ही निभा रहे है।

पहले और दूसरे दिन शूटिंग के दौरान दिखे यह दृश्य- दन्तेवाड़ा के घने जंगलों में पिछले 2 दिनों से यह शूटिंग चल रहीं है। वही इस शॉर्ट फिल्म की कहानी में सबसे मुख्य बात नक्सलियों द्वारा अपने ही महिला नक्सल साथियों की नश बंदी कराई जानी है। इस कहानी में महिला नक्सली हूँगी गर्भवती हो जाती है, जिसे बड़े माओवादी हूँगी को गर्भपात करवाने कहते। हूँगी गर्भपात करवाने की बजाए माओवाद संगठन छोड़ कर दन्तेवाड़ा पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर देती है। और अपनी एक नई जिंदगी की शुरुवात करती है। ऐसे में माओवादी हूँगी के खिलाफ मौत का फरमान जारी कर देते है। आत्मसमर्पण के बाद हूँगी को सरकार की नीति के तहत पुलिस में नौकरी दी जाती है। जिससे वो अपनी हसी खुशी जिंगदी जीती है। इस शार्ट फ़िल्म का दूसरा पार्ट है माओवाद के शीर्ष लीडर गणपति जो ग्रामीणों की व अपने ही डिवीजन नक्सल लीडरों की बैठकें लेता है। किस तरह से माओवादी ग्रामीणों को नक्सल संगठन का साथ देने मजबूर करते है। सरकार की नीतियों का बहिष्कार करने कहते है। स्कूल, कॉलेज , सड़क, अस्पताल बनने नहीं देते, शासन प्रशासन द्वारा ग्रामीणों को जो सुविधाएं मुहैया कराई जाती है नक्सली उसका बहिष्कार करते है। मजबूरन ग्रामीण लाल आतंक के पैरों तले कुचले जाते है। वही इस कहानी में एसपी का किरदार स्वयं दन्तेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ही निभा रहे है। शिविक एक्शन कर ग्रामीणों के बीच नजदीकियां बड़ा रहे है। वही जल्द ही इस फ़िल्म को रिलीज कर हाट बाजारों में, स्कूल व आश्रमो में दिखाया जाएगा।

संबंधित तस्वीर

Leave a comment