विशेष

पढ़े अस्तित्व खोती अरपा नदी की ये विशेष खबर ..सिर्फ BBN24NEWS पर

पढ़े अस्तित्व खोती अरपा नदी की ये विशेष खबर ..सिर्फ BBN24NEWS पर

अजीत मिश्रा (विशेष रिपोर्ट ) - बिलासपुर-सरकार और प्रशासन की अनदेखी के कारण न्यायधानी बिलासपुर की जीवनदायनी कहलाने वाली अरपा नदी किनारे वर्षों पुरानी पचरी घाट और शिव मंदिर घाट का अस्तित्व लगभग समाप्त होने की कगार पर है..कभी बिलासपुर की पहचान रही इस घाट पर आज प्रशासन ही गन्दगी फैला रहा है..शहर की जीवनदायिनी नदी कहलाने वाली अरपा नदी आज जनप्रतिनिधि और प्रशासन के लिए महज राजनीति करने का एक जरिया बनकर रह गया है बिलासा की नगरी बिलासपुर अरपा नदी के नाम से जानी जाती रही है..यहां के दो प्राचीन घाट पचरी और शिवघाट हैं..इस घाट में लोग वर्षों तक पूजा पाठ से लेकर पिंडदान तक करते रहे हैं..स्थानीय लोगों और प्रशासन की अनदेखी के कारण आज इस घाट की स्थिति किसी से नही छिपी..दुर्भाग्य है कि प्रशासन इस ओर कभी ध्यान नहीं दे रही है बल्कि शहर की गंदगी इसमें डालकर अरपा नदी और नदी किनारे मौजूद पचरी घाट व शिवघाट के अस्तित्व को खत्म करने में कोई कोर कसर नही छोड़ रहा अरपा नदी को स्वच्छ रखने समय-समय पर अनेक संगठन और जनप्रतिनिधि एकजुटता दिखाते हैं पर महज चंद घण्टों की खानापूर्ति के बाद लोगों को अरपा नदी याद नही आती..पिछले कई वर्षों से अरपा नदी में निगम के द्वारा शहर की गंदगी फेंकी जा रही है पर आज तक किसी भी संगठन य जनप्रतिनिधि ने कभी कुछ कहना मुनासिब नही समझा..केवल स्वच्छता व पर्यावरण दिवस पर लोगों को अरपा की याद आती है..अरपा नदी व घाटों पर कब्जा और फेंके गए गंदगी के चलते नदी की चौड़ाई सिकुड़ गई है। बिलासपुर में अरपा नदी को पुराने स्वरूप में लाने के लिये मुख्यमंत्री के विशेष निर्देश मिले हैं। इसी क्रम में जिला प्रशासन द्वारा दो दिवसीय अरपा उत्थान अभियान का आयोजन किया जा रहा है। ‘ अरपा उत्थान ’ अभियान में जनप्रतिनिधियों से लेकर जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन के तमाम अधिकारी सुबह से ही छठ घाट पहुंचकर नागरिकों के साथ सफाई में जुट गये। अरपा नदी पर प्रशानिक लापरवाही इतना ज्यादा है की नदी के बीचों बीच झूल रही विद्युत तार अधिकारियों को दिखाई नही पड़ रहा.. बरसात में कभी भी इस झूलते विद्युत तार से कोई बड़ा हादसा हो सकता है.. शायद विभाग को किसी हादसे का इंतजार है बहरहाल अब देखना होगा की अस्तित्व खो रही अरपा नदी के बचाव पर प्रशासन कोई ठोस कदम उठाती है य महज श्रमदान और उत्थान की बात कर खानापूर्ति ही करती रहेगी। बिलासपुर के लोगो की प्यास बुझाने वाली अरपा अपना अस्तित्व खो देगी

Leave a comment