विशेष

शाही अंदाज में घूमता दिखा जंगल का राजा देखे ये खूबसूरत तस्वीर

शाही अंदाज में घूमता दिखा जंगल का राजा देखे ये खूबसूरत तस्वीर

कवर्धा: जिले के भोरमदेव अभ्यारण क्षेत्र में घूमते बाघ की तस्वीर कैमरे में कैद हो गई है. वहीं इस सूचना पर सुरक्षा को लेकर वन विभाग अलर्ट हो चुका है और चरवाहे भी मवेशियों को लेकर शाम होने से पहले वापस लौट रहे हैं.दरअसल कान्हा नेशनल पार्क से विचरण करते बाघ भोरमदेव अभ्यारण पहुंच चुके हैं कबीरधाम जिले के वनांचल क्षेत्रों में अनेक प्रकार के वन्य प्राणी विचरण करते नजर आते हैं सबसे पहले कबीरधाम जिले के क्षेत्र तरेगांव जंगल में वर्ष 2001 में पहला बाघ देखा गया था. वहीं एक बार फिर वनांचल क्षेत्र में बाघ की दहाड़ सुनने को मिल रही है, जिसकी तस्वीर वन विभाग द्वारा लगाए गए कैमरे में कैद हुई है. कैद हुई तस्वीरों में जंगल के राजा का शाही अंदाज कुछ अलग ही नजर आ रहा है इन तस्वीरों को देखकर ऐसा लगता है कि बाघ-बाघिन के लिए वनांचल का यह क्षेत्र अनुकूल है. गौरतलब है कि, वन विभाग द्वारा ज्यादातर ऐसे स्थानों का चयन किया जाता है जहां वन्य प्राणियों की आवागमन होने का अंदेशा रहता है उस स्थान पर ट्रैप कैमरा लगाकर रखा जाता था इसी के मदद से कैमरे में बाघ और बाघिन की तस्वीरें कैद हो गई. बताया जाता है कि इस मौसम में इनका आवागमन बना रहता है. वातावरण अनुकूल होने के कारण यहां मैटिंग के लिए भी पहुंचते हैं जो लगभग 1 दिन में 50 से 80 किलोमीटर का सफर आसानी से तय कर लेते हैं. भोरमदेव अभ्यारण क्षेत्र में इनकी उपस्थिति जहां विभाग के लिए सुखद एहसास है. वहीं इनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी विभाग पर बढ़ गई है.

Leave a comment