विशेष

पत्रकार खबरीलाल रिपोर्ट (काशी, 29-11-2018) ::- आदर्श राम का मंदिर नहीं, आराध्य देव राम का मंदिर होगा - शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द ।।

पत्रकार खबरीलाल रिपोर्ट (काशी, 29-11-2018) ::- आदर्श राम का मंदिर नहीं, आराध्य देव राम का मंदिर होगा - शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द ।।

ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती जी महाराज ने परमधर्मादिश के आसंदी से परम् धर्मादेश सुनाते हुए कहा कि - हमे आदर्श राम का मंदिर नहीं अपितु आराध्य देव राम का मंदिर चाहिए जो हम सभी धर्माचार्यों की राय है। ज्ञात हो कि दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द सरस्वती जी महाराज द्वारा सनातन वैदिक हिन्दू परम् धर्म संसद 1008 का आयोजन 25 से 27 नवंबर 2018 तक सीरगोवर्धनपुर, काशी में आयोजित किया गया जिसमें काशी व अन्य स्थानों पर मंदिर तोड़े जाने पर, गंगा में बढ़ते प्रदूषण पर, गंगा के अविरल प्रवाह पर, राम मंदिर निर्माण पर व अन्य मुद्दों पर उपस्थित देश एवं विदेश से पधारे धर्म सांसद एवं धर्माचार्यों ने अपनी बात बेबाकी से रखी जिसमे राम मंदिर का मुद्दा सबसे ज्यादा अहम था। परम् धर्माधीश के आसंदी से बोलते हुए शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती ने कहा कि आराध्य देव राम के मंदिर में प्रभु राम का सच्चिदानन्द स्वरूप विराजमान होगा। आगे उन्होंने कहा कि श्रीराम के जन्म स्थान पर कोई भी परिवर्तन नहीं होगा और प्रभु राम का मंदिर उसी स्थान पर ही बनेगा। अब सही समय है कि मुस्लिम स्वयं हिंदुओं को भगवान श्रीराम का जन्म भूमि सौंप दे और मंदिर बनाने में अपनी सहभागिता प्रदान करे। आगे शंकराचार्य स्वरूपानन्द सरस्वती ने कहा कि धर्म पर बांटने वालों की साजिशें कभी सफल नहीं होगी क्यों कि धर्म के नाम पर सभी भारतीय एक हैं और एक ही रहेंगे। उन्होंने कहा कि काशी में आयोजित परम् धर्म संसद 1008 किसी को नीचा दिखाने के लिए नहीं किया गया अपितु यह आयोजन सौ करोड़ सनातनियों को अधर्म से बचाने के लिए किया गया है तथा जनवरी 2018 में होने वाले प्रयाग कुम्भ में इस बाबत और भी चर्चा होंगे।

Leave a comment