विशेष

कोरोना संक्रमण के कठिन समय में भी अपने मानसिक संक्रमण से बाहर नहीं आ पा रही है भाजपा- मोहन मरकाम

कोरोना संक्रमण के कठिन समय में भी अपने मानसिक संक्रमण से बाहर नहीं आ पा रही है भाजपा- मोहन मरकाम

ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, धूल चेहरे पर थी और वो आइना साफ़ करता रहा.. किसी के द्वारा लिखी गयी पंक्तियाँ वर्तमान समय में भाजपा पर सटीक बैठती हुई दिखाई देतीं हैं।

आज जबकि कोरोना के रूप में सम्पूर्ण मानवता पर वैश्विक संकट आ खड़ा हुआ है, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी झूठ और अफ़वाह की बुनियाद पर टिके अपने मूल चरित्र से बाहर नहीं निकल पा रही है।

कांग्रेस संगठन और सरकार ने इस लड़ाई के ख़िलाफ़ शंखनाद करते समय ही स्पष्ट कर दिया था कि हम माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा इस संक्रमण से लड़ने हेतु उठाए गये प्रत्येक सकारात्मक क़दम के साथ खड़े हैं।

जब माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा पहली बार लॉकडाउन की घोषणा की, हमने उसका स्वागत किया। जब केंद्रीय वित्त मंत्री जी द्वारा राहत पैकेज की घोषणा की गयी, राहुल जी सहित पूरी कांग्रेस पार्टी ने स्वागत किया और अन्य सुझाव भी दिए।

लेकिन छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी कोरोना संक्रमण से लड़ने में कोई योगदान तो देना दूर, अपनी झूठ और अफ़वाह से भरे मानसिक संक्रमण से बाहर नहीं आ पा रही है।

जहाँ एक तरफ़ लगभग समाप्त हो चुका भाजपा संगठन भी कहीं किसी सेवा कार्य में दिखाई नहीं दे रहा है वहीं आश्चर्य की बात यह भी है कि प्रदेश की जनता द्वारा चुनकर लोकसभा भेजे गये भारतीय जनता पार्टी के 9 सांसदों में से सिर्फ़ 2 सांसदों से मुख्यमंत्री सहायता कोष में योगदान दिया है।

7 लोकसभा सांसदों और 2 राज्यसभा सांसद ने सांसद निधि एवं अपने वेतन से पी एम केयर्स में दान देकर और मुख्यमंत्री सहायता कोष में कोई भी योगदान न देकर न केवल अपने मानसिक दिवालियापन का परिचय दिया है बल्कि प्रदेश की जनता का भी अपमान किया है।

यह एक ऐसी लड़ाई है जो शासन और प्रशासन के स्तर पर ऊपर से नीचे नहीं, बल्कि नीचे से ऊपर की ओर लड़ी जा रही है। ऐसे मैं अपने प्रदेश की सरकार को योगदान न देकर सीधा केंद्र सरकार के फ़ंड में सांसद निधि से दान देना समझ से परे है।

इसके अलावा भाजपा के नेताओं द्वारा प्रतिदिन सरकार के प्रयासों को झूठ और अफ़वाह के साथ सोशल मीडिया में प्रस्तुत करना भाजपा के नेताओं की अकर्मण्यता और संकट के समय भी अपनी सस्ती राजनीति से बाहर न निकल पाना दर्शाता है।

आज जब रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया अपनी रिपोर्ट में कहता है कि लॉकडाउन के बावजूद भी छत्तीसगढ़ आर्थिक क्षेत्र में वृद्धि कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ़ जब दूसरी रिपोर्ट कहती है कि संक्रमण से बाहर ग्रीन ज़ोन वाले जिलों का सर्वाधिक प्रतिशत छत्तीसगढ़ में है, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी द्वारा फैलाई जा रही नकारात्मकता को प्रदेश की महान जनता देख रही है।

हमने पहले भी कहा है और आज पुनः दोहराता हूँ, कि यह संकट पूरी मानवता पर आया हुआ संकट है। इससे हम सबको मिलकर लड़ना है। ऐसे समय में दल से ऊपर देश और मानवता को रखकर भाजपा को सोचना चाहिए।

प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ अफ़वाह फैलाने से आपका मक़सद तो सफल नहीं होगा क्योंकि सरकार के कामों की सराहना तो पूरा देश कर रहा है।

Leave a comment